Submit your post

Follow Us

पड़ताल: क्या राजस्थान में पाकिस्तान से आए हिंदू शरणार्थियों को नहीं मिल रही कोविड वैक्सीन?

दावा

सोशल मीडिया पर कोरोना वैक्सीन को रोहिंग्याओं और हिंदू शरणार्थियों से जोड़ता एक मेसेज वायरल हो रहा है. वायरल मेसेज में लिखा है-

“रोहिंग्याओं और बांग्लादेशी घुसपैठियों को कोरोना की वैक्सीन लगाई जा रही है. उनके लिए हैदराबाद में फुटबॉल क्लब खोले जा रहे हैं. वहां की सरकार उनके रहने के लिए घर तक बना कर दे रही है. वहीं दूसरी तरफ़ राजस्थान में आधार कार्ड के बिना पाकिस्तानी हिंदू शरणार्थी कोरोना टीका लेने से वंचित, अब तक कोरोना से 15 की मौत हो चुकी है.”

वायरल मेसेज वॉट्सऐप पर तेजी से फॉरवर्ड किया जा रहा है.

Whatsapp Forward
वॉट्सऐप पर फॉरवर्ड किया जा रहा वायरल मेसेज.

फेसबुक यूज़र Vinamr Sharma ने वायरल मेसेज I support Narendra Modi, Yogi Ji & RSS नाम के ग्रुप में पोस्ट किया है.

Vinamra Sharma Post
फेसबुक यूजर विनम्र शर्मा का पोस्ट.

(आर्काइव)

पड़ताल

‘दी लल्लनटॉप’ ने वायरल मेसेज की पड़ताल की. पड़ताल में वायरल मेसेज में किया जा रहा दावा भ्रामक निकला. राजस्थान में पाक हिंदू शरणार्थियों को भी वैक्सीन दी जा रही है. राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश के बाद बिना डॉक्युमेंट्स वाले सभी ‘गैर-नागरिकों’ को केंद्र सरकार के नियमानुसार वैक्सीन मिल रही है.

कीवर्ड्स की मदद से सर्च करने पर हमें ‘इंडियन एक्सप्रेस‘ अख़बार की 4 जून 2021 की एक रिपोर्ट मिली. रिपोर्ट के मुताबिक़,

राजस्थान हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से पूछा कि पाक विस्थापित हिंदू शरणार्थियों को वैक्सीन क्यों नहीं दी जा रही? जबकि कोर्ट ने अपने 28 मई को जारी आदेश में विस्थापित हिंदुओं को केंद्र सरकार द्वारा 6 मई को जारी गाइडलाइंस के आधार पर वैक्सीन देने की बात कही थी. केंद्र सरकार ने 6 मई को बिना डॉक्यूमेंट्स वाले लोगों को वैक्सीन देने के लिए गाइडलाइंस जारी की थी.

नीचे अटैच वैक्सीन SoP के पॉइंट नंबर 5 में  वैध दस्तावेज ना रखने वालों को वैक्सीन लगाने के बारे में बताया गया है.

(आर्काइव)

हमें ‘आउटलुक‘ मैगजीन की 5 जून 2021की एक रिपोर्ट मिली. रिपोर्ट में बताया गया कि जयपुर में रह रहे करीब 250 रोहिंग्याओं को भी जरूरी डॉक्यूमेंट्स नहीं होने के कारण वैक्सीन नहीं मिली है.

Outlook Report
आउटलुक मैगजीन की 5 जून 2021 की रिपोर्ट.

(आर्काइव)

इस बारे में अधिक जानकारी के लिए हमने राजस्थान सरकार के स्वास्थ्य सचिव सिद्धार्थ महाजन से बात की. उन्होंने ‘दी लल्लनटॉप’ को बताया-

“केंद्र सरकार ने 6 मई 2021 को बिना डॉक्यूमेंट्स वाले लोगों को वैक्सीन देने के लिए जो गाइडलाइंस जारी की थीं, उसमें स्पष्ट तौर पर बिना डॉक्यूमेंट्स वाले ‘गैर-नागरिकों’ के लिए कोई निर्देश नहीं था. इसलिए हमने किसी भी ऐसे व्यक्ति को वैक्सीन नहीं दी जो भारत का नागरिक नहीं है. 28 मई को हाईकोर्ट के ऑर्डर के बाद भी हमने केंद्र सरकार को चिट्ठी लिखकर गाइडलाइंस में पाकिस्तानी शरणार्थियों को जोड़ने की बात कही थी. हालांकि कोर्ट के ऑर्डर के बाद केंद्र सरकार की गाइडलाइंस के मुताबिक़, हमने बिना डॉक्यूमेंट्स वाले ‘गैर-नागरिकों’ को भी वैक्सीन देने की प्रक्रिया शुरू कर दी है.”

सिद्धार्थ महाजन ने हमें ये भी बताया कि 7 जून 2021 तक जोधपुर में 666 पाक विस्थापित लोगों को कोविड वैक्सीन दी जा चुकी है. जैसलमेर में 22 ऐसे लोगों को वैक्सीन मिल चुकी है और ये काम लगातार जारी है. उन्होंने कहा कि हम साधु-संतों, जैन मुनियों, शेल्टर होम्स में रहने वाले लोगों और कैदियों को भी वैक्सीन दे रहे हैं. इनमें से ज्यादातर के पास कोई पहचान पत्र नहीं है.

क्या हैदराबाद में रोहिंग्याओं के लिए फुटबॉल क्लब खुला है?

तेलंगाना टुडे‘ की 20 जून 2018 की रिपोर्ट के मुताबिक़, संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग (UNHCR) ने हैदराबाद में एक फुटबॉल टूर्नामेंट का आयोजन किया था. इसे टूर्नामेंट में हिस्सा लेने वाली 16 टीमों में से 3 रोहिंग्याओं की थी. दिल्ली, हैदराबाद और कई जगहों पर रहने वाले रोहिंग्याओं ने अपने फुटबॉल क्लब्स बनाए हुए हैं. (आर्काइव)

नतीजा

हमारी पड़ताल में राजस्थान में पाकिस्तान से आए हिंदू शरणार्थियों को कोविड वैक्सीन नहीं देने और रोहिंग्याओं या भारत में मौजूद बांग्लादेशी लोगों को वैक्सीन देने का दावा भ्रामक निकला. राजस्थान सरकार के मुताबिक़, केंद्र सरकार की तरफ़ से जारी गाइडलाइंस में बिना डॉक्यूमेंट्स के ‘गैर-नागरिकों’ को वैक्सीन देने की प्रक्रिया साफ़ नहीं होने के कारण हमने किसी भी ‘गैर-नागरिक’ को वैक्सीन नहीं दी थी. राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश के बाद बिना डॉक्युमेंट्स वाले ‘गैर नागरिकों’ को भी वैक्सीन दी जा रही है.

पड़ताल की वॉट्सऐप हेल्पलाइन से जुड़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.
ट्विटर और फेसबुक पर फॉलो करने के लिए ट्विटर लिंक और फेसबुक लिंक पर क्लिक करें.


पड़ताल: क्या ‘बुर्ज खलीफा’ पर जरनैल सिंह भिंडरावाले की तस्वीर दिखाई गई थी?

पड़ताल: क्या राजस्थान में पाकिस्तान से आए हिंदू शरणार्थियों को नहीं मिल रही कोविड वैक्सीन?
  • दावा

    राजस्थान में पाकिस्तान से आए हिंदू शरणार्थियों को कोरोना वैक्सीन नहीं लगाई जा रही.

  • नतीजा

    राजस्थान सरकार ने राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश के बाद सभी 'गैर-नागरिक' जिनके पास कोई भी डॉक्यूमेंट तक नहीं है, उनको भी वैक्सीन देनी शुरू कर दी है.

अगर आपको भी किसी जानकारी पर संदेह है तो हमें भेजिए, padtaalmail@gmail.com पर. हम पड़ताल करेंगे और आप तक पहुंचाएंगे सच.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पड़ताल

पड़ताल: राशन कार्ड में दलाली का आरोप लगाती महिलाओं ने अमरोहा के BJP विधायक को पीट दिया?

सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीरों में नेता जी का कुर्ता फटा नज़र आ रहा है.

पड़ताल: कोरोना काल में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत मस्जिद में नमाज़ अदा करने पहुंच गए?

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है कांग्रेस नेता का ये वीडियो.

पड़ताल: क्या 'ऑपरेशन ब्लू स्टार' की बरसी पर बुर्ज खलीफा में भिंडरावाले की तस्वीर दिखाई गई?

साल 1984 में स्वर्ण मंदिर परिसर सिख चरमपंथी नेता जरनैल सिंह भिंडरावाले के कंट्रोल में था.

केंद्रीय मंत्री सीतारामन और पीयूष गोयल ने कोविड वैक्सीन पर गलत जानकारी दी

नीति आयोग का भ्रामक दावा, "दुनियाभर में कहीं भी बच्चों को वैक्सीन नहीं लग रही."

क्या बुनियादी सुविधाओं की जगह मंदिर मांगने वाले की ऑक्सीजन की कमी से मौत हो गई?

वायरल वीडियो में शख़्स ने कहा था- "सड़क नहीं चाहिए, रोटी नहीं चाहिए, मंदिर चाहिए."

पड़ताल: इसराइल-फ़लस्तीन तनाव के बीच अल-अक्सा मस्जिद पर हमले की है ये तस्वीर?

सोशल मीडिया पर दावा, इसराइल ने इस्लाम के तीसरे सबसे पवित्र स्थल को तोड़ दिया है.

पड़ताल: नाक में नींबू का रस डालने से कोरोना वायरस ठीक नहीं होता, वायरल वीडियो भ्रामक है

स्वास्थ्य मंत्रालय और AIIMS, दिल्ली के डॉक्टर ने इस बारे में जो बताया, यहां पढ़िए!

पड़ताल: फिटकरी का पानी पीने से कोरोनावायरस नहीं मरेगा, उल्टा दिक्कत हो सकती है

अख़बार की कटिंग वायरल कर दावा, 'बिहार के कई लोग इससे ठीक हुए.'

पड़ताल: होम्योपैथिक दवा ASPIDOSPERMA-Q से ऑक्सीजन लेवल नहीं बढ़ेगा, दावा भ्रामक है

इससे पहले आर्सेनिक एल्बम नाम की होम्योपैथिक दवा को भी इलाज बताया गया था.

पड़ताल: इस पर्चे में वैक्सीन के बारे में लिखे दावे भ्रामक हैं, पढ़िए पूरी सच्चाई

कोरोना को षड्यंत्र मानने और मास्क जलाने की बातें करने वालों ने ये पर्चा जारी किया है.