Submit your post

Follow Us

वेंटिलेटर और एम्बुलेंस का इंतजाम नहीं हो सका, कोविड से NSG कमांडो की मौत हो गई

दिल्ली सहित देशभर में कोरोना वायरस से बुरा हाल है. कई जगह से ऑक्सीजन, दवाई, बेड की कमी की रिपोर्ट आ रही है. कई ऐसी रिपोर्ट्स भी आई हैं जहां ऑक्सीजन की कमी के कारण लोगों की मौत हो गई है. वक्त रहते वेंटिलेटर और एम्बुलेंस का इंतजाम नहीं होने के कारण नेशनल सिक्योरिटी गार्ड (NSG) के एक सीनियर कमांडो 5 मई को कोरोना से जिंदगी की जंग हार गए. ग्रेटर नोएडा के सेंट्रल आर्म्ड पुलिस फोर्सेज (CAPF) हॉस्पिटल में एनएसजी के सीनियर कमांडर बीरेंद्र कुमार झा की मौत हो गई है.

इंडिया टुडे की रिपोर्ट मुताबिक़ कोरोना वायरस की वजह से भारत के टॉप आतंकवाद विरोधी कमांडो फ़ोर्स में यह पहली मौत है.

NSG का यह ट्वीट देखिए.

नहीं हो सका वेंटिलेटर का इंतजाम

इंडिया टुडे ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि 54 साल के ग्रुप कमांडर 19 अप्रैल को कोविड की चपेट में आए थे. उनकी हालात ख़राब होने पर CAPF के हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया, जहां उनकी तबीयत में सुधार था. लेकिन 4 मई की देर रात उनकी तबीयत ज्यादा ख़राब हो गई.

इंडिया टुडे ने NSG के टॉप सूत्रों के हवाले से बताया है कि जब हमें लगा कि उनकी हालत बिगड़ रही है, तो हमने उन्हें वेंटिलेटर पर रखने को कहा. लेकिन दुर्भाग्य से हॉस्पिटल के दो वेंटिलेटर काम नहीं कर रहे थे. इसके बाद एम्स दिल्ली के जरिए कोशिश की गई, लेकिन वहां बताया गया कि इतने कम वक्त में व्यवस्था नहीं की जा सकती. इसके बाद NSG ने नोएडा के फोर्टिस हॉस्पिटल में संपर्क किया, जहां वेंटिलेटर उपलब्ध हुआ. अब अगली चुनौती ग्रुप कमांडर को सुरक्षित हॉस्पिटल में शिफ्ट करना थी.

Nsg Commando B K Jha
54 साल की उम्र में NSG ग्रुप कमांडर बीरेंद्र निधन हो गया है.

अब CAPF हॉस्पिटल के पास शिफ्ट करने के लिए विशेष एम्बुलेंस नहीं थी. फिर से फोर्टिस से संपर्क किया गया तो पता चला कि उनके पास भी लाइफ-सेविंग एम्बुलेंस नहीं थी. इस सब में वक्त जा रहा था. ऐसे में अंत में NSG ने एडवांस्ड कार्डियक लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस के जरिए भेजा लेकिन कार्डियक अरेस्ट के कारण उनकी मौत हो गई.

अधिकारियों ने बताया है कि एम्बुलेंस 2:30 बजे पहुंची लेकिन 3 बजे ग्रुप कमांडर की मौत हो गई. डॉक्टर्स ने पूरी कोशिश की लेकिन उन्हें बचा नहीं पाए.

कौन थे बीरेंद्र कुमार झा?

ग्रुप कमांडर बीरेंद्र कुमार झा मूल रूप से बॉर्डर सिक्योरिटी फ़ोर्स (BSF) कैडर के 1993 बैच के अधिकारी थे. वह बिहार से थे. साल 2018 में डेपुटेशन पर NSG में शामिल हुए थे. 54 साल की उम्र में उनका निधन हो गया है.

NSG के अंतरिम डेटा के मुताबिक़ अब तक कुल 459 कोरोना वायरस से संक्रमण के मामले सामने आए हैं. लेकिन अब सिर्फ 59 सक्रिय केस बचे हैं.


विडियो- कोविड-19: दवाइयों, हॉस्पिटल्स, ऑक्सीजन सप्लायर्स, और वैक्सीन आयात के लिए RBI का 50 हजार करोड़ का ऐलान

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

भारी नुक़सान की ख़बरें लेकिन एक राहत की बात है

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

जानिए वैक्सीन को लेकर देश में क्या चल रहा है.

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी सात राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुके हैं.

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.

कोरोना की दूसरी लहर के बीच किन-किन देशों ने भारत को मदद की पेशकश की है?

पाकिस्तान के एक संगठन की ओर से भी मदद की बात कही गई है.

अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हम राष्ट्रीय आपातकाल जैसी स्थिति में हैं, क्या केंद्र के पास कोई नेशनल प्लान है?

ऑक्सीजन सप्लाई से जुड़ी एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा था.

'सबसे कारगर' कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनी फाइजर ने भारत के सामने क्या शर्त रख दी है?

भारत सरकार की ओर से इस पर अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.