Submit your post

Follow Us

जी नहीं, सरसों का तेल नथुनों में लगाने से या गर्म पानी पीने से कोरोना नहीं भागेगा

दावा

सोशल मीडिया पर सरसों के तेल को कोरोना वायरस से बचाव का उपाय बताया जा रहा है(आर्काइव लिंक). दावा किया जा रहा है,

“दोनों नथुनों में सरसों का तेल लगाने से आठ घण्टे तक वायरस से बचाव हो सकता है. क्योंकि सरसों तेल एक वायरस रोधी तेल है. इसमें वायरस नाक की दीवारों से चिपक कर मर जाता है.”

ये वायरल पोस्ट देखिए.

इसे फेसबुक और ट्विटर पर धड़ल्ले से शेयर किया जा रहा है. यहां और यहां क्लिक करके आप आर्काइव लिंक देख सकते हैं.

पड़ताल

हमने दावे की जांच की. तथ्य खोजे. लेकिन कोई भी ऐसी जानकारी नहीं मिली कि सरसों के तेल में वायरस रोकने की क्षमता है. WHO और भारत सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने ऐसे उपायों से बचने को कहा है. भारत सरकार की ओर से जारी होने वाली सूचनाओं की नोडल एजेंसी- प्रेस इन्फॉर्मेशन ब्यूरो(PIB) ने ट्विटर पर इस वायरल दावे को झूठ बताया है. सरसों के तेल से कोरोना वायरस मरने के पर PIB ने कहा,

“कोरोना वायरस का कोई उपचार अभी उपलब्ध नहीं है. किसी भी प्रकार के तेल से इस वायरस को नष्ट नहीं किया जा सकता है. कृपया भ्रामक संदेशों के झांसे में न आएं. घर के अंदर रहें और खुद को सुरक्षित रखें.”

कोरोना वायरस का कोई उपचार अभी उपलब्ध नहीं है | किसी भी प्रकार के तेल से इस वायरस को नष्ट नहीं किया जा सकता है|

कृपया भ्रामक संदेशों के झाँसे में ना आएं |

घर के अंदर रहें और खुद को सुरक्षित रखें | pic.twitter.com/FeMVcse9R1

वायरस आकार में बहुत छोटे होते हैं. एक मीटर के अरबवें हिस्से जितने छोटे हो सकते हैं. ये सरसों के तेल में फंसकर मर जाएंगे, ये कहना वैज्ञानिक तथ्यों से परे है.

सरसों के तेल से कोरोना वायरस के इलाज की बातों से पहले कई और दावे भी किए जा रहे थे. जैसे कि 10 सेकेंड तक सांस रोकने से या गर्म पानी और सिरके के गरारे करने से कोरोना वायरस का इलाज हो जाएगा वगैरह-वगैरह. इन सभी दावों को सरकार की ओर से PIB ने पहले ही खारिज कर दिया है.

PIB आम लोगों से एक ही अपील कर रही है कि वो घरों के अंदर रहें और ऐसे भ्रामक संदेशों पर यकीन न करें.

नतीजा

पड़ताल में हमने पाया कि सरसों के तेल से कोरोना वायरस नहीं मरता. न ही 10 सेकेंड सांस रोकने या गर्म पानी पीने से कोरोना वायरस मरता है. ये सभी बातें वैज्ञानिक तथ्यों से परे है. भारत सरकार और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने लगातार ऐसा दावों को झूठा बताया है.

अगर आपको भी किसी ख़बर पर शक है तो हमें मेल करें- padtaalmail@gmail.com पर. हम दावे की पड़ताल करेंगे और आप तक सच पहुंचाएंगे.

जी नहीं, सरसों का तेल नथुनों में लगाने से या गर्म पानी पीने से कोरोना नहीं भागेगा
  • दावा

    सरसों का तेल नथुनों पर लगाने से कोरोना वायरस को शरीर में घुसने से रोका जा सकता है.

  • नतीजा

    सरसों के तेल से कोरोना वायरस नहीं मरता. न ही 10 सेकेंड सांस रोकने या गर्म पानी पीने से कोरोना वायरस मरता है. ये सभी बातें वैज्ञानिक तथ्यों से परे है. भारत सरकार और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने लगातार ऐसा दावों को झूठा बताया है.

अगर आपको भी किसी जानकारी पर संदेह है तो हमें भेजिए, padtaalmail@gmail.com पर. हम पड़ताल करेंगे और आप तक पहुंचाएंगे सच.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें