Submit your post

Follow Us

मौलाना किंगमेकर बनने चले थे, सारा भौकाल घुस गवा

हर चुनाव किसी न किसी की मिट्टीपलीद कर देता है. पॉलिटिक्स की फिसलपट्टी होती ही चिकनी है. दिल्ली के विनोद कुमार बिन्नी से पूछ लीजिए या असम के मौलाना बदरुद्दीन अजमल से. कहां से चले थे, कहां आकर पड़े हैं.

बदरुद्दीन अजमल असम की पार्टी ऑल इंडिया डेमोक्रेटिक फ्रंट (AIUDF) के मुखिया हैं. मौजूदा हालात में खुद को प्रदेश का सबसे बड़ा मुस्लिम नेता मानते हैं. पिछली विधानसभा में 126 में से 18 सीटें इनके पास थीं. इनके तीन नेता सांसद भी हैं. पार्टी प्रदेश की 34 फीसदी मुस्लिम आबादी को लुभाने वाली राजनीति करती है. चुनाव से पहले उन्होंने ताल ठोंककर कहा था कि उनकी मदद के बिना कोई सरकार नहीं बना पाएगा. नतीजा सामने है. असम में बीजेपी के पास बड़ा बहुमत है. मौलाना साहब खुद चुनाव हार गए हैं. साउथ सलमारा सीट से कांग्रेस के वाजिद अली चौधरी ने उन्हें 16723 वोटों से पटक दिया.

AIUDF असम में अब तक प्रमुख विपक्षी पार्टी थी. सत्ता में तरुण गोगोई, विपक्ष में बदरुद्दीन अजमल. लेकिन एक झटके में सब बदल गया. अब 5 साल तक बीजेपी सत्ता में रहेगी, कांग्रेस मुख्य विपक्ष होगी और AIUDF बैठकर रमतूरा बजाएगी.

वैसे पार्टी के लिहाज से देखें तो AIUDF 2 सीटें जीत चुकी है और 10 पर आगे है. 18 से 12 पर आ गिरना इतना बुरा नहीं है. लेकिन जब मुखिया ही हार जाए तो प्यादों का वजन आधा हो जाता है.

badruddin44

चुनाव से पहले हर इंटरव्यू में वह इस पर बात करते थे कि किस पार्टी को सपोर्ट करने की संभावना बन सकती है और किसको नहीं. हालांकि अटैक उन्हें दोतरफा मिला. बीजेपी उन्हें बांग्लादेशी शरणार्थियों की पार्टी बताती है. कांग्रेस कहती है कि ये बीजेपी की बी-टीम है, जो बस ‘वोटकटवा’ का रोल निभा रहे हैं. तरुण गोगोई ने तो यहां तक कहा कि अजमल ने जान-बूझ कर ऊपरी असम में कैंडिडेट उतारे, जहां अल्पसंख्यकों के वोट कम हैं. वह जानते हैं कि वहां उनके जीतने की कोई उम्मीद नहीं है.

निचले असम के ग्रामीण इलाकों में गरीबी से परेशान मुसलमानों पर अजमल की जादुई पकड़ है. इसकी वजह भी है. वे जमीयत उलेमा-ए-हिंद, मरकजुल मआरिफ और हाजी अब्दुल मजीद मेमोरियल पब्लिक ट्रस्ट जैसे कई संगठनों से जुड़े हुए हैं और उनका फाउंडेशन प्रदेश में कई स्कूल, मदरसे, अस्पताल और अनाथालय चलाता है.

66 साल के बदरुद्दीन अजमल ‘परफ्यूम किंग’ कहलाते हैं. उनका 2000 करोड़ का परफ्यूम बिजनेस है. दारुल उलूम देवबंद से फ़ाज़िल (मास्टर्स) की पढ़ाई की है. 6 बेटे और एक बेटी है. जॉर्डन के रॉयल इस्लामिक स्ट्रैटेजिक स्टडीज सेंटर ने 2015-16 में एक लिस्ट निकाली थी, दुनिया के 500 सबसे ताकतवर मुसलमानों की. इसमें अजमल का भी नाम था.

असमिया मुस्लिम ग्रुप SAGMG और ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन ने अजमल पर आरोप लगाया था कि 2012 दंगों के बाद उन्होंने भड़काऊ भाषण दिए थे. उन पर आरोप लगता है कि बांग्लादेशी मुसलमानों के संरक्षण के मकसद से उन्होंने पार्टी बनाई है. इस मामले में उनसे पूछताछ भी हुई है. अजमल जाहिर तौर पर, इस आरोप से इनकार करते हैं.

वैसे साल भर पहले कयास लग रहे थे कि अजमल बीजेपी के साथ मिलकर चुनाव लड़ सकते हैं. क्योंकि लोकसभा चुनाव की बहसों में वह बीजेपी को डिफेंड कर रहे थे. वह नरेंद्र मोदी की तारीफ कर चुके हैं. हालांकि बीजेपी ने साफ कर दिया था कि बहुमत से दूर रह जाने पर भी वे अजमल से हाथ नहीं मिलाएंगे.

AIUDF का झंडा. ताला-चाभी इनका चुनाव चिह्न है.
AIUDF का झंडा. ताला-चाभी इनका चुनाव चिह्न है.

लेकिन देखिए उनका ‘किंगमेकर’ का दावा इत्र की तरह हवा में उड़कर गायब हो गया है. उनके चुनाव चिह्न से सत्ता की चाभी गायब हो गई है. ताला बच गया है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

धोकर बेचे जाने वाले थे साढ़े तीन लाख कॉन्डम

धोकर बेचे जाने वाले थे साढ़े तीन लाख कॉन्डम

कितने बेच दिए गए, इसकी तो गिनती ही नहीं.

डेल स्टेन और शिवम दुबे को रुला गई कोहली की ग़लतियां

डेल स्टेन और शिवम दुबे को रुला गई कोहली की ग़लतियां

राहुल ने तो कोहली को दौड़ाकर थैंक्यू बोला होगा.

राहुल का तूफानी शतक देख कोहली किस पुरानी ग़लती पर पछता रहे होंगे?

राहुल का तूफानी शतक देख कोहली किस पुरानी ग़लती पर पछता रहे होंगे?

अब पछताए होत क्या जब...

जाने-माने वकील और टीवी पैनलिस्ट बाबर कादरी की गोली मारकर हत्या

जाने-माने वकील और टीवी पैनलिस्ट बाबर कादरी की गोली मारकर हत्या

एक ट्वीट में अपनी जान को खतरा बताया था.

यूपी का 'ऑपरेशन दुराचारी', जिसमें अपराधियों को सार्वजनिक रूप से बेइज्जत किया जाएगा!

यूपी का 'ऑपरेशन दुराचारी', जिसमें अपराधियों को सार्वजनिक रूप से बेइज्जत किया जाएगा!

सीएम योगी ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं.

बॉम्बे हाईकोर्ट ने कहा, 'तबलीग़ी जमात के लोगों पर केस चलाना घोर अन्याय होगा'

बॉम्बे हाईकोर्ट ने कहा, 'तबलीग़ी जमात के लोगों पर केस चलाना घोर अन्याय होगा'

तबलीग़ी जमात पर कोर्ट की एक और बड़ी टिप्पणी.

BMC और संजय राउत के खिलाफ कंगना की अर्जी पर हाई कोर्ट ने फटकार लगाई है

BMC और संजय राउत के खिलाफ कंगना की अर्जी पर हाई कोर्ट ने फटकार लगाई है

कंगना ने कहा, मेरी आंखों में आंसू आ गए

सचिन का जो रिकॉर्ड कोहली-रोहित से नहीं टूटा, उसे राहुल ने चकनाचूर कर डाला

सचिन का जो रिकॉर्ड कोहली-रोहित से नहीं टूटा, उसे राहुल ने चकनाचूर कर डाला

आठ साल से यह रिकॉर्ड चल रहा था.

पीएम मोदी ने मिलिंद सोमन से ऐसा क्या पूछ लिया कि दोनों खिलखिलाकर हंसने लगे

पीएम मोदी ने मिलिंद सोमन से ऐसा क्या पूछ लिया कि दोनों खिलखिलाकर हंसने लगे

दोनों के बीच बात फिटनेस की हो रही थी.

NCB का नाम लेकर रिया चक्रवर्ती के बारे में कही जा रही बातें क्या झूठ हैं?

NCB का नाम लेकर रिया चक्रवर्ती के बारे में कही जा रही बातें क्या झूठ हैं?

रिया के वकील की बातों से तो यही लग रहा है.