Submit your post

Follow Us

70 साल में सबसे खराब दौर में भारत की अर्थव्यवस्था का दावा करती अखबार की कटिंग वायरल

दावा

पेट्रोल-डीज़ल समेत रोज़मर्रा की ज़रूरत वाले सामानों की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी देखने को मिल रही है. देश में महंगाई की स्थिति पर नजर डालें तो मार्च के महीने में खुदरा महंगाई दर का स्तर 6.95 फीसदी पर पहुंच गया था, जो कि 17 महीने में सबसे ज्यादा है. बीते दिनों ‘सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकॉनमी‘ द्वारा जारी एक रिपोर्ट में बताया गया कि भारत में कानूनी रूप से कामकाजी उम्र के 90 करोड़ लोगों में से आधे से ज्यादा ने नौकरी की तलाश बंद कर दी है. वजह है मनचाही नौकरी का न मिलना.

ऐसे में भारत की अर्थव्यवस्था से जुड़ा एक दावा सोशल मीडिया पर वायरल है. वायरल दावे में एक अखबार की कतरन शेयर हो रही है. कतरन में मौजूद आर्टिकल की हेडिंग है –

’70 साल में सबसे खराब दौर में भारत की अर्थव्यवस्था’

आगे आर्टिकल में लिखा है,

भारत के थिंक-टैंक नीति आयोग ने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था अब तक के सबसे खराब दौर से गुज़र रही है. नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार के अनुसार वित्तीय क्षेत्र के संकट का असर अब आर्थिक विकास पर भी दिखने लगा है.

पोस्ट के ज़रिए बीजेपी सरकार पर निशाना साधते हुए दावा है कि मोदी सरकार द्वारा सरकारी संपत्ति को बेच देने के कारण ऐसा हुआ है.

दावे के कैप्शन में लिखा है – (आर्काइव)

पूंजीपरस्त भाजपा के सौजन्य से 70 साल में भारत की अर्थव्यवस्था सबसे ख़राब दौर से गुजर रही है. मोदी सरकार देश की सरकारी संपत्तियों को बेच रही है. करोड़ों युवा बेरोजगार है. महंगाई चरम पर है. 80 करोड़ भारतीय गरीब हो चुके है. नौकरियाँ समाप्त हो चुकी है. देश में निराशा का माहौल है.

कई और सोशल मीडिया यूज़र्स ने ऐसे ही दावे शेयर किए हैं. (आर्काइव) (आर्काइव)

पड़ताल

‘दी लल्लनटॉप’ की पड़ताल में वायरल दावा भ्रामक निकला. भारतीय अर्थव्यवस्था के खराब हालत में होने की बात नीति आयोग के उपाध्यक्ष ने साल 2019 में कही थी न कि हाल-फिलहाल में.

वायरल दावे की पड़ताल के लिए हमने शेयर हो रही तस्वीर को रिवर्स इमेज सर्च की मदद से खोजा. सर्च से हमें शेयर हो रही कतरन के अखबार के बारे में कोई स्पष्ट जानकारी नहीं मिली.

इसके बाद हमने भारतीय अर्थव्यवस्था के बारे में किये गए दावे से मिलते कीवर्ड्स को सर्च किया तो हमें India Today की वेबसाइट पर 23 अगस्त, 2019 को पोस्ट किया गया एक आर्टिकल मिला. (आर्काइव)

India Today1
India Today की वेबसाइट पर मिले आर्टिकल का स्क्रीनशॉट.

इस आर्टिकल में मिली जानकारी के मुताबिक –

नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने आर्थिक मंदी से निपटने के लिए असाधारण कदम उठाने का आह्वान किया था. उन्होंने वित्तीय क्षेत्र में चल रहे तनाव को “पिछले 70 वर्षों में अभूतपूर्व” करार दिया था. वित्तीय क्षेत्र में लिक्विडिटी की समस्या और कमजोर निजी निवेश का हवाला देते हुए उन्होंने कहा था कि सरकार को विकास को पुनर्जीवित करने के लिए “सामान्य से हटकर” कदम उठाने की जरूरत है. कुमार ने यह भी कहा था कि बाजार में कोई भरोसा नहीं है, क्योंकि वित्तीय संस्थान केवल चयनित तरीके से ऋण दे रहे हैं, जबकि सभी क्षेत्रों में व्यापार के एक बड़े पूल को ऋण देने से इनकार कर रहे हैं.

आर्टिकल में मिली जानकारी शेयर हो रही न्यूज़ कतरन में छपे राजीव कुमार के बयान से मेल खाती है.

साथ ही इसी आर्टिकल में ANI का एक ट्वीट भी मौजूद है. इस ट्वीट में नीति आयोग के उपाध्यक्ष का वीडियो मौजूद है. वीडियो में वे लिक्विडिटी की समस्या के बारे में बात करते नज़र आ रहे हैं. (आर्काइव)

इसके अलावा कीवर्ड्स की ही मदद से खोजने पर हमें अमर उजाला की वेबसाइट पर वायरल दावे से जुड़ी न्यूज़ रिपोर्ट मिली. (आर्काइव)

Amar Ujala 1
अमर उजाला की वेबसाइट पर मिले आर्टिकल का स्क्रीनशॉट.

नतीजा

‘दी लल्लनटॉप’ की पड़ताल में वायरल दावा भ्रामक साबित हुआ. शेयर हो रही अखबार की कतरन में छपा बयान पुराना है. नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने साल 2019 में आयोजित ‘हीरो माइंडमाइन समिट’ में यह बयान दिया था. साथ ही उन्होंने भारत की तेज भागती अर्थव्यवस्था की तारीफ भी की थी. शेयर हो रहे दावे का 2022 में चल रही आर्थिक स्तिथि से कोई संबंध नहीं है.

पड़ताल की वॉट्सऐप हेल्पलाइन से जुड़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.
ट्विटर और फेसबुक पर फॉलो करने के लिए ट्विटर लिंक और फेसबुक लिंक पर क्लिक करें.


पड़ताल: दिल्ली हिंसा के बाद पुलिस को लेकर भड़काऊ नारे लगाए गए?

70 साल में सबसे खराब दौर में भारत की अर्थव्यवस्था का दावा करती अखबार की कटिंग वायरल
  • दावा

    दावा है कि मोदी सरकार द्वारा सरकारी संपत्ति को बेच देने के कारण भारतीय अर्थव्यवस्था 70 साल में अपने सबसे खराब दौर से गुज़र रही है.

  • नतीजा

    शेयर हो रही न्यूज़ कतरन में दिया गया स्टेटमेंट नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने साल 2019 में आयोजित 'हीरो माइंडमाइन समिट' में दिया था. शेयर हो रहे दावे का 2022 में चल रही आर्थिक स्तिथि से कोई संबंध नहीं है.

अगर आपको भी किसी जानकारी पर संदेह है तो हमें भेजिए, padtaal@lallantop.com पर. हम पड़ताल करेंगे और आप तक पहुंचाएंगे सच.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पड़ताल

नमाज़ पढ़ने में हुई दिक्कत तो मुस्लिमों ने ट्रेन पर चलाए पत्थर? दावे के साथ वीडियो वायरल

नमाज़ पढ़ने में हुई दिक्कत तो मुस्लिमों ने ट्रेन पर चलाए पत्थर? दावे के साथ वीडियो वायरल

सोशल मीडिया पर एक ट्रेन पर हो रही पत्थरबाजी से जुड़ा दावा वायरल हो रहा है.

कच्चा बादाम वाले सिंगर भुबन को मिली रेलवे में नौकरी? दावे के साथ वीडियो वायरल

कच्चा बादाम वाले सिंगर भुबन को मिली रेलवे में नौकरी? दावे के साथ वीडियो वायरल

वायरल दावे में 15 सेकेंड का एक वीडियो है, जिसमें एक व्यक्ति सफेद कपड़े पहने हुए ट्रेन में नजर आ रहा है.

पुलिस ने कब्र खोदी तो अंदर बैठा मिला फर्जी पीर, लेकिन वीडियो कहां का है?

पुलिस ने कब्र खोदी तो अंदर बैठा मिला फर्जी पीर, लेकिन वीडियो कहां का है?

सोशल मीडिया पर एक कब्र की खुदाई का वीडियो वायरल हो रहा है. खुदाई के बाद पता चलता है कि कब्र के अंदर एक पीर बैठा है.

कश्मीर में तिरंगे पर रखकर गाय को काटने का दावा वायरल लेकिन सच्चाई अलग है

कश्मीर में तिरंगे पर रखकर गाय को काटने का दावा वायरल लेकिन सच्चाई अलग है

सोशल मीडिया पर कश्मीर में तिरंगा जलाने से जुड़ा दावा वायरल हो रहा है.

जहांगीरपुरी हिंसा के बाद जिहादियों में लट्ठ बजाने के नारे लगे? दावा वायरल

जहांगीरपुरी हिंसा के बाद जिहादियों में लट्ठ बजाने के नारे लगे? दावा वायरल

सोशल मीडिया पर दिल्ली के जहांगीरपुरी में हुई हिंसा से जुड़ा एक दावा वायरल हो रहा है.

दिल्ली हिंसा के बाद तलवार लेकर पुलिस की रक्षा कर रहे हैं भगवाधारी? दावा वायरल

दिल्ली हिंसा के बाद तलवार लेकर पुलिस की रक्षा कर रहे हैं भगवाधारी? दावा वायरल

सोशल मीडिया पर जहांगीरपुरी हिंसा से जुड़ा दावा वायरल हो रहा है.

खरगोन हिंसा में शामिल सलमा और रुकसाना की गिरफ्तारी का दावा करता वीडियो वायरल

खरगोन हिंसा में शामिल सलमा और रुकसाना की गिरफ्तारी का दावा करता वीडियो वायरल

सोशल मीडिया पर महिलाओं की गिरफ्तारी का एक वीडियो खरगोन हिंसा से जोड़कर शेयर किया जा रहा है.

दिल्ली के जहांगीरपुरी हिंसा की बताई गई इन तस्वीरों की असली कहानी ये है!

दिल्ली के जहांगीरपुरी हिंसा की बताई गई इन तस्वीरों की असली कहानी ये है!

सोशल मीडिया पर दिल्ली हिंसा से जोड़कर पुरानी तस्वीरें वायरल हो रही हैं.

एयर इंडिया ने क्यों हटाया राष्ट्रपति कोविंद की बेटी स्वाति को एयर होस्टेस के काम से?

एयर इंडिया ने क्यों हटाया राष्ट्रपति कोविंद की बेटी स्वाति को एयर होस्टेस के काम से?

सोशल मीडिया पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की बेटी स्वाति से जुड़ा एक दावा वायरल हो रहा है.

असदुद्दीन ओवैसी के सामने लगे पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे? जानिए पूरा मामला

असदुद्दीन ओवैसी के सामने लगे पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे? जानिए पूरा मामला

वायरल वीडियो को शेयर कर सोशल मीडिया यूज़र्स का दावा है कि जयपुर में ओवैसी की मौजूदगी में समर्थकों ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए हैं.