Submit your post

Follow Us

जिस 'पारले जी' को आप चाव से खाते हैं, उसका ये घिनौना रूप आपने नहीं देखा होगा

चिंगारी कोई भड़के, तो सावन उसे बुझाए,
सावन जो अगन लगाए, उसे कौन बुझाए?

बस इसी गीत की तर्ज़ पर, बच्चों के बिस्कुट बनाने वाली पारले, खुद बच्चों से अपने कारखाने में काम करवाती हुई पाई गई है. चलिए विस्तार से जानते हैं, माजरा क्या है?

# Parle का भारत में व्यापार-

पियूष मिश्रा के ‘रोको मत टोको मत’ वाले एड के ज़रिए बेहतरीन आइडियाज़ लोगों तक पहुंचाने वाली पार्ले. Parle-G, जो G का मतलब जीनियस बताती है. बच्चे इसके टार्गेट कस्टमर हैं. ये भारत की दूसरी बड़ी बिस्कुट बनाने वाली कंपनी है. हाइड एंड सीक, पार्ले-जी, मोनैको जैसे बिस्कुट के लिए जानी जाती है. पार्ले पॉपिंस तो याद ही होगी. आजकल अगर क्रिकेट मैच देख रहे होंगे तो इनके प्रीमियम रेंज के बिस्किट्स के विज्ञापन से भी आप अनजान नहीं होंगे. मुंबई वाले ही नहीं बल्कि पूरा भारतवर्ष विले पार्ले को जानता ही होगा. चाहे सुबह की चाय हो या शाम का स्नैक टाइम Parle-G, 90’s के दशक के बच्चों की पहली पसंद थी. आज भी है. 73 साल पुराना ये ब्रांड, इसके प्रोडक्ट लोगों के दिलों में खास जगह बनाए हुए हैं.

# अब क्यूं खबरों में है-

Parle-G के रायपुर प्लांट से 26 बच्चो को रेस्क्यू किया गया है. ये बच्चे वहां मजदूरी करते थे. भारत में Parle G के सात प्लांट हैं. जिस प्लांट को बंद किया गया है उसे पार्ले नहीं चलाती, थर्ड पार्टी सब कॉन्ट्रेक्टर चलाते हैं.

थोड़ा और एक्सप्लोर करके बताएं तो हुआ दरअसल यूं कि महिला एवं बाल विकास विभाग को खबर मिली थी कि अमस्विनी (रायपुर) के एक Parle-G प्लांट में कुछ बच्चों से काम करवाया जा रहा है. SHO से कंप्लेंट के बाद, टास्क फोर्स ने फैक्ट्री पर छापा मारा. इस छापे में 26 बच्चों को रेस्क्यू किया गया. सभी बच्चे 13 से 17 साल के बीच के हैं. बच्चों ने बताया कि उनसे 12 घंटे तक काम करवाया जाता है. सुबह के 8 से रात के 8 बजे तक फैक्ट्री में काम करते रहते हैं. लेकिन पैसे के नाम पर उन्हें सिर्फ 5000 से 7000 रूपया महीना दिया जाता है. ये बच्चे उड़ीसा, मध्य प्रदेश और झारखंड से हैं. जांच के बाद इन्हें जूवेनाईल शेल्टर होम भेज दिया गया. यहीं इनकी काउंसलिंग की जाएगी. बच्चों के माता-पिता को भी कॉन्टेक्ट करने की कोशिश जारी है.

इकोनॉमिक टाइम्स को दिए एक इंटरव्यू में पार्ले प्रोडक्ट हेड मयंक ने बताया-

जब तक जांच चल रही है, पार्ले के इस प्लांट में काम नहीं किया जाएगा.

कंपनी ने ये भी कहा है कि बच्चों के साथ इस तरह के व्यवहार को किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. आस पास के छह जिलों से भी 51 बच्चों को बचाया है.

महिला एवं बाल विकास विभाग ने इसकी कंप्लेंट SHO अश्विनी राठौर से की थी. 12 जून को वर्ल्ड डे अगेंस्ट चाइल्ड लेबर मनाया जाता है. इस बार बाल मजदूरी को रोकने के लिए कैंपेन चलाया गया है. इस कैंपेन के तहत पिछले छह दिनों में रायपुर के आस-पास के छह जिलों से 51 बच्चों को रेस्क्यू किया है.

चाइल्ड वैल्फेयर कमेटी ने सेक्शन 3, 3A, 14 (बाल मजदूरी पर पाबंदी) और धारा 370 (मजदूरों को गुलाम समझकर खरीदने औऱ बेचने) के अंदर मामला दर्ज करवाया है. कंपनी के मालिक विमल खेतान को जूवेनाइल जस्टिस एक्ट धारा 79 में लपेटा जा सकता है. जिसके तहत उन्हें 50,000 रूपयों का जुर्माना और 2 साल की जेल भी हो सकती है.

# सोशल मीडिया पर जमकर फूटा लोगों का गुस्सा-

इस खबर के आने के बाद लोग ट्विट कर के गुस्सा जाहिर कर रहें हैं.

किसी ने कहा कि कितना शर्मनाक है कि ‘बच्चों को’ Parle-G से रेस्क्यू किया जा रहा है.

लोगों ने ‘शेम’ के भी ट्विट किए.

किसी ने दीये तले अंधेरा कह कर भी पार्ले की निंदा की.

कुछ ने इस खबर का पता चलते ही इसे अपने फेवरेट बिस्कुट की लिस्ट से भी हटाने की बात की है.


ये स्टोरी हमारे साथ इन्टर्न कर रहीं कामना ने की है.


वीडियो देखें:

देशभर के डॉक्टर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से क्यों खफा हैं? –

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अब केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने लगवाया नारा, "देश के गद्दारों को, गोली मारो *लों को"

क्या केन्द्रीय मंत्री ऐसे बयान दे सकता है?

माओवादियों ने डराया तो गांववालों ने पत्थर और तीर चलाकर माओवादी को ही मार डाला

और बदले में जलाए गए गांववालों के घर

बंगले की दीवार लांघकर पी. चिदम्बरम को गिरफ्तार किया, अब राष्ट्रपति मेडल मिला

CBI के 28 अधिकारियों को राष्ट्रपति पुलिस मेडल दिया गया.

झारखंड के लोहरदगा में मार्च निकल रहा था, जबरदस्त बवाल हुआ, इसका CAA कनेक्शन भी है

एक महीने में दूसरी बार झारखंड में ऐसा बवाल हुआ है.

BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय लोगों को पोहा खाते देख उनकी नागरिकता जान लेते हैं!

विजयवर्गीय ने कहा- देश में अवैध रूप से रह रहे लोग सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं.

CAA-NRC, अयोध्या और जम्मू-कश्मीर पर नेशन का मूड क्या है?

आज लोकसभा चुनाव हुए तो क्या होगा मोदी सरकार का हाल?

JNU हिंसा केस में दिल्ली पुलिस की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है

RTI से सामने आई ये बात.

CAA पर सुप्रीम कोर्ट में लगी 140 से ज्यादा याचिकाओं पर बड़ा फैसला आ गया

असम में NRC पर अब अलग से बात होगी.

दिल्ली चुनाव में BJP से गठबंधन पर JDU प्रवक्ता ने CM नीतीश को पुरानी बातें याद दिला दीं

चिट्ठी लिखी, जो अब वायरल हो रही है.

CAA और कश्मीर पर बोलने वाले मलयेशियाई PM अब खुद को छोटा क्यों बता रहे हैं?

हाल में भारत और मलयेशिया के बीच रिश्तों में खटास बढ़ती गई है.