Submit your post

Follow Us

वीडियो बनाकर राजस्थान सरकार को कोसते हुए आत्महत्या करने वाले किसान की पूरी कहानी

185
शेयर्स

राजस्थान के गंगानगर से एक किसान सोहनलाल कड़ेला ने आत्महत्या कर ली. 45 साल के किसान ने आत्महत्या करने से पहले एक वीडियो बनाया और सुसाइड नोट लिखा, दोनों ही चीज़ों में उन्होंने राजस्थान सरकार पर धोखा देने का आरोप लगाया. किसान के मुताबिक चुनाव के दौरान जो अशोक गहलोत और सचिन पायलट ने किसानों से कर्जमाफी के जो वादे किए थे, वे पूरे नहीं किए गए. किसान के मुताबिक वो कर्ज में डूबा हुआ था जिसकी वजह से आत्महत्या कर ली.

आत्महत्या करने से पहले किसान ने जो वीडियो डाला, उसमें आत्महत्या की वजह सीधे तौर पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट को बताया.

किसान ने इस वीडियो के साथ एक सुसाइड नोट भी लिखा है. जिसकी बातें कुछ इस तरह से है.

मैं आज अपनी जीवन लीला समाप्त करने जा रहा हूं, इसमें किसी का कोई दोष नहीं है. इस मौत का ज़िम्मेवार गहलोत, सचिन पायलट हैं. इन्होंने जो वादे किए थे कि 10 दिन के आपका कर्जा माफ कर देंगे हमारी सरकार आई तो. अब इनके वादे का क्या हुआ. सभी भाईयों से विनती मेरी लाश जब तक मत जलाना जब तक सभी भाईयों का कर्जा माफ न हो जाए. आज सरकार झुकाने का वक्त आ गया है. अब इनका मतलब निकल गया है.

सभी भाईयों से विनती है मैं सब किसान भाईयों के लिए मरने जा रहूं. सब का भलो होना चाहिए. किसान की एकता को आज दिखाना है, मेरी मौत का मुकदमा अशोक गहलोत पर कर देना. ये आपसे विनी, मेरे गांव ठाकरी के वासियों से विनती करता हूं, गांव में एकता बनाए रखना मेरा घर मेरा परिवार आप लोगों के भरोसे छोड़कर जा रहा हूं. मेरे परिवार का ख्याल रखाना. एक बात और अबकी बार सरपंची गांव में रखना ये विनती है मेरी आपसे. सोहनलाल लड़ेला.

किसान सोहनलाल कड़ेला का सुसाइड नोट जिसमें उन्होंने अशोक गहलोत और सचिन पायलट का नाम लिखा.
किसान सोहनलाल कड़ेला का सुसाइड नोट जिसमें उन्होंने अशोक गहलोत और सचिन पायलट का नाम लिखा.

सुसाइड नोट में अशोक गहलोत और सचिन पायलट का नाम होने के बाद भी पुलिस ने किसी के खिलाफ कोई एफआईआर नहीं दर्ज किया. पुलिस इस मामले में जांच की बात कर रही है. SDM ने भी किसी तरह का मामला दर्ज करने से पहले जांच की बात की.

इस मामले में जब सचिन पायलट की राय ली गई, तो उन्होंने मीडिया से बात करते हुए घटना को तो अफसोसजनक बताया ही साथ ही ये भी कहा दिया कि किसान के ऊपर किसी तरह का कोई लोन ही नहीं था.

मामले की जांच की जा रही है. घटना अफसोसजनक है. अब तक मुझे जो भी जानकारी मिली है, वह व्यक्ति वास्तव में कर्ज में नहीं था. राजस्थान सरकार राज्य में किसानों के लिए बेहतर भविष्य हासिल करने में मदद के लिए प्रतिबद्ध है.

सचिन पायलट की बात पर किसान के भाई ने जवाब देते हुए कहा-

सचिन जी को बयान देने से पहले सोच लेना चाहिए, किसान का अगर कर्जा नहीं होगा तो वो क्या आत्महत्या करेगा. मानसिक रूप से कोई परेशान होता है, वो सिर्फ आर्थिक तंगी की वजह से होता है. उसने अपने जमीन पर लोन ले रखा था. लोन की वजह से परेशान करते थे. इसीलिए उसने आत्म हत्या कर ली. इस मामले पर किसी तरह की राजनीति नहीं होनी चाहिए.

सोहनलाल के भाई ने एक और बड़ी बात बताई कि सोहनलाल पिछले काफी समय से परेशान चल रहा था. वो जो भी काम कर रहा था उसमें वो असफल हो जा रहा था. घर के हालात सुधारने के लिए उन्होंने मिस्त्री का काम किया, वो सफल नहीं हुआ. खेती की वो भी सफल नहीं हुआ. वो काफी परेशान था.

दूसरी तरफ ये जानकारी मिली की किसान के पास 6 बीघा की ज़मीन थी. जिसपर उन्होंने ढाई लाख रुपये का लोन ले रखा था. किसान के वीडियो के मुताबिक उसे काफी परेशान किया जा रहा था. लेकिन बैंक के अधिकारियों के मुताबिक वे रेगुलर पैसे बैंक को दे रहा था और किसी भी तरह को कोई नोटिस नहीं दिया गया था. यहां तक कि बैंक की तरफ से परेशान करने वाली बात भी गलत है.

बैंक के अधिकारी के मुताबिक किसान को किसी भी तरह से परेशान नहीं किया गया.
बैंक के अधिकारी के मुताबिक किसान को किसी भी तरह से परेशान नहीं किया गया.

सोहनलाल की आत्महत्या के बाद गांव के लोग लगातार सचिन पायलट पर मुकदमा दर्ज करने की मांग कर रहे हैं. वहां किसान यूनियन भी सोहनलाल के साथ दूसरे किसानों की भी जल्द से जल्द कर्ज माफी की मांग कर रहा है. जबकि सरकार के मुताबिक 19 लाख से ज्यादा किसानों के कर्ज माफ किए जा चुके हैं. सरकार की तरफ से ये जानकारी भी दी गई कि नई गहलोत सरकार की गठन के बाद जिन किसानों ने कॉर्पोरेटिव बैंक से लोन लिया था उनका कर्जा तुरंत माफ हो गया. जबकि जिन्होंने प्राइवेट बैंक से लोन लिया उसे माफ करने की प्रकिया चल रही है.

सरकार 19 लाख किसानों का लोन माफ कर चुकी है.
सरकारी वेबसाइट के मुताबिक गहलोत सरकार 19 लाख से ज्यादा किसानों के लोन माफ कर चुकी है.

सोहनलाल की आत्महत्या पर राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया ने भी ट्वीट किया. उन्होंने कांग्रेस पर वादों पर खरा नहीं उतरने का आरोप लगाया. साथ ही ये भी कहा कि कांग्रेस सरकार प्रदेश के किसानों की बदहाली के लिए सीधे-सीधे तौर पर ज़िम्मेदार है.

इस मामले में श्रीगंगानगर के सांसद निहालचंद ने लोकसभा स्पीकर ओम बिरला को भी चिट्ठी लिखी है. सांसद ने प्रेस नोट जारी कर लोगों को इस बात की जानकारी दी है.

सांसद की तरफ से लोकसभा अध्यक्ष को चिट्ठी लिखी गई.
सांसद की तरफ से लोकसभा अध्यक्ष को चिट्ठी लिखी गई है, इस बात की जानकारी प्रेस नोट के द्वारा दी गई.

सोहनलाल के परिवार में पत्नी के अलावा के एक बेटी और छोटा बेटा है. बेटी बीएड की पढ़ाई कर रही है, जबकि बेटा 10वीं क्लास में है. दोनों ने मीडिया से बात करते हुए कहा- सरकार को ऐसे वादे कभी नहीं करना चाहिए जिसपर वो खरा न उतर सके.


वीडियो- लगातार तीसरे साल मानसून के कमज़ोर रहने से भारत में महंगाई बढ़ेगी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

देश के आधे पुलिसवाले मानकर बैठे हैं कि मुसलमान अपराधी होते ही हैं

पुलिसवाले और क्या सोचते हैं, ये सर्वे पढ़ लो

वो आदमी, जिसने पद्म श्री, पद्म भूषण और पद्म विभूषण ठुकरा दिया था

उस्ताद विलायत ख़ान का सितार और उनकी बातें.

विधानसभा में पॉर्न देखते पकड़ाए थे, BJP ने उपमुख्यमंत्री बना दिया

और BJP ने देश में पॉर्न पर प्रतिबंध लगाया हुआ है.

आईफोन होने से इतनी बड़ी दिक्कत आएगी, ब्रिटेन में रहने वालों ने नहीं सोचा होगा

मामला ब्रेग्जिट से जुड़ा है. लोग फॉर्म नहीं भर पा रहे.

पूर्व CBI जज ने कहा, ज़मानत के लिए भाजपा नेता ने की थी 40 करोड़ की पेशकश

और अब भाजपा के "कुबेर" गहरा फंस चुके हैं.

आशीर्वाद मांगने पहुंचे खट्टर, आदमी ने खुद को आग लगा ली

दो बार मुख्यमंत्री से मिला, फिर भी नहीं लगी नौकरी.

नेटफ्लिक्स पर आने वाली शाहरुख़ की 'बार्ड ऑफ़ ब्लड' में कश्मीर क्यूं खचेर रहा है पाकिस्तान?

पाकिस्तानी आर्मी के प्रवक्ता के बयान पर सोशल मीडिया कहने लगा 'पीछे तो देखो'.

केरल बाढ़ के हीरो आईएएस कन्नन गोपीनाथन ने कश्मीर मसले पर नौकरी छोड़ते हुए ये बातें कही हैं

नौकरी छोड़ दी. अब न कोई सेविंग्स है, न ही रहने को अपना ख़ुद का घर.

धरती पर क्राइम तो रोज़ होते हैं, लेकिन पहली बार अंतरिक्ष में हुए क्राइम की खबर आई है

अंतरिक्ष में रहते क्राइम करने की बात चौंकाती है.

अरुण जेटली नहीं रहे, यूएई से पीएम मोदी ने कुछ यूं किया याद

गौतम गंभीर ने जेटली को पिता तुल्य बताया.