Submit your post

Follow Us

रेप के आरोपी डायरेक्टर के साथ छोड़ी हुई फिल्म में दोबारा क्यों काम करेंगे आमिर खान?

10 अक्टूबर, 2018 को आमिर खान ने एक ट्वीट करते हुए बताया था कि गुलशन कुमार की बायोपिक ‘मोग़ल’ छोड़ रहे हैं. वजह थी फिल्म के डायरेक्टर सुभाष कपूर का लगा रेप का आरोप. मीटू मूवमेंट के दौरान एक्ट्रेस गीतिका त्यागी ने सुभाष पर आरोप लगाया कि दो साल पहले सुभाष ने उनका रेप करने की कोशिश की थी. सबूत के तौर उन्होंने एक स्टिंग वीडियो भी सोशल मीडिया पर अपलोड किया था. इस वीडियो में सुभाष अपनी गलती मानते और उनकी पत्नी रोती नज़र आ रही थीं. आमिर को बाद में पता चला कि सुभाष के खिलाफ 2016 से कोर्ट केस चल रहा है. सुभाष कपूर का मामला अब भी कोर्ट में ही लेकिन आमिर ने अब उनके डायरेक्शन में काम करने का फैसला लिया है. ‘मोगल’ को छोड़ने और उससे दोबारा जुड़ने की पूरी कहानी आमिर खान ने हिंदुस्तान टाइम्स को दिए एक इंटरव्यू में बताई है.

क्यों छोड़ी थी ‘मोगल’?

आमिर ने इस इंटरव्यू में बताया कि इस वो ‘मोग़ल’ में एक्टिंग करने के अलावा उसे अपनी पत्नी किरण राव के साथ मिलकर प्रोड्यूस भी कर रहे थे. उन्हें नहीं पता था कि सुभाष कपूर के खिलाफ कोई कोर्ट केस चल रहा है. पिछले साल मीटू मूवमेंट के दौरान ये मामला उनके सामने आया. आमिर कहते हैं-

”ये बात सुनकर हम बहुत डिस्टर्ब हो गए थे. मैंने और किरण ने इस बारे में लंबी बातचीत की. हम हफ्तेभर से ज़्यादा समय तक भारी दुविधा में रहे. मिस्टर कपूर अपने ऊपर लगे आरोपों को नकार रहे थे. और ये कंप्लेंट वर्क प्लेस (काम करने की जगह) पर हुई किसी अभद्र घटना के बारे में भी नहीं थी. अगर ऐसा होता, तब ये मामला इंटरनल कंप्लेंट्स कमिटी (आईसीसी- आंतरिक शिकायत समिति) में जाता. और समिति के सदस्य एक तय समय-सीमा के भीतर इस मामले का निपटारा कर देते. लेकिन ये मामला तो कोर्ट में था. जहां आईसीसी इस केस को 3-6 महीने में खत्म कर देती, वहीं कोर्ट से फैसला आने तो काफी समय लग जाता है.

मैं और किरण सेक्शुअल मिकंडक्ट के मामले में ज़ीरो टोलरेंस रखते हैं. लेकिन बिना आईसीसी या कोर्ट के फैसले के हम कैसे मान लें कि जिस पर आरोप लग रहे हैं, वो व्यक्ति दोषी है. हम किसका विश्वास करें? जो व्यक्ति आरोप लगा रहा है? या जिस पर आरोप लगा है? ये केस कितना लंबा चलेगा और हमें कब अपना फैसला लेने के लिए इंतज़ार करना पड़ेगा? ये सब सोचने के बाद हमने बड़े परेशान मन से ये तय किया कि हम ये फिल्म नहीं कर पाएंगे. फिल्म से अलग होने के फैसला हमने अपने लिए लिया था. ये हमारा निजी फैसला था. इस केस में शामिल लोगों में से किसी को दोषी मानने की बजाय, हमने ये फिल्म छोड़ दी.”

'ठग्स ऑफ हिन्दोस्तां' की असफलता के बाद आमिर फिलहाल अपनी अगली फिल्म 'लाल सिंह चड्डा' पर की शूटिंग में लगे हुए हैं.
‘ठग्स ऑफ हिन्दोस्तां’ की असफलता के बाद आमिर फिलहाल अपनी अगली फिल्म ‘लाल सिंह चड्डा’ पर की शूटिंग में लगे हुए हैं.

सुभाष कपूर का क्या हुआ?

आमिर ने बताया उनके फिल्म से अलग होते सुभाष कपूर को इस फिल्म से निकाल दिया गया. टी-सीरीज़ ने उनके साथ अपना कॉन्ट्रैक्ट खत्म कर लिया. फिर ये सुनने में आया कि कई शुरू होने वाले प्रोजेक्ट से भी सुभाष को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया. आमिर बताते हैं कि सुभाष जिस भी प्रोजेक्ट को शुरू करते, वो आगे ही नहीं बढ़ पाता. क्योंकि सुभाष साथ कोई भी काम नहीं करना चाहता था. आमिर कहते हैं-

” ये चीज़ हमें खटकने लगी. हमें महसूस हुआ कि हमारे उठाए कदम ने अंजाने में उस आदमी के लिए बड़ी मुश्किल खड़ी कर दी है, जिसके बारे में कोर्ट का फैसला आना बाकी है. उसकी रोज़ी-रोटी छिन गई. उसका काम चला गया. ऐसा कब चलेगा? एक साल या दस साल? अगर वो बेगुनाह हुआ तो? ये सारे सवाल हमें परेशान कर रहे थे. जब तक किसी आदमी के खिलाफ आरोप साबित नहीं हो जाता, तब तक वो बेगुनाह होता है. लेकिन जब तक हमारे कोर्ट किसी फैसले तक पहुंचेंगे, तब तक उसे काम नहीं करने दिया जाएगा? उसके उसका काम छीनकर घर पर बैठा दिया जाएगा? इसी उधेड़बुन में हमने महीनों गुज़ार दिए. मेरी रातों की नींद उड़ गई थी. लगता था कि मेरी एक हरकत से उस आदमी को कितनी तकलीफ सहनी पड़ रही है. उससे काम करने का, अपनी रोटी कमाने का हक छीन लिया गया था.”

फिल्म 'जॉली एलएलबी 2' की शूटिंग के दौरान अक्षय कुमार के साथ डायरेक्टर सुभाष कपूर.
फिल्म ‘जॉली एलएलबी 2’ की शूटिंग के दौरान अक्षय कुमार के साथ डायरेक्टर सुभाष कपूर.

फिल्म से दोबारा जुड़ने की वजह?

आमिर ने बताया कि मई में उन्हें IFTDA (Indian Film & Television Directors’ Association) का एक लेटर आया. अपना काम वापस पाने के लिए सुभाष IFTDA को कई बार लिख चुके थे. उनकी इसी कोशिश का जवाब उस असोसिएशन ने आमिर को लिख भेजा था. इस लेटर में IFTDA ने लिखा कि ये मामला अब भी कोर्ट में है. और आमिर को अदालत के फैसले का इंतज़ार करना चाहिए. लेकिन तब तक सुभाष का काम करने का हक नहीं छिनना चाहिए. जब तक सुभाष को कोर्ट दोषी नहीं मान लेता, तब तक आमिर को कुछ ऐसा नहीं करना चाहिए, जिससे कोई आदमी बर्बाद हो जाए. आमिर भी IFTDA के मेंबर हैं और सुभाष भी. ये दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है कि उन्हें काम नहीं मिल पा रहा. बकौल आमिर-

”IFTDA ने हमें हमारे फैसले पर दोबार विचार करने को कहा. जब मैंने ये लेटर पढ़ा, तब मुझे और ज़्यादा बुरा लगने लगा. लगा जैसे हम शायद कुछ गलत कर रहे हैं. इसके बाद हमने अपनी परेशानी और असहजता को कम करने के लिए एक और चीज़ की. हमने मिस्टर कपूर के साथ काम कर चुकीं महिलाओं से मिलने का फैसला किया. ये बस हम अपने लिए कर रहे थे, ताकि हमें ये आइडिया लग सके कि क्या दूसरी महिलाएं भी सुभाष के साथ असहज थीं? अगर ऐसा हुआ, तब हमारा इसमें (मोग़ल) नहीं जाना पक्का हो जाएगा. फिर हमने ये एक्सरसाइज़ शुरू की. हम सुभाष के साथ काम चुकीं तकरीबन 10-12 महिलाओं से मिले. इसमें डिपार्टमेंट हेड से लेकर असिस्टेंट डायरेक्टर और कॉस्ट्यूम असिस्टेंट तक शामिल थीं.

यहां हमें ये देखने को मिला कि सभी महिलाएं सुभाष के बारे में सम्मान के साथ बात कर रही थीं. वो असहजता की बात को नकाकर, सुभाष की तारीफ करने लगीं. वो बताने लगीं कि वो सेट पर सबका बहुत ख्याल रखते हैं. हालांकि मैं और किरण इस बात को भी समझ रहे थे कि इन महिलाओं का सुभाष के साथ काम करने का अनुभव अच्छा होने का मतलब ये बिलकुल नहीं है कि वो किसी और महिला के साथ बद्तमीज़ी नहीं कर सकते. लेकिन मैं इस बात से भी पीछे नहीं हट सकता कि इन महिलाओं से बात करने के बाद मेरी परेशानी काफी हद तक दूर हो गई थी.”

और इन सभी चीज़ों को ध्यान में रखते हुए, मैंने IFTDA को वापस लिखा. मैंने उन्हें बताया कि मैंने अपने फैसले पर काफी सोच विचार किया और अब मैं इस फिल्म पर वापस आना चाहता हूं.”

जब अक्षय कुमार ने ये फिल्म साइन की थी, तब इसका पोस्टर भी आ गया था. पोस्टर में बताया गया था कि फिल्म 2018 में रिलीज़ होगी. बाद में अक्षय ने ये फिल्म छोड़ दी.
जब अक्षय कुमार ने ये फिल्म साइन की थी, तब इसका पोस्टर भी आ गया था. पोस्टर में बताया गया था कि फिल्म 2018 में रिलीज़ होगी. बाद में अक्षय ने ये फिल्म छोड़ दी.

आमिर ने ये भी बताया कि जब वो ‘मोग़ल’ से बतौर प्रोड्यूसर जुड़े, तब वो इसमें एक्टिंग नहीं करने वाले थे. उन्होंने सबसे पहले ये फिल्म अक्षय कुमार को ऑफर, जो पहले ही इस फिल्म के लिए मना कर चुके थे. इस बाबत आमिर ने अक्षय से मुलाकात की और अक्षय ने इस फिल्म पर लौटने के अपने फैसले पर दोबार विचार भी कर रहे थे. लेकिन वहां मामला पूरा जम नहीं पाया. इसके बाद आमिर ने वरुण धवन को अप्रोच किया. वरुण फिल्म इसलिए नहीं कर पाए क्योंकि पहले से कई फिल्मों में व्यस्त थे. आमिर का मानना था कि गुलशन कुमार का रोल कॉमेडियन कपिल शर्मा काफी अच्छे तरीके से कर सकते हैं. लेकिन कपिल के साथ भी बात नहीं बनी. थक-हारकर आमिर ने फिल्म में लीड रोल करने का मन बनाया. वो इस फिल्म को कब शुरू करने वाले हैं, इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि फिलहाल वो पूरी तरह से ‘लाल सिंह चड्डा’ में लगे हुए हैं. उसके खत्म होने के बाद ‘मोग़ल’ का काम शुरू होगा.


वीडियो देखें: क्यों लगा था गुलशन कुमार की बायोपिक के डायरेक्टर सुभाष कपूर पर मी टू का आरोप?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

राज्यसभा की 18 सीटों में से कांग्रेस और बीजेपी ने कितनी जीतीं?

नतीजे आने शुरू हो गए हैं.

दिल्ली के हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन ऑक्सीजन सपोर्ट पर, दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किए गए

कुछ दिन पहले कोरोना पॉज़िटिव आए थे, अब प्लाज़मा थेरेपी दी जाएगी.

चीनी सेना की यूनिट 61398, जिससे पूरी दुनिया के डेटाबाज़ डरते हैं

बड़ी चालाकी से काम करती है ये यूनिट.

गलवान घाटी में झड़प के बाद भी चीनी सेना मौजूद, 200 से ज्यादा ट्रक और टेंट लगाए

सैटेलाइट से ली गई तस्वीरों में यह सामने आया है.

पेट्रोल-डीजल के दाम में फिर से उबाल क्यों आ रहा है?

रोजाना इनके दाम घटने-बढ़ने की पूरी कहानी.

उत्तर प्रदेश में एक IPS अधिकारी के ट्रांसफर पर क्यों तहलका मचा हुआ है?

69000 भर्ती में कार्रवाई का नतीजा ट्रांसफर बता रहे लोग. मगर बात कुछ और भी है.

गलवान घाटी: LAC पर भारत के तीन नहीं, 20 जवान शहीद हुए हैं, कई चीनी सैनिक भी मारे गए

लड़ाई में हमारे एक के मुकाबले तीन थे चीनी सैनिक.

गलवान घाटीः वो जगह जहां भारत-चीन के बीच झड़प हुई

पिछले कुछ समय से यहां पर दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने हैं.

लद्दाख: गलवान घाटी में भारत-चीन झड़प पर विपक्ष के नेता क्या बोले?

सेना के एक अधिकारी समेत तीन जवान शहीद हुए हैं.

क्या परवीन बाबी की राह पर चल पड़े थे सुशांत?

मुकेश भट्ट ने एक इंटरव्यू में कहा.