Submit your post

Follow Us

क्या थे वो झगड़े जिनके लिए अमर सिंह ने अमिताभ बच्चन से माफी मांगी थी

समाजवादी पार्टी के पूर्व नेता अमर सिंह नहीं रहे. लंबे समय से बीमार थे. सिंगापुर में इलाज चल रहा था. बीते दिनों उन्होंने ट्विटर पर अस्पताल से कई वीडियो शेयर किए थे. ऐसे ही 18 फरवरी को उन्होंने ट्वीट किया था. अमिताभ बच्चन और उनके परिवार के खिलाफ कही गई बातों के लिए खेद जताया. लिखा,

आज मेरे पिता जी की पुण्यतिथि है. मुझे अमिताभ बच्चन जी ने मैसेज किया. जिंदगी के इस मोड़ पर जब मैं जिंदगी और मौत से लड़ रहा हूं. अमित जी और उनके परिवार के बारे में अपने ओवररिएक्शन के लिए खेद प्रकट करता हूं. उन सभी पर भगवान की कृपा बनी रहे.

अमर सिंह कभी अमिताभ के जिगरी यार थे. अमिताभ बच्चन के जुहू वाले घर में उनके लिए एक कमरा होता था. वो बच्चन की गाड़ी में घूमते थे. ये वो दिन थे जब एबीसीएल के डूबने के बाद अमिताभ ने केबीसी से कमबैक किया था और फिर से सिनेमा का ध्रव तारा बन चुके थे. कहा जाता है कि उस दौर में अमर सिंह ही इस तारे के सप्तर्षि थे.

लेकिन फिर एक वक़्त आया. बुरा वक़्त. अमर सिंह को समाजवादी पार्टी से बाहर कर दिया गया. उनके साथ जया प्रदा को भी बाहर कर दिया गया. लेकिन जया बच्चन ने अपना निर्णय लिया और समाजवादी पार्टी में बनी रहीं. यहीं से बच्चन परिवार के साथ उनकी खटास शुरू हो गई. अमिताभ बच्चन बड़े भाई से अमितजी हो गए. और बच्चन साहब ने अमर सिंह से जुड़े हर सवाल पर मौन साध लिया.

2016 में BBC से बातचीत में अमर सिंह ने कहा था,

#अमिताभ बच्चन से भले ही हमारे संबंध आज अच्छे न हों. लेकिन एक बात मैं साफ कह दूं. अमिताभ बच्चन डरपोक इंसान हैं. कानून से बहुत डरते हैं. जो उनकी स्क्रीन इमेज है एंग्री यंगमैन वाली. बता दूं कि एक सामान्य इनकम टैक्स ऑफिसर के छोटे से नोटिस से उनकी हालत खराब हो जाती है. आर्थिक प्रबंधन के मामले में उनका ज्ञान शून्य है. जिस वक्त का ये मामला है, उस वक्त अमिताभ का लेन-देन का हिसाब उनके छोटे भाई अजिताभ बच्चन देखते थे.

#पनामा पेपर्स के सामने आने के बाद अमिताभ ने कहा कि उनके नाम का गलत इस्तेमाल हुआ. ये सपाट बयान नहीं था. इसका मतलब ये हुआ कि दाल में कुछ काला है. पनामा पेपर्स में फंसना हो सकता है कि अमिताभ की किसी भूल की वजह से हुआ. हो सकता है कि किसी सीए ने साइन करवा लिए हों. अमिताभ बच्चन ने मेरे मदद करने को लेकर चाहे जो कुछ कहा हो. पर मैं बता दूं कि मैंने अमिताभ बच्चन परिवार के लिए कुछ नहीं किया.

सपा के मुलायम काल में महासचिव रहे अमर सिंह (फाइल फोटो)
सपा के मुलायम काल में महासचिव रहे अमर सिंह (फाइल फोटो)

#मैंने अपनी खुशी के लिए जो किया, वो किया. अमिताभ बच्चन ने मुझसे कभी कोई पैसे नहीं मांगे. हमारा उनका संबंध कभी लेन-देन का नहीं रहा. लेकिन हां जब हम परेशान थे, तब वो लोग हमारे साथ खड़े नहीं दिखाई दिए. इससे भावनात्मक रूप से आप समझिए, मेरी मौत हो गई. मेरी हत्या हो गई. ये मेरी आहत भावना की आत्मा है, जो आपके सामने बैठी है.

2017  में एक इंटरव्यू में अमर सिंह ने कहा था,

मेरी मुलाकात से पहले ही अमिताभ बच्चन और जया बच्चन अलग-अलग रह रहे थे. उनमें से एक ‘प्रतीक्षा’ और दूसरा ‘जनक’ में रह रहा था. लोग इस देश की हर समस्या के लिए मुझे ही जिम्मेदार ठहराते हैं. जबकि मैं तो एश्वर्या राय और जया बच्चन के बीच आई तल्खी के लिए भी जिम्मेदार नहीं हूं.

अमर सिंह ने अमिताभ के बारे में कहा था,

जब मुझे जमानत मिली, बच्चन मुझे देखने आए.लेकिन मैं इंप्रेस्ड नहीं हुआ. बच्चन मुझ से तब मिलने आए जब मैं जेल से बाहर आ गया और हॉस्पिटल में भर्ती था. जब वह मुझसे मिलने आए बातचीत करने का मन नहीं हुआ, क्योंकि फ्रैंडशिप वाली फिलिंग खत्म हो चुकी थी.

Jaya Bachchan
कहते हैं कि जया बच्चन को राजनीति में लाने वाले अमर सिंह ही थे. (फाइल फोटो)

अमर सिंह ने 2018 में News18 से बातचीत में कहा था,

अमिताभ बच्चन ने एक पार्टी में खुलासा करते हुए एक बड़े आदमी के बारे में कहा था कि वो उन्हें रुपए देना चाहते थे, लेकिन उन्होंने नहीं लिए. जबकि ये झूठ है. अमिताभ उस शख्स से 250 करोड़ रुपए मांग रहे थे, जबकि वो इन्हें 25 करोड़ रुपए ही देना चाहता था. अगर अमिताभ में हिम्मत है तो उस शख्स का नाम बताएं, जिसके पैसे लेने से इनकार किया था. नहीं तो मैं उस शख्स की चिठ्ठी दिखाता हूं, जिसमें उन्होंने 25 करोड़ रुपए देने की बात कही थी.

एक कार्यक्रम में अमर सिंह ने कहा था,

ऐश्वर्या मेरी बहुत इज्जत करती है. अभिषेक ने भी आज तक मेरे खिलाफ कुछ नहीं कहा. मुझे अमिताभ बच्चन से भी कोई गिला नहीं है. उन्होंने खुद मुझे चेतावनी दी थी कि मैं जया बच्चन को राजनीति में न उतारूं. मैंने ही उनकी भली सलाह नहीं मानी.

ऐसे कई मौके हैं जब अमर सिंह ने अमिताभ बच्चन और उनके परिवार के खिलाफ बहुत सारी बातें कहीं. इन्हीं बातों के लिए अमर सिंह ने ट्विटर पर खेद जताया था.


Video: सुषमा स्वराज: जिन्हें मदन लाल खुराना और साहिब सिंह वर्मा की लड़ाई में मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बिठाया गया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ईरान ने समुद्री डाकुओं को रिहा किया और 11 भारतीय नाविकों को तस्कर बताकर जेल में डाल दिया!

ढाई महीने हो गए, कहीं कोई खोज ख़बर नहीं.

सुशांत सिंह राजपूत के पिता ने रिया चक्रवर्ती के ख़िलाफ FIR दर्ज़ करवाई

सुशांत ने 14 जून को सुसाइड कर लिया था.

अयोध्या में 5 अगस्त के भूमि पूजन को लेकर क्या-क्या तैयारियां चल रही हैं

रामलला की पोशाक से लेकर अयोध्या में रंग-रोगन तक की सारी बातें.

कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को हड़काया, दिल्ली दंगे में पिंजरा तोड़ पर ऐसी बयानबाज़ी क्यों?

पुलिस ने क्या जवाब दिया, वो भी देखिए.

जिस मेट्रो स्टेशन के नीचे दंगे हुए, 5 महीने बाद भी दिल्ली पुलिस ने वहां से CCTV फ़ुटेज नहीं निकाली!

कोर्ट ने कहा, 'पुलिस में अजीब-सी सुस्ती है वीडियो फ़ुटेज को लेकर'

मास्क बांटने के बहाने बच्चे को किडनैप किया, चार करोड़ मांगे, पुलिस ने 24 घंटे में पकड़ लिया

यूपी के गोंडा का मामला, पांच आरोपी भी गिरफ्तार.

चुनाव आयोग ने बीजेपी IT सेल से जुड़ी कंपनी से चुनावी कामधाम करवाया!

ये कम्पनी पूर्व महाराष्ट्र सरकार और दूसरे सरकारी विभागों का भी काम देख रही थी.

इंडिया में कोरोना की वैक्सीन का दाम पता चल गया है, लेकिन पैसे आपको नहीं देने होंगे!

क्या कहा बनाने वाले आदर पूनावाला ने?

बाइक चला रहे CJI बोबड़े पर ट्वीट करने पर twitter और वकील प्रशांत भूषण पर अवमानना का केस हो गया!

सुनवाई में ट्वीट डिलीट करने की बात पर कोर्ट ने क्या कहा?

जाटों-पंजाबियों को बिना बुद्धि का बोलकर माफ़ी मांगने लगे बीजेपी के सीएम

और कौन? वही त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देब.