Submit your post

Follow Us

तबलीगी जमात के जलसे पर एआर रहमान, नवाज़ुद्दीन और जावेद अख्तर ने क्या कहा?

लॉकडाउन के बीच दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में तबलीगी जमात में शामिल हुए लोगों पर बॉलीवुड सेलेब्रिटी के रिएक्शन भी आ रहे हैं. एआर रहमान, नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी, जावेद अख्तर, फराह खान और ऋषि कपूर जैसे एक्टर्स ने इसे गलत मानते हुए लोगों से सरकार के निर्देश मानने की अपील की है. इनमें से ज्यादातर सेलेब्स ने सोशल मीडिया के जरिये अपनी बात रखी.

म्यूजिशियन एआर रहमान ने 1 अप्रैल को ट्विटर पर एक बड़ा सा पोस्ट शेयर किया. इसमें उन्होंने लिखा,

ये मैसेज डॉक्टरों, नर्सों और अस्पतालों में काम करने वाले सभी कर्मचारियों को शुक्रिया कहता है, जो इस वक्त दिलेरी और निस्वार्थ होकर काम कर रहे हैं.

ये किसी का भी दिल को छूने के लिए काफी है कि ये किस तरह इस महामारी से लड़ने के लिए तैयार खड़े हैं. हमारी जिंदगी बचाने के लिए ये अपनी जिंदगी को खतरे में डाल रहे हैं.

यह हमारे आपसी मतभेदों को भूलकर इस अदृश्य दुश्मन के खिलाफ एकजुट होने का समय है, जिसने पूरी दुनिया में तबाही मचा रखी है. यह समय है जब मानवता और आध्यात्मिकता की खूबसूरती पर हमें अमल करना चाहिए. अपने पड़ोसियों, वरिष्ठ नागरिकों, गरीबों और प्रवासी श्रमिकों की मदद करें.

ईश्वर आपके दिल में है. इसलिए यह धार्मिक स्थलों में इकट्ठा होकर अराजकता फैलाने का समय नहीं है. सरकार की सलाह मानें. कुछ हफ्तों का सेल्फ आइसोलेशन आपको जिंदगी के कई साल दे सकता है. वायरस को नहीं फैलाए और अपने साथियों को नुकसान पहुंचाने की वजह न बनें.

यह बीमारी आपको चेतावनी नहीं देती है कि ये आपको लग चुकी है. यह झूठी अफवाहें फैलाने और अधिक चिंता और घबराहट पैदा करने का समय नहीं है. दयावान और विचारशील बनें. लाखों लोगों की जिंदगी हमारे हाथों में है.

एआर रहमान ने इस पोस्ट में तबलीगी जमात के उसी धार्मिक कार्यक्रम की ओर इशारा किया है जिसमें शामिल होने वाले सैकड़ों लोगों पर कोरोना संक्रमण का खतरा मंडरा रहा है. एआर रहमान खुद भी आइसोलेटेड हैं. उन्होंने कोरोना की वजह से इस साल अप्रैल और मई में होने वाला नॉर्थ अमेरिका का म्यूजिक टूर कैंसिल कर दिया है.

नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने भी इंडिया टीवी से इस मुद्दे पर बात की. उन्होंने कहा,

मैं तो सिर्फ इतना कहना चाहता हूं कि अगर सरकार ने कहा है तो लॉकडाउन मतलब लॉकडाउन. इससे फर्क नहीं पड़ता कि आप कौन हैं, किस धर्म के हैं. ऐसा न करके आप अपनी जिंदगी के साथ तो खिलवाड़ कर ही रहे हैं. साथ में न जाने कितनी और जिंदगियों को खतरे में डाल रहे हैं.

जावेद अख्तर ने भी तबलीगी जमात में इकट्ठा हुए लोगों की आलोचना करते हुए ट्वीट किया. उन्होंने लिखा,

ताहिर महमूद साहेब जो कि एक स्कॉलर और अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व अध्यक्ष हैं, उन्होंने कहा है कि दारूल उलूम देवबंद कोरोना काल खत्म होने तक के लिए मस्जिदों को बंद करने का फतवा जारी करे. मैं पूरी तरह से उनकी इस मांग का समर्थन करता हूं. अगर काबा और मदीना की मस्जिद बंद की जा सकती है तो भारत की मस्जिदों को क्यों बंद नहीं किया जा सकता?

 

फराह खान अली ने ट्वीट करते हुए तबलीगी जमात के जलसे को बहुत गैरजिम्मेदाराना बताया. उन्होंने लिखा,

तबलीगी जमात का ऐसे वक्त में हुजुम इकट्ठा करना बहुत गैर जिम्मेदाराना है. धार्मिक मुद्दा नहीं बना रही, लेकिन इस महामारी के वक्त किसी भी धार्मिक या राजनैतिक प्रमुखों द्वारा किसी भी धर्म के प्रचार को प्रोत्साहित करना सामाजिक तौर पर गैरजिम्मेदारी है.

क्या है मामला?

तबलीगी जमात की शुरुआत 13 मार्च से हुई. इसका आयोजन निजामुद्दीन इलाके की आलमी बंगलेवाली मस्ज़िद में हुआ. यही तबलीगी जमात का मरकज़ यानी सेंटर है. 13 तारीख को शुरू होने के बाद हर रोज़ लोग इसमें शामिल होने आते रहते हैं. साथ ही शामिल हो चुके लोग जाते रहते हैं. जनता कर्फ्यू यानी 22 मार्च तक यही सिलसिला चल रहा था. इसके बाद लोग बड़ी संख्या में अपने-अपने राज्यों को चले गए. तो ऐसे में उन्हें खोजा जा रहा है. ताकि उन्हें क्वारंटीन किया जा सके.


Video : लॉकडाउन में क्या कर रहे बॉलीवुड सेलिब्रिटिज?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लॉकडाउन 4.0: सरकार ने जारी की गाइडलाइंस, जानें क्या खुलेगा और क्या बंद रहेगा

31 मई तक के लिए लॉकडाउन बढ़ाया गया है.

घर जाने को लेकर राजकोट में 500 मज़दूरों का सब्र जवाब दे गया, सड़क पर उतरे

हंगामे के बीच पुलिस घायल, किसी तरह शांत हुआ मामला.

चोटिल बेटे को खटिया पर लादकर 900 किमी दूर घर के लिए निकल पड़ा ये मज़दूर

पंजाब से चला था परिवार, मध्य प्रदेश जाना था.

20 लाख करोड़ के राहत पैकेज की आख़िरी किश्त में मनरेगा को 40 हजार करोड़, अन्य को क्या मिला?

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सात सेक्टर्स के लिए घोषणाएं कीं.

यूपी: औरैया में दो ट्रक टकराने से 24 मज़दूर मारे गए, योगी ने कई पुलिसवालों को सस्पेंड किया

पीएम मोदी ने घटना पर शोक जताया है.

घर-घर खाना पहुंचाने वाली ये कंपनी 600 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल रही है

राहत वाली बात ये है कि छह महीने तक आधी सैलरी मिलती रहेगी.

बंगाल में हफ्तेभर से क्या बवाल चल रहा है, जिसमें 129 लोग गिरफ्तार हो चुके हैं

‘तुम कोरोना फैला रहे हो’ कहकर हमला किया, हिंसा भड़की.

लंबे वक्त तक क्रिकेट के नक्शे पर पाकिस्तान को जिंदा रखा था इस जोड़ी ने

वो दिन, जब मिस्बाह-उल-हक़ और यूनिस खान ने क्रिकेट को अलविदा कहा

कश्मीर : चेकप्वाइंट पर गाड़ी नहीं रोकी तो आम नागरिक को CRPF ने गोली मार दी?

क्या है घटना का सच?

रेलवे ने टिकट कटा चुके लोगों को बड़ा झटका दिया है

इसका श्रमिक और स्पेशल ट्रेनों पर क्या असर पड़ेगा?