Submit your post

Follow Us

370 के बाद बिहार के 2 लड़कों ने कश्मीरी लड़कियों से शादी की, उन्हें नहीं पता था कहां फंसने वाले हैं

5
शेयर्स

कश्मीर की दो लड़कियां. लापता हो गईं. पिता ने किडनैपिंग का केस दर्ज कराया. शक़ जताया दो लड़कों पर. दोनों बिहार के रहने वाले हैं. जम्मू-कश्मीर पुलिस तफ़्तीश करते हुए सुपौल पहुंची. यहां राम बिशनपुर गांव है. दोनों बहनें यहां मिलीं. दोनों ने गांव में अपनी गृहस्थी बसा ली थी. उन्होंने पुलिस को बताया कि उन्होंने अपनी मर्ज़ी से लव मैरिज़ की है. दोनों का कहना है, वो अपने-अपने पतियों के साथ रहना चाहती हैं. दोनों में से एक बहन ने कहा-

हमने अपने बॉयफ्रेंड के साथ शादी की है. हम इनके साथ ही रहना चाहते हैं. वापस कश्मीर नहीं जाना चाहते. 

क्या केस है?
ये केस बहनों और दो भाइयों का है. बहनें कश्मीर की हैं. भाई बिहार के- परवेज़ और तबरेज़. तबरेज़ की उम्र 26 साल है. परवेज़ 24 साल का है. दोनों पिछले चार साल से रामबन जिले के नगमा बनिहाल गांव में मज़दूरी करते थे. यहीं उनकी मुलाकात इन दोनों बहनों से हुई. प्यार हुआ. दोनों लड़कियां अपने घरवालों को बिना बताए, उनकी इजाज़त लिए बिना घर छोड़कर आ गईं. उनके पिता पुलिस में पहुंचे. लड़कियों के किडनैपिंग की शिकायत दर्ज कराई. शक़ जताया परवेज़ और तबरेज़ पर.

लड़कियां क्या कह रही हैं?
लड़कियों को तलाश करते हुए जम्मू-कश्मीर पुलिस बिहार पहुंचीं. पता चला, दोनों बहनों ने शादी कर ली है. एक ने परवेज़ से, एक ने तबरेज़ से. दोनों लड़कियों ने पुलिस को बताया कि उन्होंने अपनी मर्ज़ी से शादी की है. कोई जोर-ज़बरदस्ती नहीं हुई है उनके साथ. और वो उनके साथ बिहार में ही रहना चाहती हैं. मगर इसके बावजूद पुलिस तबरेज़ और परवेज़ को अरेस्ट करके जम्मू-कश्मीर ले गई है. लड़कियों को भी कश्मीर वापस ले जाया गया है. उन्हें वापस ले जाने से पहले पुलिस ने सेक्शन 164 के तहत कोर्ट में उनके बयान दर्ज करवाए. परवेज़ का कहना है-

मैं और मेरी पत्नी, दोनों बालिग हैं. हमने आपसी सहमति से शादी की है.

हिंदुस्तान टाइम्स में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, दोनों में से एक लड़की ने मैजिस्ट्रेट के आगे दिए गए बयान में कहा-

आर्टिकल 370 हटाया जाना हमारे लिए बिल्कुल सही मौका था. हमें मालूम चला कि अब कोई भी कश्मीरी लड़की से शादी कर सकता है. कश्मीर में बस सकता है. हम चारों ने कश्मीर में ही मुस्लिम तौर-तरीकों से शादी की.

कश्मीरी लड़कियों से शादी करने को लेकर खूब गंदगी हुई
5 अगस्त को भारत सरकार ने आर्टिकल 370 निष्क्रिय कर दिया था. इसके बाद सोशल मीडिया पर एक ख़ास किस्म की पोस्ट्स चलने लगीं. इनमें सरकार के फैसले को सेलिब्रेट करते हुए लिखा जा रहा था कि अब कश्मीरी लड़कियों से शादी करेंगे. कश्मीरी लड़कियां लाएंगे.

काफी गंदगी मचाई लोगों ने सोशल मीडिया पर. इन पोस्ट्स की काफी थू-थू भी हुई. ऐसा नहीं कि आर्टिकल 370 के रहते कश्मीरी लड़कियों से शादी करने पर किसी तरह की पाबंदी थी. ऐसा भी नहीं कि ऐसी शादियां नहीं हो रही थीं. बालिग होने और आपसी सहमति होने की स्थिति में पहले भी कोई रोक नहीं थी.

इस केस में चारों लड़के-लड़कियां ख़ुद को बालिग बता रहे हैं. मगर वो बालिग हैं कि नहीं, ये पुलिस ने अभी साफ नहीं किया है.


कश्मीर में पैलेट गन चल रही है फिर हालात सामान्य कैसे? ज़्यादती के आरोप सच हैं क्या?

बिहार पुलिस ट्रिगर दबाती रह गई लेकिन 21 राइफल्स में से एक गोली भी न निकली

क्या अब लड़कियां भी 21 की उम्र के बाद की शादी कर पाएंगी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

जामिया और AMU में पुलिस की कार्रवाई पर सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा?

15 दिसंबर को दोनों यूनिवर्सिटीज़ में पुलिस ने कार्रवाई की थी.

मऊ: नागरिकता संशोधन क़ानून के विरोध प्रदर्शन में लोगों ने पुलिस थाने में आग लगा दी

अधिकारियों ने अब धारा 144 लगा दी है.

जामिया में हिंसक प्रोटेस्ट के बाद पूरे उत्तर प्रदेश में क्या चल रहा है?

उत्तर प्रदेश की कई जगहों पर धारा 144 लगा दी गई है.

CAA प्रोटेस्टः जामिया यूनिवर्सिटी के कैम्पस में घुसी पुलिस, डराने वाली तस्वीरें आ रही हैं

पुलिस की कार्रवाई में कई छात्र घायल.

लद्दाख और सियाचिन में तैनात जवानों को खाने की जरूरी चीजें भी नहीं मिल रहीं

CAG रिपोर्ट में सामने आई बात.

जामिया CAB प्रदर्शनः पुलिस के आंसू गैस गोले से छात्र का अंगूठा फट गया

जामिया में संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन तेज, परीक्षाएं आगे बढ़ीं.

नागरिकता कानून में हुए संशोधन पर संविधान एक्सपर्ट्स का क्या कहना है?

एक्सपर्ट्स का दावा, ये संशोधन संविधान के आर्टिकल 14, 5 और 11 का उल्लंघन है.

पासपोर्ट पर कमल छाप तो दिया लेकिन सरकार खुद इसे राष्ट्रीय फूल नहीं मानती

बवाल मचा तो सरकार ने कहा था राष्ट्रीय प्रतीकों को छाप रहे हैं.

16 दिसंबर को इस वजह से नहीं होगी निर्भया के चारों दोषियों को फांसी

सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई के बाद ही डेथ वारंट पर फैसला होगा.

CAB विरोध: असम में पुलिस की फायरिंग से दो की मौत, कर्फ़्यू मान नहीं रही है भीड़

तीन BJP विधायकों के घर पर हमला. मेघालय के भी कुछ इलाकों में कर्फ़्यू. तीन राज्य में इंटरनेट बंद.