Submit your post

Follow Us

पड़ताल: लॉकडाउन की हिदायतों के उलट इकट्ठे नमाज़ पढ़ने के लिए उकसाता ये शख़्स कहां का है?

दावा

वॉट्सऐप पर एक वीडियो दिखाकर दावा किया जा रहा है कि भारत में लॉकडाउन के बावजूद मुस्लिम नेता मस्जिद जाने की बात कह रहे हैं. हम दावे में बिना फेरबदल ज्यों का त्यों लिख रहे हैं.

पूरे देश में इस समय भीषण महामारी फैली हुई है पर ये मुल्ले लाँकडाउन का विरोध करके मस्जिद🕋 में जबरन एक समुह में नमाज पढ़ने की बात कर रहे हैं👆👆👆

वायरल दावा और वीडियो का स्क्रीनग्रैब.
वायरल दावा और वीडियो का स्क्रीनग्रैब.

वॉट्सऐप के अलावा ये दावा फेसबुक और ट्विटर पर भी खूब शेयर हो रहा है, लेकिन अलग कैप्शन के साथ(आर्काइव लिंक)

क्या है वीडियो में?

वीडियो में एक शख़्स उर्दू में लोगों को संबोधित करता है,

कोरोना से लड़ने के लिए किए जा रहे उपाय शरियत के मुताबिक हैं, लेकिन अगर कोई कहे कि मस्जिद को वीरान करना पड़ेगा, तो ये हमें मंजूर नहीं है. हमने जेल देखी है, दफा 144 देखी है, हमने फौज को भी देखा है और हुकूमत को भी. कोई ये न कहे कि मस्जिद को खाली किया जाए. अगर वो ऐसा करते हैं, तो हम ये समझने के लिए मजबूर हो जाएंगे कि अमरीका के इशारे पर ये हो रहा है. हम अपनी जान देने के लिए तैयार हैं, लेकिन मस्जिद को वीरान करने के लिए तैयार नहीं हैं.

लल्लनटॉप पाठकों ने 1 मिनट 35 के इस वीडियो को मेल करके इसके बारे में सच्चाई जाननी चाही है.

पड़ताल

‘द लल्लनटॉप’ की पड़ताल में ये वायरल दावा झूठ निकला. ये वीडियो भारत का नहीं, पाकिस्तान के मनशेरा का है.

वायरल दावे की पड़ताल के लिए हमने कुछ कीवर्ड सर्च किए. वीडियो में शख़्स ने कहा था कि अगर मस्जिद खाली करने की बात होती है तो इसका मतलब होगा कि ये अमेरिका के इशारे पर हो रहा है. हमने इसी कीवर्ड के साथ सर्च किया तो हम असल ख़बर तक पहुंच गए.

we are ready to give our lives but not ready to desert the mosques

न्यूज़ एजेंसी रॉयटर्सकी रिपोर्ट में इस लाइन का ज़िक्र था. इसमें लोगों को संबोधित करने वाले शख़्स का नाम मुफ़्ती कफ़ायतुल्लाह बताया गया था.

हमने मुफ़्ती कफ़ायतुल्लाह के बारे में सर्च किया तो इस घटना के बारे में जनाकारी मिल गई.

What’s Hot in Pakistan नाम के चैनल पर ये वीडियो 11 अप्रैल 2020 को पब्लिश हुआ था.

24 न्यूज़ एचडी की रिपोर्ट के मुताबिक, मुफ़्ती कफ़ायतुल्लाह को 14 अप्रैल 2020 को मनशेरा के DSP ने गिरफ्तार किया था.
इसके अलावा एक ट्वीट भी हमें मिला जिसमें दावा किया गया है कि मुफ़्ती कफ़ायतुल्लाह को इसी वीडियो के लिए अरेस्ट किया गया है.

ताज़ा मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुफ़्ती कफ़ायतुल्लाह को जनता को प्रशासन के खिलाफ भड़काने के आरोप में 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. मुफ़्ती कफ़ायतुल्लाह जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम (फज़्ल) के नेता हैं. वो इसी पार्टी की ओर से मनशेरा जिले के अध्यक्ष भी रह चुके हैं.

ये पहली बार नहीं है कि भारतीय मुस्लिमों के बारे में ऐसी ग़लत या भ्रामक जानकारियां फैलाई गई हों. लल्लनटॉप पहले भी ऐसे झूठे दावों की पड़ताल कर चुका है.

पड़ताल: आंध्र प्रदेश के मंदिर में मुस्लिमों के चप्पल पहनकर घुसने के दावे का सच क्या है?

पड़ताल: कांच फोड़ते नंगे आदमी को तबलीगी जमात से जोड़ता दावा बिल्कुल झूठ है

पड़ताल: बिजनौर के मदरसे से बरामद हथियारों के नाम पर वायरल तस्वीरों का सच क्या है?

नतीजा

हमारी पड़ताल में वायरल वीडियो भ्रामक निकला जिसमें दावा किया जा रहा है कि एक शख़्स लोगों को मस्जिद में समूह बनाकर नमाज़ पढ़ने को कह रहा है. ये वीडियो भारत का नहीं है. पाकिस्तान के मनशेरा का है. वीडियो में बोल रहे शख़्स का नाम मुफ़्ती कफ़ायतुल्लाह है, जिसे पुलिस ने गिरफ्तार करके 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है.

अगर आपको भी किसी ख़बर पर शक है
तो हमें मेल करें- padtaalmail@gmail.com पर.
हम दावे की पड़ताल करेंगे और आप तक सच पहुंचाएंगे.

कोरोना वायरस से जुड़ी हर बड़ी वायरल जानकारी की पड़ताल हम कर रहे हैं.
इस लिंक पर क्लिक करके जानिए वायरल दावों की सच्चाई.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पड़ताल

पड़ताल: मोहन भागवत के साथ असदुद्दीन ओवैसी की फोटो वायरल. जानिए सच

पड़ताल: मोहन भागवत के साथ असदुद्दीन ओवैसी की फोटो वायरल. जानिए सच

वायरल तस्वीर में RSS प्रमुख मोहन भागवत के साथ AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी सोफे पर बैठे नज़र आ रहे हैं

पड़ताल: जयंत चौधरी के 'जाटों का ठेका नहीं लिया' वाले बयान से छेड़छाड़ कर BJP ने भ्रम फैलाया

पड़ताल: जयंत चौधरी के 'जाटों का ठेका नहीं लिया' वाले बयान से छेड़छाड़ कर BJP ने भ्रम फैलाया

सोशल मीडिया यूज़र्स वायरल वीडियो को शेयर कर जयंत चौधरी पर कटाक्ष कर रहे हैं.

पड़ताल: PM मोदी ने नहीं बनवाई ओवैसी के गढ़ में सबसे बड़ी हिन्दू मूर्ति, सच्चाई जानिए

पड़ताल: PM मोदी ने नहीं बनवाई ओवैसी के गढ़ में सबसे बड़ी हिन्दू मूर्ति, सच्चाई जानिए

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि ओवैसी के घर के बगल में पीएम मोदी ने हिंदू संत की दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति बनवा दी है.

पड़ताल: क्या केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि मोदी के रहते नहीं हो सकता किसानों का हित? जानिए सच

पड़ताल: क्या केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि मोदी के रहते नहीं हो सकता किसानों का हित? जानिए सच

यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या के वायरल वीडियो का सच ये है.

पड़ताल: योगी आदित्यनाथ कार में भजन सुनते नज़र आ रहे हैं? जानिए सच

पड़ताल: योगी आदित्यनाथ कार में भजन सुनते नज़र आ रहे हैं? जानिए सच

सोशल मीडिया पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कार में भजन सुनने का दावा वायरल हो रहा है.

पड़ताल: स्वामी विवेकानंद को 1857 क्रांति से जोड़ PIB ने इतिहास बदला, बाद में गलती मानी

पड़ताल: स्वामी विवेकानंद को 1857 क्रांति से जोड़ PIB ने इतिहास बदला, बाद में गलती मानी

PIB इंडिया ने रमण महर्षि को भी 1857 के स्वतंत्रता आंदोलन से जोड़कर दिखाया.

पड़ताल: मोदी की कैबिनेट बैठक में सिखों को सेना से हटाने पर हुई चर्चा? जानिए सच

पड़ताल: मोदी की कैबिनेट बैठक में सिखों को सेना से हटाने पर हुई चर्चा? जानिए सच

सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री मोदी की केंद्रीय मंत्रियों के साथ चल रही बैठक का वीडियो वायरल हो रहा है. दावा है कि कैबिनेट बैठक में आर्मी से सिखों को निकालने की बात पर चर्चा हुई.

पड़ताल: शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान के एयरपोर्ट पर पेशाब करने का दावा वायरल. जानिए सच.

पड़ताल: शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान के एयरपोर्ट पर पेशाब करने का दावा वायरल. जानिए सच.

सोशल मीडिया पर बॉलीवुड एक्टर शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान के एयरपोर्ट पर पेशाब करने का दावा वायरल हो रहा है.

पड़ताल: लड़की के स्कूल बंक कर लड़के के साथ होटल जाने का वीडियो वायरल. जानिए सच

पड़ताल: लड़की के स्कूल बंक कर लड़के के साथ होटल जाने का वीडियो वायरल. जानिए सच

दावा है कि होटल में पकड़ी गई लड़की घर से तो स्कूल जाने के लिए निकलती थी लेकिन बाहर जाते ही वो अपने प्रेमी के साथ होटल चली जाती थी.

पड़ताल: यूपी विधानसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान का दावा वायरल. जानिए सच

पड़ताल: यूपी विधानसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान का दावा वायरल. जानिए सच

सोशल मीडिया पर दावा है कि 2022 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 7 चरणों में होंगे, जिसकी तारीखें 4 फरवरी, 8, 11, 15, 19, 23 और 28 फरवरी बताई जा रहीं हैं.