Submit your post

Follow Us

BJP आईटी सेल का मेंबर BJP CM के खिलाफ पोस्ट लिखने पर गिरफ़्तार हुआ

कुछ दिन पहले यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर सोशल मीडिया में टिप्पणी करने वाले पत्रकार को गिरफ्तार किया गया था. उसके अलावा एक चैनल की सीईओ और संपादक को भी पुलिस पकड़ कर लखनऊ ले गई थी. ऐसा ही मामला असम से आया है. अपने निजी सोशल मीडिया हैंडल पर पोस्ट के जरिए कथित सांप्रदायिक टिप्पणी करने वाले शख़्स को असम पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. इस शख़्स ने कथित तौर पर मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल का अपमान भी किया है. लेकिन इस स्टोरी में एक ऐंगल और भी है.

पकड़ा गया युवा भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सोशल मीडिया टीम का सदस्य है. यानी सूबे की भाजपा सरकार ने भाजपा की ही सोशल मीडिया टीम के मैंबर को गिरफ्तार कर लिया. नाम है नीतू बोरा. वो असम के मोरीगांव का रहने वाला है. हालांकि इस मामले में यूपी पुलिस जैसी हरकत असम पुलिस ने नहीं दोहराई. और विवाद गहराने से पहले ही नीतू बोरा को बेल मिल गई. पुलिस ने साफ किया कि नीतू बोरा को सिर्फ बेल मिली है. मामला ख़त्म नहीं हुआ है. उनके खिलाफ अभी जांच जारी है.

नीतू असम के मोरीगांव में सोशल मीडिया टीम देखते हैं.
नीतू असम के मोरीगांव जिले में भाजपा की सोशल मीडिया टीम देखते हैं.

नीतू इस मामले में अकेले नहीं है. पुलिस ने इसी तरह के आरोपों की वजह से पूरे प्रदेश में से कम से कम तीन और लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया था.

हिंदुस्तान टाइम्स की ख़बर के मुताबिक पुलिस सूत्रों ने इस जानकारी की पुष्टि की है. पुलिस ने बताया कि मोरीगांव जिले के भाजपा आईटी सेल के सदस्य नीतू बोरा को सांप्रदायिक और अपमानजनक सोशल मीडिया पोस्ट के लिए गिरफ्तार किया गया था. समाचार एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक, ऐसे मामलो में नीतू बोरा अकेला नहीं फंसा है. भाजपा के एक और आईटी सेल सदस्य हेमंत बरुआ के घर पर बुधवार रात पुलिस ने छापा मारा. बरुआ माजुली जिले का निवासी है, जो मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल का अपना इलाका है. वो यहीं से चुने गए हैं.

मोरीगांव के एसपी स्वप्निल डेका ने बताया, ”पिछली रात को राजू महंता ने नीतूमोनी बोरा के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई, जिसके आधार पर हमने उसे गिरफ्तार किया है. एफआईआर में बयान दर्ज करवाया गया है कि उसने मुख्यमंत्री के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी की थी.”

नीतू बोरा को फेसबुक पर क़रीब 1000 लोग फॉलो करते हैं.
नीतू बोरा को फेसबुक पर क़रीब 1000 लोग फॉलो करते हैं.

नीतू बोरा का कसूर

कसूर बस इतना है कि नीतू बोरा ने अपनी ही पार्टी की बुराई कर दी. क्यों की, खुद की या किसी के कहने पर की ये तो पता नहीं लेकिन ये टिप्पणी सत्ताधारी पार्टी को चुभ गई. दरअसल, नीतू बोरा ने सोशल मीडिया पर दावा किया था कि बीजेपी सरकार प्रवासी मुस्लिमों से लोकल असमियों की रक्षा करने में नाकाम रही है. बोरा की बातों से कहीं ना कहीं ये झलक रहा था कि इस सब के लिए मुख्यमंत्री सोनोवाल जिम्मेदार हैं. यानी सीधे-सीधे अपने टॉप लीडर को कटघरे में खड़ा किया था.

पूरी घटना में गनीमत ये रही कि बोरा को जेल के पीछे ज्यादा वक्त नहीं बिताना पड़ा.


वीडियो- यूपी पुलिस ने पत्रकार को पीटा, चेहरे पर पेशाब करने का आरोप

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

IPL 2020: रोहित, कोहली, धोनी सब एक टीम से खेलते दिख सकते हैं

टाइमिंग और वेन्यू पर भी बड़े-बड़े फैसले हुए हैं.

अब केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने लगवाया नारा, "देश के गद्दारों को, गोली मारो *लों को"

क्या केन्द्रीय मंत्री ऐसे बयान दे सकता है?

माओवादियों ने डराया तो गांववालों ने पत्थर और तीर चलाकर माओवादी को ही मार डाला

और बदले में जलाए गए गांववालों के घर

बंगले की दीवार लांघकर पी. चिदम्बरम को गिरफ्तार किया, अब राष्ट्रपति मेडल मिला

CBI के 28 अधिकारियों को राष्ट्रपति पुलिस मेडल दिया गया.

झारखंड के लोहरदगा में मार्च निकल रहा था, जबरदस्त बवाल हुआ, इसका CAA कनेक्शन भी है

एक महीने में दूसरी बार झारखंड में ऐसा बवाल हुआ है.

BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय लोगों को पोहा खाते देख उनकी नागरिकता जान लेते हैं!

विजयवर्गीय ने कहा- देश में अवैध रूप से रह रहे लोग सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं.

CAA-NRC, अयोध्या और जम्मू-कश्मीर पर नेशन का मूड क्या है?

आज लोकसभा चुनाव हुए तो क्या होगा मोदी सरकार का हाल?

JNU हिंसा केस में दिल्ली पुलिस की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है

RTI से सामने आई ये बात.

CAA पर सुप्रीम कोर्ट में लगी 140 से ज्यादा याचिकाओं पर बड़ा फैसला आ गया

असम में NRC पर अब अलग से बात होगी.

दिल्ली चुनाव में BJP से गठबंधन पर JDU प्रवक्ता ने CM नीतीश को पुरानी बातें याद दिला दीं

चिट्ठी लिखी, जो अब वायरल हो रही है.