Submit your post

Follow Us

BJP के विधायक और नेता ही योगी राज में घोटाले पकड़वा रहे हैं!

बाराबंकी का रामनगर. यहां से बीजेपी के विधायक हैं शरद अवस्थी. उन्होंने सीएम योगी आदित्यनाथ को लेटर लिखा है. लखनऊ विकास प्राधिकरण (LDA) में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए. पत्र में विधायक ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बन रहे घरों के लिए पैसा लिया जा रहा है. बसंतकुंज योजना में काम करने वाले ठेकेदार से घूस मांगी गई. LDA के चीफ इंजीनियर ने घूस न देने पर फर्म को ब्लैक लिस्ट करने की धमकी दी. शिकायत के बाद आरोपी इंजीनियर से जवाब तलब किया गया है.

Lda Letter
बीजेपी के विधायक शरद अवस्थी का लेटर.

हालांकि ये पहला मौका नहीं है, जब बीजेपी के नेताओं ने योगी को पत्र लिखकर भ्रष्टाचार के मामले में एक्शन लेने के लिए कहा. कोविड किट खरीदने में धांधली के पहले भी कई मामले सामने आ चुके हैं.

सुल्तानपुर: कोविड किट घोटाला

कोविड से जुड़े उपकरणों को मार्केट रेट से ज्यादा कीमत पर खरीदने का मामला सबसे पहले सुल्तानपुर से ही आया था. बीजेपी के विधायक देवमणि द्विवेदी ने सुल्तानपुर की डीएम सी. इंदुमति पर ऑक्सीमीटर और थर्मामीटर की खरीद में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया था. उनका आरोप था कि शासनादेश था कि 2800 रुपये में किट खरीदी जाए, लेकिन डीएम ने 9950 रुपये में ये किट खरीदने के लिए गांवों की पंचायतों पर दबाव बनाया. उन्होंने सीएम को इस बारे में लेटर लिखा था. आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने इस पर ट्वीट किया था-

क्या कार्रवाई हुई?

इस लेटर के बाद सीएम के सचिव संजय प्रसाद ने पंचायती राज विभाग के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी को जांच के लिए कहा. शिकायत सही पाई गई. इसके बाद कृष्ण कुमार सिंह चौहान, पंचायत राज अधिकारी, सुल्तानपुर को सस्पेंड कर दिया गया. बाद में जिला अधिकारी का भी तबादला कर दिया गया. जांच के लिए एसआईटी भी बनाई गई थी.

सहारनपुर: किट में एक और घोटाला

बीजेपी सहकारिता प्रकोष्ठ के प्रदेश सह-संयोजक रामपाल सिंह पुंडीर ने इसी महीने सफाईकर्मी किट में घोटाले का आरोप लगाते हुए जांच की मांग की थी. सीएम को लेटर में पुंडीर ने आरोप लगाया था कि जिला पंचायत राज अधिकारी ने सफाईकर्मी किट 5200 रुपये में खुद खरीदकर ग्राम पंचायतों में भुगतान कराया. बिल में पता नानौता के एक इंटर कॉलेज का दिखाया गया. जबकि वहां इस नाम से कोई दुकान या फर्म नहीं है. इसी प्रकार, कोविड किट में इन्फ्रारेड थर्मामीटर की कीमत बिल में 2270 रुपये दिखाई गई. पल्स ऑक्सोमीटर 1920 रुपये का बताया गया. ‘जनवाणी एसोसिएट्स’ के नाम से इस बिल में भी पता गलत दिखाया गया. 4190 रुपये के हिसाब से कोविड किट का पेमेंट ग्राम पंचायत बैंक शिवालिक मर्केंटाइल को-ऑपरेटिव बैंक शाखा हकीकत नगर में कराया गया था. इस पर भी AAP के संजय शर्मा ने ट्वीट किया-

क्या कार्रवाई हुई?

एक के बाद एक लाखों के भ्रष्टाचार की शिकायत मिलने के बाद योगी सरकार ने 10 सितंबर को कोविड किट से जुड़े कथित घोटाले की जांच के लिए विशेष जांच दल यानी एसआईटी का गठन किया. उससे 10 दिन में रिपोर्ट मांगी गई थी. एसआईटी ने रिपोर्ट दी या नहीं, यह जानकारी मीडिया में नहीं है.


रंगरूट: योगी सरकार में क्यों नहीं पूरी हो पा रही 4000 उर्दू शिक्षक भर्ती?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार रोकने वाले इस क़ानून को जरूरी बनाने की बात से पलटी मार ली

और यह जानकारी ख़ुद सरकार ने दी है.

किसान कर्फ्यू से पहले किसानों ने कहां-कहां ट्रेन रोक दी है?

कई ट्रेनों को कैंसिल किया गया, कई के रूट बदले गए.

केंद्रीय मंत्री सुरेश अंगड़ी का कोविड-19 से निधन

दिल्ली के एम्स में उनका इलाज चल रहा था.

धोनी का वर्ल्ड कप जिताने वाला सिक्सर याद है! वो अब स्टेडियम में अमर होने वाला है

भारत में किसी खिलाड़ी को जो मुकाम हासिल नहीं हुआ, वो अब धोनी को मिलने वाला है.

अंतरिक्ष में भी लद्दाख जैसी हरकतें कर रहा है चीन

भारत के सैटेलाइट पर है ख़तरा!

चुनाव लड़ने के लिए गुप्तेश्वर पांडे ने दूसरी बार पुलिस सेवा से रिटायरमेंट ले ली है

2009 में भी गुप्तेश्वर पांडे ने वीआरएस लिया था, पर तब बीजेपी ने टिकट नहीं दिया था.

दिल्ली दंगे के लिए पुलिस ने अब इस ग्रुप को जिम्मेदार ठहराया है

चार्जशीट में दिल्ली पुलिस ने और क्या कहा है?

किस बात पर पंजाब में सनी देओल के 'सामाजिक बहिष्कार' की बात हो रही है?

कुछ लोग कह रहे हैं कि अपने गांवों में घुसने नहीं देंगे.

एक्ट्रेस के यौन शोषण के इल्ज़ाम पर अनुराग कश्यप का जवाब आया है

पायल घोष ने आरोप लगाया है.

चीन की इंटेलीजेंस को गोपनीय रिपोर्ट्स भेजने के आरोप में चीन की महिला सहित पत्रकार गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस ने कई सारे मोबाइल फोन, लैपटॉप समेत कई सेंसिटिव दस्तावेज भी बरामद किए हैं.