Submit your post

Follow Us

'मैं सीएम बना तो सबको मिलेगी दोपहर की झपकी'

थ्री इडियट्स फिल्म देखी है? देखी होगी तो उसमें प्रॉफसर वीरू सहस्त्रबुद्धे उर्फ वायरस का कैरेक्टर याद होगा. कॉलेज के डीन. जबरदस्त जीनियस. दोनों हाथ से एक साथ लिखने वाले टीचर. वायरस का नारा था- लाइफ इज़ अ रेस. इस रेस में अपनी ज़रूरत का आराम वो करते थे दोपहर के साढ़े सात मिनट में. पावर नैप लेकर. दोपहर में खाना खाने के बाद ली गई ये साढ़े सात मिनट की पावर नैप वायरस को और भी ‘डेडली’ बना देती थी.

पावर नैप की इसी महिमा से जुड़ी ख़बर है. गोवा में पावर नैप या दोपहर की झपकी के इस मुद्दे पर पर अगला चुनाव लड़े जाने की तैयारी है. राज्य में 2022 में विधानसभा चुनाव होने हैं. गाजा-बाजा 2021 से ही शुरू हो जाएगा. यहां एक राजनीतिक दल है- गोवा पॉलिटिकल पार्टी. इसके मुखिया विजय सरदेसाई ने 1 दिसंबर को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की. कहा कि दोपहर में झपकी लेना तो गोवा के कल्चर का हिस्सा है. अगर उनकी पार्टी सरकार में आती है तो वो इसे अनिवार्य कर देंगे.

झपकी मुद्दा क्यों बनी?

गोवा माने चिल वाइब्स वाली जगह. दोपहर में झपकी मारना यहां आम बात है. यहां के लोग दोपहर में करीब घंटे भर की झपकी लेते ही लेते हैं. इसे ‘सिएस्ता’ (Siesta) कहते हैं. इसी बात को ध्यान में रखते हुए विजय सरदेसाई ने कहा है कि वे सीएम बने तो सभी दफ्तरों के लिए ज़रूरी होगा कि वे दोपहर मेंं कर्मचारियों के एक घंटे का सिएस्ता ऑर (Siesta Hour) दें.

अपने अनोखे ऐलान के बाद विजय सरदेसाई ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा,

“गोवा के कल्चर का एक अहम हिस्सा है- सुसेगाद. ये पुर्तगाली शब्द सुसेगादो से निकला है. इसका मतलब होता है कि ज़िंदगी को रिलैक्स, चिंतामुक्त और अच्छे एटिट्यूड के साथ जीना. यही गोवा वालों की लाइफस्टाइल है और सुसेगाद का अहम हिस्सा है- दोपहर की झपकी. और अब तो ये क्लिनिकली भी साबित हो चुका है कि दोपहर की झपकी सेहत के लिए कितनी फायदेमंद होती है.”

बताते चलें कि चीन के बारे में ये एक प्रचलित बात है कि वहां दफ्तरों में दोपहर में छोटी सी झपकी मारने का समय दिया जाता है. कुछ समय पहले अमेरिकी की सिलिकन वैली से भी ये ख़बर आई थी कि साब वहां फेसबुक ने बड़ा जोरदार ऑफिस तैयार किया है और वहां तो झपकी मारने के लिए अलग-अलग कोने तक बने हैं. कोने में जाइए, झपकी मारकर आइए. अब हकीकत तो गुरू तभी पता चलेगी, जब फेसबुक में काम करने वाला कोई लपेटे में आए.


रात में नींद न आना, इनसोम्निया के लक्षण हो सकते हैं!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज लोकुर ने कहा, जबरन धर्मांतरण पर यूपी का क़ानून लोगों की आजादी के खिलाफ़ है

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज लोकुर ने कहा, जबरन धर्मांतरण पर यूपी का क़ानून लोगों की आजादी के खिलाफ़ है

UAPA और दिल्ली दंगों पर जस्टिस लोकुर ने क्या कहा?

वो गेंद स्टंप पर नहीं मारता था, खुद लपक कर स्टंप बिखेर देता था

वो गेंद स्टंप पर नहीं मारता था, खुद लपक कर स्टंप बिखेर देता था

मोहम्मद कैफ़ का आज जन्मदिन है. इस बहाने आज उनकी फील्डिंग के चंद किस्से.

पिता ने चिट्ठी लिखकर गंभीर इल्ज़ाम लगाए तो शेहला राशिद ने क्या कहा?

पिता ने चिट्ठी लिखकर गंभीर इल्ज़ाम लगाए तो शेहला राशिद ने क्या कहा?

चिट्ठी में कहा कि शेहला घर में एंटी-नेशनल काम कर रही हैं.

दिल्ली दंगा : वीडियो सबूत होने के बाद भी पुलिस ने जांच नहीं की, कोर्ट ने दिया FIR का ऑर्डर

दिल्ली दंगा : वीडियो सबूत होने के बाद भी पुलिस ने जांच नहीं की, कोर्ट ने दिया FIR का ऑर्डर

सलीम की शिकायत, 'सुभाष और अशोक ने मेरे घर पर हमला किया'

कृषि बिलों पर वोटिंग के दौरान किसके कहने पर सांसदों के माइक बंद किए गए थे?

कृषि बिलों पर वोटिंग के दौरान किसके कहने पर सांसदों के माइक बंद किए गए थे?

बहुत हंगामा हुआ था, अब कहानी सामने आयी.

देश की आर्थिक सेहत बताने वाले GDP के आंकड़े आ गए हैं. ये डराने वाले हैं और उम्मीद जगाने वाले भी

देश की आर्थिक सेहत बताने वाले GDP के आंकड़े आ गए हैं. ये डराने वाले हैं और उम्मीद जगाने वाले भी

इस वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के जीडीपी आंकड़े क्या बताते हैं, जान लीजिए

जानिए कितनी ज़बरदस्त तैयारी के साथ दिल्ली आए किसान, 17 पॉइंट का नोट वायरल

जानिए कितनी ज़बरदस्त तैयारी के साथ दिल्ली आए किसान, 17 पॉइंट का नोट वायरल

किसान बोले, जहां रोकेंगे वहीं गांव बसा लेंगे, छह महीने की तैयारी करके आए हैं...

किसान आंदोलन में क्या-क्या हो रहा, सबसे दमदार तस्वीरों में यहां देखिए

किसान आंदोलन में क्या-क्या हो रहा, सबसे दमदार तस्वीरों में यहां देखिए

दिल्ली कूच के लिए कुछ भी करने को तैयार दिख रहे किसान

कांग्रेस के दिग्गज नेता अहमद पटेल का निधन, एक महीने तक कोविड-19 से लंबी जंग लड़ी

कांग्रेस के दिग्गज नेता अहमद पटेल का निधन, एक महीने तक कोविड-19 से लंबी जंग लड़ी

पीएम मोदी समेत कई नेताओं ने दुख जताया.

कंगना-रंगोली पर सेडिशन केस की सुनवाई करते बॉम्बे हाईकोर्ट ने बहुत ज़रूरी बात कही है

कंगना-रंगोली पर सेडिशन केस की सुनवाई करते बॉम्बे हाईकोर्ट ने बहुत ज़रूरी बात कही है

"क्या हम अपने नागरिकों के साथ ऐसा व्यवहार करेंगे?”