Submit your post

Follow Us

हरमनप्रीत-स्मृति के बाद अब इतनी सारी लड़कियां BBL खेलने जा रही हैं!

विमेंस बिग बैश लीग से भारतीय महिला क्रिकेट टीम के लिए एक बेहद अच्छी खबर आई है. ऑस्ट्रेलिया में होने वाली विमेंस बिग बैश लीग के लिए भारतीय महिला क्रिकेट से छह खिलाड़ियों को साइन किया गया है. इससे पहले किसी भी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट लीग के लिए इतने भारतीय खिलाड़ियों का चयन नहीं हुआ है.

भारत की T20 कप्तान हरमनप्रीत कौर और सलामी बल्लेबाज़ जमाइमा रॉड्रिग्ज़ को मेलबर्न रेनेगेड्स ने अपने दल में शामिल किया है. इन दोनों खिलाड़ियों से पहले इसी हफ्ते भारत की T20 टीम की उपकप्तान स्मृति मंधना और टीम की ऑफ स्पिन ऑल राउंडर दीप्ति शर्मा को सिडनी थंडर की टीम ने अपने खेमे में जोड़ा था.

वहीं बिग बैश लगी की टीम सिडनी सिक्सर्स ने सलामी बल्लेबाज शैफाली वर्मा और ऑल राउंडर राधा यादव को अपनी टीम के लिए साइन किया है.

भारतीय कप्तान हरमनप्रीत की बात करें तो वे भारत की तरफ से इंटरनेशनल T20 लीग की किसी भी टीम में शामिल होने वाली पहली खिलाड़ी रही हैं. वे इससे पहले सिडनी थंडर के लिए खेल चुकी हैं. साथ ही अपने पहले ही सीजन में प्लेयर ऑफ दी टूर्नामेंट का खिताब भी जीत चुकी हैं. वहीं उपकप्तान की बात करें तो मंधना इससे पहले ब्रिसबेन हीट और होबार्ट हरिकेन्स की टीमों के लिए खेल चुकी हैं.

जमाइमा रोड्रिग्ज़ की बात करें तो ये उनका बिग बैश लीग में डेब्यू सीजन होगा. इसके अलावा दीप्ति, शफाली और राधा यादव के लिए भी यह पहला ऐसा मौका होगा जब उन्हें इस लीग में खेलने का मौका मिलेगा.

हालांकि हरमनप्रीत की बात करें तो वे इस समय अपने अंगूठे की चोट से जूझ रहीं हैं. चोट के चलते उन्हें ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हाल ही में खत्म हुई वनडे सीरीज से भी बाहर रखा गया था. इंडिया और ऑस्ट्रेलिया के बीच 30 सितम्बर से खेले जाने वाले एकमात्र पिंक टेस्ट में भी हरमनप्रीत टीम का हिस्सा नहीं होंगी.

रोड्रिग्ज़ की बात करें तो वे में ही इंग्लैंड में ‘दी हंड्रेड’ टूर्नामेंट खेल कर आ रही हैं. इस टूर्नामेंट में रोड्रिग्ज़ ने सात मुक़ाबले खेले जिसमें उन्होंने 151 की स्ट्राइक रेट से 249 रन बनाए. रोड्रिग्ज़ इस टूर्नामेंट में सबसे ज़्यादा रन बनाने वालों में दूसरे स्थान पर रहीं हैं.


IPL 2021: धोनी को आउट करना हो तो इस गेंदबाज को गेंद थमा दो!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.