Submit your post

Follow Us

'कुत्ता भौंकता है तो भौंकने दो', अकबरुद्दीन ओवैसी का राज ठाकरे पर तीखा हमला

मस्जिदों पर लाउडस्पीकर लगे होने पर छिड़े विवाद में अब उस नेता का बयान आया है, जिसका इतिहास ही विवादित बयानों से भरा रहा है. ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के नेता और विधायक अकबरुद्दीन ओवैसी (Akbaruddin Owaisi) ने मस्जिदों पर लाउडस्पीकर लगे होने का विरोध कर रही महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) के अध्यक्ष राज ठाकरे पर बेहद तीखा हमला बोला है. एक रैली में भाषण देते हुए अकबरुद्दीन ओवैसी ने राज ठाकरे (Raj Thackeray) पर ये हमला बोला. हालांकि उन्होंने MNS प्रमुख का नाम नहीं लिया.

कुत्ते को भौंकने दो

इंडिया टुडे की खबर के मुताबिक अकबरुद्दीन ओवैसी औरंगाबाद में आयोजित एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे. इसी दौरान उन्होंने महाराष्ट्र के लाउडस्पीकर विवाद पर अपनी बात रखी. बात क्या रखी ‘आ बैल मुझे मार’ वाला मुहावरे को चरितार्थ कर दिया. बोले,

‘मैं नौजवानों से कहूंगा, जो हो रहा है होने दो. जो भी छोड़ो मैं तो कहूंगा कि जो भी कुत्ता जैसी भी भौंकता है भौंकने दो. कुत्तों का काम भौंकना है. शेरों का काम खामोश रहना है. बस भौंकने दो. वक्त और हालात की नजाकत को समझो. उनके जाल में फंसना नहीं है. वो जाल बुन रहे हैं, तुमको फंसाना चाहते हैं. तुम फंसना नहीं. खामोश रहो. मुस्कुराओ और चले जाओ.’

देखें वीडियो-

हालांकि बाद में अकबरुद्दीन ओवैसी ने कहा,

‘मैं यहां किसी को जवाब देने नहीं आया हूं, न किसी को बुरा कहने आया हूं. मेरे पास एक सांसद है और तुम (राज ठाकरे)… तुम तो बेघर हो, लापता हो, अपने ही घर से बेदखल कर दिए गए हो.’

अकबरुद्दीन ने कहा कि देश में नफरत की बातें की जा रही हैं, लेकिन वह नफरत से नहीं बल्कि मोहब्बत से जवाब देंगे. AIMIM के नेता ने कहा कि अजान की बात हो रही है, लिंचिंग और हिजाब की बात हो रही है, लेकिन मुसलमानों को इससे डरना नहीं चाहिए. उन्हें एक साथ इकट्ठा खड़े होने की जरूरत है.

शिवसेना ने भी घेरा

गुरुवार, 12 मई को अकबरुद्दीन ओवैसी ने औरंगाबाद में एक फ्री स्कूल के शिलान्यास कार्यक्रम में हिस्सा लिया था. इसके अलावा उन्होंने मुगल शहंशाह औरंगजेब की कब्र का भी दौरा किया था और उस पर फूल चढ़ाए थे.  

इस पर शिवसेना ने AIMIM के नेता को घेरा है. शिवसेना के नेता चंद्रकांत खैरे ने छोटे ओवैसी को लेकर कहा,

‘कोई भी, न हिंदू न मुस्लिम, उस मकबरे पर नहीं जाता. क्योंकि औरंगजेब सबसे क्रूर मुगल सम्राट था. लेकिन ओवैसी और उनकी पार्टी के नेता राजनीतिक फायदे के लिए विवाद पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं.’

वहीं पार्टी के और नेता अखिल चित्रे ने कहा,

“हम शिवाजी महाराज के वंशज हैं. जब तक अकबरुद्दीन ओवैसी औरंगजेब की कब्र पर मस्तक नवाकर ऊपर उठेगा, तब तक महाराष्ट्र का शेर (मतलब राज ठाकरे) उनका शिकार कर चुका होगा.”

अखिल चित्रे ने सरकार से मांग की कि ओवैसी के खिलाफ तुरंत एक्शन लेना चाहिए.

वापस लाउडस्पीकर विवाद पर आते हैं. इस मुद्दे पर पहले भी जुबानी जंग हो चुकी है. अकबरुद्दीन ओवैसी से पहले उनके बड़े भाई और AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी भी तीखे तेवर दिखा चुके हैं. लाउडस्पीकर विवाद को लेकर उन्होंने महाराष्ट्र की उद्धव सरकार और राज ठाकरे पर हमला बोला था. इसमें बड़े ओवैसी ने महाराष्ट्र सरकार से सवाल किया था कि वो राज ठाकरे पर कार्रवाई क्यों नहीं कर रही है.

बता दें कि कुछ समय पहले मनसे कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए राज ठाकरे ने महाराष्ट्र की मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने की मांग की थी. यही नहीं, राज ठाकरे ने धमकी दी थी कि अगर पुलिस और प्रशासन जल्द ही मस्जिदों से लाउडस्पीकर नहीं हटाते हैं, तो उनकी पार्टी के लोग मस्जिदों के सामने तेज आवाज में हनुमान चालीसा बजाएंगे. बाद में इस विवाद में अमरावती की निर्दलीय सांसद नवनीत राणा भी कूद गईं. उन्होंने सीएम उद्धव के घर के बाहर हनुमान चालीसा पढ़ने का ऐलान किया था. हालांकि उससे पहले ही नवनीत को उनके विधायक पति रवि राणा के साथ गिरफ्तार कर लिया गया था. बाद में दोनों को बेल मिल गई थी.


वीडियो- लाउडस्पीकर पर अजान और हनुमान चालीसा बजाने से कितना शोर होता है, क्या कहता है कानून?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

छत्तीसगढ़ के रायपुर एयरपोर्ट पर सरकारी हेलीकॉप्टर क्रैश, दो पायलटों की मौत

क्रैश का कारण अभी साफ नहीं हो सका है.

जम्मू-कश्मीर में एक और कश्मीरी पंडित की हत्या, आतंकियों ने सरकारी दफ्तर में घुसकर गोली मारी

मृतक राहुल भट्ट राजस्व विभाग में कार्यरत थे.

क्या क्रिप्टो करंसी के बुरे दिन शुरू हो गए हैं ? छह महीने में आधी हो गईं कीमतें

30% इनकम टैक्स के बाद अब 28% जीएसटी लगाने की तैयारी

पेट्रोल के दाम घटाने की मांग कर रहे विपक्षी राज्यों को पीएम मोदी ने नवंबर याद दिला दिया

मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल मीटिंग में पीएम मोदी ने नाम ले-लेकर सुनाया.

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

जानकारों ने जहांगीरपुरी में निकले जुलूस पर सवाल उठाए हैं.

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

मौजूदा आर्मी चीफ मनोज मुकुंद नरवणे के रिटायर्ड होने पर पदभार संभालेंगे.

LIC का IPO: सरकार अब जो करने जा रही है उससे छोटे निवेशकों को फायदा है

LIC के IPO में बहुत कुछ बदलने जा रहा है. अगले हफ्ते आ सकता है अपडेटेड प्रॉस्पेक्टस.

RBI की इस पहल से सभी एटीएम से बिना कार्ड कैश निकलेगा!

अभी ये सुविधा कुछ ही बैंको तक सीमित है.

'शराबी' खिलाड़ी की जानलेवा हरकत की वजह से मरते-मरते बचे थे युजवेंद्र चहल, अब किया खुलासा

2013 की बात है जब चहल मुंबई इंडियन्स की तरफ से खेलते थे.

आकार पटेल के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी करने वाली CBI अब उनसे माफी मांगेगी

कोर्ट ने आकार पटेल को बड़ी राहत दी है.