Submit your post

Follow Us

राहुल बजाज ने शाह से सवाल पूछा था, बीजेपी आईटी सेल के अमित मालवीय गड़े मुर्दे उखाड़ लाए

5
शेयर्स

मोदी सरकार पर दिए राहुल बजाज के बयान के बाद, वे ट्विटर पर जमकर ट्रोल किए जा रहे हैं. राहुल बजाज ने ईटी नाउ के एक अवॉर्ड फंक्शन में अमित शाह के सामने कहा कि बिजनेसमैन के बीच डर का माहौल है. लोग सरकार की आलोचना से घबराते हैं. जिस पर कांग्रेस और बीजेपी आमने-सामने तो आ ही गई है, लोग सोशल मीडिया पर भी बजाज को ट्रोल कर रहे हैं.

राहुल बजाज के बयान का इस्तेमाल करते हुए कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने दो ट्वीट किए. बीजेपी सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने लिखा-

‘ईटी अवार्ड्स में राहुल बजाज ने कहा कि आप अनिश्चितता का वातावरण बना रहे हैं. जो डर गया वो मर गया. कॉरपोरेट दुनिया के किसी व्यक्ति ने लंबे समय बाद, जिसका सभी लोग बहुत विरोध करते हैं, सच बोलने का हिम्मत दिखाया है.’

दूसरे ट्वीट में अभिषेक मनु सिंघवी ने लिखा-

‘राहुल बजाज ने ईटी अवॉर्ड्स के एक कार्यक्रम में कहा कि यूपीए सरकार में किसी को भी गाली दे सकते थे. आपके खिलाफ बोलने से लोग डरते हैं. आप काम कर रहे हैं तो फिर लोगों को बोलने की आजादी क्यों नहीं है. इस कार्यक्रम में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण भी मौजूद थीं.’

राहुल बजाज के बयान पर कांग्रेस की राजनीतिक टिप्पणी का जवाब बीजेपी की तरफ से अमित मालवीय ने दिया. उन्होंने सीधा राहुल बजाज के खिलाफ ही मोर्चा खोल दिया. पहले तो उन्होंने अमित शाह के भाषण का वो टुकड़ा पोस्ट किया, जिसकी चर्चा कम हो रही है. इसके बाद राहुल बजाज को ‘कांग्रेसी’ बता दिया. अमित मालवीय ने राहुल बजाज के पुराने बयान को शेयर करते हुए ट्विटर पर लिखा-

‘राहुल बजाज ने कहा था कि राहुल गांधी को छोड़कर मेरे लिए किसी की भी तारीफ करना मुश्किल है.

अपनी आस्तीन पर राजनीतिक चोला खुलकर पहन लें और बकवास के पीछे छुपने से बचें कि डर का माहौल या फिर ऐसा वैसा…’

अमित मालवीय ने राहुल बजाज के एक और पुराने बयान को शेयर करते हुए ट्विटर पर लिखा-

‘अगर किसी के पास राहुल गांधी के प्रति इस तरह की चापलूस सोच थी, जबकि वो खुद एक आपदा है. तो ऐसा लगना स्वाभाविक है कि मौजूदा शासन सबसे खराब है.

सच तो यह है कि लाइसेंस राज में फलने-फूलने वाले उद्योगपति हमेशा से कांग्रेस के आभारी रहेंगे’

अमित मालवीय ने राहुल बजाज के उस बयान पर भी ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने कहा था कि वो कभी मिनिस्टर्स से नहीं मिलते. अमित मालवीय ने आईआईएम की एक केस स्टडी ट्वीट करते हुए लिखा-

क्या राहुल बजाज ने ऐसा कहा कि वो मंत्रियों से नहीं मिलते हैं?

राहुल बजाज ने स्कूटर्स इंडिया में हेरफेर करने के लिए अपने मिनिस्ट्रियल कॉन्टैक्ट का इस्तेमाल किया. बजाज ऑटो के साथ प्रपोज़्ड डील ट्रांस्परेंट नहीं था.

अब सरकार के खिलाफ किसी का इतना बड़ा बयान हो और ट्विटर यूजर्स ट्रोल ना करे ऐसा हो ही नहीं सकता है. राहुल बजाज के इस बयान पर ट्विटर पर एक यूजर ने लिखा है-

‘सच में राहुल बजाज ऐसा है क्‍या? क्‍या यूपीए की सरकार में लोग जिसकी चाहते थे, उसकी आलोचना कर पाते? आपने अपना बयान बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह के सामने दिया है. मुझे वो वीडियो दिखाइए जिसमें आप सोनिया गांधी के सामने आलोचना कर रहे हों. मुझे वो आर्टिकल भी दिखाइए जिनमें सोनिया गांधी की आलोचना हुई हो.’

इसके अलावे भी कई लोगों ने राहुल बजाज को ट्रोल किया और बजाज कंपनी को बुरा भला कहा. हालांकि राहुल बजाज की तारीफ करने वालों की भी संख्या काफी बड़ी मात्रा में थी.


Video: लोकसभा में अमित शाह ने बताई क्यों बदली गई गांधी परिवार की सुरक्षा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

GDP के नए आंकड़े आ गए हैं, 5 ट्रिलियन इकॉनमी से और दूर चले गए हैं हम

GDP है कि लुढ़कती ही जा रही है.

राष्ट्रपति बनने के बाद पहली बार भारत आए गोताबाया और मछुआरों को लेकर ये बड़ा ऐलान कर दिया

पीएम मोदी के साथ संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की.

UP में मिड-डे मील में एक और घपला, 1 लीटर दूध में 1 बाल्टी पानी मिलाकर 81 बच्चों को पिला दिया

यूपी में घपलों की लिस्ट बढ़ती जा रही है

गांधी परिवार से SPG सुरक्षा साज़िशन छीनने के इल्ज़ाम पर अमित शाह ने धो डाला

उनकी तकरीबन बातें तार्किक लग रही हैं.

BHU : मुस्लिम संस्कृत शिक्षक ने कहीं और पढ़ाने के लिए आवेदन किया है

एक पत्थर पर लिखी बात संविधान से ज्यादा ज़रूरी?

एक तरफ अमित शाह रैली में बोले नक्सलवाद ख़त्म किया, उधर नक्सलियों ने हमला कर दिया

नक्सलियों ने अमित शाह को गलत साबित कर दिया. चार जवान शहीद हो गए.

कांग्रेस ने अलग से प्रेस कॉन्फ्रेंस क्यों की?

और क्या बोले अहमद पटेल?

महाराष्ट्र में रातों रात बदला गेम, देवेंद्र फडणवीस सीएम और एनसीपी के अजित पवार डिप्टी सीएम बने

शिवसेना ने इसे अंधेरे में डाका डालना बताया.

किसका डर है कि अयोध्या मसले में सुन्नी वक्फ बोर्ड रिव्यू पिटीशन नहीं फ़ाइल कर रहा?

चेयरमैन के ऊपर दो-दो केस!

डूबते टेलीकॉम को बचाने के लिए सरकार 42 हज़ार करोड़ की लाइफलाइन लेकर आई है

तो क्या वोडाफोन आईडिया और एयरटेल बंद नहीं होने वाले हैं?