Submit your post

Follow Us

क्या ज़ायरा ने इस्लाम के लिए फ़िल्म लाइन छोड़ दी?

5
शेयर्स

जब आमिर खान की फिल्म दंगल रिलीज़ हुई थी तो उस फिल्म में एक लड़की के काम ने सबको प्रभावित किया था. उसका नाम था जायरा वसीम. छोटे-छोटे बाल और छोटे-छोटे कपड़ों में दंगल लड़ती हुई एक लड़की. फिल्म को भी शोहरत मिली और जायरा वसीम को भी. इसके बाद जायरा को नेशनल अवार्ड भी मिला और जायरा दुनिया के लिए सिक्रेट सुपरस्टार हो गई. 2017 में उसने इस नाम की फिल्म भी की. इस फिल्म में भी जायरा ने कट्टरपंथियों से लड़ते हुए खुद को सुपर स्टार के तमगे से नवाजा. बुर्का पहने हुए गाना गाने वाली लड़की फिल्म में सुपरस्टार बन गई. और फिर वो शोहरत की बुलंदियों की ओर पहुंचने लगी.

zaira
फिल्म दंगल में जायरा वसीम. छोटे बालों और कपड़ों को लेकर उन्हें खूब ट्रोल किया गया था.

लेकिन वो फिल्म थी, ये हकीकत है. और हकीकत ये है कि जायरा वसीम ने इस्लाम के लिए फिल्मी दुनिया को अलविदा कह दिया है. फेसबुक और इंस्टाग्राम पर लंबा-चौड़ा पोस्ट लिखकर जायरा ने कहा है कि अब वो फिल्मी दुनिया को अलविदा कह रही हैं. देखिए जायरा ने लिखा क्या है-

इस लंबी-चौड़ी पोस्ट का मजमून ये है कि जायरा अब फिल्मी दुनिया को अलविदा कहकर इस्लाम की सेवा करना चाहती हैं. जायरा ने लिखा है-

5 साल पहले के मेरे फैसले ने मेरी ज़िंदगी बदल दी. मैंने बॉलीवुड में कदम रखा और खासी शोहरत मिली. मुझे युवाओं के रोल मॉडल के तौर पर देखा जाने लगा. लेकिन अब जह मैंने इस इंडस्ट्री में अपने पांच साल पूरे कर लिए हैं, तो मैं अपनी इस शोहरत और अपने इस काम से खुश नहीं हूं.

जायरा ने लिखा है-

मुझे मेरा रास्ता मिल गया है. मैं अल्लाह की तरफ लौट रही हूं. यह दुनिया सिवाय एक छलावा और गुमराही के कुछ नहीं है. यहां मैंने सफलता हासिल की. लोगों ने तारीफ कीं. लेकिन जब मैंने अपने भीतर झांका तो पाया कि दरअसल, यह झूठी सफलता है.

zaira
जायरा को दंगल फिल्म के लिए नेशनल अवार्ड भी मिल चुका है.

जायरा ने फेसबुक पर बॉलिवुड को अलविदा कहते हुए लिखा है-

हालांकि मुझे इस इंडस्ट्री में जितना प्यार मिला है, उससे मैं खुश हूं, लेकिन इसकी वजह से मैं अपने ईमान से भटक गई थी. अगर मैं इस माहौल में काम करना जारी रखती तो मैं अपने धर्म-ईमान से और भी दूर चली जाती. मैं पिछले कुछ समय से खुद को समझाने की कोशिश कर रही थी कि मैं जो कर रही हूं, वो ठीक है. लेकिन आखिरकार अब मुझे समझ आ गया है कि अपने धर्म इस्लाम की बताई हुई राह पर चलने में मैं एक बार नहीं, 100 बार असफल रही हूं.

जायरा ने कुरआन की आयतों और अल्लाह का जिक्र करते हुए लिखा है-

मैं अपनी छोटी सी जिंदगी में इतनी लंबी लड़ाई नहीं लड़ पा रही हूं और बहुत सोच समझकर फिल्मी दुनिया को अलविदा कह रही हूं.

जायरा फिल्मी दुनिया में रहें या फिर उसे अलविदा कहें, ये उनका निजी फैसला है. उन्हें ही तय करना है कि वो क्या करना चाहती हैं. और इसका सम्मान भी होना चाहिए. लेकिन इस लंबी-चौड़ी पोस्ट को लिखते हुए जायरा वसीम ने बार-बार जिस एक शब्द का जिक्र किया है, वो है ईमान. वो बार-बार कह रही हैं कि वो अपने ईमान से भटक गई थीं. वो बार-बार लिख रही हैं कि इस इंडस्ट्री में वो अपने ईमान पर कायम नहीं रह पाईं.

जायरा के मामले में अब पुलिस की जांच पूरी होने का इंतजार है.
जायरा को कश्मीर के कुछ कट्टरपंथियों ने हमेशा ही ट्रोल करने की कोशिश की है.

और जायरा को इस ईमान की याद कुछ कट्टरपंथियों ने उसी वक्त दिला दी थी, जब फिल्म दंगल के कुछ पोस्टर सामने आए थे. कट्टरपंथियों को उनके छोटे कपड़ों पर ऐतराज था, उनके छोटे बालों पर ऐतराज था. इसे इस्लाम के खिलाफ करार दिया गया था. परिवारवालों को जान से मारने की धमकी तक दी गई थी. उस वक्त तो जायरा ने कट्टरपंथियों को जवाब दे दिया था, लेकिन बाद के दिनों में जब जायरा के खिलाफ फतवे जारी होने शुरू हो गए, तो वो माफी मांगने लगीं. उस वक्त जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री रहीं महबूबा मुफ्ती से मुलाकात पर ट्रोल हुईं तो फिर से माफी मांगी. फेसबुक पर पोस्ट लिखी और डीलीट कर दी.

zaira 2
जायरा की स्काई इज द पिंक आखिरी फिल्म हो सकती है.

और अब जायरा वसीम ने अपने ईमान पर टिके रहने के लिए फिल्म इंडस्ट्री ही छोड़ देने का फैसला किया है. हो सकता है कि ये उन्हीं कट्टरपंथियों का दबाव हो, जो बार-बार जायरा को उसके ईमान की याद दिलाते हुए ट्रोल करते हों और उन्हें माफी मांगने पर मज़बूर करते हों. इसकी गुंजाइश इसलिए है, क्योंकि जायरा के मैनेजर तुहीन की एक बात सामने आ रही है, जिसमें उन्होंने कहा है कि फेसबुक या इंस्टाग्राम पर जो लिखा गया है, उसे जायरा ने नहीं लिखा है. तुहीन ने ही बताया है कि जायरा मुंबई नहीं, कश्मीर में हैं.

अगर फैसला जायरा का है द स्काई इज पिंक उनकी आखिरी फिल्म हो सकती है, जिसमें वो प्रियंका चोपड़ा और फरहान अख्तर के साथ नज़र आएंगी. और अगर फैसला जायरा का नहीं है तो हो सकता है कि आने वाले दिनों में जायरा की कुछ और भी फिल्में देखने को मिल जाएं.


क्या हुआ जब दंगल की पूरी टीम के सामने ज़ायरा ने सब की नकल उतारी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Zaira Waseem known as dangal and secret superstar girl announced to quit Bollywood for Islam on social media

क्या चल रहा है?

एक ही मैच में दो शानदार कैच देख सारे दुख भूल जाएंगे

दोनों कैच में स्टीव स्मिथ शामिल थे.

दोबारा सत्ता में आने के बाद पहली बार पीएम मोदी ने 'मन की बात' में क्या-क्या कहा?

लगभग 4 महीने बाद पीएम मोदी ने रेडियो पर 'मन की बात' की.

किए पर पछतावा नहीं, ज़रूरत पड़ी तो फिर बल्ला चलाने को तैयार हैं आकाश विजयवर्गीय

और ऐसा हम नहीं, वो खुद कह रहे हैं जिनके समर्थकों ने फायरिंग कर रिहाई का जश्न मनाया है.

पाकिस्तान-अफ़ग़ानिस्तान का मैच हो रहा था और लोग आज़ादी के नारे लगा रहे थे

पाकिस्तान ने बलोचिस्तान पर 27 मार्च 1948 को कब्ज़ा कर लिया था.

नमाज पढ़कर आ रहा था 16 साल का बच्चा, जय श्रीराम का नारा नहीं लगाया तो पीट दिया

वारदात उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर की है.

इस एक ओवर ने अफ़ग़ानिस्तान से वर्ल्ड कप की पहली जीत छीन ली

पाकिस्तान आज भारत की जीत की दुआएं मांग रहा होगा.

बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय को एक नहीं दो मामलों में मिली जमानत

निगम अधिकारी को धमकाने और बैट से पीटने के बाद चर्चा में आए थे.

स्टेडियम में अफ़ग़ान-पाक फैंस ने की मारपीट, पुलिस ने उठा के बाहर किया

मैदान के बाहर तो दबा के हाथापाई भी हुई.

मोदी ने जिस गुफा में ध्यान लगाया था, वो अब किस हाल में है?

चुनाव के दौरान गुफा में ध्यान लगाए थे, बाहर आए तो एक हफ्ते में अच्छी खबर आ गई.

मोदी संग ऑस्ट्रेलियन पीएम की सेल्फ़ी में इस बात की तारीफ़ होनी चाहिए

लेकिन सोशल मीडिया पर बैठी 'खापों' का क्या करें?