Submit your post

Follow Us

एक भाई वकील, दूसरा क्रिकेटर, MA पढ़ी उनकी बहन, तीनों 10 साल से एक कमरे में बंद थे, NGO ने निकाला

गुजरात के राजकोट से एक चौंकाने वाली ख़बर आई है. यहां एक ही परिवार के दो भाई और एक बहन ने 10 साल बाद रोशनी देखी है. ये लोग पिछले एक दशक से अपने ही घर में बंद थे. इनका घर राजकोट का पॉश इलाका माने जाने वाले किसानपरा में है. तीनों काफी काफी पढ़े-लिखे हैं. इनके 80 साल के पिता भी रिटायर्ड कर्मचारी हैं.

27 दिसंबर को कुछ लोगों ने साथी सेवा ग्रुप नाम के एनजीओ को जानकारी दी थी कि किसानपरा के एक घर में रहने वाले परिवार के दो लड़के और एक लड़की कई साल से अपने घर में बंद हैं. इसके बाद संस्था से जुड़े लोग उनके घर पहुंचे और दरवाज़ा तोड़ा. दरवाज़ा तोड़ने के बाद तीनों फ़र्श पर सोते दिखे. तीनों के बाल लंबे हो गए थे. शरीर में सिर्फ हड्डियां ही दिख रही थीं. कमरे में गंदगी पड़ी थी. इसके बाद संस्था से जुड़े लोगों ने तीनों को घर से बाहर निकाला. उनके बाल बनवाए गए. पहनने को नए कपड़े दिए गए.

कुछ देर में इन तीनों के पिता नवीन भाई मेहता भी पहुंचे. आजतक की गोपी मनियार की रिपोर्ट के मुताबिक, नवीन ने बताया कि उनके बड़े बेटे का नाम अंबरीश है, जिसने एलएलबी तक की पढ़ाई की है. वह राजकोट की कचहरी में वकालत भी करता था. बेटी मेधा ने राजकोट के कणसागरा कॉलेज से साइकॉलोजी में एम.ए की पढ़ाई कर रखी है. छोटे बेटे भावेश को लेकर उन्होंने बताया है कि वह ग्रेजुएट है और राजकोट में खेली जाने वाली नाइट क्रिकेट का आयोजक हुआ करता था.

Rajkot Superstition Case
नवीन भाई ने बताया कि घर में बंद रहने वाले दोनों बेटों और एक बेटी के लिए वही खाना पहुंचाते थे. (तस्वीर: आजतक)

नवीन भाई ने आजतक से बात करते हुए बताया कि मेरे तीनों बच्चे पिछले 6 साल से इसी हालात में घर के अंदर रह रहे हैं. मैं इन्हें खाना पहुंचाता रहा हूं. नवीन का दावा है कि कई जब से उनकी पत्नी की मौत हुई, उसके बाद से ही बच्चों ने घर से निकलना कम कर दिया था. धीरे-धीरे सभी घर में ही रहने लगे. माना जा रहा है कि नवीन अंधश्रद्धा में यकीन रखते हैं. उन्हें अपने बच्चों पर काला जादू के असर की आशंका थी. धीरे-धीरे बच्चों ने घर से बाहर निकलना बंद कर दिया.

लोग इस सवाल का जवाब खोज रहे हैं कि पिता ने ही अंधविश्वास के चलते अपने तीनों पढ़े-लिखे बच्चों की ऐसी ज़िन्दगी कर दी थी या उनकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं थी. मामले को लेकर राजकोट पुलिस ने खबर लिखे जाने तक कोई जानकारी नहीं दी थी.


विडियो-कानपुर में काले जादू के चक्कर में छह साल की बच्ची का कलेजा निकाल लिया गया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

बंगाल में केंद्रीय मंत्री के काफिले पर हमला हुआ तो ममता बनर्जी ने उलटा क्या आरोप मढ़ दिया?

बंगाल में केंद्रीय मंत्री के काफिले पर हमला हुआ तो ममता बनर्जी ने उलटा क्या आरोप मढ़ दिया?

लगातार हो रही हिंसा की जांच के लिए होम मिनिस्ट्री ने अपनी टीम बंगाल भेज दी है.

पंजाबी फ़िल्मों के मशहूर एक्टर-डायरेक्टर सुखजिंदर शेरा का निधन

पंजाबी फ़िल्मों के मशहूर एक्टर-डायरेक्टर सुखजिंदर शेरा का निधन

कीनिया में अपने दोस्त से मिलने गए थे, वहां तेज बुखार आया था.

सलमान खान ने मदद मांगने वाले 18 साल के लड़के को यूं दिया सहारा!

सलमान खान ने मदद मांगने वाले 18 साल के लड़के को यूं दिया सहारा!

कुछ दिन पहले ही कोरोना से अपने पिता को गंवा दिया.

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

भारी नुक़सान की ख़बरें लेकिन एक राहत की बात है

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

जानिए वैक्सीन को लेकर देश में क्या चल रहा है.

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी सात राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुके हैं.

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.