Submit your post

Follow Us

DU ने महाश्वेता देवी और दो दलित लेखिकाओं की कृतियों को सिलेबस से हटाया तो बवाल हो गया

दिल्ली यूनिवर्सिटी (DU) के एक फैसले पर विवाद हो गया है. ये फैसला जुड़ा है मशहूर लेखिका महाश्वेता देवी और दो तमिल दलित लेखिका बामा फॉस्टिना सूसाईराज और सुकीरथरानी की कृतियों को सिलेबस के हटाने से. अंग्रेज़ी विभाग के ग्रैजुएट डिग्री पाठ्यक्रम से इन्हें हटाने का फ़ैसला हुआ है. गौर करने की बात ये है कि मंगलवार 24 अगस्त को यूनिवर्सिटी की विद्वत परिषद यानी अक़ादमिक काउंसिल की मीटिंग में तमाम सदस्यों ने इसका विरोध किया था. उसके बावजूद फैसले को मंजूरी दे दी गई.

डिसेंट नोट में मेंबर्स ने क्या लिखा?

अक़ादमिक काउंसिल के 15 निर्वाचित सदस्यों ने इस फैसले का विरोध किया. उन्होंने एक डिसेंट नोट भी परिषद को सौंपा. इस डिसेंट नोट में कहा गया कि सेमेस्टर 5 के लर्निंग आउटकम बेस्ड करिकुलम फ्रेमवर्क (LOCF) में जो बदलाव किया गया है, वो सही नहीं है. निगरानी समिति ने पहले दो दलित लेखिकाओं – बामा और सुकीरथरानी को हटाने की बात कही थी. उनकी जगह “उच्च जाति की लेखिका रमाबाई” को ले आए. इसके बाद समिति ने अचानक महाश्वेता देवी की प्रसिद्ध कहानी ‘द्रौपदी’ को बिना कोई अकादमिक तर्क दिए BA (Hons) इंग्लिश के कोर्स से हटा दिया. ये कहानी एक आदिवासी महिला के बारे में है.

इस नोट पर दस्तखत करने वालों में काउन्सिल सदस्य मिथुराज धूसिया भी शामिल थे. उनका कहना है कि ‘द्रौपदी’ को 1999 से पाठ्यक्रम में पढ़ाया जा रहा है. ये यूजीसी टेम्पलेट का हिस्सा है. इसके बजाय एक छोटी कहानी ‘सुल्तानाज ड्रीम्स’ को जगह दी गई है.

हालांकि धूसिया आरोप लगाते हैं कि ये फेरबदल राजनीतिक कारणों से किए गए हैं. उन्होंने कहा,

“पाठ्यक्रम के पुनर्गठन का काम पहले से चल रहा है. एक साल पहले परिषद ने पाठ्यक्रम में बदलावों को देखने के लिए निगरानी समिति का गठन किया था. लेकिन समिति सिर्फ़ अपने सुझाव दे सकती है. इनके पास कुछ भी बदलने का अधिकार नहीं है. नए बदलावों पर 15 निर्वाचित सदस्यों ने असहमति जताई, लेकिन फिर भी उन्हें मंज़ूरी दे दी गई.”

ऐसे फेरबदल आमतौर पर निगरानी समिति की सिफारिश पर होते हैं. लेकिन जो निगरानी समिति है, उसमें अंग्रेज़ी विभाग से कोई स्थायी सदस्य नहीं है. शिक्षकों का आरोप है कि अंग्रेजी विभाग के हेड को समिति में केवल विशेष आमंत्रित सदस्य के तौर पर रखा गया है, जिनके पास मत का अधिकार नहीं होता है.

समिति के अध्यक्ष का क्या कहना है?

निगरानी समिति का इस मसले पर कुछ और रुख़ है. टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट में समिति के अध्यक्ष एम के पंडित के हवाले से कहा गया है कि निगरानी समिति की नियुक्ति कार्यकारी परिषद यानी एग्जिक्यूटिव काउंसिल द्वारा की जाती है. यह विश्वविद्यालय की निर्णय लेने वाली सर्वोच्च समिति है. यह पैनल 6 साल से अधिक समय से काम कर रहा है. विशेष रूप से पाठ्यक्रम के मामलों को देखने के लिए इसका गठन किया गया है. खासकर तब जबकि अक़ादमिक काउंसिल और एग्जिक्यूटिव काउंसिल की बैठकें नहीं होतीं. जातिवाद के आरोपों को नकारते हुए पंडित कहते हैं कि वह किसी भी शिक्षाविद की जाति नहीं जानते, ना ही उन्हें जाति से कोई मतलब है.

पहले भी सिलेबस पर हुए हैं विवाद

ये पहला मौक़ा नहीं है जब पाठ्यक्रम में फेरबदल को लेकर बवाल हो रहा है. RSS से जुड़े शिक्षक संगठन नैशनल डेमोक्रेटिक टीचर्स फ़्रंट (NDTF) ने पाठ्यक्रम में कम्युनिस्ट विचारधारा पढ़ाए जाने का आरोप लगाया था. NDTF ने इतिहास के सिलेबस में ‘डेमोक्रेसी एट वर्क’ पेपर के तहत नक्सलवाद पढ़ाए जाने पर भी आपत्ति जताई थी. गुजरात और मुजफ्फरनगर के दंगों पर अंग्रेज़ी किताबों को पढ़ाए जाने पर 2019 में विवाद हुआ था.


वीडियो- CAA-NRC का विरोध करने वाले शायर, जिनके नाम से ही इलाहाबाद यूनिवर्सिटी का मुशायरा रद्द हुआ

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

जानकारों ने जहांगीरपुरी में निकले जुलूस पर सवाल उठाए हैं.

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

मौजूदा आर्मी चीफ मनोज मुकुंद नरवणे के रिटायर्ड होने पर पदभार संभालेंगे.

LIC का IPO: सरकार अब जो करने जा रही है उससे छोटे निवेशकों को फायदा है

LIC का IPO: सरकार अब जो करने जा रही है उससे छोटे निवेशकों को फायदा है

LIC के IPO में बहुत कुछ बदलने जा रहा है. अगले हफ्ते आ सकता है अपडेटेड प्रॉस्पेक्टस.

RBI की इस पहल से सभी एटीएम से बिना कार्ड कैश निकलेगा!

RBI की इस पहल से सभी एटीएम से बिना कार्ड कैश निकलेगा!

अभी ये सुविधा कुछ ही बैंको तक सीमित है.

'शराबी' खिलाड़ी की जानलेवा हरकत की वजह से मरते-मरते बचे थे युजवेंद्र चहल, अब किया खुलासा

'शराबी' खिलाड़ी की जानलेवा हरकत की वजह से मरते-मरते बचे थे युजवेंद्र चहल, अब किया खुलासा

2013 की बात है जब चहल मुंबई इंडियन्स की तरफ से खेलते थे.

आकार पटेल के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी करने वाली CBI अब उनसे माफी मांगेगी

आकार पटेल के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी करने वाली CBI अब उनसे माफी मांगेगी

कोर्ट ने आकार पटेल को बड़ी राहत दी है.

भारत में कोरोना के XE Variant का पहला केस मिलने के दावे पर सरकार ने क्या कहा?

भारत में कोरोना के XE Variant का पहला केस मिलने के दावे पर सरकार ने क्या कहा?

ये वेरिएंट कितना खतरनाक है, ये भी जान लें.

लल्लनटॉप अड्डा: 9 अप्रैल को मचने वाले धमाल का पूरा शेड्यूल पढ़ लो!

लल्लनटॉप अड्डा: 9 अप्रैल को मचने वाले धमाल का पूरा शेड्यूल पढ़ लो!

हंसी होगी, संगीत होगा और होंगे सौरभ द्विवेदी!

ED ने किन मामलों में सत्येंद्र जैन और संजय राउत के परिवारों की करोड़ों की संपत्ति कुर्क की है?

ED ने किन मामलों में सत्येंद्र जैन और संजय राउत के परिवारों की करोड़ों की संपत्ति कुर्क की है?

कार्रवाई पर संजय राउत भड़क गए हैं.

यूपी सरकार के लिए गोरखनाथ मंदिर हमला 'आतंकी घटना', हमलावर के पिता ने क्या बताया?

यूपी सरकार के लिए गोरखनाथ मंदिर हमला 'आतंकी घटना', हमलावर के पिता ने क्या बताया?

यूपी सरकार ने आरोपी के खिलाफ तगड़ी जांच के आदेश दे दिए हैं.