Submit your post

Follow Us

राजनाथ सिंह ने बताया, कौन होगा यूपी में बीजेपी का मुख्यमंत्री पद का अगला दावेदार

राजनाथ सिंह देश के रक्षा मंत्री, भाजपा के वरिष्ठ नेता और लखनऊ से सांसद हैं. उन्होंने साफ़ कहा है कि यूपी में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में योगी आदित्यनाथ ही भाजपा की ओर से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार होंगे. आजतक से बातचीत में राजनाथ सिंह ने ये भी कहा कि योगी आदित्यनाथ ने अपने अब तक के कार्यकाल में बहुत अच्छा काम किया है. 

राजनाथ सिंह ने योगी आदित्यनाथ की तारीफ़ करते हुए कहा कि

योगी ख़ुद कोरोना संक्रमित होने के बावजूद आइसोलेशन में रहकर काम करते रहे, इसलिए उनके परिश्रम पर कोई भी सवालिया निशान नहीं लगाया जा सकता है. यूपी में मुख्यमंत्री पद का चेहरा वही होंगे. 

राजनाथ का ये बयान ऐसे समय आया है, जब सूबे के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने ख़ुद एक तरह से योगी आदित्यनाथ की दावेदारी पर सवाल उठाए थे. आजतक से ही बातचीत में केशव प्रसाद मौर्य ने कहा था कि 2022 के चुनाव में पार्टी का चेहरा कौन होगा या पार्टी का नेतृत्त्व कौन करेगा, ये तय करने का काम केंद्रीय नेतृत्त्व का है. 

पत्रकार बताते हैं कि केशव प्रसाद मौर्य के इस बयान के बाद से यूपी के राजनीतिक गलियारों में ये चर्चा होने लगी कि भाजपा नेतृत्त्व में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. क्योंकि बीते कई दिनों में यूपी में बहुत कुछ हुआ. योगी आदित्यनाथ दिल्ली आकर अमित शाह और नरेंद्र मोदी से मिलते हैं. संगठन के नेता बीएल संतोष लखनऊ जाकर नेताओं से मिलते हैं. इसको लेकर यूपी में ‘कुछ बड़ा होने वाला है’ सरीखी क़यासी चर्चाएं ज़ोरों पर रहती हैं.

इस बारे में टिप्पणी करते हुए इंडिया टुडे के लखनऊ संवाददाता आशीष मिश्र बताते हैं,

“देखिए ये बात तो लगभग पूरा यूपी जानता है कि केशव प्रसाद मौर्य और योगी आदित्यनाथ में पटरी नहीं खाती है. अनबन के क़िस्से मशहूर हैं. कहा जाता है कि केशव प्रसाद तो सीधे से योगी का नाम ही नहीं लेना चाहते हैं. उन्होंने जो बयान दिया है, हो सकता है कि उन बयानों के पीछे ऐसे ही कुछ कारण हों.”

लेकिन राजनाथ सिंह ने योगी आदित्यनाथ पर भरोसा क्यों जताया है? वो भी तब जब यूपी में विधायकों और अधिकारियों की योगी से नाराज़गी के क़िस्से एकदम आम हैं? इस बारे में आशीष मिश्र कहते हैं,

“राजनाथ सिंह को विवाद नहीं चाहिए. वो ऐसा कोई बयान नहीं देना चाहेंगे, जो पार्टी के केंद्रीय स्टैंड से कुछ अलग जाता हो. हो सकता है इसी वजह से उन्होंने योगी को लेकर ये हालिया बयान दिया है. लेकिन चुनाव के 6-7 महीने पहले दिया बयान चुनाव के समय और बाद में कितना चरितार्थ होता है, इसकी संभावना पर ही सारा खेल टिका होता है.”

और इस सबके बीच बीजेपी में भी कुछ न कुछ चल रह है. मोर्चों पर बहस जारी है. एक महीने के भीतर ही राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष दूसरी बार लखनऊ जा रहे हैं. 21 और 22 जून को. देखना ये है कि आगे क्या होता है.


वीडियो : UP विधानसभा चुनाव के पहले CM योगी और मंत्रियों के बीच क्या उठा पटक हो रही है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

चिराग पासवान के चचेरे भाई सांसद प्रिंस राज पर लगे रेप के आरोप का पूरा मामला है क्या?

आरोप लगाने वाली महिला के खिलाफ प्रिंस ने भी फरवरी में दर्ज कराई थी FIR.

किसान आंदोलन में शामिल लोगों पर आरोप- पहले ग्रामीण को शराब पिलाई, फिर जिंदा जला दिया!

बहादुरगढ़ की घटना, पुलिस ने दो लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया है.

CBSE ने सुप्रीम कोर्ट में बताया, 12वीं के मार्क्स देने का 30:30:40 फॉर्मूला क्या है

31 जुलाई से पहले फाइनल रिजल्ट जारी करने की जानकारी भी दी है.

योगी सरकार के संपत्ति रजिस्ट्री को लेकर लगने वाले स्टाम्प शुल्क के नए नियम में क्या है?

नए नियम के बाद विवादों में कमी आएगी?

हरिद्वार कुंभ के दौरान बांटी गयी 1 लाख फ़र्ज़ी कोरोना रिपोर्ट? जानिए क्या है कहानी

अख़बार का दावा, सरकारी जांच में हुआ ख़ुलासा

दिल्ली दंगा : नताशा, देवांगना और आसिफ़ को ज़मानत देते हुए कोर्ट ने कहा, 'कब तक इंतज़ार करें?'

जानिए क्या है पूरा मामला?

सैन्य ऑपरेशन से जुड़े 25 साल से ज्यादा पुराने रिकॉर्ड सार्वजनिक होंगे

सेना के इतिहास से जुड़ी जानकारियां सार्वजनिक करने की पॉलिसी को मंजूरी

पंजाब चुनाव: अकाली दल और बसपा गठबंधन का ऐलान, कितनी सीटों पर लड़ेगी मायावती की पार्टी?

पंजाब के अलावा बाकी चुनाव भी साथ लड़ने की घोषणा.

TMC में घर वापसी करने वाले मुकुल रॉय ने 4 साल बाद बीजेपी छोड़ने का फैसला क्यों लिया?

मुकुल रॉय को बराबर में बिठाकर ममता बनर्जी किन गद्दारों पर भड़कीं?

लक्षद्वीप: किस एक बयान के बाद फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना पर राजद्रोह का केस हो गया?

पहले TV डिबेट में बोला, फिर फेसबुक पर पोस्ट लिखा.