Submit your post

Follow Us

पड़ताल: फिटकरी का पानी पीने से कोरोनावायरस नहीं मरेगा, उल्टा दिक्कत हो सकती है

दावा

सोशल मीडिया पर दैनिक भास्कर अख़बार की एक कटिंग वायरल है. कटिंग में छपी ख़बर की हेडिंग है-

“फिटकरी के पानी से स्वस्थ हो रहे कोरोना संक्रमित”

ख़बर के मुताबिक़ बिहार के बेतिया की योग शिक्षिका व्यंजना आनंद का दावा है कि फिटकरी का पानी पीने और उस पानी को नाक में डालने से गले में खराश और सांस संबंधी परेशानियां दूर हो जाएंगी. साथ ही वो लौंग और तुलसी के पत्ते का काढ़ा पीने के लिए भी कह रही हैं. दावा कर रही हैं कि इससे बुखार उतर जाएगा. ख़बर में कई लोग दावा कर रहे हैं कि वो कोरोना संक्रमित थे और फिटकरी का पानी पीने से वो ठीक हो गए.

लोग अख़बार की इस कटिंग को फेसबुक, ट्विटर और वॉट्सऐप पर खूब शेयर कर रहे हैं. (आर्काइव) (आर्काइव)

Chiranjan Prasad Fb
चितरंजन प्रसाद गुप्ता का फेसबुक पोस्ट.

 

Rajendra Shukla Tweet
ट्विटर यूजर राजेन्द्र शुक्ला का ट्वीट.

 

Whatsapp Forward
वायरल कटिंग वॉट्सऐप पर भी तेजी से फॉरवर्ड किया जा रहा है.

पड़ताल

‘दी लल्लनटॉप’ ने वायरल दावे की पड़ताल की. हमारी पड़ताल में फिटकरी के पानी से कोरोना संक्रमण ठीक होने का दावा गलत निकला. विशेषज्ञों ने बताया कि फिटकरी एंटी-वायरल जरूर है, लेकिन इससे कोरोना ठीक होने का दावा गलत है, ऐसा कोई शोध अब तक नहीं हुआ है.

हमने वायरल ख़बर में फिटकरी से कोरोना ठीक करने का दावा कर रहीं योग शिक्षका व्यंजना आनंद से बात की. उन्होंने ‘दी लल्लनटॉप’ को बताया-

“पहले मैंने इसे अपने घर में प्रयोग किया. हमें ज़ुकाम था और हमने फिटकरी का पानी पिया और उसे पानी को नाक में भी डाला. इससे 3-4 दिन में ही जुकाम ठीक हो गया. इससे शरीर के अंदर की सफाई हो जाती है और वायरस बाहर निकला जाता है. फिर हमने कई लोगों को ये उपाय बताया और इससे लोग ठीक होने लगें. इसके बाद मैंने सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों को इस बारे में बताना शुरू किया. कई लोगों ने इस उपाय से कोविड से ठीक होने की बात कही है.”

हालांकि जब ‘दी लल्लनटॉप’ ने जब उनसे पूछा कि क्या आपने अपना कोविड टेस्ट करवाया था. तब व्यंजना आनंद ने कहा नहीं उन्हें बस कोरोना के लक्षण थे उन्होंने टेस्ट नहीं करवाया था. यानी व्यंजना दावा तो कर रही हैं कोरोना ठीक होने का. लेकिन वो खुद कभी संक्रमित थीं भी या नहीं, ये उन्हें भी पुख़्ता नहीं है.

आयुर्वेद में फिटकरी के उपयोग को समझने के लिए हमने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में आयुर्वेद विभाग के कार्यवाहक डीन प्रोफेसर कमल नयन द्विवेदी से बात की. उन्होंने हमें बताया-

“फिटकरी में एंटी-वायरल तत्व होते हैं. ये वैज्ञानिक तौर पर प्रमाणित है. सरसों के तेल और कपूर में भी एंटी-वायरल तत्व होते हैं. लेकिन फिटकरी का पानी पीने से कोरोना ठीक होने का दावा उचित नहीं है. आयुर्वेद के अंदर अभी इस तरह की कोई रिसर्च अब तक नहीं हुई है. हालांकि कई वैक्सीन में फिटकरी का इस्तेमाल किया जाता है. कोरोना संक्रमित व्यक्ति को ठीक करने का कोई इलाज अब तक आयुर्वेद में नहीं है. बचाव के तौर पर इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के लिए हमलोग काढ़ा और कई तरह की दवाओं का प्रयोग करते हैं. लेकिन ये सिर्फ बचाव के उपाय हैं,कोरोना का उपचार नहीं है.”

क्या फिटकरी का पानी पीने से नुकसान हो सकता है?

इस सवाल का जवाब जानने के लिए हमने AIIMS दिल्ली में फार्माकोलॉजी डिपार्टमेंट के प्रोफेसर डॉ. डी.एस. आर्या से बात की. उन्होंने हमें बताया-

“कोई अगर अधिक मात्रा में फिटकरी का पानी पी ले तो उसे डायरिया और वॉमिटिंग जैसी परेशानियां हो सकती है. फिटकरी का एलोपैथी में कोई डायरेक्ट यूज नहीं है. कई वैक्सीन्स में इसका इस्तेमाल जरूर होता है. लेकिन इसका ये मतलब नहीं कि आप इसे सीधे लेना शुरू कर दें. कोरोना के लक्षण महसूस होने पर अपना टेस्ट करवाएं और कोविड के इलाज के लिए सरकारी गाइडलाइंस का ही पालन करें. मास्क पहनें, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और साफ सफाई का ध्यान रखें. इस तरह के अफवाहों पर ध्यान देकर हम अपना और दूसरों का भी नुकसान कर सकते हैं.”

भारत सरकार के आयुष मंत्रालय ने इम्यून सिस्टम मजबूत करने के लिए काली मिर्च और अदरक का प्रयोग करने का सुझाव दिया है. आयुष मंत्रालय ने इम्युनिटी बढ़ाने के कई और भी उपाय बताए हैं. इन घरेलू उपायों को देश के प्रसिद्ध वैद्यों की राय से तैयार किया गया है. इसमें साफ़ तौर पर लिखा है इन उपायों से आपकी इम्युनिटी बढ़ सकती है, लेकिन ये कोरोना के इलाज़ का दावा नहीं करती हैं. (आर्काइव लिंक)

नतीजा

हमारी पड़ताल में फिटकरी का पानी पीने से कोरोना ठीक होने का दावा गलत निकला. आयुर्वेद के विशेषज्ञ ने हमें बताया कि इस तरह की रिसर्च अब तक आयुर्वेद में नहीं हुई है. फिटकरी में एंटी वायरल तत्त्व हैं लेकिन इससे कोरोना ठीक होने का दावा गलत है. AIIMS के विशेषज्ञ डॉक्टर के मुताबिक अधिक मात्रा में अगर फिटकरी का पानी पी लेते हैं तो इससे नुकसान हो सकता है. इस तरह के अफ़वाहों पर भरोसा करना ख़तरनाक हो सकता है.

पड़ताल अब वॉट्सऐप पर. वॉट्सऐप हेल्पलाइन से जुड़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.
ट्विटर और फेसबुक पर फॉलो करने के लिए ट्विटर लिंक और फेसबुक लिंक पर क्लिक करें.


उत्तराखंड के जंगलों में आग भड़कने के बाद एक जलती चिड़िया की वायरल तस्वीर का सच क्या है?

पड़ताल: फिटकरी का पानी पीने से कोरोनावायरस नहीं मरेगा, उल्टा दिक्कत हो सकती है
  • दावा

    फिटकरी का पानी पीने से कोरोना संक्रमित स्वस्थ हो जाते हैं.

  • नतीजा

    डॉक्टर्स ने बताया, 'फिटकरी का पानी पीने से कोरोना संक्रमण ठीक नहीं होता है. कोविड के लक्षण महसूस होने पर टेस्ट करवाएं और सरकारी गाइडलाइंस का पालन करें.'

अगर आपको भी किसी जानकारी पर संदेह है तो हमें भेजिए, padtaalmail@gmail.com पर. हम पड़ताल करेंगे और आप तक पहुंचाएंगे सच.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पड़ताल

केंद्रीय मंत्री सीतारामन और पीयूष गोयल ने कोविड वैक्सीन पर गलत जानकारी दी

केंद्रीय मंत्री सीतारामन और पीयूष गोयल ने कोविड वैक्सीन पर गलत जानकारी दी

नीति आयोग का भ्रामक दावा, "दुनियाभर में कहीं भी बच्चों को वैक्सीन नहीं लग रही."

क्या बुनियादी सुविधाओं की जगह मंदिर मांगने वाले की ऑक्सीजन की कमी से मौत हो गई?

क्या बुनियादी सुविधाओं की जगह मंदिर मांगने वाले की ऑक्सीजन की कमी से मौत हो गई?

वायरल वीडियो में शख़्स ने कहा था- "सड़क नहीं चाहिए, रोटी नहीं चाहिए, मंदिर चाहिए."

पड़ताल: इसराइल-फ़लस्तीन तनाव के बीच अल-अक्सा मस्जिद पर हमले की है ये तस्वीर?

पड़ताल: इसराइल-फ़लस्तीन तनाव के बीच अल-अक्सा मस्जिद पर हमले की है ये तस्वीर?

सोशल मीडिया पर दावा, इसराइल ने इस्लाम के तीसरे सबसे पवित्र स्थल को तोड़ दिया है.

पड़ताल: नाक में नींबू का रस डालने से कोरोना वायरस ठीक नहीं होता, वायरल वीडियो भ्रामक है

पड़ताल: नाक में नींबू का रस डालने से कोरोना वायरस ठीक नहीं होता, वायरल वीडियो भ्रामक है

स्वास्थ्य मंत्रालय और AIIMS, दिल्ली के डॉक्टर ने इस बारे में जो बताया, यहां पढ़िए!

पड़ताल: होम्योपैथिक दवा ASPIDOSPERMA-Q से ऑक्सीजन लेवल नहीं बढ़ेगा, दावा भ्रामक है

पड़ताल: होम्योपैथिक दवा ASPIDOSPERMA-Q से ऑक्सीजन लेवल नहीं बढ़ेगा, दावा भ्रामक है

इससे पहले आर्सेनिक एल्बम नाम की होम्योपैथिक दवा को भी इलाज बताया गया था.

पड़ताल: इस पर्चे में वैक्सीन के बारे में लिखे दावे भ्रामक हैं, पढ़िए पूरी सच्चाई

पड़ताल: इस पर्चे में वैक्सीन के बारे में लिखे दावे भ्रामक हैं, पढ़िए पूरी सच्चाई

कोरोना को षड्यंत्र मानने और मास्क जलाने की बातें करने वालों ने ये पर्चा जारी किया है.

पड़ताल: क्या राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने इस

पड़ताल: क्या राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने इस "मंदिर को दरगाह बनाने की कोशिश की?"

सोशल मीडिया पर वायरल हनुमानगढ़ के 'शिला पीर' की सच्चाई क्या है?

पड़ताल: हिंदू ने तोड़ी मंदिर की मूर्तियां, सुदर्शन टीवी और सुरेश चव्हाणके ने मुस्लिमों को निशाना बनाया

पड़ताल: हिंदू ने तोड़ी मंदिर की मूर्तियां, सुदर्शन टीवी और सुरेश चव्हाणके ने मुस्लिमों को निशाना बनाया

नवरात्रे शुरू होने से पहले द्वारका, दिल्ली के ककरौला में मूर्तियां खंडित मिली थीं.

पड़ताल: पुलिसवाले ने गुस्से में दो लोगों को सरेराह गोली मार दी? जानिए इस वीडियो का सच

पड़ताल: पुलिसवाले ने गुस्से में दो लोगों को सरेराह गोली मार दी? जानिए इस वीडियो का सच

वीडियो में गोली चालते शख़्स ने हमें खुद बताई सच्चाई.

पड़ताल: क्या किसी चीज़ को छूने पर करंट 5G रेडिएशन की वजह से लग रहा है?

पड़ताल: क्या किसी चीज़ को छूने पर करंट 5G रेडिएशन की वजह से लग रहा है?

किसी चीज़ या शख़्स को छूने पर करंट लगने के मामलों में बढ़ोतरी की बातें सोशल मीडिया यूज़र्स लिख रहे हैं.