Submit your post

Follow Us

केंद्रीय मंत्री सीतारामन और पीयूष गोयल ने कोविड वैक्सीन पर गलत जानकारी दी

दावा

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारामन ने एक ट्वीट में दावा किया,

“दुनिया का कोई भी देश बच्चों को वैक्सीन (कोविड) नहीं लगा रहा है. बच्चों को वैक्सीन लगाने पर WHO का कोई सुझाव नहीं है. भारत में बच्चों पर जल्द ही ट्रायल शुरू होंगे. ट्रायल आधारित डेटा उपलब्ध होने के बाद वैज्ञानिकों को फैसला लेना है” (आर्काइव)

सीतारामन के ट्वीट में इन दावों के साथ सरकारी सूचनाओं की नोडल एजेंसी ‘प्रेस इंफोर्मेशन ब्यूरो(PIB)’ का एक लिंक चस्पा है. ये एक प्रेस रिलीज़ का लिंक है जिसकी जानकारियां नीति आयोग की ओर से तैयार की गई हैं.

नीति आयोग के मुताबिक, आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वी. के. पॉल ने इस प्रेस रिलीज़ के ज़रिए भारत में चल रही कोविड टीकाकरण प्रक्रिया के बारे में जानकारी दी है. यानी, जो बातें निर्मला सीतारामन ने लिखी हैं, उसका मूल स्रोत नीति आयोग और सदस्य डॉ. पॉल हैं.

नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार का ये ट्वीट देखिए-

“मिथक और सत्य” बताते फॉर्मेट में उपलब्ध इस प्रेस रिलीज़ के सातवें पॉइंट में लिखा है-

“मिथक 7: केंद्र बच्चों के टीकाकरण के लिए कोई कदम नहीं उठा रहा है

तथ्य: अभी तक दुनिया का कोई भी देश बच्चों को वैक्सीन नहीं दे रहा है। साथ ही, डब्ल्यूएचओ ने बच्चों का टीकाकरण करने की कोई सिफारिश नहीं की है। बच्चों में टीकों की सुरक्षा के बारे में अध्ययन किए गए हैं, और यह उत्साहजनक रहे हैं। भारत में भी जल्द ही बच्चों पर ट्रायल शुरू होने जा रहा है। हालांकि, बच्चों का टीकाकरण व्हाट्सएप ग्रुपों में फैलाई जा रही दहशत के आधार पर तय नहीं किया जाना चाहिए और क्योंकि कुछ राजनेता इस पर राजनीति करना चाहते हैं। परीक्षणों के आधार पर पर्याप्त डेटा उपलब्ध होने के बाद ही हमारे वैज्ञानिकों द्वारा यह निर्णय लिया जाना है।”

सीतारामन के साथ-साथ यही जानकारी केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने साझा की है.

ऑल इंडिया रेडियो और सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की ओर से चलाए जा रहे कोविड ट्विटर हैंडल से भी इसे शेयर किया गया है.

पड़ताल

पड़ताल करने पर हमने पाया, केंद्रीय मंत्रियों- निर्मला सीतारामन, पीयूष गोयल समेत नीति आयोग का ये दावा ग़लत है. दुनिया में 12-15 साल की उम्र के बच्चों को कोविड वैक्सीन लग रही है या फिर लगाने पर मंजूरी दे दी गई है.

कुछ कीवर्ड्स की मदद से हमने खोजा तो इंटरनेट पर कई मीडिया रिपोर्ट्स मिल गईं.

दुनिया में कम से कम- अमेरिका, कानाडा, सिंगापुर और संयुक्त अरब अमीरात(UAE) में 12-15 साल के बच्चों के लिए वैक्सीन उपलब्ध है.

अमेरिका के ‘फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन(FDA)’ ने 10 मई 2021 को 12 से 15 साल के बच्चों को फाइज़र-बायो’न’टेक वैक्सीन (फाइज़र वैक्सीन) देने के लिए मंज़ूरी दे दी थी.

अमेरिका में बीमारियों की रोकथाम के लिए जिम्मेदार संस्था CDC (Centers for Disease Control and Prevention) ने भी फाइज़र-बायो’न’टेक वैक्सीन को 12 से ज़्यादा उम्र के बच्चों के लिए सुरक्षित बताया है.

CDC ने अपनी वेबसाइट पर 12-15 साल के बच्चों को वैक्सीन लगवाने संबंधी दिशा-निर्देश और आम भ्रांतियों के जवाब दिए हैं.

अमेरिका में बच्चों को कोविड वैक्सीन दी जा रही है. रॉयटर्स में 18 मई 2021 को छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक,

अमेरिका ने बीते एक हफ़्ते(18 मई से पहले) में 12 से 15 साल की उम्र के क़रीब 6 लाख बच्चों को वैक्सीन दी है. CDC से मिली जानकारी के मुताबिक, 17 साल तक के क़रीब 40 लाख बच्चों को अमेरिका में अबतक कोविड वैक्सीन लग चुकी है.

अमेरिका में 12-15 साल के बच्चों को लगी वैक्सीन के आंकड़े.
अमेरिका में 12-15 साल के बच्चों को लगी वैक्सीन के आंकड़े.

कनाडा में भी वैक्सीन लग रही है. वहां अमेरिका से भी पहले, 5 मई 2021 को 12 से 15 साल के बच्चों को फाइज़र वैक्सीन लगाने की मंज़ूरी दे दी गई थी. कनाडा के संघीय स्वास्थ्य मंत्रालय में वरिष्ठ सलाहाकार सुप्रिया शर्मा ने फाइज़र वैक्सीन को बच्चों (12-15 साल) के लिए सुरक्षित बताया था.

अमेरिका और कनाडा के अलावा, UAE में भी बच्चों को कोविड वैक्सीन देने के लिए स्लॉट बुक किए जा रहे हैं. ख़लीज टाइम्स पर 23 मई को छपी जानकारी के मुताबिक,

दुबई में फाइज़र-बायो’न’टेक वैक्सीन को 12-15 साल के बच्चों के लिए खोल दिया गया है.

सिंगापुर ने भी मामले बढ़ते देख 18 मई 2021 को 12 से 15 साल तक के बच्चों को फाइज़र वैक्सीन लगाने की मज़ूरी दे दी थी.

सिंगापुर की हेल्थ साइंस अथॉरिटी का वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी का स्क्रीनशॉट.
सिंगापुर की हेल्थ साइंस अथॉरिटी का वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी का स्क्रीनशॉट.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की ओर से 12 से 15 साल बच्चों को वैक्सीन देने का कोई सुझाव हमें नहीं मिला. ये रिपोर्ट लिखे जाने तक WHO, 16 से ज़्यादा उम्र के इंसानों को ही वैक्सीन लगाने की सलाह दे रहा है.

हालांकि, कई देश WHO की सिफारिशों का इंतज़ार किए बिना अपनी आबादी को कोविड वैक्सीन लगा रहे हैं.

नतीजा

इंटरनेट पर उपलब्ध तमाम सरकारी और मीडिया रिपोर्ट्स मुताबिक, अमेरिका, कनाडा, UAE और सिंगापुर में 12 साल से ज़्यादा के बच्चों को कोविड वैक्सीन दी जा रही है या मंज़ूरी दी जा चुकी है. भारत सरकार के मंत्रियों निर्मला सीतारामन, पीयूष गोयल  और नीति आयोग का दुनिया में कहीं भी बच्चों को कोविड वैक्सीन ना देने का दावा ग़लत है.

पड़ताल की वॉट्सऐप हेल्पलाइन से जुड़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.
ट्विटर और फेसबुक पर फॉलो करने के लिए ट्विटर लिंक और फेसबुक लिंक पर क्लिक करें.


वीडियो- क्या बुनियादी सुविधाओं की जगह मंदिर मांगने वाले की ऑक्सीजन की कमी से मौत हो गई?

केंद्रीय मंत्री सीतारामन और पीयूष गोयल ने कोविड वैक्सीन पर गलत जानकारी दी
  • दावा

    दुनिया के किसी देश में बच्चों को वैक्सीन नहीं दी जा रही.

  • नतीजा

    दुनिया के कई देशों जैसे- अमेरिका, कनाडा, सिंगापुर और UAE में 12 से 15 साल के बच्चों को वैक्सीन दी जा रही है.

अगर आपको भी किसी जानकारी पर संदेह है तो हमें भेजिए, padtaalmail@gmail.com पर. हम पड़ताल करेंगे और आप तक पहुंचाएंगे सच.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पड़ताल

क्या बुनियादी सुविधाओं की जगह मंदिर मांगने वाले की ऑक्सीजन की कमी से मौत हो गई?

वायरल वीडियो में शख़्स ने कहा था- "सड़क नहीं चाहिए, रोटी नहीं चाहिए, मंदिर चाहिए."

पड़ताल: इसराइल-फ़लस्तीन तनाव के बीच अल-अक्सा मस्जिद पर हमले की है ये तस्वीर?

सोशल मीडिया पर दावा, इसराइल ने इस्लाम के तीसरे सबसे पवित्र स्थल को तोड़ दिया है.

पड़ताल: नाक में नींबू का रस डालने से कोरोना वायरस ठीक नहीं होता, वायरल वीडियो भ्रामक है

स्वास्थ्य मंत्रालय और AIIMS, दिल्ली के डॉक्टर ने इस बारे में जो बताया, यहां पढ़िए!

पड़ताल: फिटकरी का पानी पीने से कोरोनावायरस नहीं मरेगा, उल्टा दिक्कत हो सकती है

अख़बार की कटिंग वायरल कर दावा, 'बिहार के कई लोग इससे ठीक हुए.'

पड़ताल: होम्योपैथिक दवा ASPIDOSPERMA-Q से ऑक्सीजन लेवल नहीं बढ़ेगा, दावा भ्रामक है

इससे पहले आर्सेनिक एल्बम नाम की होम्योपैथिक दवा को भी इलाज बताया गया था.

पड़ताल: इस पर्चे में वैक्सीन के बारे में लिखे दावे भ्रामक हैं, पढ़िए पूरी सच्चाई

कोरोना को षड्यंत्र मानने और मास्क जलाने की बातें करने वालों ने ये पर्चा जारी किया है.

पड़ताल: क्या राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने इस "मंदिर को दरगाह बनाने की कोशिश की?"

सोशल मीडिया पर वायरल हनुमानगढ़ के 'शिला पीर' की सच्चाई क्या है?

पड़ताल: हिंदू ने तोड़ी मंदिर की मूर्तियां, सुदर्शन टीवी और सुरेश चव्हाणके ने मुस्लिमों को निशाना बनाया

नवरात्रे शुरू होने से पहले द्वारका, दिल्ली के ककरौला में मूर्तियां खंडित मिली थीं.

पड़ताल: पुलिसवाले ने गुस्से में दो लोगों को सरेराह गोली मार दी? जानिए इस वीडियो का सच

वीडियो में गोली चालते शख़्स ने हमें खुद बताई सच्चाई.

पड़ताल: क्या किसी चीज़ को छूने पर करंट 5G रेडिएशन की वजह से लग रहा है?

किसी चीज़ या शख़्स को छूने पर करंट लगने के मामलों में बढ़ोतरी की बातें सोशल मीडिया यूज़र्स लिख रहे हैं.