Submit your post

Follow Us

छात्रों ने 5 बजे, 5 मिनट थाली बजाई तो पीयूष गोयल को रेलवे परीक्षाओं का ऐलान करना पड़ गया

5 सितंबर को शिक्षक दिवस होता है. लेकिन शिक्षकों के छात्र आज क्या कर रहे हैं? ताली-थाली पीट रहे हैं. क्यों? एक अदद नौकरी के लिए. वो ‘समय पर’ प्रतियोगी परीक्षाएं कराने और उनके नतीजों की मांग कर रहे हैं. पिछले कई दिनों से केंद्र सरकार को छात्रों की तरफ से संदेश दिए जा रहे हैं. सांकेतिक विरोध दर्ज किया जा रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कई यूट्यूब वीडियो में डिसलाइक की भरमार से लेकर उन्हीं के दिए ताली-थाली वाले आइडिया तक. ये सब हो रहा है ताकि छिटपुट आवाज़ें इकट्ठा होकर सरकारी कानों पर गिरें. इंटरनेट के दौर में ये आवाज़ें हैशटैग बनकर आगे बढ़ रही हैं. शोर ट्रेंड कर रहा है और असर भी कर रहा है. इतना कि सरकार को रेलवे परीक्षाओं का ऐलान करना पड़ गया.

5 सितंबर को सोशल मीडिया ऐसे तमाम वीडियो और पोस्ट से भरा रहा, जिनमें SSC, रेलवे, बैंक के परीक्षार्थियों ने शाम 5 बजे, 5 मिनट के लिए थाली पीटी. कई जगह वो सड़कों पर भी उतरे. पूरा दिन #5Baje5Min, #5Sep5Min, #5बजे5मिनट, #RRBExamDate जैसे हैशटैग ट्रेंड करते रहे. वैसे, इन सबके ऊपर #HappyTeachersDay भी ट्रेंड कर रहा था.

पीयूष गोयल की तरफ से रेलवे परीक्षाओं का ऐलान

रेलवे की परीक्षाओं को लेकर जो ट्रेंड चला, उसका असर भी शाम तक दिखने लगा. शाम 6 बजे के करीब केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल के ट्विटर अकांउट से जानकारी दी गई कि परीक्षाएं 15 दिसंबर से होंगी. ट्वीट में वीडियो के साथ लिखा गया,

रेलवे में विभिन्न पदों की सभी 3 श्रेणियों के लिये भर्ती प्रक्रिया के आवेदनों की जांच पूर्ण की जा चुकी है, विभिन्न पदों पर भर्ती के लिए परीक्षाओं का आयोजन 15 दिसंबर से शुरु किया जाएगा.

रेलवे की परीक्षाएं

रेलवे की NTPC यानी नॉन टेक्निकल पॉपुलर कैटगरीज में फरवरी, 2019 में 35,308 पोस्ट की वैकेंसी निकली थी. एक करोड़ से ज़्यादा आवेदन आए. जून-सितंबर 2019 के बीच इसकी परीक्षा होनी थी लेकिन अब 2020 का सितंबर आ गया और परीक्षा नहीं हुई. ऐसे ही रेलवे की ग्रुप डी की परीक्षा भी लटकी हुई है. अब इनका ऐलान किया गया है, जिसे छात्रों की जीत माना जा रहा है.

कुछ और परीक्षाओं का हाल आगे आपको बताएंगे, पहले ये तस्वीरें और वीडियो देख लीजिए.

कुछ दूसरी परीक्षाएं

कहीं फॉर्म भरने के एक साल बाद परीक्षा की तारीख नहीं आई, कहीं रिजल्ट नहीं आ रहा. कहीं रिजल्ट है तो जॉइनिंग नहीं हो पा रही. यही हाल कई राज्यों की परीक्षाओं का है. SSC- CGL का नोटिफिकेशन मई 2018 में आया. टियर वन की परीक्षा एक साल बाद जून 2019 में हुई. 2019 के दिसंबर महीने में टियर थ्री की परीक्षा हुई. मई, 2020 तक नतीजा आना था. लेकिन अभी तक नहीं आया. सीजीएल में मई 2018 में 26 लाख छात्रों ने फॉर्म भरे थे. 42 हज़ार 570 ने टियर 3 के एग्जाम्स दिए. ऐसे ही राज्यों में UPSSSC में ग्राम विकास अधिकारी का रिजल्ट अगस्त, 2019 में आ गया था लेकिन आज तक डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन और नियुक्तियां नहीं हुई हैं. यही हाल मध्य प्रदेश, राजस्थान जैसे राज्यों में भी है. लिस्ट बहुत लंबी है. ‘दी लल्लनटॉप’ इन मुद्दों को लगातार ‘दी लल्लनटॉप शो और स्पेशल सीरीज ‘रंगरूट’ में उठाता रहा है.

पिछले दिनों #SpeakUpForSSCRailwayStudents हैशटैग चला था, जो सिर्फ भारत के अलावा पूरे विश्व में नंबर वन पर ट्रेंड हुआ था. इसके बाद SSC ने कुछ परीक्षाओं के रिजल्ट की तारीखों का ऐलान भी किया. अब रेलवे की परीक्षाओं की तारीख भी आ गई है. लेकिन ये भी विडंबना ही है कि रूटीन प्रक्रियाओं और रोज़गार की आवाज़ सरकार को सुनाने के लिए छात्रों को ये सब करना पड़ रहा है.


NEET पर अड़ी मोदी सरकार भर्ती परीक्षाओं को क्यों नहीं पूरा कराना चाहती?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अरुणाचल के कांग्रेस विधायक का दावा- बॉर्डर से पांच भारतीयों को उठा ले गया चीन

पुलिस ने कहा, कुछ भी कंफर्म नहीं, सेना ही दे सकती है जानकारी.

पबजी बैन, सोशल मीडिया ने कहा- ‘उनका’ वीडियो डिसलाइक करने का नतीजा है

118 ऐप्स बैन कर दिए गए हैं.

चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए पॉज़िटिव न्यूज़ आई है

बड़े दिनों के बाद.

सेरो सर्वे की मानें, तो ठीक होने के बाद दोबारा हो सकता है कोरोना!

208 में से 97 लोगों में नहीं मिली एंटीबॉडी.

अवमानना वाले मामले में सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण को क्या सज़ा दी है?

प्रशांत भूषण के दो ट्वीट का मुद्दा था.

अनलॉक-4 की गाइडलाइंस जारी, मेट्रो चलेगी, जानिए स्कूल खोलने को लेकर क्या कहा गया है

धार्मिक और राजनीतिक कार्यक्रमों को लेकर क्या छूट मिली है?

NEET, JEE आगे बढ़ाने की मांग कर रहे छात्र ये पांच कारण बता रहे हैं

तय समय पर परीक्षा कराने के लिए 150 शिक्षाविदों ने लिखी PM मोदी को चिट्ठी.

कोर्ट ने कहा, ये शर्त पूरी किए बिना अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा पर दिल्ली दंगों में हेट स्पीच का केस नहीं

बीजेपी नेताओं के खिलाफ़ याचिका ख़ारिज करते हुए अदालत ने और क्या कहा, ये भी पढ़िए.

पाकिस्तान के किस बयान में इंडिया ने एक के बाद एक पांच झूठ पकड़ लिए हैं?

पाकिस्तान ने आतंकवाद फैलाने में भारत का नाम ले लिया, बस हो गया काम.

सोनिया-राहुल को पत्र लिखने पर कांग्रेस मंत्री ने नेताओं से कहा, ‘खुल्लमखुल्ला टहलने नहीं दूंगा’

माफ़ी नहीं मांगने पर परिणाम भुगतने की बात कर डाली.