Submit your post

Follow Us

यूपीः पंचायत चुनाव ड्यूटी में लगे शिक्षकों की मौत- हकीकत और सरकारी दावे की पड़ताल

उत्तर प्रदेश में कुछ दिनों पहले पंचायत चुनाव हुए थे. इस दौरान ड्यूटी करने वाले कई शिक्षकों की कोरोना से मौत हो गई. शिक्षकों की इस मौत को लेकर उत्तर प्रदेश शिक्षक संघ के पदाधिकारी और सरकार के बीच अब घमासान शुरू हो गया है. ये लड़ाई आंकड़ों की है. सरकार और अधिकारी मौत के आंकड़ों पर एक मत नहीं बना पा रहे हैं. शिक्षक संघ का दावा है कि पंचायत चुनाव के दौरान 1600 से ज़्यादा शिक्षकों और कर्मचारियों की मौत कोरोना से हुई. जबकि उत्तर प्रदेश के बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी का कहना है कि चुनाव प्रक्रिया के दौरान पूरे उत्तर प्रदेश में सिर्फ 3 शिक्षकों की मौत हुई.

उत्तर प्रदेश के बेसिक शिक्षा मंत्री ने चुनाव आयोग की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा की चुनाव प्रक्रिया के दौरान चुनाव आयोग ने जो उन्हें रिपोर्ट दी थी उसके मुताबिक सिर्फ 3 शिक्षकों की मौत हुई है. इन मौतों की वजह कोरोना है या कुछ और अभी इस बात का भी पता नहीं चल पाया है. मगर जब ग्राउंड जीरो से जानकारी जुटाई गई तो ये आंकड़े कुछ और ही कहानी कहते दिखे.

शुरू करते हैं इटावा जिले से

इटावा की जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी बीएसए कल्पना सिंह ने आजतक से बात करते हुए बताया है कि जनपद में आठ शिक्षकों की मौत हुई. जो पंचायत चुनाव के दौरान कोरोना से संक्रमित हुए थे. इसमें एक शिक्षक जसवंतनगर, एक नगर क्षेत्र, दो महेवा ब्लॉक, तीन बसरेहर और एक सैफ़ई से थे. इटावा में शिक्षक संगठनों की मांग है कि सरकार की ओर से मृतक शिक्षक को एक करोड़ रुपए का मुआवजा धनराशि दी जाए. साथ ही उनके परिजनों को एक नौकरी भी मिले. सभी को कोरोना वारियर्स का दर्जा दिया जाए.

जालौन की बात

वहीं जालौन में पिछले दिनों हुए पंचायत चुनाव में ड्यूटी के दौरान लगभग डेढ़ दर्जन शिक्षको ने दम तोड़ दिया. उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ ने मृतक शिक्षकों की लिस्ट जारी करते हुए सरकारी मदद की मांग की है. लेकिन जालौन के बेसिक शिक्षा अधिकारी प्रेम चन्द्र यादव ने सिर्फ 12 लोगों की मौत की पुष्टि की है. लेकिन उन्होंने ड्यूटी के दौरान किसी भी अध्यापक की मौत होने की बात से साफ इनकार किया है.

Untitled Design (1)
कोरोना की दूसरी लहर के बीच यूपी में पंचायत चुनाव कराए गए. बैलेट बॉक्स ले जाते अधिकारी. (तस्वीरें- पीटीआई और पिक्साबे)

प्रेम चन्द्र यादव ने बताया कि शिक्षा सचिव द्वारा सूचना मांगी गई थी. कुल 12 टीचर हैं जिनकी मौत हुई है. जिसमें चार टीचर की मौत हार्टअटैक से और आठ टीचर की कोरोना से मौत हुई है. जिनकी लिस्ट उन्होंने शासन को भेज दी है. उनका कहना है कि इसमें कोई भी अध्यापक ड्यूटी के दौरान नहीं मरा है.

क्या कोरोना काल में पंचायत चुनाव पड़ गया भारी

कोविड काल के दौरान सरकार का पंचायत चुनाव कराना सरकारी अध्यापकों पर भारी पड़ गया. अलग-अलग प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में तैनात करीब 55 अध्यापकों की मौत हो गई. शिक्षकों के संगठन राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ के पदाधिकारियों ने लखीमपुर खीरी जिले के बीएसए बुद्ध प्रिया सिंह को एक पत्र सौंपा हैं. जिसमें अलग-अलग प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में तैनात अध्यापकों और शिक्षामित्रों की हुई मौत के मामले में उनके परिवार वालों को पात्रता के आधार पर नियुक्ति दिलाने की कार्रवाई करने की मांग की है.

फिरोजाबाद का क्या रहा हाल

यूपी के फिरोजाबाद में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव 26 अप्रैल को हुए थे. 2 मई को मतगणना हुई थी. जिसमें कोरोना संक्रमण को रोकने के किसी भी नियम का पालन नहीं किया गया था. कोरोना के नियमों की जमकर धज्जियां उड़ाई गई थी. रिपोर्ट्स की मानें तो सात शिक्षकों की चुनावी डयूटी के दौरान मौत हुई है. 6 मई 2021 को बीएसए फिरोजाबाद ने जिला प्रशासन को एक पत्र भी लिखा था. जिसमें चुनावी ड्यूटी में लगे सात शिक्षकों /कर्मचारियो की मौत को दिखाया गया था.

यूपी में पंचायत चुनाव की मतगणना के समय की तस्वीर.(फोटो क्रेडिट-आज तक)
यूपी में पंचायत चुनाव की मतगणना के समय की तस्वीर.(फोटो क्रेडिट-आज तक)

वहीं यूपी के हमीरपुर जिले में पंचायत चुनावों की ड्यूटी के दौरान कुल चार अध्यापकों की मौत हुई है. जिसकी जानकारी बीएसए सतीश कुमार ने दी. महोबा जिले में पंचायत चुनाव की ड्यूटी के दौरान कुल 11 अध्यापकों की मौत हुई है. उन्नाव में भी 32 शिक्षकों की मौत हो गई है. उन्नाव बीएसए प्रदीप कुमार पांडेय ने 32 शिक्षकों की सूची सचिव उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद प्रयागराज को भेज दी है.

वहीं माध्यमिक शिक्षक संघ ने भी सीएम को पत्र लिखकर प्रति शिक्षक एक करोड़ रुपये के मुआवजे की मांग की है. लेकिन इन तमाम आंकड़ों के बावजूद भी उत्तर प्रदेश के बेसिक शिक्षा मंत्री का यह कहना है कि चुनाव प्रक्रिया के दौरान महज तीन अध्यापकों की मौत हुई है.

योगी ने दिए नई गाइडलाइंस बनाने के आदेश

सीएम योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार 20 मई को अधिकारियों के साथ एक बैठक की. जिसमें चुनाव ड्यूटी में हुई मौतों पर नया आदेश दिया. सीएम ने मुख्य सचिव से कहा कि वह राज्य चुनाव आयोग से बात करें और चुनाव ड्यूटी के दौरान सरकारी कर्मचारियों की मृत्यु पर नई गाइडलाइंस बनाएं. ऐसा इसलिए क्योंकि मौजूदा गाइडलाइंस के मुताबिक चुनाव ड्यूटी में लगे उन्हीं लोगों की मृत्यु पर मुआवजा दिया जाता है, जिनकी मौत चुनाव स्थल पर हुई हो, या फिर चुनाव प्रक्रिया के बाद घर पहुंचने से पहले हुई हो.

सीएम योगी ने कहा कि यह गाइडलाइन पुरानी है. कोरोना संक्रमण को भी कवर नहीं करती. यह गाइडलाइन तब बनी थी, जब कोरोना वायरस जैसी कोई चीज नहीं थी. अब नई चुनौतियां हैं. शिक्षकों और दूसरे सरकारी कर्मियों की कोरोना से मृत्यु, चुनाव ड्यूटी के बाद निश्चिय समय के अंदर होती हो, तो उसे भी गाइडलाइन में शामिल किया जाए. तब सरकार सहायता और मुआवजा दे सकेगी.

सीएम योगी ने मुख्य सचिव और अपर मुख्य सचिव पंचायती राज को निर्देश दिए कि राज्य निर्वाचन आयोग से बात करें और ऐसे हर कर्मचारी के परिवार को आर्थिक सहायता और नौकरी दिलायी जाए, जिनकी मौत चुनाव ड्यूटी के दौरान हुई है.


वीडियो: पंचायत चुनाव में वो काम हो गया है कि भाजपा चक्कर में पड़ जाएगी!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

बाप ने बेटे को मार-मारकर अस्पताल पहुंचाया, वजह गुस्से को और भड़का देगी

बाप ने बेटे को मार-मारकर अस्पताल पहुंचाया, वजह गुस्से को और भड़का देगी

इस पिटाई का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है.

राजस्थान: पुलिसिया पिटाई से युवक की मौत का आरोप, चोरी रोकने के नाम पर उठा ले गई थी

राजस्थान: पुलिसिया पिटाई से युवक की मौत का आरोप, चोरी रोकने के नाम पर उठा ले गई थी

पुलिस ने मारपीट के आरोपों को बेबुनियाद बताया है.

BJP के 'झुग्गीवासियों' वाले पोस्टर पर तमिल लेखक की तस्वीर, लोग बोले- रंगभेद की मिसाल

BJP के 'झुग्गीवासियों' वाले पोस्टर पर तमिल लेखक की तस्वीर, लोग बोले- रंगभेद की मिसाल

MCD चुनाव के मद्देनजर 'झुग्गी सम्मान यात्रा' निकाल रही है BJP.

अश्विन ने तोड़ा हरभजन का बड़ा रिकॉर्ड तो भज्जी ने क्या कहा?

अश्विन ने तोड़ा हरभजन का बड़ा रिकॉर्ड तो भज्जी ने क्या कहा?

अश्विन से आगे अब सिर्फ कपिल और कुंबले हैं.

बेंगलुरु: अस्पताल ने बरती ऐसी लापरवाही, डेढ़ साल शव गृह में पड़े रहे कोरोना मृतकों के शव

बेंगलुरु: अस्पताल ने बरती ऐसी लापरवाही, डेढ़ साल शव गृह में पड़े रहे कोरोना मृतकों के शव

पहली लहर में कोविड का शिकार हुए थे.

अजिंक्य रहाणे ने दे दिया अगले मैच के प्लेइंग इलेवन का जवाब

अजिंक्य रहाणे ने दे दिया अगले मैच के प्लेइंग इलेवन का जवाब

जल्दी पारी घोषित क्यों नहीं की ये भी बता दिया.

बिटकॉइन को भारत में करेंसी का दर्जा मिलेगा? सरकार ने जवाब दे दिया है

बिटकॉइन को भारत में करेंसी का दर्जा मिलेगा? सरकार ने जवाब दे दिया है

लोकसभा में पूछे गए सवाल पर क्या बोलीं वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण?

मैच के बाद अश्विन ने कोच द्रविड़ को दिया किस बात का क्रेडिट?

मैच के बाद अश्विन ने कोच द्रविड़ को दिया किस बात का क्रेडिट?

मौका गंवाने के बाद भी अश्विन की बात कमाल है.

मैच नहीं जीते लेकिन अश्विन ने बहुत बड़ा RECORD बना दिया!

मैच नहीं जीते लेकिन अश्विन ने बहुत बड़ा RECORD बना दिया!

कुंबले, कपिल जैसे दिग्गजों की लिस्ट में पहुंचे अन्ना.

ओमिक्रोन वेरिएंट वैक्सीन को बेकार कर देगा? सौम्या स्वामीनाथन और WHO अलग-अलग बातें कर रहे

ओमिक्रोन वेरिएंट वैक्सीन को बेकार कर देगा? सौम्या स्वामीनाथन और WHO अलग-अलग बातें कर रहे

दक्षिण अफ्रीका के शीर्ष विषाणु विशेषज्ञ और AIIMS प्रमुख ने भी अपनी राय दी है.