Submit your post

Follow Us

पड़ताल: नाक में नींबू का रस डालने से कोरोना वायरस ठीक नहीं होता, वायरल वीडियो भ्रामक है

दावा

सोशल मीडिया पर कोरोना संक्रमण के इलाज के नाम पर घरेलू नुस्खों वायरल हैं. हम लगातार ऐसे दावों का फ़ैक्ट चेक कर रहे हैं.
एक ऐसे ही दावे के मुताबिक़, नींबू के रस की दो-तीन बूंदें नाक में डालने से कोरोना वायरस ठीक हो जाता है. सोशल मीडिया पर इस दावे के साथ एक वीडियो खूब वायरल हो रहा है. वीडियो में एक शख़्स नींबू का रस नाम में डालने को कोरोना का पक्का इलाज बता रहा है.

फेसबुक यूजर पं. अजय श्रीमाली ने वायरल वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा है-

“इस कोरोना महामारी में सनातनी गुरुजनों का बताया उपाय भी कर के देखिए, सिर्फ दो बूंद नींबू रस और जीवन दान”

इस कोरोना महामारी में सनातनी गुरुजनों का बताया उपाय भी कर के देखिए, सिर्फ दो बूंद नींबू रस और जीवन दान

Posted by पं. अजय श्रीमाली on Sunday, 2 May 2021

(आर्काइव)

ट्विटर यूज़र शर्मा संतोष ने वायरल वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा है-

“अगर एक नींबू के रस से कोरोना उपचार में मदद मिलती, तो हर्ज क्या है. आजमा कर देखो.”

(आर्काइव)

वॉट्सऐप पर भी इस वीडियो को तेजी से फॉरवर्ड किया जा रहा है.

पड़ताल

‘दी लल्लनटॉप’ ने वायरल वीडियो की पड़ताल की. हमारी पड़ताल में नींबू का रस नाक में डालने से कोरोना ठीक होने का दावा ग़लत निकला. WHO और भारत का स्वास्थ्य मंत्रालय नींबू के रस से कोरोना ठीक होने के दावे को ग़लत बता चुका है.

नाक में नींबू का रस डालने से कोरोना ठीक होने के दावे पर अधिक जानकारी के लिए AIIMS दिल्ली में ENT डिपार्टमेंट में असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. अनूप सिंह से बात की. उन्होंने ‘दी लल्लनटॉप’ को बताया-

“नींबू का रस नाक के डालने से जलन हो सकती है. ये एसिडिक नेचर का होता है. इसे पीने से बॉडी को विटामिन C मिलता है. लेकिन नाक में नींबू का रस सीधे डालने से कोई लाभ हो, ऐसी कोई रिसर्च सामने नहीं आई है. अगर हम ज़्यादा नींबू का रस नाक में डालते हैं तो इससे जलन की समस्या बढ़ सकती है. इससे कोरोना वायरस मरने की बात एक अफवाह से ज्यादा कुछ नहीं है.”

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक़, नींबू से कोरोना ठीक होने का कोई वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं है. हालांकि सामान्य तौर पर हमें उचित मात्रा में फल और सब्जियों को अपने डाइट में शामिल करना चाहिए. (आर्काइव)

Who Lemon
WHO की वेबसाइट पर दी गई जानकारी.

भारत सरकार के आयुष मंत्रालय ने भी कोरोना वायरस के ख़िलाफ़ लड़ने के लिए शरीर के इम्युनिटी सिस्टम को मज़बूत करने के कई उपाय बताए हैं. इन उपायों में काढ़ा या हर्बल चाय में नींबू का रस डालकर पीने की सलाह दी गई है. हालांकि आयुष मंत्रालय की तरफ से जारी इस गाइडलाइंस में साफ़ तौर पर लिखा है कि ये उपाय शरीर की इम्युनिटी मजबूत करने के लिए हैं, ये कोरोना ठीक करने का दावा नहीं करते हैं.(आर्काइव)

केंद्र सरकार की सूचनाओं की नोडल एजेंसी PIB ने भी सोशल मीडिया पर वायरल इस वीडियो का खंडन करते हुए इसे फ़ेक बताया है.
PIB ने अपने ट्वीट में लिखा है-

“सोशल मीडिया पर साझा किए जा रहे वीडियो में दावा किया जा रहा है कि नाक में नींबू का रस डालने से#कोरोनावायरसतुरंत ही खत्म हो जाएगाट

#PIBFactCheck:- वीडियो में किया गया दावा#फर्जीहै। इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है कि नाक में नीबू का रस डालने से#Covid19को खत्म किया जा सकता है.”

(आर्काइव)

कोरोना वायरस से बचने के लिए मास्क पहनें, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और हाथों को समय-समय पर साफ़ करते रहें. किसी भी तरह के लक्षण महसूस हों कोविड टेस्ट करवाकर सुरक्षा संबंधी दिशानिर्देशों का पालन करें.

नतीजा

हमारी पड़ताल में नाक में नींबू का रस डालने से कोरोना ठीक होने का दावा ग़लत निकला. WHO और भारत सरकार ने नींबू के रस के कोरोना ठीक होने के दावे को ग़लत बताया है. आयुष मंत्रालय के मुताबिक़, शरीर में इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए काढ़ा या हर्बल चाय में नींबू का रस डालकर लिया जा सकता है.  AIIMS के विशेषज्ञ डॉक्टर ने बताया कि नींबू का रस नाक में डालने से जलन की समस्या हो सकती है.

पड़ताल अब वॉट्सऐप पर. वॉट्सऐप हेल्पलाइन से जुड़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.
ट्विटर और फेसबुक पर फॉलो करने के लिए ट्विटर लिंक और फेसबुक लिंक पर क्लिक करें.


पड़ताल: क्या होम्योपैथिक दवा ASPIDOSPERMA Q वाकई ऑक्सीजन लेवल बढ़ा देती है?

पड़ताल: नाक में नींबू का रस डालने से कोरोना वायरस ठीक नहीं होता, वायरल वीडियो भ्रामक है
  • दावा

    नींबू का रस नाक में डालने से कोरोना ठीक हो जाता है.

  • नतीजा

    AIIMS के विशेषज्ञों, भारत सरकार और WHO ने नींबू से कोरोना ठीक होने के दावे भ्रामक बताया है.

अगर आपको भी किसी जानकारी पर संदेह है तो हमें भेजिए, padtaalmail@gmail.com पर. हम पड़ताल करेंगे और आप तक पहुंचाएंगे सच.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पड़ताल

पड़ताल: गुजरात में फिल्मी स्टाइल में हुई गिरफ़्तारी को दिल्ली दंगे से जोड़ता दावा भ्रामक

पड़ताल: गुजरात में फिल्मी स्टाइल में हुई गिरफ़्तारी को दिल्ली दंगे से जोड़ता दावा भ्रामक

इस गिरफ़्तारी को अंजाम देने वाले पुलिस अधिकारी ने 'दी लल्लनटॉप' को बताया पूरा सच!

पड़ताल: क्या नीरव मोदी की बैंक गारंटी देने वालों में राहुल गांधी का भी नाम है?

पड़ताल: क्या नीरव मोदी की बैंक गारंटी देने वालों में राहुल गांधी का भी नाम है?

सोशल मीडिया पर लंदन की कोर्ट के नाम पर वायरल है मेसेज.

पड़ताल: क्या BJP नेता नितिन गडकरी ने ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों पर खुशी जता दी?

पड़ताल: क्या BJP नेता नितिन गडकरी ने ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों पर खुशी जता दी?

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है वीडियो

पड़ताल: क्या राजस्थान में पाकिस्तान से आए हिंदू शरणार्थियों को नहीं मिल रही कोविड वैक्सीन?

पड़ताल: क्या राजस्थान में पाकिस्तान से आए हिंदू शरणार्थियों को नहीं मिल रही कोविड वैक्सीन?

दावा है कि रोहिंग्या और बांग्लादेश से आए लोगों को वैक्सीन मिली, पर हिंदू शरणार्थियों को नहीं.

पड़ताल: राशन कार्ड में दलाली का आरोप लगाती महिलाओं ने अमरोहा के BJP विधायक को पीट दिया?

पड़ताल: राशन कार्ड में दलाली का आरोप लगाती महिलाओं ने अमरोहा के BJP विधायक को पीट दिया?

सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीरों में नेता जी का कुर्ता फटा नज़र आ रहा है.

पड़ताल: कोरोना काल में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत मस्जिद में नमाज़ अदा करने पहुंच गए?

पड़ताल: कोरोना काल में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत मस्जिद में नमाज़ अदा करने पहुंच गए?

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है कांग्रेस नेता का ये वीडियो.

पड़ताल: क्या 'ऑपरेशन ब्लू स्टार' की बरसी पर बुर्ज खलीफा में भिंडरावाले की तस्वीर दिखाई गई?

पड़ताल: क्या 'ऑपरेशन ब्लू स्टार' की बरसी पर बुर्ज खलीफा में भिंडरावाले की तस्वीर दिखाई गई?

साल 1984 में स्वर्ण मंदिर परिसर सिख चरमपंथी नेता जरनैल सिंह भिंडरावाले के कंट्रोल में था.

केंद्रीय मंत्री सीतारामन और पीयूष गोयल ने कोविड वैक्सीन पर गलत जानकारी दी

केंद्रीय मंत्री सीतारामन और पीयूष गोयल ने कोविड वैक्सीन पर गलत जानकारी दी

नीति आयोग का भ्रामक दावा, "दुनियाभर में कहीं भी बच्चों को वैक्सीन नहीं लग रही."

क्या बुनियादी सुविधाओं की जगह मंदिर मांगने वाले की ऑक्सीजन की कमी से मौत हो गई?

क्या बुनियादी सुविधाओं की जगह मंदिर मांगने वाले की ऑक्सीजन की कमी से मौत हो गई?

वायरल वीडियो में शख़्स ने कहा था- "सड़क नहीं चाहिए, रोटी नहीं चाहिए, मंदिर चाहिए."

पड़ताल: इसराइल-फ़लस्तीन तनाव के बीच अल-अक्सा मस्जिद पर हमले की है ये तस्वीर?

पड़ताल: इसराइल-फ़लस्तीन तनाव के बीच अल-अक्सा मस्जिद पर हमले की है ये तस्वीर?

सोशल मीडिया पर दावा, इसराइल ने इस्लाम के तीसरे सबसे पवित्र स्थल को तोड़ दिया है.