Submit your post

Follow Us

आतिशी की इमेज खराब करने के लिए मेरी ऐड एजेंसी को बनाना था वीडियो, महिला ने बताया

3.06 K
शेयर्स

कल 12 मई को लोकसभा चुनाव 2019 का छठा चरण ख़त्म हुआ. इसी फ़ेज़ में पूर्वी दिल्ली की सीट पर भी वोटिंग हुई. ये सीट पहले से काफ़ी चर्चा में थी. आम आदमी पार्टी की आतिशी और बीजेपी के गौतम गंभीर के बीच पहले से काफ़ी ज़ुबानी जंग हो चुकी थी. मामला एक दूसरे को नोटिस भेजने तक भी पहुंचा. अब लोगों को लग रहा था कि वोटिंग ख़त्म तो विवाद ख़त्म. लेकिन ऐसा हुआ नहीं.

अब इस आतिशी-गंभीर विवाद में नया मोड़ आया है. मामला उठा है एक फ़ेसबुक पोस्ट की वजह से.

# क्या है मामला?

गुनीत कौर नाम की एक महिला ने 12 मई को एक फ़ेसबुक पोस्ट किया. पोस्ट में बताया है कि, उनकी ऐड एजेंसी को एक पॉलिटिकल कैम्पेन मिला था. पोस्ट में ये कहा गया कि इस पूरी विज्ञापन ड्रिल से आम आदमी पार्टी कैंडिडेट आतिशी की इमेज ख़राब करनी थी.

गुनीत कौर की फ़ेसबुक प्रोफ़ाइल के हिसाब से वो एक एड एजेंसी में काम करती हैं
गुनीत कौर की फ़ेसबुक प्रोफ़ाइल के हिसाब से वो एक एड एजेंसी में काम करती हैं

# क्या था पूरे कैम्पेन में?

गुनीत की इस फ़ेसबुक पोस्ट में दावा किया गया है कि कैम्पेन बीजेपी और गंभीर से जुड़े लोगों की तरफ से दिया गया था. गुनीत अपनी इस पोस्ट में बताती हैं कि उनके बॉस ने उन्हें तीन वीडियो की स्क्रिप्ट लिखने को कहा. जिनमें से दो वीडियो की स्क्रिप्ट तो गुनीत ने लिख दी. क्योंकि उसमें गौतम गंभीर की अच्छाइयां बतानी थीं. लेकिन गुनीत ने तीसरे वीडियो की स्क्रिप्ट लिखने से इनकार कर दिया.

गुनीत बताती हैं कि ये तीसरा वीडियो आतिशी पर बनाना था. और इस वीडियो में आतिशी की इमेज ख़राब करनी थी. या जैसा गुनीत को उनके बॉस ने कहा कि ‘आतिशी को गिराना है.’

# गंभीर से जुड़े लोग आरोप के घेरे में

इस फ़ेसबुक पोस्ट में गुनीत ने बताया है कि, भले ही ये प्रपोज़ल गौतम गंभीर की तरफ़ से सीधा ना आया हो. लेकिन जिसने ये काम दिया वो गंभीर का बेहद करीबी आदमी था. हालांकि जब गुनीत ने ये काम करने से इनकार कर दिया, तब उनके बॉस ने कहा, ‘हमें ये काम कभी मिला ही नहीं था.’

# BJP का इनकार

द क्विंट से बात करके हुए दिल्ली भाजपा प्रवक्ता प्रवीण शंकर कपूर ने इन आरोपों को नकारा. उन्होंने कहा, ‘हमने गंभीर के कैंपेन के लिए किसी एजेंसी को हायर नहीं किया और सारा काम हमारे यहां ही हुआ है. हर दिन आम आदमी पार्टी कुछ नई तिकड़म करती है. इलेक्शन खत्म हो चुके हैं और वो 23 तारीख को नतीजे देखेंगे.’

# पहले भी हुआ है विवाद

अभी हाल ही में आतिशी और गंभीर के बीच गंभीर विवाद हुआ था. आतिशी के ख़िलाफ़ एक पर्चा बांटा गया था. इस पर्चे में आतिशी को लेकर अश्लील बातें लिखी थीं.

आतिशी ने इस पर्चे पर काफ़ी बवाल मचाया था. बात महिला आयोग और चुनाव आयोग तक भी गई थी
आतिशी ने इस पर्चे पर काफ़ी बवाल मचाया था. बात महिला आयोग और चुनाव आयोग तक भी गई थी

AAP ने आरोप लगाया था कि आतिशी की छवि खराब करने के लिए किए गए इस कैंपेन के पीछे गंभीर हैं, जिन्होंने आपत्तिजनक पर्चे बंटवाये थे. इसके बाद गंभीर ने आतिशी, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया को मानहानि का नोटिस भेजा था.

आतिशी ने भी दिल्ली महिला आयोग में अपमानजनक और जातिवादी पैम्फलेट को लेकर गौतम गंभीर के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है.


वीडियो देखें: भगवंत मान के बारे में आंटी ने ऐसी बात कई जिस पर उनके विरोधी भी हामी भरेंगे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

नेटफ्लिक्स पर आने वाली शाहरुख़ की 'बार्ड ऑफ़ ब्लड' में कश्मीर क्यूं खचेर रहा है पाकिस्तान?

पाकिस्तानी आर्मी के प्रवक्ता के बयान पर सोशल मीडिया कहने लगा 'पीछे तो देखो'.

केरल बाढ़ के हीरो आईएएस कन्नन गोपीनाथन ने कश्मीर मसले पर नौकरी छोड़ते हुए ये बातें कही हैं

नौकरी छोड़ दी. अब न कोई सेविंग्स है, न ही रहने को अपना ख़ुद का घर.

धरती पर क्राइम तो रोज़ होते हैं, लेकिन पहली बार अंतरिक्ष में हुए क्राइम की खबर आई है

अंतरिक्ष में रहते क्राइम करने की बात चौंकाती है.

अरुण जेटली नहीं रहे, यूएई से पीएम मोदी ने कुछ यूं किया याद

गौतम गंभीर ने जेटली को पिता तुल्य बताया.

रफाल के अलावा फ्रांस से और क्या-क्या लाने वाले हैं पीएम मोदी?

इस बड़े मुद्दे पर भारत की तगड़ी मदद करने वाला है फ्रांस.

चंद्रमा पर पहुंचने वाला है चंद्रयान-2, कैसे करेगा काम?

चंद्रयान के एक-एक दिन का हिसाब दे दिया है

विंग कमांडर अभिनंदन को पकड़ने वाला पाकिस्तानी सैनिक मारा गया!

पाकिस्तानी आर्मी की तस्वीर में अभिनंदन को पकड़े हुए दिखा था अहमद खान.

नकली दूध बेचा, पुलिस ने आतंकियों वाला NSA लगा दिया

सरकार ने तो पहले ही कह दिया था.

कांग्रेस और सपा छोड़कर भाजपा में आए नेताओं ने मोदी के बारे में क्या कहा?

वो भी कल लखनऊ में...

कश्मीर में बैन के बाद भी किसकी मेहरबानी से गिलानी इस्तेमाल कर रहे थे फोन-इंटरनेट?

बैन के चार दिन बाद तक गिलानी के पास इंटरनेट और फोन था. प्रशासन को इसकी भनक भी नहीं थी.