Submit your post

Follow Us

समुद्र किनारे पड़ा मिला 41 किलो का चमकीला गोला, लेकिन ये है क्या बला?

अमेरिका के फ्लोरिडा के पास एक देश है. नाम है बहामास. समुद्र के बीच में स्थित है. पर्यटन के लिए बहुत मशहूर है. खबर ये है कि यहां एक अजीब सा, चमचमाता हुआ सा गोला मिला है. हार्बर आईलैंड में समुद्र के किनारे पर ये गोला सबसे पहले एक ब्रिटिश लड़की ने पड़ा हुआ देखा. उसने गोले के साथ कुछ तस्वीरें लीं, जो वायरल हो गईं. अब लोग चर्चा कर रहे हैं कि आखिर ये क्या बला है? कुछ इसे रहस्यमयी गोला मानने लगे. लेकिन वैज्ञानिकों ने अंदाजा लगा लिया कि आखिर ये चीज है क्या.

24 साल की मेनन क्लार्क ने बताया कि वो अपने परिवार के साथ बुधवार 24 फरवरी को हार्बर आईलैंड पर थीं, जब उन्होंने इस गोले को देखा. The Independent से बात करते हुए उन्होंने बताया कि हम चहलकदमी कर रहे थे, तभी मैंने इस चांदी से चमकते इस गोले को देखा, जो रेत से बाहर झांकता हुआ सा लग रहा था. उन्होंने कहा,

“हमने देखा कि इस पर रशियन भाषा में कुछ लिखा था. हमने इस गोले को बाहर निकालने के लिए खोदना शुरु कर दिया. ये काफी हिम्मत भरा काम था क्योंकि हमें ये तक नहीं पता था कि ये क्या चीज है.”

गोले पर रशियन भाषा में लिखा है कि इसका वजन 41 किलो है, और इसे 2018 में बनाया गया. साथ ही ये भी बताया गया है कि इसकी कैपेसिटी 43 लीटर है. इसकी टेंपरेचर रेंज 170 डिग्री सेल्सियस से -196 डिग्री सेल्सियस है. ये टाइटेनियम का बना है.

ये चीज है क्या, इसे लेकर कयास लग ही रहे थे कि साइंटिस्टों ने इसका राज खोल दिया. रिचर्ड ब्रैन्सन की कंपनी वर्जिन गैलेक्टिक के चेयरमैन मार्क मोराबितो ने कहा, “99 प्रतिशत दावे के साथ कहा जा सकता है कि ये चीज किसी तरह के रॉकेट में इस्तेमाल होने वाला हाइड्राजीन टैंक है. यह बिना इंसानों वाले रॉकेट में इस्तेमाल होता है.” लंदन के इंपीरियल कॉलेज में डिपार्टमेंट ऑफ फिजिक्स के डॉक्टर मार्टिन आर्चर भी कहते हैं कि ये चीज साफतौर पर एक हाइड्राजीन टैंक है.

हाइड्राजीन टैंक वाली थ्योरी को लेकर काफी लोग सहमत हैं. लेकिन ये टैंक यहां कैसे पहुंचा, इस बारे में कोई पूरी तरह श्योर नहीं है. यूनिवर्सिटी ऑफ लीड्स में रशियन की असोसिएट प्रोफेसर डॉक्टर साराह हड्सपीथ कहती हैं कि शायद ये चीज क्यूबा से बहकर यहां आई हो. क्यूबा सोवियत संघ का दोस्त था, और उसे वहां से काफी चीजें मिलती रही हैं.

खैर, मेनन क्लार्क और उसके परिवार के लोग इस टैंक को हिला तो नहीं पाए, लेकिन इसके साथ उन्होंने काफी तस्वीरें लीं. क्लार्क इसे लेकर बेहद उत्साहित हैं. उन्होंने कहा, “सोचिए ये कहां से यहां पर आया होगा, कब से यहां पर था. ऐसा होना वाकई बहुत हैरान करने वाली बात है. अब तो यहां काफी लोग इसे देखने के लिए आ रहे हैं.”


वीडियो- दुनियादारी: नौ पर्वतारोहियों के शव पहाड़ पर अजीब हाल में क्यों मिले?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

अपनी लेगेसी याद रखने के सवाल पर क्या बोल गए माही?

अपनी लेगेसी याद रखने के सवाल पर क्या बोल गए माही?

धोनी ने बताया फ्यूचर प्लान.

साफ कैच लपके जाने पर भी क्यों आउट नहीं हुए शुभमन गिल?

साफ कैच लपके जाने पर भी क्यों आउट नहीं हुए शुभमन गिल?

IPL फाइनल में ऐसा पहली बार हुआ.

IPL2021 के फाइनल में रुतुराज ने तोड़ डाला साल 2008 का रिकॉर्ड

IPL2021 के फाइनल में रुतुराज ने तोड़ डाला साल 2008 का रिकॉर्ड

फ्यूचर सुपरस्टार हैं ऑरेंज कैप वाले रुतुराज.

दशहरे के दिन झांसी में ट्रैक्टर पलटने से 11 की मौत, 6 घायल

दशहरे के दिन झांसी में ट्रैक्टर पलटने से 11 की मौत, 6 घायल

मरने वालों में 7 महिलाएं और 4 बच्चे थे.

सिंघु बॉर्डर पर युवक की हत्या का मामला: उड़ना दल ने कहा- बेअदबी के चलते पीटा था

सिंघु बॉर्डर पर युवक की हत्या का मामला: उड़ना दल ने कहा- बेअदबी के चलते पीटा था

कहा-कई मामलों में आरोपी को पुलिस के हवाले किया लेकिन पुलिस ने छोड़ दिया, अब ऐसा नहीं होने देंगे.

विसर्जन के लिए जा रहे लोगों पर चढ़ाई कार, एक की मौत, कई घायल, लोगों ने गाड़ियां फूंकीं

विसर्जन के लिए जा रहे लोगों पर चढ़ाई कार, एक की मौत, कई घायल, लोगों ने गाड़ियां फूंकीं

छत्तीसगढ़ का मामला.

ग्लोबल हंगर इंडेक्स में पाकिस्तान और बांग्लादेश से भी पीछे है भारत

ग्लोबल हंगर इंडेक्स में पाकिस्तान और बांग्लादेश से भी पीछे है भारत

रैंकिंग चिंता बढ़ाने वाली है.

लखीमपुर खीरी में किसानों को रौंदने वाली तीसरी गाड़ी किसकी निकली?

लखीमपुर खीरी में किसानों को रौंदने वाली तीसरी गाड़ी किसकी निकली?

पुलिस ने आरोपियों को घटनास्थल पर ले जाकर पूछताछ की.

बांग्लादेश में दुर्गा पंडाल पर हमले के बीच PM शेख हसीना ने भारत को क्या नसीहत दी है?

बांग्लादेश में दुर्गा पंडाल पर हमले के बीच PM शेख हसीना ने भारत को क्या नसीहत दी है?

ये भी कहा-जो कोई भी इस हमले में शामिल हैं, उन्हें बख्शा नहीं जाएगा.

नीरव मोदी की बहन ने इस शर्त पर 275 करोड़ भारत सरकार को देने की पेशकश की है!

नीरव मोदी की बहन ने इस शर्त पर 275 करोड़ भारत सरकार को देने की पेशकश की है!

पूर्वी मोदी के भी स्विस बैंक में अकाउंट्स हैं.