Submit your post

Follow Us

राहुल गांधी, थाने में बैठे-बैठे अपने पापा-दादी का किया-धरा भी पढ़ लो

वन रैंक, वन पेंशन. एक रिटायर्ड सैनिक ने आत्महत्या कर ली. लोग जंतर-मंतर पर खोज रहे हैं उसके घरवालों को. राहुल गांधी और मनीष सिसोदिया उनके घर जा रहे हैं. पुलिस पकड़ रही है दोनों को. राहुल चीख रहे हैं कि मोदी सरकार जवानों के साथ अच्छा नहीं कर रही है. पुलिस छोड़ देती है. राहुल लपक के फिर पहुंचते हैं. पुलिस फिर धर लेती है. राहुल ये नाटक क्यों कर रहे हैं? क्या राहुल ये जानते हैं कि जवानों की दुर्दशा किसने की? 1973 तक तो वन रैंक वन पेंशन मिलता ही था. फिर ये स्थिति कैसे आ गई?

कोई आत्महत्या कब करता है? जब पूरी दुनिया से हताश हो जाए, कोई उम्मीद नजर ना आ रही हो. जीने का कोई मकसद ना हो. घर-परिवार से किये वादे ना पूरे हो रहे हों. कोई भी वजह हो सकती है. अभी तक तो हम फसलें खराब होने पर किसानों की आत्महत्या के बारे में पढ़ रहे थे. जवानों की आत्महत्या नई चीज है. और बेहद खतरनाक है. क्या इसीलिए वो नौकरी करते हैं कि रिटायरमेंट के बाद आत्महत्या करनी पड़े? क्यों हो रहा है ये? किसने शुरू किया?

वन रैंक, वन पेंशन. मतलब एक रैंक से रिटायर हुए लोगों को एक ही पेंशन मिलेगी. चाहे जब रिटायर हुए हों. ऐसा हुआ नहीं है. 1970 में रिटायर होने वाला जवान 2010 में रिटायर हुए जवान से कम पैसे पाता है. जबकि दोनों का खर्चा बराबर है. इसके अलावा उस वक्त पैसे इतने कम मिलते थे कि सेविंग्स भी ज्यादा नहीं थीं. उस वक्त मार्केट में कुछ था भी नहीं इन्वेस्ट करने के लिए. आर्मी के लोगों की ये बहुत पुरानी डिमांड है. देश की सेवा करते हैं. ज्यादा तनख्वाह नहीं है. तो बुढ़ापे में सुरक्षा चाहिए. साथ ही इज्जत. जहां वो अपने लोगों के साथ बैठ के अपने किस्से सुना सकें. पर अपने जूनियरों से भी कम पेंशन पाते हैं जवान. ये कैसा लगेगा किसी को.

सेना ने बार-बार ये कहना चाहा है कि हमारा प्रोटेस्ट सिर्फ पैसों को लेकर नहीं है. ये इज्जत और सम्मान की बात है. दूसरे लोग भले जो सोचते हों, सेना के लिए ये बातें मैटर करती हैं. और ये सिर्फ भावना की बात नहीं है. सेना का स्टेटस वाकई में कम कर दिया गया है.

मोदी सरकार ने आश्वासन तो बहुत दिया. फिर एक प्रस्ताव भी लाए. पर वो सैनिकों को जंचा नहीं है. मोदी सरकार तो अपने वादे पर खरी नहीं ही उतरी है. पर राहुल गांधी ने क्या किया था? दस साल तो उनकी ही पार्टी की सरकार बनी रही. क्या वो ये बात नहीं जानते कि ये समस्या इंदिरा गांधी ने ही खड़ी की थी?

सेना में हमेशा नये-नये लोगों की जरूरत होती है. उमर बढ़ती है तो लोगों की जरूरत खत्म हो जाती है. रिटायर होना ही पड़ता है. सेना में रिटायरमेंट जल्दी होता है. 34 के बाद बहुत लोग रिटायर हो जाते हैं. दूसरी नौकरी मिलती नहीं. सेना का काम कुछ ऐसा नहीं सिखाता कि कहीं भी लग जाएं. वहीं सिविल के लोग 60 पर रिटायर होते हैं. उनके पास सुरक्षित करियर होता है. फिर 34 पर रिटायर होने से पेंशन भी बहुत कम हो जाती है. जो 60 पर रिटायर होगा , उसकी पेंशन भी बहुत ज्यादा होती है. सेना में प्रमोशन के चांसेज बहुत कम होते हैं. ऐसा स्ट्रक्चर ही है सेना का. तो कुल मिलाकर पेंशन बहुत कम हो जाती है.

इस मुद्दे की शुरूआत हुई थी बांग्लादेश की लड़ाई के दो साल बाद. 1973 में. इंदिरा सरकार थी. पैसे की बात हुई. गरीबी हटाओ का नारा था. तो आसान रास्ता निकाला गया. पेंशन को सरकारें बिना वजह का खर्च मानती हैं. पेंशन आखिरी तन्खवाह के आधार पर होती है. बिना सेना से पूछे सेना की पेंशन 20 प्रतिशत कम कर दी गई और सिविल की पेंशन 20 प्रतिशत बढ़ा दी गई. कहा गय़ा कि फुल पेंशन के लिए मिनिमम 33 साल की सर्विस करनी पड़ेगी. इसके पहले देश में वन रैंक वन पेंशन था. इसे खत्म कर दिया गया. साथ ही सैनिकों का स्टेटस भी कम कर दिया गया. तीन साल से कम सर्विस के सैनिकों को अनस्किल्ड मजदूर माना गया. ये सब हुआ जब 71 की लड़ाई के फील्ड मार्शल मानेकशॉ रिटायर हो गए. कहा गया कि अब सिविल और आर्मी के पे में बराबरी रहेगी.

1973 के बाद बहुत दिन तक तो सेना ने आवाज नहीं उठाई थी. सेना के लिए सरकार के खिलाफ आवाज उठाना बड़ा मुश्किल था. म्यूटिनी वाली फीलिंग आ रही थी. पर जैसे-जैसे वक्त गुजरा, कम पैसे का अंतर समझ आने लगा. फिर जब आवाज उठी तो कमिटी बना दी गई. जसवंत सिंह, संगमा, विलासराव देशमुख और व्यालार रवि को लेकर. पर इनकी कोई मांग नहीं मानी गई. फिर से नई कमिटी का ऐलान कर दिया गया.

1986 में राजीव गांधी ने एक और काम कर दिया. सेना की बेसिक पे भी घटा दी. रैंक पे का कॉन्सेप्ट ले के आए. बेसिक में से ही काट के रैंक पे बना दिया गया. सारी पोस्ट को रैंक के आधार पर बांट दिया गया. पर सिविल की तुलना में सेना के पोस्ट की रैंक मैच ही नहीं करती थी. पेंशन फिर कम हो गई. सेना के बहुत लोगों को ये समझ ही नहीं आ रहा था. एकदम फ्रस्ट्रेशन हो गई. अब सिविल और सेना के पे में बहुत अंतर आ गया. फिर सेना की तनख्वाह सिविल की तरह बढ़ती भी नहीं. सेना में एक जवान और सिविल में एक चपरासी एक साथ भर्ती हों तो कुछ साल के बाद सेना का जवान बहुत पीछे हो जाता है तनख्वाह के मामले में.

सेना के जो लोग रैंक में सिविल और पुलिस के लोगों से पहले ऊपर हुआ करते थे, वो अब नीचे हो गए. बाद में 2005 में सुप्रीम कोर्ट ने रैंक पे को इलीगल घोषित कर दिया.

1987 में कर्नल इंदरजीत सिंह के साथ 14 लोगों ने आमरण अनशन शुरू कर दिया. उनकी दो मांगें मानी गईं. 1964 के पहले की सैनिकों की विधवाओं को पेंशन और रोकी हुई पेंशन का देना. पर बाकी मांगें नहीं मानी गईं. उसके बाद सैनिकों ने मेडल लौटाने शुरू किए. धरने दिए. पर कोई फर्क नहीं पड़ा. 1998 में सेना के एक रिटायर्ड मेजर ने कोर्ट में मामला डाला. सुप्रीम कोर्ट ने इसी केस में फैसला दिया था.

2002 में चंडीगढ़ में सोनिया गांधी ने ऐलान किया कि उनकी पार्टी वन रैंक वन पेंशन को मानती है. और पार्टी के एजेंडे में है.

2008 में मनमोहन सरकार छठा पे कमीशन ले के आई. इसमें रैंक पे खत्म कर दिया गया. इसकी जगह पर ग्रेड पे और पे बैंड लाया गया. इससे कंफ्यूजन और बढ़ गया. पर समस्याएं जस की तस बनी रहीं. उधर सिविल में सरकार ने नए पोस्ट बना दिये जिससे उन पर कोई फर्क ही नहीं पड़ा. इसके बाद सेना की पेंशन और कम हो गई. अब जवानों को लगने लगा कि सेना के लिए सारे इमोशन बातों से हैं. पैसे देने के लिए कोई तैयार नहीं. 2008 में ही सेना के रिटायर्ड जवानों ने जंतर-मंतर पर फास्ट करना शुरू किया. पर सरकार अपनी धुन में थी.

 सुप्रीम कोर्ट ने फटकार लगाई तो आनन-फानन में कांग्रेस सरकार ने नई तरकीब निकाली. सुधार के नाम पर कन्फयूज कर दिया.

2011 में भाजपा सांसद भगत सिंह कोश्यारी के नेतृत्व में कमिटी बनी जिसने साफ-साफ कहा कि सेना की मांग जायज है. 2014 में चुनाव के ठीक पहले राहुल गांधी नींद से जागे. अचानक कहना शुरू किया कि सेना की मांग पर विचार किया जाएगा. भाजपा ने तो इसको मुद्दा ही बना लिया. रेवाड़ी में सेना के जवानों की मीटिंग की. बड़े-बड़े वादे किये. जीतने के बाद सुधार करने की कोशिश की पर ये पूरा नहीं था. मर्ज बढ़ता गय़ा.

नरेंद्र मोदी ने जवानों से कहा था: ये मेरे ही नसीब में था कि वन रैंक वन पेंशन मेरे हाथ से लागू होगा. अब अरुण जेटली कहते हैं कि वन रैंक वन पेंशन की सबकी अपनी-अपनी डेफिनिशन है. मैं अपने हिसाब से काम करुंगा.

अब मौजूदा सरकार ने कुछ तो किया ही है. पर ये पूरा नहीं है. वादे से मुकरना है ये. जो सियाचीन में जाकर मोदी ने जवानों से किया था. टसल तो होगा. देखना ये है कि सरकार कैसे समझती है, कैसे समझाती है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

Lefthanders Day: बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

Lefthanders Day: बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मेरा बाएं-हत्था होना लोगों को चौंकाता है. और उनका सवाल मुझे चौंकाता है.

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.