Submit your post

Follow Us

ऋषि कपूर को याद करते हुए उनकी पाकिस्तानी हीरोइन ज़ेबा ने लिखा - 'सिर्फ तुम्हारी हिना'

1991 में ऋषि कपूर की एक रोमांटिक ड्रामा फिल्म आई – ‘हिना’. इसे रणधीर कपूर ने डायरेक्ट किया था. इसमें ऋषि के साथ हीरोइन थीं पाकिस्तानी एक्ट्रेस ज़ेबा बख़्तियार. उन्होंने ऋषि के जाने पर शोक व्यक्त किया है. इंस्टाग्राम पर फिल्म की 3 फोटो शेयर करते हुए लिखा –

“अभी यह खबर सुनी कि मेरे प्यार दोस्त ऋषि कपूर नहीं रहे. सुनकर एक धक्का लगा है. टाइम कितना जल्दी निकल गया. लगता है कि ‘हिना’ जैसे एक दिन पहले शूट हुई थी. मैं आपको बहुत याद करूंगी, और मैं आपको प्यार करती हूं. यह दुःख झेलना बहुत मुश्किल है! आप हमारे लिए एक सुपरस्टार थे. भगवान आपकी आत्मा को शांति दे, प्रिय ऋषि. मेरे चंद्र प्रकाश! आप हमारे दिलों में हैं, और हमेशा रहेंगे. शूट के दौरान आपने जो कुछ भी सिखाया, उस सब बातों के लिए शुक्रिया! अब और नहीं लिख सकती! केवल तुम्हारी हिना!”

ऋषि से बहुत कुछ सीखने को मिला 

ज़ेबा ने ‘स्पॉटबॉय’ पत्रिका के साथ बातचीत की. बताया कि उन्होंने ऋषि की मृत्यु से दो रात पहले ही कॉल किया था. डब्बू, यानि रणधीर कपूर ने उन्हें बताया था कि ऋषि की सेहत सुधर रही है. उसके बाद यह खबर सुनना उनके लिए बहुत शॉकिंग था. ऋषि के साथ काम करने का बताते हुए कहती हैं कि वे इसके लिए खुद को बहुत भाग्यशाली मानती हैं. वे उनको एक हीरो और एक एक्टर की तरह पसंद करती रही थीं. लेकिन साथ में काम करना एक बहुत बड़ी ख़ुशी की बात थी. साथ ही एक बहुत बड़ा सीखने वाला अनुभव –

“मैंने जितने लोगों के साथ काम किया है, उनमें से ऋषि उन कुछ लोगों में से थे, जो बहुत प्रोफेशनल थे. उन्हें अपने काम के बारे में सबकुछ बहुत गहराई से पता होता था. वे अपनी परफॉरमेंस में कोई समझौता नहीं करते थे. उनके आसपास होना और उन्हें काम करते हुए देखना ही सीखने के लिए काफ़ी था.”

उन्होंने पाकिस्तानी टेलीविज़न में ‘अनारकली’ नाम का एक शो किया था. सईद जाफ़री ने इस नाटक की एक वीडियो कैसेट राज कपूर को दिखाई. उसके बाद फिल्म के डायलॉग लिखने वाली पाकिस्तानी लेखिका हसीना मोइन ने भी ज़ेबा का नाम रेकमेंड किया. राज कपूर ने उनका काम देखा और एप्रूव कर दिया. हालांकि जब वे इंडिया आईं, तब तक राज कपूर की मृत्यु हो चुकी थी. उन्हें रणधीर कपूर ने ऑडिशन के लिए बुलाया था. जिसके बाद वे चुनी गईं.

शूटिंग के पहले दिन एक स्क्रीनशूट और फोटोशूट होना था. ज़ेबा बहुत नर्वस थीं. क्योंकि वे नई थीं, और हरेक बात से अनजान. लेकिन ऋषि ने उन्हें कंफर्टेबल महसूस करवाया. उनका हौंसला बढ़ाया. दो दिन में ही ज़ेबा को कपूर फैमिली खुद के परिवार जैसी लगने लगी.

Rishi And Henna
‘हिना’ फिल्म के सीन में ऋषि और ज़ेबा (फोटो: ज़ेबा बख़्तियार इंस्टाग्राम)

सलामत रहे दोस्ताना हमारा

वे बताती हैं कि वे ऋषि से संपर्क में रहती थीं.

“जब तक मोबाइल फ़ोन हमारी ज़िंदगी में नहीं आए थे, मैं उन्हें उनके लैंडलाइन फ़ोन पर कॉल किया करती थी. उनके जन्मदिन और दिवाली पर बधाई देने के लिए. फिर जब व्हाट्सऐप शुरू हो गया, हम एक दूसरे को विश करने के लिए उस पर बातें करते थे. जब भी रणबीर कपूर की कोई फिल्म रिलीज़ होती, तो वे मुझे मैसेज किया करते थे. और मैं उसे जरूर देखा करती थी.”    

उनसे पूछा गया कि उन्हें ऋषि कपूर की कौनसी फिल्म सबसे ज़्यादा पसंद है. उनका जवाब साफ़ था – ‘हिना’.


वीडियो देखें – ऋषि कपूर की ‘बॉबी’ से शुरू हुआ राजेश खन्ना के साथ उनका किस्सा ‘आ अब लौट चलें’ पर खत्म हुआ

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

दिल्ली में शराब पर सरकार की ‘स्पेशल फीस’

..ताकि ‘रहें सलामत पीने वाले’.

लद्दाख BJP अध्यक्ष ने छोड़ी पार्टी, कहा- लद्दाख के लोगों के बारे में न पार्टी सुन रही, न प्रशासन

चेरिंग दोरजे दो महीने पहले ही अध्यक्ष बनाए गए थे.

सूरत में प्रवासी मज़दूरों का सब्र फिर जवाब दे गया है

इस बार भी बीच में पुलिस ही पिस रही है.

यूपी : CM योगी के मृत पिता के बहाने लॉकडाउन में बद्रीनाथ-केदारनाथ जा रहे थे विधायक, पुलिस ने धर लिया

नौतनवा के विधायक अमनमणि त्रिपाठी का है मामला.

जानिए कौन हैं जम्मू कश्मीर के हंदवाड़ा में शहीद हुए पांच सुरक्षाकर्मी

सुरक्षाकर्मी आतंकियों के कब्जे से आम लोगों को निकालने के लिए गए थे.

दिल्ली में एक ही बिल्डिंग में मिले कोरोना के 58 पॉजिटिव मरीज

जिन्हें संक्रमण हुआ है वो लोग एक ही टॉयलेट इस्तेमाल करते थे.

कुलभूषण जाधव मामले में वकील हरीश साल्वे ने खोले पाकिस्तान के कई बड़े राज

भारतीय अधिवक्ता परिषद के ऑनलाइन लेक्चर में कई बातें बताईं.

लोकपाल मेंबर कोरोना पॉज़िटिव पाए गए थे, अब हार्ट अटैक से मौत हो गई

अप्रैल से एम्स में थे अजय कुमार त्रिपाठी.

लॉकडाउन: मां चूल्हे पर बर्तन में पत्थर पकाती जिससे बच्चों को लगे कि खाना बन रहा है

भूखे बच्चे इंतजार करते-करते सो जाते.

पालघर: लिंचिंग स्पॉट पर जा रही पुलिस की बस को 200 लोगों ने रोका था, मारे थे पत्थर

लिंचिंग वाली जगह से करीब 13 किमी दूर तीन घंटे तक रोक कर रखा था.