Submit your post

Follow Us

अकाली दल NDA से अलग हुआ, हरसिमरत कौर बादल ने अटल को क्यों याद किया?

26 सितंबर को बीजेपी की पुरानी सहयोगी पार्टी शिरोमणि अकाली दल, राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) से अलग हो गई. पार्टी प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने इसका ऐलान किया. अकाली दल तीन कृषि बिल का विरोध कर रहा है. चंडीगढ़ में पार्टी मुख्यालय में तीन घंटे की मीटिंग के बाद सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि हम एनडीए का हिस्सा नहीं रह सकते क्योंकि केंद्र सरकार MSP बचाए रखने की विधायी गारंटी ना देने पर अड़ी है.

नौ दिन पहले ही अकाली दल केंद्र सरकार से अलग हुआ था, जब हरसिमरत कौर बादल ने  केंद्रीय मंत्री पद से इस्तीफा दिया. 25 सितंबर को किसानों की तरफ से बुलाए गए भारत बंद के दौरान सुखबीर बादल और हरसिमरत कौर बादल ट्रैक्टर मार्च-चक्काजाम में शामिल हुए थे. सुखबीर बादल ने कहा कि एक अक्टूबर को हमारी पार्टी तख्त दमदमा साहिब, अकाल तख्त और तख्त केशगढ़ साहिब से चंडीगढ़ की ओर किसान मार्च शुरू करेगी.

ये वाजपेयी जी और बादल साहब का NDA नहीं: हरसिमरत

करीब 23 साल पुराना गठबंधन टूटने के बाद हरसिमरत कौर बादल ने बीजेपी नेता और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को याद किया. उन्होंने ट्वीट किया,

”अगर 3 करोड़ पंजाबियों का दर्द और विरोध-प्रदर्शन भारत सरकार के कठोर रुख को बदलने में असफल रहा, तो ये वाजपेयी जी और बादल साहब (प्रकाश सिंह बादल) की परिकल्पना वाला NDA नहीं है. एक गठबंधन जो अपने सबसे पुराने सहयोगी की नहीं सुनता और देश के अन्नदाताओं की मांग पर आंखें मूंद लेता है, वो पंजाब के हित में नहीं है.”

किसानों को गुमराह करने का नतीजा: कैप्टन अमरिंदर

एनडीए से गठबंधन टूटने पर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिदंर सिंह ने कहा,

जब बीजेपी ने इस बात का खुलासा कर दिया कि अकाली दल किसान विरोध विधेयकों का पक्षधर था, तो अकाली दल के पास कोई विकल्प नहीं बचा था. गठबंधन का अंत तीन महीने से किसानों को गुमराह करने का नतीजा है.

NDA को अब नए साथी मिल गए हैं: शिवसेना

NDA से पहले ही अलग हो चुकी एक और पार्टी शिवसेना के प्रवक्ता संजय राउत ने कहा,

शिवसेना को मजबूरन एनडीए से बाहर निकलना पड़ा, अब अकाली दल निकल गया. NDA को अब नए साथी मिल गए हैं. मैं उनको शुभकामनाएं देता हूं. जिस गठबंधन में शिवसेना और अकाली दल नहीं हैं, मैं उसको NDA नहीं मानता हूं.

पहले से चल रही थी खटपट

दिल्ली विधानसभा चुनाव और इसी साल हरियाणा में हुए विधानसभा चुनावों के दौरान भी अकाली दल और बीजेपी के बीच उठापटक दिखी थी. हरियाणा में अकाली दल ने बीजेपी की बजाय इनेलो के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ा था.

पंजाब में 2017 के विधानसभा चुनाव में 117 सीटों में से अकाली दल 15 तो बीजेपी तीन सीटों पर सिमट गई. बीजेपी ने तब आधी सीटों पर चुनाव लड़ने की मांग की थी, जिसे अकाली दल ने नहीं माना. 2019 लोकसभा चुनाव में पंजाब की 13 में से 10 सीटों पर लड़े अकाली दल ने दो सीटें जीतीं तो बीजेपी ने तीन में से दो सीटों पर जीत दर्ज की.

पंजाब में मार्च 2022 में विधानसभा चुनाव हैं. माना जा रहा है कि अकाली दल किसानों का वोट बैंक खोना नहीं चाहता. कहा गया कि हरसिमरत कौर बादल के इस्तीफे के बाद भी किसानों में साफ संदेश नहीं जा पाया तो अकाली दल एनडीए से अलग हो गया. शिवसेना और तेलगु देशम पार्टी के बाद अकाली दल बीजेपी का तीसरा बड़ा सहयोगी दल है, जो NDA से अलग हुआ है.


जानिए, मोदी सरकार के तीनों कृषि बिल का विरोध क्यों कर रहे हैं किसान?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह नहीं रहे, पीएम मोदी ने कहा-

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह नहीं रहे, पीएम मोदी ने कहा- "बातें याद रहेंगी"

जसवंत सिंह अटल सरकार के कद्दावर मंत्रियों में से थे.

IPL2020 के जरिए टीम इंडिया में आएगा फाजिल्का का ये लड़का?

IPL2020 के जरिए टीम इंडिया में आएगा फाजिल्का का ये लड़का?

सबकी उम्मीदें शुभमन गिल से लगी है.

आप दीपिका और रकुल प्रीत में उलझे रहे और राजस्थान में इतना बड़ा कांड हो गया!

आप दीपिका और रकुल प्रीत में उलझे रहे और राजस्थान में इतना बड़ा कांड हो गया!

दो दिन से बवाल चल रहा है.

मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार रोकने वाले इस क़ानून को जरूरी बनाने की बात से पलटी मार ली

मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार रोकने वाले इस क़ानून को जरूरी बनाने की बात से पलटी मार ली

और यह जानकारी ख़ुद सरकार ने दी है.

किसान कर्फ्यू से पहले किसानों ने कहां-कहां ट्रेन रोक दी है?

किसान कर्फ्यू से पहले किसानों ने कहां-कहां ट्रेन रोक दी है?

कई ट्रेनों को कैंसिल किया गया, कई के रूट बदले गए.

केंद्रीय मंत्री सुरेश अंगड़ी का कोविड-19 से निधन

केंद्रीय मंत्री सुरेश अंगड़ी का कोविड-19 से निधन

दिल्ली के एम्स में उनका इलाज चल रहा था.

धोनी का वर्ल्ड कप जिताने वाला सिक्सर याद है! वो अब स्टेडियम में अमर होने वाला है

धोनी का वर्ल्ड कप जिताने वाला सिक्सर याद है! वो अब स्टेडियम में अमर होने वाला है

भारत में किसी खिलाड़ी को जो मुकाम हासिल नहीं हुआ, वो अब धोनी को मिलने वाला है.

अंतरिक्ष में भी लद्दाख जैसी हरकतें कर रहा है चीन

अंतरिक्ष में भी लद्दाख जैसी हरकतें कर रहा है चीन

भारत के सैटेलाइट पर है ख़तरा!

चुनाव लड़ने के लिए गुप्तेश्वर पांडे ने दूसरी बार पुलिस सेवा से रिटायरमेंट ले ली है

चुनाव लड़ने के लिए गुप्तेश्वर पांडे ने दूसरी बार पुलिस सेवा से रिटायरमेंट ले ली है

2009 में भी गुप्तेश्वर पांडे ने वीआरएस लिया था, पर तब बीजेपी ने टिकट नहीं दिया था.

दिल्ली दंगे के लिए पुलिस ने अब इस ग्रुप को जिम्मेदार ठहराया है

दिल्ली दंगे के लिए पुलिस ने अब इस ग्रुप को जिम्मेदार ठहराया है

चार्जशीट में दिल्ली पुलिस ने और क्या कहा है?