Submit your post

Follow Us

जानिए मौलाना मसूद के जैश-ए-मोहम्मद की 10 बातें

2.22 K
शेयर्स

14 फरवरी, 2019 को अवंतीपुरा के गोरीपोरा में हुए आत्मघाती आतंकी हमले में अब तक 37 से ज़्यादा जवान शहीद हो चुके हैं. कई जवान घायल हैं. इस हमले की जिम्मेदारी ली है जैश-ए-मोहम्मद ने और इस हमले के पीछे जिस आत्मघाती आतंकी का नाम सामने आया है वो है आदिल अहमद डार. यह आतंकी संगठन एक समय जम्मू-कश्मीर में सबसे ज्यादा सक्रिय था.

जैश-ए-मोहम्मद के बारे में 10 बातें:

1

जैश-ए-मोहम्मद का मतलब होता है ‘मुहम्मद की सेना’. पैगंबर मुहम्मद को इस धरती पर अल्लाह का आखिरी पैगंबर माना जाता है. ‘जेश मुहम्मद’ से कनफ्यूज मत करिएगा. जेश मुहम्मद एक और आतंकी संगठन है जो इराक में ऑपरेट करता है.


 

2

जैश-ए-मोहम्मद कश्मीर के सबसे खतरनाक आतंकी संगठनों में से है और वहां कई आतंकी हमले कर चुका है. यह पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से ज्यादा ऑपरेट करता है. मकसद है जम्मू-कश्मीर को भारत से अलग कराना.


 

3

पाकिस्तान ने 2002 से इस संगठन पर बैन लगा रखा है. पर बैन का क्या है. बैन तो तालिबान और लश्कर पर भी है. भारत और पाकिस्तान के अलावा ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, यूएई, ब्रिटेन, अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र, इसे आतंकी संगठन मानते हैं.


 

4

जैश-ए-मोहम्मद को बनाया था मौलाना मसूद अजहर ने. वही खतरनाक आतंकी, जिसे छुड़ाने के चक्कर में 1999 में कंधार विमान अपहरण हुआ था. यात्रियों की जान बचाने के लिए अटल सरकार ने अजहर को छोड़ दिया था. जब वो छूटा तो वह आतंकी संगठन हरकत-उल-मुजाहिदीन (HUM) से अलग हो गया. नया गुट बनाया. नाम रखा, जैश-ए-मोहम्मद. मौलाना मसूद अजहर के साथ HUM के कई बड़े आतंकी नए गुट में शामिल हो गए.


 

5

बताया जाता है कि जैश-ए-मोहम्मद को बनाने में पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI, अफगानिस्तान की तालिबान आलाकमान, ओसामा बिन लादेन और पाकिस्तान के कई सुन्नी संगठनों ने मदद की थी.


 

6

दिसंबर 2001 में संसद पर हुए हमले में भी जैश-ए-मोहम्मद का हाथ था. मामले में अफजल गुरु समेत चार आतंकियों को गिरफ्तार किया गया. उन पर केस चला और चारों को दोषी पाया गया. हमलावरों को अफजल को फांसी की सजा हुई. हमलावरों को लॉजिस्टिक्स पहुंचाने वाले अफजल को फांसी की सजा दी गई.


 

7

जनवरी 2002 में परवेज मुशर्रफ के दौर में पाकिस्तान ने भी इस गुट पर बैन लगा दिया. बताया जाता है कि इसके बाद संगठन नए नाम से ऑपरेट करने लगा. ये नाम था- ‘खद्दाम उल-इस्लाम.’


 

8

जैश-ए-मोहम्मद की हाफिज सईद के आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से यारी रही है. 2001 में संसद हमले को दोनों संगठनों ने मिलकर अंजाम दिया था.


 

9

फरवरी 2002 में कराची में अमेरिकी पत्रकार डेनियल पर्ल की अगवा करके हत्या कर दी गई थी. इसके पीछे भी जैश-ए-मोहम्मद का हाथ माना जाता है.


 

10

2009 में पुलिस ने जैश-ए-मोहम्मद के चार आतंकियों को धर दबोचा था, जो न्यूयॉर्क शहर में बम धमाके और अमेरिकी वायुसेना पर मिसाइलें दागने की साजिश रच रहे थे. यह कार्रवाई एक अज्ञात शख्स से मिली सूचना के बाद की गई थी. उसने खुद को जैश से जुड़ा ही बताया था.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
10 things to know about terrorist outfit jaish e mohammad

क्या चल रहा है?

पीएम मोदी ने मनमोहन सिंह के साथ बहुत बुरा किया है!

इतना बुरा कि मनमोहन सिंह चिट्ठी लिखकर पूछा कि ऐसा क्यों कर रहे हो?

ठाणे के कैब ड्राइवर फैज़ल को तीन बेवड़ों ने कूटा, लूटा और 'जय श्री राम' के नारे लगवाए

ऐसे ही लोगों के लिए आनंद बख्शी लिखकर गए थे 'राम का नाम बदनाम ना करो'.

धोनी की धीमी बल्लेबाजी पर क्या बोले कोहली?

मैच के बाद प्रेज़ेंटेशन सेरेमनी में धोनी की बैटिंग पर कोहली से सवाल पूछा गया था.

क्या वेस्ट इंडीज़ के साथ मैच में गलत आउट दिए गए रोहित शर्मा?

क्रिकेट की दुनिया दो फाड़ हुई पड़ी है.

पहले शॉक फिर मुस्कान देने वाली मुंबई की इस वीडियो में पूरी ट्रेन गुज़र गई, बंदे को खरोंच न आई

सब उनके लिए चिंतित थे, पर आदमी ने दाएं-बाएं देखा और ऐसे चल दिया मानो ये बहुत नॉर्मल हो.

जानिए बैट से पीटने वाले आकाश के केस की सुनवाई से जज का इंकार क्यूं, जिससे उन्हें जेल में रहना पड़ा

IND vs WI मैच में बल्ले के औसत प्रदर्शन के बावज़ूद उदीयमान बल्लेबाज आकाश को कोर्ट ने रिहा न किया.

क्या है आदित्य पंचोली के खिलाफ रेप का मामला और उन्होंने इस पर क्या कहा है?

आदित्य पर रेप, जबरन वसूली, मारपीट और जहर देकर मारने की कोशिश मामले में एफआईआर दर्ज.

'दबंग 3' में विनोद खन्ना की जगह जिन्हें लिया गया है, वो देखकर विनोद ऊपर से ही मुस्कुरा रहे होंगे

'दबंग 2' की रिलीज़ के पांच साल बाद विनोद खन्ना का निधन हो गया था.

जितना टाइम धोनी की स्टंपिंग के लिए था उतने में धोनी पूरी टीम निपटा देते!

धोनी ने नॉट आउट 56 रन बनाए.

महाराजा रणजीत सिंह, जिनकी मूर्ति पाकिस्तानी लाहौर में लगा रहे हैं

सिख साम्राज्य के संस्थापक थे महाराजा रणजीत सिंह.