Submit your post

Follow Us

ट्रेन चलने पर भी घर न जा सका, तो कारखाने में ही फांसी लगा ली

यूपी का अमरोहा जिला. यहां के 20 साल के एक युवक ने हैदराबाद में फांसी लगा ली. वह लॉकडाउन में फंस गया था. काफी दिनों तक जब घर वापसी का साधन नहीं मिला सका, तो उसने 9 मई को आत्महत्या कर ली. उसका बड़ा भाई भी हैदराबाद में ही रहता है. बड़े भाई ने वीडियो बनाकर सरकार से घर भेजे जाने की अपील की. यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है.

क्या है मामला

अमरोहा के इस्लाम नगर मोहल्ले का रहने वाला मोहम्मद शारिक हैदराबाद में कॉटन वेस्ट कारखाने में काम करता था. उसके साथ काम करने वाले मुख्यत: स्थानीय ही थे. लॉकडाउन की वजह सब अपने घर चले गये. शारिक कारखाने में अकेला रह गया था. उसने घर जाने की काफी कोशिश की. लेकिन जब वह घर नहीं जा सका, तो उसने 9 मई को ही कारखाने में फांसी लगा ली.

शारिक का भाई भी हैदराबाद में ही रहता है. उसने एक वीडियो बनाकर शेयर किया. वीडियो में वह कह रहा है-

मेरा छोटा भाई शारिक हैदराबाद में रहता था. मेरी बहन, भाभी सब यहीं रहती हैं. वो बार-बार घर जाने को कहता रहा. हम ट्रेन की लाइन में भी लग के आए. लेकिन भीड़ होने के कारण यह संभव नहीं हो सका. सरकार से हमारी ये इल्तिजा है कि मेरे भाई की बॉडी घर पहुंचवा दी जाए. साथ ही हमारी बहन और भाभी, सबको अमरोहा पहुंचवा दिया जाए.

इस वीडियो को शारिक के भाई ने सोशल मीडिया पर शेयर किया है. परिजनों की मानें, तो इसके बाद प्रशासन ने संज्ञान लिया है. फिलहाल अमरोहा के एमएलसी परवेज आलम का कहना है कि उन्होंने जिलाधिकारी से बात करके पास बनवा दिया है. मंगलवार, 12 मई तक शारिक के परिजन शारिक के शव के साथ अमरोहा पहुंच जाएंगे.



वीडियो देखें: लॉकडाउन के दौरान इन 15 स्टेशनों के लिए रेलवे की तरफ से ट्रेन चलाई जा रही हैं

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

12 मई से चलने वाली ट्रेनों के स्टॉपेज, टाइम टेबल और नियम क़ानून की जानकारी यहां देखिए

किस-किस दिन चलेंगी ट्रेनें?

कोरोना: सुपर स्प्रेडर क्या होते हैं और ये इतने खतरनाक क्यों हैं कि अहमदाबाद में सब कुछ बंद करना पड़ा

अहमदाबाद में 14 हजार सुपर स्प्रेडर होने की आशंका जताई जा रही है.

प्रवासी मजदूरों को लेकर यूपी और राजस्थान की पुलिस में पटका-पटकी हो गई है!

डीएम और एसपी मौके पर पहुंचे तब मामला शांत हुआ.

मंत्री मुख़्तार अब्बास नकवी बोले-तबलीगी जमात की वजह से लॉकडाउन बढ़ाना पड़ा

ये भी कहा-तबलीग़ियों का गुनाह हिंदुस्तान के मुसलमानों का का गुनाह नहीं है.

कोरोना का नियम बदला, अब बिना टेस्ट ही घर भेजे जाएंगे कम बीमार मरीज

जानिए क्या है सरकार की नई गाइडलाइंस.

दवा बेची, समाजसेवा की, फिर पता चला ख़ुद ही कोरोना पॉज़िटिव हैं, अब जेल हो गई

बनारस के दवा व्यापारी ने कई लोगों को बांटा कोरोना.

क्या सोशल डिस्टेंसिंग से चूकने की इतनी बुरी सज़ा देगी पुलिस?

किसी एक पुलिसवाले का ऐसा करना बाकियों की मेहनत पर पानी फेर देता है.

उदयपुर में एक ही दिन में कोरोना वायरस के 58 केस सामने आए

राजस्थान में मरीज़ों की संख्या तीन हज़ार से ऊपर पहुंच चुकी है.

सूरत: BJP कार्यकर्ता पर आरोप, घर पहुंचाने के नाम पर मजदूरों से पैसे लिए, टिकट मांगने पर पीटा!

एक अन्य वीडियो में BJP पार्षद के भाई टिकट के ज्यादा पैसे लेते दिखे.

जिस फ़ैक्टरी से निकली गैस ने तबाही मचाई, उसे क्लीयरेंस ही नहीं मिला था!

आबादी के बीच बना रहे थे स्टायरीन प्रोडक्ट.