Submit your post

Follow Us

काबुल में घुसा तालिबान, सेना का सरेंडर, भारत ने दूतावास खाली कराने के लिए भेजा खास विमान

अफगानिस्तान में अब पूरी तरह से तालिबान का कब्जा हो चुका है. तालिबान लड़ाकों ने काबुल को भी जीत लिया है. खबरों के मुताबिक अफगान सेना ने सरेंडर कर दिया है. अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने इस्तीफा दे दिया है. अमेरिका, काबुल स्थित अमेरिकी दूतावास से अपने नागरिकों को वापस बुला रहा है. भारत ने भी एक खास विमान भेजा है जो दूतावास से भारतीयों को लेकर लौटेगा.

अफगानिस्तान छोड़ कर चले गए अशरफ गनी?

तालिबान के अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद राष्ट्रपति अशरफ गनी ने मुल्क छोड़ दिया है. खबरों के मुताबिक वे तजाकिस्तान जा रहे हैं. रॉयटर्स न्यूज़ एजेंसी से बात करते हुए राष्ट्रपति के ऑफिस की ओर से कहा गया कि वे अशरफ गनी से जुड़ी जानकारी सुरक्षा कारणों से नहीं दे सकते. इस बीच, तालिबान के एक अधिकारी ने रॉयटर्स को बताया कि वे गनी के देश से जाने की खबरों की जांच कर रहे हैं. काबुल में इस वक्त भगदड़ का माहौल है, तमाम ऐसे लोग हैं जो देश छोड़ कर निकल जाना चाहते हैं.

foxnews.com की एक रिपोर्ट के मुताबिक काबुल स्थित अमेरिकी दूतावास को खाली कराना शुरू कर दिया गया है. एक अधिकारी ने कहा कि अभी वहां अमेरिकी दूतावास खुला है, लेकिन किसी भी दिन बंद हो सकता है. अधिकारी ने कहा कि काबुल से अमेरिका के लिए फ्लाइट्स का जाना जारी है. इन फ्लाइट्स में अमेरिका के राजनयिक वापस लौट रहे हैं. इस दौरान अमेरिकी दूतावास की छत से धुआं उठता भी देखा गया. रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिकी फौज के अधिकारियों ने कहा कि शायद वहां राजनयिकों द्वारा कोई गोपनीय दस्तावेज जलाए गए होंगे.

अन्य देश भी खाली करा रहे दूतावास

अमेरिका के अलावा ब्रिटेन और कनाडा ने काबुल में अपने दूतावासों से लोगों को वापस बुलाने का फैसला कर लिया है. अमेरिका के अलावा ब्रिटेन ने अफगानिस्तान में सुरक्षाबलों को भेजा है ताकि अपने लोगों को सुरक्षित निकाला जा सके. इन देशों के अलावा नॉर्वे, नीदरलैंड्स और डेनमार्क जैसे देशों ने भी अफगानिस्तान में अपने दूतावासों को बंद करने का फैसला किया है. फिनलैंड और स्वीडन ने कर्मचारियों की संख्या कम करने का फैसला किया है वहीं जर्मनी और फ्रांस ने भी अपने नागरिकों को दूतावासों से निकालने की प्रक्रिया शुरू कर दी है.

भारतीय दूतावास भी बंद होगा?

द हिंदू में छपी सुहासिनी हैदर की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय सरकार भी काबुल स्थित अपने दूतावास में ऑपरेशन्स सीमित करने पर विचार कर रही है. इससे पहले भारत ने कांधार और मजार-ए-शरीफ स्थित वाणिज्य दूतावासों को बंद कर दिया था और स्टाफ को वहां से निकाल लिया था. गुरुवार 12 तारीख को MEA प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा था कि भारत का काबुल छोड़ने का कोई प्लान नहीं है. आपको बता दें कि इससे पहले साल 2020 में भी भारत ने जलालाबाद और हेरात में अपने वाणिज्य दूतावासों को बंद कर दिया था और स्टाफ को वापस बुला लिया था.

इस बीच ट्विटर पर ऐसी चर्चाएं हैं कि भारत ने भी दूतावास से अपने नागरिकों को निकालने के लिए एयर इंडिया की फ्लाइट को काबुल भेजा है.

https://twitter.com/DesiEscobar07/status/1426825246628139010

TOI की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि रविवार दोपहर एयर इंडिया की फ्लाइट ने काबुल में लैंड किया. दिल्ली से एयरबस ए320 ने 12.43 बजे उड़ान भरी थी और दो घंटे के बाद 1.45 बजे (काबुल समयानुसार) काबुल में लैंडिंग की. ऐसा माना जा रहा है कि जब ये फ्लाइट लौटेगी तब इसमें 162 यात्री हो सकते हैं. इस भारतीय विमान को लैंडिंग से पहले कुछ समय के लिए आसमान में ही मंडराना पड़ा, क्योंकि उसी वक्त आमीरात की एक फ्लाइट 28000 फीट की ऊंचाई पर थी और उसी वक्त काबुल में उतरने की मंजूरी का इंतजार कर रही थी. एक सरकारी अधिकारी ने कहा कि एयर इंडिया की फ्लाइट सुरक्षित उतर गई.

काबुल में घुसने से पहले शांति की बातें कर रहा तालिबान

अलजजीरा से बात करते हुए तालिबान के अंतरराष्ट्रीय मीडिया प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने कहा कि अफगान सरकार ने उनसे सत्ता के शांतिपूर्वक हस्तांतरण का वादा किया है और इसीलिए वे काबुल शहर के अंदर जबरन नहीं घुसेंगे. सरकारी इमारतें महफूज रहेंगी और जो लोग शहर से निकलना चाहते हैं उन्हें निकलने दिया जाएगा. हालांकि कुछ तालिबान सूत्रों के मुताबिक लड़ाके शहर में घुस चुके हैं. तालिबान के शांति के आश्वासन के बाद भी शहर में अफरातफरी का माहौल है और लोग शहर से निकल जाना चाहते हैं.

Afghanistan
अफगानिस्तान से निकले के लिए एयरपोर्ट पहुंचे यात्री. फोटो- PTI

तालिबान ने कहा कि वो आम लोगों और सेना को कोई नुकसान नहीं पहुंचाएंगे. बदले की कोई कार्रवाई या हमला नहीं करेंगे. तालिबान ने कहा कि वो उन सबको ‘माफ’ कर रहा है. संगठन की ओर से कहा गया कि सभी लोग घरों में रहें. आजतक संवाददाता गीता मोहन की एक रिपोर्ट के मुताबिक तालिबान ने दावा किया है कि अब पूरे देश पर उसका कब्जा हो चुका है. तालिबान ने कहा कि हम चाहते हैं कि सभी अफगानी खुद को भविष्य की इस्लामी व्यवस्था में एक जिम्मेदार सरकार को देखें.


वीडियो- दुनियादारी: अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान की लगातार जीत के क्या मायने हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?