Submit your post

Follow Us

पड़ताल: क्या महाराष्ट्र में टमाटरों के अंदर कोरोना वायरस से भी खतरनाक संक्रमण पाया गया?

दावा

सोशल मीडिया पर एक मेसेज वायरल हो रहा है, जिसमें दावा किया जा रहा है कि महाराष्ट्र में टमाटरों में कोरोना वायरस का असर देखने को मिल रहा है. इस मेसेज में कथित वायरस को ‘तिरंगा वायरस’ का नाम दिया गया है.

फ़ेसबुक यूजर राजेश टूटेजा ने 17 मई, 2020 को पोस्ट (आर्काइव लिंक) किया,

बदनसीबी की पराकाष्ठा महाराष्ट्र में #तिरंगा_नामक_वायरस पांव पसार रहा है-

महाराष्ट्र में एक तरफ कोरोना वायरस संक्रमण थमने का नाम नहीं ले रहा वहीं अब #तिरंगा_नामक_वायरस ने राज्य में दस्तक दे दी है। महाराष्ट्र के किसान कोरोना वायरस के साथ-साथ अब टमाटर की फसल में वायरस घुसने से परेशान हैं। यहां के किसानों ने इसे #तिंरगा_वायरस नाम दिया है। मिली जानकारी के मुताबिक, हजारों एकड़ की जमीन तिंरगा वायरस की चपेट में है।

आशंका जताई जा रही है कि गलती से तिरंगा वायरस की चपेट में आया टमाटर किसी ने खाया तो यह कोरोना से ज्यादा खतरनाक हो सकता है। हालांकि इस वायरस पर अभी जांच चल रही है। किसी भी प्रकार की सरकारी प्रतिक्रिया अभी तक महाराष्ट्र सरकार की तरफ से नहीं आयी है। लेकिन जब से ये खबर फैली है लोगों ने टमाटर खाना और खरीदना दोनों बंद कर दिया है।

बदनसीबी की पराकाष्ठा महाराष्ट्र में #तिरंगा_नामक_वायरस पांव पसार रहा है-
महाराष्ट्र में एक तरफ कोरोना वायरस संक्रमण…

Posted by Rajesh Tuteja on Sunday, 17 May 2020

कई ब्लॉग्स में भी इस कथित वायरस को लेकर रिपोर्ट्स पब्लिश की गईं.

13 मई को हिंदी न्यूज़ चैनल ‘टीवी9 भारतवर्ष’ ने भी टमाटर में पाए गए कथित तिरंगा वायरस को लेकर एक प्रोग्राम बनाया था. जिसे बाद में उन्होंने हटा लिया. लेकिन इसकी क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हो गई. फ़ेसबुक पेज The Glory of Islam ने भी ये वीडियो क्लिप पोस्ट (आर्काइव लिंक) करते हुए लोगों को सावधान रहने के लिए कहा.

एक नया वायरस : तिरंगा वायरस आ गया है ….होशियार

Posted by The Glory Of Islam on Friday, 15 May 2020

वायरस क्लिप की शुरुआत में ऐंकर कहती है,

“ये कोरोना वायरस से ज़्यादा खतरनाक है. और, उससे सीधा सरोकार आपका, हमका और सबका है. दावा किया जा रहा है कि कोरोना वायरस का नया वर्ज़न आ गया है. और, ये सब्ज़ियों में मिला है. महाराष्ट्र के कई इलाक़ों में टमाटर में तिरंगा वायरस होने का दावा किया जा रहा है.”

इसके बाद एक गंभीर आवाज़ में वॉयसओवर आता है. जिसमें कथित तिरंगा वायरस को कोरोना वायरस से जोड़ा जाता है. इस रिपोर्ट में दावा किया गया कि इन टमाटरों को खाना कोरोना से भी अधिक खतरनाक हो सकता है.

इसी क्लिप में दावा किया गया है कि टमाटर के रंग बदलने की वजह से इस वायरस को तिरंगा वायरस का नाम दिया गया है.

पड़ताल

‘दी लल्लनटॉप’ ने इस पूरे दावे की विस्तार से पड़ताल की. हमारी पड़ताल में ये दावा ग़लत और भ्रामक निकला.

कीवर्ड्स की मदद से सर्च करने पर हमें द हिंदू बिजनेस लाइन की 12 मई कि रिपोर्ट (आर्काइव लिंक) मिली. रिपोर्ट का टाइटल है,

Mystery Virus attacks Tomato crops in Maharashtra

(महाराष्ट्र में टमाटर की फ़सल पर रहस्यमयी वायरस का हमला)

12 मई की द हिंदू बिजनेस लाइन की रिपोर्ट.
12 मई की द हिंदू बिजनेस लाइन की रिपोर्ट.

रिपोर्ट के मुताबिक़, महाराष्ट्र के अहमदनगर, पुणे और नासिक में पिछले 10 दिनों में 60 प्रतिशत से अधिक फ़सल बर्बाद हो चुकी है. खेत से तोड़े जाने के कुछ घंटों के बाद टमाटर का रंग काला पड़ जाता है. आशंका है कि ये स्वास्थ्य के लिए खतरनाक हो सकता है.

लेकिन, पूरी रिपोर्ट में कहीं भी इसका संबंध कोरोना वायरस से नहीं जोड़ा गया है. और, न ही इस रहस्यमयी वायरस को तिरंगा वायरस का नाम दिया गया है. किसानों ने एक अंतरराष्ट्रीय कंपनी पर आरोप लगाया कि उन्हें ख़राब बीज बेचे गए. इस रिपोर्ट में दर्ज है कि 2017 में कपास की फ़सल पर इसी तरह गुलाबी कीड़ों का अटैक हुआ था.

17 मई को टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने एक रिपोर्ट (आर्काइव लिंक) पब्लिश की. रिपोर्ट के अनुसार, महाराष्ट्र के यवतमाल में इस अफ़वाह ने इतना जोर पकड़ा कि कोई भी टमाटर खरीदने के लिए तैयार नहीं है. महागांव के किसान कार्यकर्ता मनीष जाधव ने स्थानीय थाने में शिकायत दर्ज कर अफ़वाह फैलाने वालों पर कार्रवाई की मांग की. 16 मई को किसान 1.5 क्विंटल टमाटर लेकर वर्धा मार्केट गए, लेकिन वहां उन्हें कोई खरीदार नहीं मिला.

यवतमाल में फैल रही अफ़वाह के संबंध में टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट.
यवतमाल में फैल रही अफ़वाह के संबंध में टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट.

17 मई को कांग्रेस नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने दो ट्वीट कर तिरंगा वायरस की अफ़वाह फैलाने वालों पर कार्रवाई की मांग (आर्काइव लिंक) कर दी. उन्होंने लिखा,

एक हिंदी न्यूज़ चैनल ने, 13 मई को, महाराष्ट्र में ‘टमाटर में तिरंगा वायरस’ पाए जाने की रिपोर्ट चलाई. इसके फौरन बाद टमाटर की कीमतें गिर गई और किसानों को भारी नुकसान झेलना पड़ा है. ऐसी गैर-ज़िम्मेदाराना रिपोर्टिंग की सजा तय होनी चाहिए. सरकार किसानों को मुआवजा दे.

अगले ट्वीट (आर्काइव लिंक) में उन्होंने चैनल पर एक महीने का प्रतिबंध लगाने की बात भी की.

हमने यूट्यूब पर कीवर्ड्स की मदद से आगे सर्च किया. हमें 15 मई, 2020 की टीवी9 भारतवर्ष की एक वीडियो रिपोर्ट मिली. इसका टाइटल है,

टमाटर से नहीं फैलता कोरोना, सब्ज़ियों से इंसान में वायरस फैलने का दावा ग़लत

टीवी ने अपनी पुरानी रिपोर्ट को हटाकर दावा किया कि उन्होंने टमाटर को कोरोना से नहीं जोड़ा है.
टीवी ने अपनी पुरानी रिपोर्ट को हटाकर दावा किया कि उन्होंने टमाटर को कोरोना से नहीं जोड़ा है.

इस वीडियो में टीवी9 भारतवर्ष ने अपनी 13 मई की रिपोर्ट को ग़लत बता दिया और अफ़वाह फैलाने का ठीकरा सोशल मीडियो यूजर्स पर फोड़ दिया. टीवी9 भारतवर्ष ने अपनी नई रिपोर्ट में दावा किया कि उन्होंने टमाटर में फैलने वाले वायरस को कोरोना वायरस से नहीं जोड़ा है.

हमें ऐसी कोई प्रामाणिक रिपोर्ट नहीं मिली, जिसमें टमाटर की फ़सल खराब करने वाले वायरस को तिरंगा वायरस का नाम दिया गया हो. या, इसका संबंध कोरोना से जोड़ा गया हो. जहां तक महाराष्ट्र में टमाटर में फैलने वाले वायरस की बात है, इसकी जांच चल रही है. अभी तक वायरस के प्रकार का पता नहीं चल पाया है. लॉकडाउन की वजह से सैंपल नेशनल लेबोरेट्री में पहुंचने में देरी की बात भी सामने आई है.

फ़ैक्ट चेक वेबसाइट ‘बूम लाइव’ ने भी इस दावे की पड़ताल की है. वो भी इसी नतीजे पर पहुंचे हैं.

नतीजा

महाराष्ट्र में टमाटर में कोरोना से भी खतरनाक तिरंगा वायरस संक्रमण होने का दावा पूरी तरह से ग़लत और भ्रामक है. किसी भी वैज्ञानिक रिपोर्ट में इस दावे की पुष्टि नहीं हुई है. टीवी9 भारतवर्ष ने अपनी रिपोर्ट में कथित तिरंगा वायरस को कोरोना से भी खतरनाक बताया था. लेकिन दो दिन बाद ही, चैनल ने अपने दावे से उलट रिपोर्ट बनाकर पुरानी रिपोर्ट का खंडन कर दिया. और पुरानी वीडियो रिपोर्ट को यूट्यूब और वेबसाइट से हटा भी लिया गया है.

कृषि वैज्ञानिक टमाटर की फ़सलों को बर्बाद करने वाले वायरस के बारे में पता लगा रहे हैं.

अगर आपको भी किसी ख़बर पर शक है
तो हमें मेल करें- padtaalmail@gmail.com पर.
हम दावे की पड़ताल करेंगे और आप तक सच पहुंचाएंगे.

कोरोना वायरस से जुड़ी हर बड़ी वायरल जानकारी की पड़ताल हम कर रहे हैं.
इस लिंक पर क्लिक करके जानिए वायरल दावों की सच्चाई.

पड़ताल: क्या महाराष्ट्र में टमाटरों के अंदर कोरोना वायरस से भी खतरनाक संक्रमण पाया गया?
  • दावा

    महाराष्ट्र में टमाटरों में मिला तिरंगा वायरस कोरोना वायरस से अधिक खतरनाक है.

  • नतीजा

    ये दावा ग़लत है. महाराष्ट्र में टमाटर की फ़सल एक अज्ञात बीमारी की वजह से बर्बाद हो रही हैं. इस वायरस के असर के बारे में कोई वैज्ञानिक साक्ष्य नहीं मिला है. और, अभी तक इसका कोरोना वायरस से कोई संबंध नहीं मिला है.

अगर आपको भी किसी जानकारी पर संदेह है तो हमें भेजिए, padtaalmail@gmail.com पर. हम पड़ताल करेंगे और आप तक पहुंचाएंगे सच.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें