Submit your post

Follow Us

पड़ताल: क्या इस एयरपोर्ट पर खांसते, गिरते-पड़ते लोग इटली के कोरोना पेशेंट हैं?

दावा

सोशल मीडिया पर एयरपोर्ट का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें लोग छींकते-खांसते दिख रहे हैं. वीडियो शेयर करते वक्त दावा किया जा रहा है कि ये सब कोरोना वायरस से पीड़ित हैं और इटली से हैं. इसके बाद सावधानी बरतने की अपील भी की जाती है (आर्काइव लिंक).

#Corona का मज़ाक़ उड़ाने से फ़ुर्सत मिल गयी हो तो #इटली से आए इस विडीयो को देख ले ओर अंदाज़ा लगा ले की स्थिति कितनी गंभीर हे….कृपया सावधानी बरते 🙏🏻

*Corona* का मज़ाक़ उड़ाने से फ़ुर्सत मिल गयी हो तो *इटली* से आए इस विडीयो को देख ले ओर अंदाज़ा लगा ले की स्थिति कितनी गंभीर हे.. कृपया सावधानी बरते 🙏🏻

Posted by Sonu Dhiman on Saturday, 21 March 2020

यह दावा अंग्रेजी में भी वायरल है. लिखा जा रहा है( आर्काइव लिंक),

Breaking sad news

Flight coming from Italy to Ethiopia all tested positive @corona virus

Posted by SAM wa BOBI on Sunday, 22 March 2020

इटली से इथोपिया आई फ्लाइट में हर कोई कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया है. इटली को देखिए. इसीलिए हमें आने वाले 15 दिनों को गंभीरता से लेना होगा.

पड़ताल

हमने इस वीडियो की पड़ताल की. “दी लल्लनटॉप” की पड़ताल में यह दावा झूठ निकला. यह वीडियो इटली का नहीं है. और न ही इस वीडियो में दिख रहा कोई शख्स कोरोना वायरस से संक्रमित है. यह वीडियो सेनेगल देश का है.

वायरल दावे में कहा जा रहा है कि तस्वीर में दिख रहे लोग कोरोना वायरस से पीड़ित हैं.
वायरल दावे में कहा जा रहा है कि तस्वीर में दिख रहे लोग कोरोना वायरस से पीड़ित हैं.

वायरल हो रहे वीडियो के एक किनारे पर इसे बनाने वाली कंपनी का लोगो लगा है. जब हमने इस लोगो को मैग्नीफाई करके देखा तो यह वेबसाइट थी ‘Dakaractu’. यह सेनेगल देश में फ्रेंच भाषा में काम कर रही न्यूज़ वेबसाइट है.
हमने यूट्यूब पर ‘Dakaractu’ और एयरपोर्ट नाम से कुछ कीवर्ड सर्च किए तो हमें असली वीडियो भी मिल गया.

असली वीडियो 4 मिनट 33 सेकंड लंबा है. जिसके शुरुआती हिस्से को वायरल किया जा रहा है. यूट्यूब पर यह वीडियो 28 नवंबर, 2019 को पोस्ट किया गया था. यह एक रेस्क्यू ड्रिल का वीडियो था जो ब्लाएस डियाने इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर की गई थी. बैकग्राउंड में सेनेगल एयरलाइंस के एक प्लेन भी खड़ा दिख रहा है. यूट्यूब वीडियो डिस्क्रिप्शन में एयलाइंस को अपना विमान रेस्क्यू ड्रिल में देने के लिए धन्यवाद भी देने की बात भी लिखी हुई है.
‘Dakaractu’की वेबसाइट पर भी हमें यह वीडियो मिला है.

सेनेगल में कोरोना वायरस (Covid-19) का पहला केस 2 मार्च 2020 को मिला था. यानी इस रेस्क्यू ड्रिल का वीडियो अपलोड होने के करीब 3 महीने बाद.

नतीजा

कुल मिलाकर हमारी पड़ताल में नतीजा निकला कि एयरपोर्ट पर खांसते और गिरते-पड़ते दिख रहे लोगों का वायरल वीडियो इटली का नहीं है. ये सेनेगल देश के एक एयरपोर्ट पर 28 नवंबर 2019 को हुई रेस्क्यू ड्रिल का वीडियो है. इस वीडियो में दिख रहा कोई भी शख्स कोरोना वायरस से पीड़ित नहीं था.

अगर आपको भी किसी ख़बर पर शक है तो हमें मेल करें- padtaalmail@gmail.com पर. हम दावे की पड़ताल करेंगे और आप तक सच पहुंचाएंगे. 

पड़ताल: क्या इस एयरपोर्ट पर खांसते, गिरते-पड़ते लोग इटली के कोरोना पेशेंट हैं?
  • दावा

    वीडियो इटली का है और इसमें दिख रहे लोग कोरोना के मरीज़ हैं.

  • नतीजा

    एयरपोर्ट पर खांसते और गिरते-पड़ते दिख रहे लोगों का वायरल वीडियो इटली का नहीं है. ये सेनेगल देश के एक एयरपोर्ट पर 28 नवंबर 2019 को हुई रेस्क्यू ड्रिल का वीडियो है. इस वीडियो में दिख रहा कोई भी शख्स कोरोना वायरस से पीड़ित नहीं था.

अगर आपको भी किसी जानकारी पर संदेह है तो हमें भेजिए, padtaalmail@gmail.com पर. हम पड़ताल करेंगे और आप तक पहुंचाएंगे सच.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें