Submit your post

Follow Us

जो बाइडेन की जान बचाने वाला अफगान ट्रांसलेटर अब उनसे गुहार लगा रहा- मुझे बचा लीजिए

ये साल 2008 की बात है. मौजूदा अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन तब अपने कुछ साथियों के साथ अफगानिस्तान में बर्फीले तूफान के चलते फंस गए थे. उनके साथ जॉन कैरी और कुछ दूसरे अमेरिकी सीनेटर्स एक हेलीकॉप्टर में थे. मौसम बहुत खराब था. लिहाजा हेलीकॉप्टर उतारना पड़ा. इलाका सुनसान था. दांव पर थी अमेरिका के भविष्य की जान. ऐसे में मदद की थी अफगानिस्तान के एक दुभाषिये ने. ये व्यक्ति आगे भी ट्रांसलेटर के तौर पर अमेरिका की मदद करता रहा. लेकिन अब खुद मदद के लिए जो बाइडेन को पुकार रहा है, जो अब अमेरिका के राष्ट्रपति बन चुके हैं.

इसकी वजह जानना बहुत मुश्किल नहीं है. सबको पता है अब अफगानिस्तान में तालिबान का शासन है. उसके लड़ाके उन लोगों को तलाश कर रहे हैं, जिन्होंने बीते 2 दशकों के दौरान अमेरिका की मदद की है. वहीं, अमेरिका अपने आखिरी सैनिक को काबुल से निकाल चुका है. ऐसे में अब वो शख्स मदद की गुहार लगा रहा है जिसने बाइडेन की जान बचाई थी.

Afghanistan
जो बिडेन, जॉन कैरी (सबसे दाएं) और चक हेगल (सबसे बाएं), 2008 में अफगानिस्तान में फंस गए थे. फोटो साभार- US डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट

अमेरिकी अखबार दि वॉल स्ट्रीट जर्नल के मुताबिक, इस शख्स का नाम मोहम्मद है. अखबार ने उसकी सुरक्षा के मद्देनजर सिर्फ इतना ही नाम बताया है. 13 साल पहले जो बाइडेन की मदद करने वाला मोहम्मद अफगानिस्तान में फंसा गया है और अपनी जान बचाने की गुहार लगा रहा है.

अखबार ने बताया है कि जिन लोगों ने अमेरिका और नाटो सेनाओं के लिए ट्रांसलेटर्स का काम किया था, तालिबान उन्हें अपना निशाना बना रहा है. ऐसे में अमेरिकी राष्ट्रपति के मददगार रहे इस शख्स ने मदद मांगी है. कहा है कि उसे और उसके परिवार को अफगानिस्तान से बाहर निकाल लिया जाए.

America Left Kabul Afghanistan
अमेरिका ने 20 साल की जंग के बाद अफगानिस्तान में अपना अभियान खत्म कर दिया है. दूसरी तस्वीर में अमेरिका का वो आखिरी सैनिक जिसने काबुल की धरती छोड़ी. (फोटो एपी/अमेरिकी डिफेंस डिपार्टमेंट)

वॉल स्ट्रीट के मुताबिक, वो दुभाषिया यानी ट्रांसलेटर, उसकी पत्नी और 4 बच्चे अब तक तालिबान से छुपे हुए हैं. अखबार ने उसकी सुरक्षा के मद्देनजर उसका नाम नहीं छापा है. उससे बातचीत में ट्रांसलेटर ने कहा है, “हैलो मिस्टर प्रेसीडेंट. मुझे भूलिएगा मत. मुझे और मेरे परिवार को बचा लीजिए.”

मंगलवार 31 अगस्त को वाइट हाउस के सेक्रेटरी जेन प्साकी एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे. इस दौरान उनसे इस ट्रांसलेटर को अफगानिस्तान से निकालने को लेकर सवाल किया गया. इस पर जेन ने कहा,

“पिछले 20 सालों से हमारी ओर से लड़ाई करने के लिए शुक्रिया. बर्फ़ीले तूफ़ान से मेरे कई पसंदीदा लोगों की मदद करने में आपकी भूमिका के लिए और आपके द्वारा किए गए सभी कार्यों के लिए धन्यवाद.”

वाइट हाउस सचिव ने आगे कहा,

“बाइडेन प्रशासन उन सभी लोगों की मदद के लिए प्रतिबद्ध है, जो इन सालों के दौरान अमेरिका की तरफ थे. केवल अमेरिकन ही नहीं, बल्कि वो अफगान भी जो हमारी ओर से लड़े. हम आपको अफगानिस्तान से निकालेंगे. हम आपके काम की सराहना करते हैं और आपकी मदद करेंगे.”

अफगानिस्तान के मौजूदा संकट के बीच बाइडेन प्रशासन का दावा है कि उसने अभी तक 1 लाख 23 हजार लोगों को अफगानिस्तान से निकालने में मदद की है. इनमें सैकड़ों की संख्या में अफगान ट्रांसलेटर भी शामिल हैं जिन्होंने अमेरिका की मदद की थी. देखना है कि इस ट्रांसलेटर को बाइडेन सरकार तालिबान से बचाकर निकलवा पाती है या नहीं.


वीडियो- बाइडन ने अफगानिस्तान को लेकर क्यों कहा कि जंग अभी जारी है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने पीएम मोदी के लिए क्या कहा?