Submit your post

Follow Us

जानिए मौलाना मसूद के जैश-ए-मोहम्मद की 10 बातें

14 फरवरी, 2019 को अवंतीपुरा के गोरीपोरा में हुए आत्मघाती आतंकी हमले में अब तक 37 से ज़्यादा जवान शहीद हो चुके हैं. कई जवान घायल हैं. इस हमले की जिम्मेदारी ली है जैश-ए-मोहम्मद ने और इस हमले के पीछे जिस आत्मघाती आतंकी का नाम सामने आया है वो है आदिल अहमद डार. यह आतंकी संगठन एक समय जम्मू-कश्मीर में सबसे ज्यादा सक्रिय था.

जैश-ए-मोहम्मद के बारे में 10 बातें:

1

जैश-ए-मोहम्मद का मतलब होता है ‘मुहम्मद की सेना’. पैगंबर मुहम्मद को इस धरती पर अल्लाह का आखिरी पैगंबर माना जाता है. ‘जेश मुहम्मद’ से कनफ्यूज मत करिएगा. जेश मुहम्मद एक और आतंकी संगठन है जो इराक में ऑपरेट करता है.


 

2

जैश-ए-मोहम्मद कश्मीर के सबसे खतरनाक आतंकी संगठनों में से है और वहां कई आतंकी हमले कर चुका है. यह पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से ज्यादा ऑपरेट करता है. मकसद है जम्मू-कश्मीर को भारत से अलग कराना.


 

3

पाकिस्तान ने 2002 से इस संगठन पर बैन लगा रखा है. पर बैन का क्या है. बैन तो तालिबान और लश्कर पर भी है. भारत और पाकिस्तान के अलावा ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, यूएई, ब्रिटेन, अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र, इसे आतंकी संगठन मानते हैं.


 

4

जैश-ए-मोहम्मद को बनाया था मौलाना मसूद अजहर ने. वही खतरनाक आतंकी, जिसे छुड़ाने के चक्कर में 1999 में कंधार विमान अपहरण हुआ था. यात्रियों की जान बचाने के लिए अटल सरकार ने अजहर को छोड़ दिया था. जब वो छूटा तो वह आतंकी संगठन हरकत-उल-मुजाहिदीन (HUM) से अलग हो गया. नया गुट बनाया. नाम रखा, जैश-ए-मोहम्मद. मौलाना मसूद अजहर के साथ HUM के कई बड़े आतंकी नए गुट में शामिल हो गए.


 

5

बताया जाता है कि जैश-ए-मोहम्मद को बनाने में पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI, अफगानिस्तान की तालिबान आलाकमान, ओसामा बिन लादेन और पाकिस्तान के कई सुन्नी संगठनों ने मदद की थी.


 

6

दिसंबर 2001 में संसद पर हुए हमले में भी जैश-ए-मोहम्मद का हाथ था. मामले में अफजल गुरु समेत चार आतंकियों को गिरफ्तार किया गया. उन पर केस चला और चारों को दोषी पाया गया. हमलावरों को अफजल को फांसी की सजा हुई. हमलावरों को लॉजिस्टिक्स पहुंचाने वाले अफजल को फांसी की सजा दी गई.


 

7

जनवरी 2002 में परवेज मुशर्रफ के दौर में पाकिस्तान ने भी इस गुट पर बैन लगा दिया. बताया जाता है कि इसके बाद संगठन नए नाम से ऑपरेट करने लगा. ये नाम था- ‘खद्दाम उल-इस्लाम.’


 

8

जैश-ए-मोहम्मद की हाफिज सईद के आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से यारी रही है. 2001 में संसद हमले को दोनों संगठनों ने मिलकर अंजाम दिया था.


 

9

फरवरी 2002 में कराची में अमेरिकी पत्रकार डेनियल पर्ल की अगवा करके हत्या कर दी गई थी. इसके पीछे भी जैश-ए-मोहम्मद का हाथ माना जाता है.


 

10

2009 में पुलिस ने जैश-ए-मोहम्मद के चार आतंकियों को धर दबोचा था, जो न्यूयॉर्क शहर में बम धमाके और अमेरिकी वायुसेना पर मिसाइलें दागने की साजिश रच रहे थे. यह कार्रवाई एक अज्ञात शख्स से मिली सूचना के बाद की गई थी. उसने खुद को जैश से जुड़ा ही बताया था.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

कोरोना लॉकडाउन : बस जुलाई में इतने लोगों की नौकरी गई कि सुनकर मूड बिगड़ जाएगा

जून में जितने लोगों को देशभर में नौकरी मिली, जुलाई में उससे 10 लाख ज़्यादा लोगों को निकाल दिया गया.

रिया ने कहा- सुशांत की बहन ने ग़लत हरकतें कीं, तभी उसके परिवार से खटक गई

रिया चक्रवर्ती ने लंबा-चौड़ स्टेटमेंट जारी किया है.

नसीरुद्दीन शाह ने जो 'आधे ज्ञान वाली स्टार' जैसी बात कही थी, उस पर कंगना रनौत ने जवाब दे दिया

नसीरुद्दीन शाह ने बिना नाम लिए कहा था, जवाब कंगना ने दिया है.

क्या है ये वर्चुअल प्रॉडक्शन तकनीक, जिससे इंडिया की पहली फिल्म शूट होने जा रही है?

'अवतार' और 'द लायन किंग' भी इसी तकनीक से शूट हुई थीं.

मुंबई में बिजनेसमैन नमाज पढ़ने गए थे, मस्जिद के बाहर 15 बार चाकू घोंपकर हत्या

दो साल से मिल रही थीं धमकियां. पुलिस को भी बताया था, पर सुनवाई नहीं हुई

कभी कंगना ने ही कहा था करण जौहर पद्मश्री डिज़र्व करते हैं, अब कह रही हैं इनसे ये अवॉर्ड वापस ले लो

कंगना-करण युद्ध का नया अध्याय.

बेंगलुरु के अस्पताल में ख़त्म हुई ऑक्सीजन, रातों-रात शिफ्ट किए गए कोरोना के मरीज़

अस्पताल ने इस मामले पर अपना पक्ष रखा है.

प्रभास की 'आदिपुरुष' का पोस्टर देखकर लोगों को उम्मीद हो रही कि बाहुबली से ज़्यादा कमाल फिल्म होगी

अपनी 22वीं फिल्म का पोस्टर रिलीज़ किया प्रभास ने. कहते हैं फिल्म रामायण पर बेस्ड है.

सचिन तेंडुलकर ने बताया- IPL 2020 से देश में क्या बदलेगा

किसके लिए हमेशा खुले हैं सचिन के दरवाज़ें?

नारायण मूर्ति ने बताया कि धोनी से बिज़नेस लीडर्स क्या सीख सकते हैं?

इंफोसिस और धोनी में क्या समानता है?