Submit your post

Follow Us

अमिताभ बच्चन कोरोना के लिए जागरूकता फैलाने गए थे, खुद ट्रोल होकर लौट आए!

अमिताभ बच्चन सदी के महानायक माने जाते हैं. ये बस ऐसे ही बता दिया. क्या पता आगे जो बताने जा रहे हैं, वो जानकर आप ये बात माने कि नहीं. 25 मार्च की शाम अमिताभ एक ट्वीट करते हैं. इसमें एक वीडियो है, जिसमें वो खुद नज़र आ रहे हैं. ये वीडियो भी कोरोना से बचाव के बारे में है. लेकिन उस वीडियो में जो जानकारी दी जा रही है, वो फर्जी है. वीकली मेडिकल जर्नल दी लैंसेट का हवाला देते हुए बच्चन उस वीडियो में ये बता रहे हैं-

”हमारा देश कोरोना वायरस से जूझ रहा है और आप सब को इस लड़ाई में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है. क्या आप जानते हैं हाल ही में चीन के विशेषज्ञों ने पाया है कि कोरोना वायरस मानव मल में कई हफ्तों तक जिंदा रह सकता है. कोरोना वायरस का मरीज अगर पूरी तरह ठीक भी हो जाए तो उसके मल में कोरोना वायरस जिंदा रह सकता है.”

फिर उस मल के ऊपर मक्खी बैठेगी. वहां से हटने के बाद यहां-वहां उड़ेगी. खाने-पीने की चीज़ों पर बैठेगी, जिससे कोरोना फैलेगा. उनके इस वीडियो का सार ये है कि पब्लिक को दरवाज़े बंद करके पॉटी करनी चाहिए. ये सारी बातें जिस वीडियो में ही जा रही हैं, वो आप यहां देख सकते हैं-

लेकिन अमिताभ बच्चन जो कह रहे हैं, वो गलत बात है. ये हम नहीं कह रहे. हमारी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय कह रही है. 26 मार्च को स्वास्थ्य मंत्रालय की एक प्रेस कॉन्फ्रेंस हो रही थी. यहां मीडिया ने अमिताभ बच्चन के वीडियो का ज़िक्र करते हुए सवाल किया कि क्या वाकई मक्खियों से भी कोरोना फैलता है? मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने इसका जवाब देते हुए कहा-

”हमने वो ट्वीट नहीं देखा है. अगर ऐसा कोई ट्वीट है, तो मैं टेक्निकली बता सकता हूं कि इनफेक्शन डिजीज़ है. ये मक्खियों से नहीं फैलता है.”

इसके दो ही मतलब हो सकते हैं. या अपनी मंत्रालय के जॉइंट सेक्रेटरी गलत हैं या अमिताभ बच्चन. हाल ही में कई बार वो गलत जानकारी का शिकार हुए. जनता कर्फ्यू वाले दिन उन्होंने एक ट्वीट किया जो ठीक नहीं था. और ऐसी चीज़ें वो लगातार करते रहते हैं. लेकिन दिक्कत ये है कि जिन्हें फेक न्यूज़ और गलत जानकारी से लोगों को बचाना चाहिए, वो लोग खुद गलत जानकारियां फैला रहे हैं.


वीडियो देखें- जनता कर्फ्यू पर एक ट्वीट कर ट्रोल हो गए अमिताभ बच्चन

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

पूरा देश लॉकडाउन है और हरियाणा के इस कॉलेज में लेक्चर पर लेक्चर हो रहे हैं

कॉलेज वाले कह रहे सरकार ने कोई ऑर्डर नहीं दिया!

सरकार ने दिया कोरोना पर राहत पैकेज, 80 करोड़ को मुफ्त अनाज और बहुत कुछ

वित्त मंत्री ने कहा, हर व्यक्ति के हाथ में अन्न और धन हमारी पहली प्राथमिकता.

कोरोना के बीच सरकार ने गठिया वाली दवा के एक्सपोर्ट पर रोक क्यों लगा दी?

इस दवा का कोरोना के इलाज में क्या रोल है?

रात को लॉकडाउन के कायदे बताने के बाद सुबह हुजूम के बीच कहां निकल गए सीएम योगी?

सीएम ने लोगों से कहा था, 'घर पर ही रहें, बाहर न निकलें.'

21 दिन के लॉकडाउन में आपको कौन-कौन सी छूट मिलेगी, यहां जान लीजिए

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए पूरा देश 15 अप्रैल तक लॉकडाउन रहेगा.

आज आधी रात से पूरे देश में 21 दिन का लॉकडाउन, पीएम बोले- एक तरह से ये कर्फ्यू ही है

कोरोना वायरस के खिलाफ सबसे बड़ा फैसला.

कोरोना वायरस: उत्तर प्रदेश के 17 नहीं, अब पूरे 75 जिलों को लॉकडाउन कर दिया गया है

देश में कोरोना वायरस इंफेक्शन के मामले 500 से ऊपर जा चुके हैं.

3 महीने तक ATM से पैसे निकलना फ्री, अब मिनिमम बैलेंस का भी झंझट नहीं

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में ऐलान किया.

कोरोना वायरस की वजह से अब जो काम रुका है, उसका असर 17 राज्यों पर पड़ेगा

क्या मतलब निकला इतनी उठा-पटक का?

चौथी बार MP के सीएम बने शिवराज, बोले- कोरोना से मुकाबला मेरी पहली प्राथमिकता

शिवराज सिंह चौहान ने शपथ लेते ही ये रिकॉर्ड भी बना दिया है.