Submit your post

Follow Us

पड़ताल: BJP नेताओं ने चीन के एयरपोर्ट की फोटो को नोएडा इंटरनेशल एयरपोर्ट का बताया

दावा

सोशल मीडिया पर नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के बारे में एक दावा तेज़ी से वायरल हो रहा है. वायरल दावे में एक पोस्टर है, जिसमें एक बड़ी-सी बिल्डिंग के ड्रोन व्यू की फोटो है.

उत्तर प्रदेश के उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के बारे में जानकारी देते हुए एक वीडियो ट्वीट किया. वीडियो की शुरुआत में वायरल तस्वीर देखी जा सकती है, ( आर्काइव )

यूपी सरकार में वित्त मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने वायरल पोस्टर ट्वीट कर कैप्शन दिया, ( आर्काइव )

इसके अलावा अन्य बीजेपी नेताओं और सोशल मीडिया यूजर्स ने वायरल पोस्टर को नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के मॉडल से जोड़ा है.

पड़ताल

‘दी लल्लनटॉप’ ने वायरल दावे की पड़ताल की. हमारी पड़ताल में वायरल दावा भ्रामक साबित हुआ. वायरल पोस्टर में दिख रही तस्वीर चीन में बीजिंग के दाक्सिंग इंटरनेशनल एयरपोर्ट की है.

वायरल तस्वीर की सच्चाई जानने के लिए रिवर्स इमेज सर्च टूल का इस्तेमाल किया. वायरल तस्वीर NDTV पर 14 अप्रैल 2019 को छपे एक आर्टिकल में मिली. NDTV के मुताबिक, वायरल तस्वीर चीन के बीजिंग शहर में दाक्सिंग इंटरनेशनल एयरपोर्ट की है.

NDTV की खबर से क्लू लेकर हमने इंटरनेट पर कुछ कीवर्ड्स सर्च किए. सर्च से दाक्सिंग इंटरनेशनल एयरपोर्ट से संबंधित BBC की 25 सितंबर 2019 को छपी एक रिपोर्ट मिली. BBC के मुताबिक, वायरल तस्वीर में दिख रही इमारत बीजिंग का दाक्सिंग इंटरनेशनल एयरपोर्ट है, जिसका डिजाइन स्टारफिश जैसा है.

रिपोर्ट में बताया गया कि 7 लाख स्क्वायर मीटर में फैला ये एयरपोर्ट इतना बड़ा है कि इसमें फुटबॉल के 98 मैदान बनाए जा सकते हैं.

चीनी टीवी चैनल CGTN ने बीजिंग दाक्सिंग इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर एक डॉक्यूमेंट्री भी तैयार की है. यूट्यूब पर उपलब्ध इस डॉक्यूमेंट्री के 24 मिनट 15वें सेकेंड पर दाक्सिंग इंटरनेशनल एयरपोर्ट के स्टारफिश डिजाइन को देखा जा सकता है.

इसके अलावा shutterstock पर बीजिंग के एयरपोर्ट की कई ऐसी तस्वीरें मौजूद हैं जो वायरल तस्वीर से मिलती-जुलती हैं.

शटरस्टॉक पर उपलब्ध निर्माणाधीन बीजिंग-डैक्सिंग एयरपोर्ट की तस्वीर.
शटरस्टॉक पर उपलब्ध निर्माणाधीन बीजिंग-डैक्सिंग एयरपोर्ट की तस्वीर. साल 2018. साभार- शटरस्टॉक.

हमने भी 26 सितंबर 2019 को चीन के दाक्सिंग एयरपोर्ट के बारे में खबर की थी.

नतीजा

‘दी लल्लनटॉप’ की पड़ताल में वायरल दावा भ्रामक साबित हुआ. वायरल तस्वीर का नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट से कोई लेना-देना नहीं है. वायरल तस्वीर चीन में बीजिंग दाक्सिंग इंटरनेशनल एयरपोर्ट की है, जो दुनिया के सबसे बड़े एयरपोर्ट्स में से एक है. हालांकि फोटो शेयर करते समय बीजेपी के कुछ नेताओं ने फोटो पर ग्राफिकल रिप्रेजेंटेशन लिखा लेकिन असल में ये कोई ग्राफिक्स नहीं है. ये एक एयरपोर्ट की फोटो है जो चीन में मौजूद है.

पड़ताल की वॉट्सऐप हेल्पलाइन से जुड़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.
ट्विटर और फेसबुक पर फॉलो करने के लिए ट्विटर लिंक और फेसबुक लिंक पर क्लिक करें.


वीडियो: क्या राम मंदिर का निर्माण रुकने की आशंका जताता गाना मुस्लिम समुदाय ने बनाया है?

पड़ताल: BJP नेताओं ने चीन के एयरपोर्ट की फोटो को नोएडा इंटरनेशल एयरपोर्ट का बताया
  • दावा

    वायरल पोस्टर में दिख रही तस्वीर नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के मॉडल से जुडी है.

  • नतीजा

    वायरल तस्वीर का नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट से कोई लेना-देना नहीं है. वायरल तस्वीर चीन के बीजिंग दाक्सिंग इंटरनेशनल एयरपोर्ट की है

अगर आपको भी किसी जानकारी पर संदेह है तो हमें भेजिए, padtaal@lallantop.com पर. हम पड़ताल करेंगे और आप तक पहुंचाएंगे सच.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पड़ताल

पड़ताल: PM मोदी ने बांध का उद्घाटन तो किया पर BJP नेताओं ने गलत तस्वीर ठेल दी

वायरल तस्वीर को शेयर कर 'बुंदलेखंड को सौगात' देने की बात की जा रही है.

पड़ताल: मुस्लिम समुदाय ने नहीं बनाया राम मंदिर निर्माण रुकने की आशंका जताता वीडियो

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि ये गाना समाजवादी पार्टी ने बनवाया है.

पड़ताल: इंदिरा गांधी सी-फूड नहीं खा रहीं, तस्वीर के साथ वायरल हो रहा दावा ग़लत

नामी फोटोजर्नलिस्ट श्रीधर नायडू की खींची इस वायरल तस्वीर का सच.

पड़ताल: सुशांत सिंह राजपूत के रिश्तेदारों की मौत से जुड़े दावों का सच

वायरल फोटो को सोशल मीडिया यूजर्स सुशांत के रिश्तेदारों के एक्सीडेंट सीन से जोड़कर शेयर कर रहे हैं.

पड़ताल: सेब की पेटी में गोलियां-ग्रेनेड, पर पकड़े गए शख़्स को कांग्रेस MLA बताते दावे ग़लत

ये तस्वीरें दो इतर घटनाओं की हैं, एक भारत की, एक बांग्लादेश की.

पड़ताल: वीडियो का छोटा हिस्सा काटकर सावरकर के बारे में फिर झूठ फैलाया जा रहा

वीडियो दिखाकर सोशल मीडिया यूज़र्स दावा कर रहे हैं कि सावरकर ने जेल में ऐसे कष्ट सहे थे.

पड़ताल: "राशिद अल्वी ने जय श्री राम कहने वालों को राक्षस कहा", अमित मालवीय के इस दावे का सच

राशिद अल्वी ने बयान दिया था, "आज भी बहुत लोग जय श्री राम का नारा लगाते हैं वो सब मुनि नहीं वो निशिचरघोरा हैं."

पड़ताल: बीच सड़क नमाज़ अदा करने की ये तस्वीर भारत की नहीं

सोशल मीडिया पर वेरिफाइड यूज़र्स इसे भारत का बताकर शेयर कर रहे हैं.

पड़ताल: क्या हज़ारों लोगों की ये रैली त्रिपुरा हिंसा के विरोध में निकाली गई है?

वायरल वीडियो को लोग "केरल के मुसलमानों की एकता" बताकर सोशल मीडिया पर शेयर कर रहे हैं.

पड़ताल: अमेरिका में दिवाली मनाई गई, पर पटाखे फोड़ने का ये ज़ोरदार वीडियो कहीं और का

500 मीटर लंबी पटाखों की लड़ी फोड़ने का ये वायरल वीडियो सोशल मीडिया पर लाखों बार देखा जा चुका है.