Submit your post

Follow Us

तो इस वजह से मायावती ने राज्यसभा से इस्तीफा दिया

राज्यसभा में मानसून सत्र के दूसरे दिन की शुरुआत काफी हंगामाखेज रही. बसपा अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश से राज्यसभा की सदस्य मायावती बात ना सुने जाने का आरोप लगाते हुए सदन छोड़ कर चली गईं. उन्होंने अपना विरोध दर्ज करवाते हुए सदन की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है.

मायावती सदन में सहारनपुर हिंसा के बारे में बोल रही थीं. इस दौरान अध्यक्ष की कुर्सी पर बैठे पी.जी. कुरियन. कुरियन ने मायावती को टोकते हुए बताया कि उनकी बोलने की समयसीमा पूरी हो चुकी है. इधर मायावती अपनी बात पूरी करने पर अड़ी हुईं थीं. इस बात पर माहौल गर्म हो गया. बीच बचाव के लिए शरद यादव और रामगोपाल यादव खड़े हुए. लेकिन तब तक मायावती अपना आपा खो चुकी थीं. उन्होंने तैश में आकर कहा, “जब मैं अपने समाज की बात ही नहीं कह सकती तो ऐसी राज्यसभा के सदस्य बने रहने पर लानत है.” इसके बाद उन्होंने अपने इस्तीफे की घोषणा की और सदन से बाहर चली गईं.

राज्यसभा में मायावती
राज्यसभा में मायावती

सुबह से ही सदन में हंगामा जारी था. विपक्ष मोब लिंचिंग और मंदसौर किसान आन्दोलन पर स्थगन प्रस्ताव लाना चाह रहा था. स्थगन प्रस्ताव का मतलब होता है कि सदन की रूटीन कार्यवाही को रोक कर किसी गंभीर और जरुरी मुद्दे पर चर्चा करने का प्रस्ताव.

मायावती के हालिया इस्तीफे को आप दो तरह से समझ सकते हैं. उनका राज्यसभा का कार्यकाल शुरू हुआ था अप्रैल 2012 में. इस हिसाब से उनका कार्यकाल 2018 में खत्म हो रहा है. ऐसे में एक साल पहले राज्यसभा सदस्यता से इस्तीफा देना कोई खास नुकसानदेह सौदा नहीं है. बशर्ते इसके बदले में उन्हें वो राजनीतिक फायदा हासिल हो सके जिसकी वो तलबगार हैं.

मायावती के इस्तीफे की कॉपी
मायावती के इस्तीफे की कॉपी

पिछले लोकसभा चुनाव के बाद दलितों की सारी सियासी नुमाइंदगी या तो बीजेपी के पक्ष में खड़ी हैं या फिर धराशायी हो चुकी हैं. रोहित वेमुला, अम्बेडकर स्टडी सर्किल, ऊना और अब सहारनपुर दलित आन्दोलन में नेतृत्व के स्तर पर एक छटपटाहट साफ़ महसूस की जा सकती है. विधानसभा चुनाव में हार के बाद मायावती को भी समझ में चुका है कि बेस वोट पर पकड़ मजबूत होना ही सोशल इंजनियरिंग जैसे प्रयोगों की जरुरी शर्त हैं. सहारनपुर में भीम आर्मी के उभार को उन्होंने खतरे की घंटी के तौर पर लिया. देर से ही सही बसपा की राजनीति पटरी पर लौट रही है. यह इस्तीफा और गुस्से का इजहार को इसकी बानगी के तौर पर देखा जा सकता है.

राजनीति को स्टंट की तरह देखने के चश्मे को उतार कर किनारे रख देते हैं. इसके बाद सदन के सारे कायदे भी उसके बगल में रख देते हैं. सवाल यह है कि अगर कोई सदस्य दलितों के खिलाफ हो रही हिंसा के मामले पर दो मिनट ज्यादा बोल भी देता तो इससे संसदीय परम्परा पर कौन सा ऐतिहासिक प्रभाव पड़ जाता. जिस संसद पर हमने ये जिम्मेदारी सौंपी है कि वो हर नागरिक के बोलने के अधिकार की रक्षा करेगी, उसी संसद की एक माननीय सदस्य इस वजह से इस्तीफा दे देती हैं क्योंकि उन्हें बोलने नहीं दिया जा रहा. यह एक लोकतंत्र के लिए सही संकेत नहीं हैं.


ये भी पढ़ें 

कितनी खतरनाक हो सकती है BSP के बाद की दलित राजनीति

सहारनपुर दंगे: दिहाड़ी मजदूर श्याम सिंह की कही चार लाइनों से सब साफ हो जाता है

जब जलते सहारनपुर में ‘भीम’ का नाम लेकर पुलिस वाले ने बचाई अपनी जान

सहारनपुर का ‘रावण’, जिसके डर से मायावती सड़क पर उतरीं!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

पटियाला हाउस मारपीट केस: वीडियो होने के बावजूद BJP-Congress के नेता बरी कैसे हो गए?

पटियाला हाउस मारपीट केस: वीडियो होने के बावजूद BJP-Congress के नेता बरी कैसे हो गए?

कोर्ट ने अपने फैसले में अभियोजन पक्ष की कई कमियां बताई हैं.

मोदी की 'हुंकार' रैली में धमाके करने के आरोपियों को NIA कोर्ट ने दोषी ठहराया

मोदी की 'हुंकार' रैली में धमाके करने के आरोपियों को NIA कोर्ट ने दोषी ठहराया

2013 का गांधी मैदान सीरियल ब्लास्ट मामला.

न्यूज़ीलैंड के साथ इतना बुरा तो मैच में भी नहीं हुआ था, जितना पाकिस्तानी फ़ैन्स ने मैच के बाद किया

न्यूज़ीलैंड के साथ इतना बुरा तो मैच में भी नहीं हुआ था, जितना पाकिस्तानी फ़ैन्स ने मैच के बाद किया

आदत से मजबूर है पाकिस्तानी फै़न्स.

शोएब अख्तर की पाकिस्तान में तगड़ी बेइज्जती हो गई!

शोएब अख्तर की पाकिस्तान में तगड़ी बेइज्जती हो गई!

अख्तर ने ट्विटर पर दी सफाई.

वे किरदार जिन्होंने मुंबई क्रूज ड्रग्स केस को हाई प्रोफाइल ड्रामा बना दिया

वे किरदार जिन्होंने मुंबई क्रूज ड्रग्स केस को हाई प्रोफाइल ड्रामा बना दिया

आर्यन खान इस ड्रामे के केंद्र में हैं, लेकिन अकेले नहीं हैं.

रेप केस में गिरफ्तार कांग्रेस MLA का बेटा थाने में भी हेकड़ी दिखाने से बाज़ नहीं आया

रेप केस में गिरफ्तार कांग्रेस MLA का बेटा थाने में भी हेकड़ी दिखाने से बाज़ नहीं आया

6 महीने से फरार था आरोपी.

कोवैक्सीन पर WHO से भारत को मिल रही है तारीख-पे-तारीख

कोवैक्सीन पर WHO से भारत को मिल रही है तारीख-पे-तारीख

WHO से इमरजेंसी अप्रूवल का मामला फिर लटक गया है.

8 लाख से कम कमाई वालों को ही गरीब क्यों मानती है सरकार, सुप्रीम कोर्ट में बताया है

8 लाख से कम कमाई वालों को ही गरीब क्यों मानती है सरकार, सुप्रीम कोर्ट में बताया है

मामला NEET के लिए EWS कोटे से जुड़ा है.

लखीमपुर हिंसा: BJP वर्कर्स की हत्या के दो आरोपी गिरफ्तार, एक की टीशर्ट पर भिंडरावाले की तस्वीर थी

लखीमपुर हिंसा: BJP वर्कर्स की हत्या के दो आरोपी गिरफ्तार, एक की टीशर्ट पर भिंडरावाले की तस्वीर थी

आरोपियों की पहचान विचित्र सिंह और गुरविंदर बिंदा के रूप में की गई है.

वकार युनूस ने अपने 'हिंदु-मुसलमान' वाले बेहूदे बयान पर आखिर माफी मांग ली है

वकार युनूस ने अपने 'हिंदु-मुसलमान' वाले बेहूदे बयान पर आखिर माफी मांग ली है

खेल के बीच धर्म को लाने पर हो रही थी आलोचना.