Submit your post

Follow Us

पड़ताल: क्या उत्तराखंड की एक दरगाह में चादर चढ़ाने आए हिंदुओं को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा गया?

दावा

सोशल मीडिया पर उत्तराखंड के जसपुर में दो गुटों के बीच हुई लड़ाई का वीडियो वायरल हो रहा है. दावा किया जा रहा है कि जसपुर की एक दरगाह में गए हिंदुओं को मुस्लिमों ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा है.

प्रोपेगेंडा चैनल सुदर्शन न्यूज़ के प्रधान संपादक सुरेश चव्हाणके ने ट्वीट में लिखा

मैं जीवन में पहली बार शांतिदूतों का धन्यवाद कर रहाँ हूँ।
उन्होंने उत्तराखंड के जसपुर दरगाह पर चादर चढ़ाने गए हिंदुओं को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा

ऐसे ही कुछ और दावों को हम ज्यों का त्यों, बिना किसी भाषाई बदलाव के आपको बता रहे हैं.

NationFirst नाम के फेसबुक पेज पर पोस्ट किए गए इस वीडियो के कैप्शन में लिखा है-

मैं जीवन में पहली बार शांतिदूतों का धन्यवाद कर रहाँ हूँ।
शांतिदूतों ने उत्तराखंड के जसपुर दरगाह पर चादर चढ़ाने गए हिंदुओं को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

(वीडियो में मारपीट और आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया गया है. इसलिए हम इस वीडियो को यहां नहीं दिखा रहे हैं. अगर पाठक चाहें तो अपने विवेक से इस लिंक पर क्लिक करके वीडियो देख सकते हैं.)(आर्काइव)

एक और फेसबुक यूज़र विष्णु प्रसाद मिश्रा ने लिखा

मैं जीवन में पहली बार शांतिदूतों का धन्यवाद कर रहाँ हूँ।
उन्होंने उत्तराखंड के जसपुर दरगाह पर चादर चढ़ाने गए धर्मनिरपेक्ष Secular हिंदुओं को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।🙌

(आर्काइव)

फेसबुक यूज़र जयंत सक्सेना ने फेसबुक पोस्ट में लिखा

1400 सालो में मुल्लो ने पहली बार कोई अच्छा काम किया है उत्तराखंड के जसपुर #दरगाह पर चादर चढ़ाने गए हिंदुओं को दौड़ा दौड़ा कर पीटा हम समर्थन करते है और पीटो
इन सालों को
मोकैम्बो खुश हुआ

(आर्काइव)

फेसबुक यूज़र हेमसागर देसाई ने भी वायरल वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा है-

भारत में पहली बार शांति दूतों ने बहुत अच्छा काम किया है
उत्तराखंड के जसपुर में दरगाह पर गए हिंदुओं को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा गया दरअसल यह लोग मंदिर में हुई घटना का बदला लेना चाहते थे
अब अजमेर दरगाह प्रशासन को भी वहां आए हिंदुओं को ऐसे ही मार-मार कर खदेड़ देना चाहिए

(आर्काइव)

दक्षिणपंथी रुझान वाले BJP समर्थक वकील प्रशांत पटेल उमराव ने अपने वेरिफाइड ट्विटर हैंडल से यही दावा किया है. हालांकि प्रशांत ने ये वीडियो पोस्ट नहीं किया है.

‘पड़ताल’ की वॉट्सऐप हेल्पलाइन पर भी पाठकों ये वीडियो हमें जांच के लिए भेजा है.

पड़ताल

हमारी पड़ताल में जसपुर दरगाह में हुई आपसी मारपीट को सांप्रदायिक बताता दावा ग़लत निकला. ये मारपीट मुस्लिमों के ही दो गुटों के बीच हुई है. पुलिस ने इस घटना की शुरुआती वजहें ज़मीन का पुराना विवाद और चढ़ावे की राशि बताई हैं.

इंटरनेट पर हमें जसपुर की दरगाह में हुई मारपीट से जुड़ी ख़बरें मिलीं. ईटीवी भारत की 29 मार्च 2021 को प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक,

‘जसपुर में पतरामपुर के पास कालू सैय्यद बाबा की दरगाह है. शब-ए-बारात के मौके पर दरगाह में इबादत करने आए जायरीनों और मजार के मुजाविरों में मामूली बात को लेकर नोकझोंक हो गई. धीरे-धीरे बात मारपीट में तब्दील हो गई. इस घटना में तीन लोग घायल हो गए. जिसमें गंभीर रूप से घायल एक युवक को काशीपुर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है.’

घटना की ज़्यादा डिटेल्स के लिए हमने उधमसिंह नगर में इंडिया टुडे के साथ जुड़े पत्रकार रमेश चंद्रा से संपर्क किया. उन्होंने बताया,

कालू सैय्यद दरगाह होली के चलते बंद थी और कुछ लोगों ने इबादत करने की ज़िद्द पर सेवादारों की जम कर पिटाई कर दी. ये वीडियो 29 मार्च, दोपहर 2 बजे का है. पुलिस ने दोनों पक्षों के ख़िलाफ़ मामला दर्ज कर लिया है.

उधमसिंह नगर पुलिस ने इस मामले की जानकारी अपने फेसबुक पेज दी है. पुलिस के बताया,

कुछ व्यक्तियों द्वारा सोशल मीडिया पर चादर चढ़ाने को लेकर हिंदुओं को दौड़ा-दौड़ाकर पीटे जाने की भ्रामक एवं झूठी अफवाह फैलाई जा रही है. जबकि सत्यता यह है कि दोनों पक्ष मुस्लिम समुदाय के लोग थे. अमजद अली और अब्दुल हमीद के बीच हुई इस मारपीट के मामले में पुलिस ने दोनों पक्षों के खिलाफ FIR NO 69/2021 और FIR NO 70/2021 में IPC की कई धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है.

#जनपद_उधम_सिंह_नगर_पुलिस
अवगत कराना है कि दिनांक 29/03/2021 को कालू सिद्ध मजार पतरामपुर जसपुर उधम सिंह नगर में दो…

Posted by Udham Singh Nagar Police Uttarakhand on Wednesday, 31 March 2021

घटनास्थाल काशीपुर पुलिस सर्किल के तहत आता है. काशीपुर के सर्किल ऑफिसर अक्षय प्रह्लाद कोड़े ने 1 अप्रैल को अपने बयान में स्पष्ट किया कि दोनों पक्ष एक ही समुदाय के हैं. दोनों पक्षों के ख़िलाफ़ केस दर्ज हो चुका है.

नतीजा

उत्तराखंड के जसपुर में मुस्लिम समुदाय के दो गुटों के बीच 29 मार्च 2021 मारपीट हुई थी. इसे चादर चढ़ाने गए हिंदुओं की पिटाई बताकर शेयर करते दावे गलत हैं.

पड़ताल अब वॉट्सऐप पर. वॉट्सऐप हेल्पलाइन से जुड़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.
ट्विटर और फेसबुक पर फॉलो करने के लिए ट्विटर लिंक और फेसबुक लिंक पर क्लिक करें.

पड़ताल: क्या उत्तराखंड की एक दरगाह में चादर चढ़ाने आए हिंदुओं को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा गया?
  • दावा

    उत्तराखंड के जसपुर की एक दरगाह में चादर चढ़ाने गए हिंदुओं को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा गया.

  • नतीजा

    ये मामला उत्तराखंड के जसपुर का ही है. लेकिन 29 मार्च 2021 की इस घटना में दोनों पक्ष मुस्लिम ही थे.

अगर आपको भी किसी जानकारी पर संदेह है तो हमें भेजिए, padtaal@lallantop.com पर. हम पड़ताल करेंगे और आप तक पहुंचाएंगे सच.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पड़ताल

पड़ताल: सुशांत सिंह राजपूत के रिश्तेदारों की मौत से जुड़े दावों का सच

पड़ताल: सुशांत सिंह राजपूत के रिश्तेदारों की मौत से जुड़े दावों का सच

वायरल फोटो को सोशल मीडिया यूजर्स सुशांत के रिश्तेदारों के एक्सीडेंट सीन से जोड़कर शेयर कर रहे हैं.

पड़ताल: सेब की पेटी में गोलियां-ग्रेनेड, पर पकड़े गए शख़्स को कांग्रेस MLA बताते दावे ग़लत

पड़ताल: सेब की पेटी में गोलियां-ग्रेनेड, पर पकड़े गए शख़्स को कांग्रेस MLA बताते दावे ग़लत

ये तस्वीरें दो इतर घटनाओं की हैं, एक भारत की, एक बांग्लादेश की.

पड़ताल: वीडियो का छोटा हिस्सा काटकर सावरकर के बारे में फिर झूठ फैलाया जा रहा

पड़ताल: वीडियो का छोटा हिस्सा काटकर सावरकर के बारे में फिर झूठ फैलाया जा रहा

वीडियो दिखाकर सोशल मीडिया यूज़र्स दावा कर रहे हैं कि सावरकर ने जेल में ऐसे कष्ट सहे थे.

पड़ताल:

पड़ताल: "राशिद अल्वी ने जय श्री राम कहने वालों को राक्षस कहा", अमित मालवीय के इस दावे का सच

राशिद अल्वी ने बयान दिया था, "आज भी बहुत लोग जय श्री राम का नारा लगाते हैं वो सब मुनि नहीं वो निशिचरघोरा हैं."

पड़ताल: बीच सड़क नमाज़ अदा करने की ये तस्वीर भारत की नहीं

पड़ताल: बीच सड़क नमाज़ अदा करने की ये तस्वीर भारत की नहीं

सोशल मीडिया पर वेरिफाइड यूज़र्स इसे भारत का बताकर शेयर कर रहे हैं.

पड़ताल: क्या हज़ारों लोगों की ये रैली त्रिपुरा हिंसा के विरोध में निकाली गई है?

पड़ताल: क्या हज़ारों लोगों की ये रैली त्रिपुरा हिंसा के विरोध में निकाली गई है?

वायरल वीडियो को लोग "केरल के मुसलमानों की एकता" बताकर सोशल मीडिया पर शेयर कर रहे हैं.

पड़ताल: अमेरिका में दिवाली मनाई गई, पर पटाखे फोड़ने का ये ज़ोरदार वीडियो कहीं और का

पड़ताल: अमेरिका में दिवाली मनाई गई, पर पटाखे फोड़ने का ये ज़ोरदार वीडियो कहीं और का

500 मीटर लंबी पटाखों की लड़ी फोड़ने का ये वायरल वीडियो सोशल मीडिया पर लाखों बार देखा जा चुका है.

पड़ताल: क्या अमिताभ बच्चन और विद्या बालन ने KBC में PM मोदी का मजाक उड़ाया?

पड़ताल: क्या अमिताभ बच्चन और विद्या बालन ने KBC में PM मोदी का मजाक उड़ाया?

मज़ाकिया वीडियो इतना वायरल है कि सोशल मीडिया यूज़र्स इसे सच मान रहे हैं.

पड़ताल: जले हुई धार्मिक ग्रंथों की तस्वीरें क्या त्रिपुरा हिंसा से जुड़ी हैं?

पड़ताल: जले हुई धार्मिक ग्रंथों की तस्वीरें क्या त्रिपुरा हिंसा से जुड़ी हैं?

अक्टूबर 2021 में त्रिपुरा में हिंसा हुई थी, जिसमें एक मस्जिद और दो दुकानें तोड़ दी गई थीं.

पड़ताल: 'महिलाओं के लिए शराब की अलग दुकानें खोलने' की ख़बर को शिवराज से जोड़ने वालों को सच जानकर झटका लगेगा!

पड़ताल: 'महिलाओं के लिए शराब की अलग दुकानें खोलने' की ख़बर को शिवराज से जोड़ने वालों को सच जानकर झटका लगेगा!

सोशल मीडिया यूज़र्स अख़बार की एक कटिंग दिखाकर प्रियंका गांधी और शिवराज सिंह चौहान की तुलना कर रहे हैं.