Submit your post

Follow Us

पड़ताल: गुजरात में फिल्मी स्टाइल में हुई गिरफ़्तारी को दिल्ली दंगे से जोड़ता दावा भ्रामक

 दावा

सोशल मीडिया पर पुलिस की कार्रवाई की CCTV फुटेज वायरल हो रही है. दावा किया जा रहा है कि ये घटना भरूच, गुजरात की है, जिसमें गुजरात पुलिस ने दिल्ली दंगों के आरोपी सिराज मोहम्मद अनवर को गिरफ़्तार किया है. ट्विटर यूज़र स्वाति पाठक ने ये वीडियो ट्वीट किया है. लिखा है-

गुजरात पुलिस का दिल्ली हिंसा के आरोपियों को पकड़ने का लाइव ऑपरेशन. गुजरात की भरूच क्राइम ब्रांच की स्पेशल टीम में दिल्ली दंगों के आरोपी दंगाई सिराज मोहम्मद अनवर को भरूच पुलिस के इनपुट के बाद रेस्टोरेंट्स से दबोचा

“गुजरात पुलिस का दिल्ली हिंसा के आरोपियों को पकड़ने का लाइव ऑपरेशन”

“गुजरात की भरूच क्राइम ब्रांच की स्पेशल टीम में दिल्ली दंगों के आरोपी दंगाई सिराज मोहम्मद अनवर को भरूच पुलिस के इनपुट के बाद रेस्टोरेंट्स से दबोचा”#Delhi#gujaratpolice#Delhipic.twitter.com/dm8XAMs2IG

— Swati Pathak (@Swati_live) July 1, 2021

(आर्काइव)
इसी तरह फेसबुक पर भी तमाम पेजों और प्रोफाइल्स से ये वीडियो शेयर किया गया है. यहां भी ट्वीट की तरह दावा किया जा रहा है कि ये वीडियो दिल्ली दंगों के आरोपी सिराज मोहम्मद अनवर की गिरफ़्तारी का है.

पड़ताल

हमने वायरल दावा की पड़ताल की. असल में ये वीडियो दिल्ली दंगों के किसी आरोपी सिराज मोहम्मद अनवर का नहीं, बल्कि गुजरात के पाटन जिले में अहमदाबाद पुलिस की एक कार्रवाई का है.

कीवर्ड सर्च करने पर हमें टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट मिली. रिपोर्ट में इस पूरी घटना के वीडियो समेत काफी जानकारी दी हुई थी.

रिपोर्ट के मुताबिक, मुख्य आरोपी किशोर लुहार रेप और लूट जैसे 14 अपराधों में शामिल रहा है. ढाबे से गिरफ़्तारी की ये घटना पाटन जिले के सरस्वती तालुका के तहत आने वाले अमरपुरा गांव की है. वीडियो में गिरफ़्तारी के वक्त आरोपी के पास से एक पिस्टल बरामद की जाती है. 29 साल का किशोर लुहार गुजरात बनासकांठा जिले के डीसा कस्बे का रहने वाला है.

दी लल्लनटॉप ने मामले की और जानकारी के लिए अहमदाबाद क्राइम ब्रांच से संपर्क किया. किशोर लुहार को गिरफ़्तार करने वाली टीम का नेतृत्व करने वाले इंस्पेक्टर एच.एन. व्यास ने हमें बताया-

ये घटना 27 जून की है. पाटन जिले के एक ढाबे से हमने किशोर लुहार को गिरफ़्तार किया है. फिलहाल वो लूट के मामले में वांछित था. इससे पहले रेप और डकैती के मामलों में जेल जा चुका है.

हमने इंस्पेक्टर व्यास से पूछा कि क्या गिरफ़्तार शख़्स (किशोर लुहार) का संबंध दिल्ली दंगों से है? उन्होंने बताया-

ये गलत जानकारी प्रचारित की जा रही है. किशोर लुहार का दिल्ली दंगों से कोई संबंध नहीं है. रेप और लूट के मामलों में ही उसका नाम आया है.

फिर मोहम्मद सिराज अनवर कौन?

मोहम्मद सिराज अनवर के बारे में खोजने पर हमें गुजरात की भरूच पुलिस का एक ट्वीट मिला. ट्वीट में गिरफ़्तार शख़्स और बरामद सामान के अलावा गुजराती भाषा में जारी एक प्रेस नोट की तस्वीर है.

ભરૂચ તાલુકાના દેરોલ ચોકડી પરથી ગેરકાયદેસર અગ્નિશસ્ત્રો( પિસ્તોલ ) નંગ -૦૨ તથા મેગજીન નંગ -૦૨ અને કાર્ટીઝ નંગ -૧૯ સાથે એક ઇસમને ઝડપી પાડતી ભરૂચ ક્રાઇમ બ્રાન્ચ.#DGPgujarat#Gujaratpolice#Bharuchpolicepic.twitter.com/4F8bF0vP1d

— Bharuch Police (@BharuchPolice) June 29, 2021

भरूच पुलिस के मुताबिक,

भरूच पुलिस ने शहर में अवैध हथियारों संबंधी एक जांच चलाई थी. इसी दौरान पुलिस ने एक शख़्स को अवैध हथियारों के साथ शहर में सफर करते हुए पकड़ा. इस शख़्स का नाम मोहम्मद सिराज अनवर उर्फ़ मंजोर आलम अंसारी है. इसके पास 2 देशी पिस्टल, 2 मैगज़ीन, 3 मोबाइल फोन, 7.65 मिमी के 19 कारतूस और 3, 310 रुपये नकद बरामद किए गए थे. मोहम्मद सिराज दिल्ली और पटना का रहने वाला है. अनवर बिहार से हथियार लेकर भरूच में बेचने आया था.

इस प्रेस नोट में कहीं ज़िक्र नहीं है कि मोहम्मद सिराज अनवर का दिल्ली दंगों से कोई ताल्लुक है. उसकी गिरफ़्तारी अवैध हथियारों के मामले में हुई है.

नतीजा

गुजरात के पाटन जिले में एक ढाबे से हुई गिरफ़्तारी के वायरल वीडियो को दिल्ली दंगों से जोड़ता दावा भ्रामक है. वीडियो में दिल्ली दंगों का आरोपी नहीं, गुजरात का ही एक स्थानीय शख़्स लूट के मामले में पकड़ा गया है. उसे पकड़ने वाली अहमदाबाद क्राइम ब्रांच ने इसकी तस्दीक की है. जिस मोहम्मद सिराज अनवर का नाम वीडियो के साथ जोड़ा जा रहा है, उसे गुजरात की भरूच पुलिस ने पकड़ा है. उसकी गिरफ़्तारी अवैध हथियारों के मामले में हुई है. दोनों मामलों में दिल्ली दंगों का कहीं कोई ज़िक्र नहीं है.

पड़ताल की वॉट्सऐप हेल्पलाइन से जुड़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.
ट्विटर और फेसबुक पर फॉलो करने के लिए ट्विटर लिंक और फेसबुक लिंक पर क्लिक करें.


वीडियो- राष्ट्रपति कोविंद ही नहीं, पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम ने भी की थी प्रेसिडेंशियल ट्रेन से यात्रा

पड़ताल: गुजरात में फिल्मी स्टाइल में हुई गिरफ़्तारी को दिल्ली दंगे से जोड़ता दावा भ्रामक
  • दावा

    गुजरात पुलिस ने एक ढाबे से दिल्ली दंगे को आरोपी को गिरफ़्तार किया.

  • नतीजा

    ढाबे से गिरफ़्तार किशोर लुहार लूट का आरोपी है. वहीं मोहम्मद सिराज अनवर की गिरफ़्तारी भरूच पुलिस ने अवैध हथियार मामले में की है. उसका दिल्ली दंगों से संबंध सामने नहीं आया है.

अगर आपको भी किसी जानकारी पर संदेह है तो हमें भेजिए, padtaal@lallantop.com पर. हम पड़ताल करेंगे और आप तक पहुंचाएंगे सच.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पड़ताल

पड़ताल: BJP नेताओं ने चीन के एयरपोर्ट की फोटो को नोएडा इंटरनेशल एयरपोर्ट का बताया

पड़ताल: BJP नेताओं ने चीन के एयरपोर्ट की फोटो को नोएडा इंटरनेशल एयरपोर्ट का बताया

सोशल मीडिया यूजर्स इसे नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के मॉडल से जोड़कर शेयर कर रहे हैं.

पड़ताल: PM मोदी ने बांध का उद्घाटन तो किया पर BJP नेताओं ने गलत तस्वीर ठेल दी

पड़ताल: PM मोदी ने बांध का उद्घाटन तो किया पर BJP नेताओं ने गलत तस्वीर ठेल दी

वायरल तस्वीर को शेयर कर 'बुंदलेखंड को सौगात' देने की बात की जा रही है.

पड़ताल: मुस्लिम समुदाय ने नहीं बनाया राम मंदिर निर्माण रुकने की आशंका जताता वीडियो

पड़ताल: मुस्लिम समुदाय ने नहीं बनाया राम मंदिर निर्माण रुकने की आशंका जताता वीडियो

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि ये गाना समाजवादी पार्टी ने बनवाया है.

पड़ताल: इंदिरा गांधी सी-फूड नहीं खा रहीं, तस्वीर के साथ वायरल हो रहा दावा ग़लत

पड़ताल: इंदिरा गांधी सी-फूड नहीं खा रहीं, तस्वीर के साथ वायरल हो रहा दावा ग़लत

नामी फोटोजर्नलिस्ट श्रीधर नायडू की खींची इस वायरल तस्वीर का सच.

पड़ताल: सुशांत सिंह राजपूत के रिश्तेदारों की मौत से जुड़े दावों का सच

पड़ताल: सुशांत सिंह राजपूत के रिश्तेदारों की मौत से जुड़े दावों का सच

वायरल फोटो को सोशल मीडिया यूजर्स सुशांत के रिश्तेदारों के एक्सीडेंट सीन से जोड़कर शेयर कर रहे हैं.

पड़ताल: सेब की पेटी में गोलियां-ग्रेनेड, पर पकड़े गए शख़्स को कांग्रेस MLA बताते दावे ग़लत

पड़ताल: सेब की पेटी में गोलियां-ग्रेनेड, पर पकड़े गए शख़्स को कांग्रेस MLA बताते दावे ग़लत

ये तस्वीरें दो इतर घटनाओं की हैं, एक भारत की, एक बांग्लादेश की.

पड़ताल: वीडियो का छोटा हिस्सा काटकर सावरकर के बारे में फिर झूठ फैलाया जा रहा

पड़ताल: वीडियो का छोटा हिस्सा काटकर सावरकर के बारे में फिर झूठ फैलाया जा रहा

वीडियो दिखाकर सोशल मीडिया यूज़र्स दावा कर रहे हैं कि सावरकर ने जेल में ऐसे कष्ट सहे थे.

पड़ताल:

पड़ताल: "राशिद अल्वी ने जय श्री राम कहने वालों को राक्षस कहा", अमित मालवीय के इस दावे का सच

राशिद अल्वी ने बयान दिया था, "आज भी बहुत लोग जय श्री राम का नारा लगाते हैं वो सब मुनि नहीं वो निशिचरघोरा हैं."

पड़ताल: बीच सड़क नमाज़ अदा करने की ये तस्वीर भारत की नहीं

पड़ताल: बीच सड़क नमाज़ अदा करने की ये तस्वीर भारत की नहीं

सोशल मीडिया पर वेरिफाइड यूज़र्स इसे भारत का बताकर शेयर कर रहे हैं.

पड़ताल: क्या हज़ारों लोगों की ये रैली त्रिपुरा हिंसा के विरोध में निकाली गई है?

पड़ताल: क्या हज़ारों लोगों की ये रैली त्रिपुरा हिंसा के विरोध में निकाली गई है?

वायरल वीडियो को लोग "केरल के मुसलमानों की एकता" बताकर सोशल मीडिया पर शेयर कर रहे हैं.