Submit your post

Follow Us

कोरोना मरीज की मौत, परिवार को 14 लाख का बिल थमाया, पैसे नहीं देने पर स्टांप पेपर पर लिया वादा!

कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. साथ ही प्राइवेट अस्पतालों के मरीजों से मोटी रकम वसूलने के मामले भी सामने आ रहे हैं. ऐसा ही एक मामला उत्तर प्रदेश के नोएडा का है. यहां पर 28 जून को एक कोरोना पॉजिटिव शख्स की मौत हो गई. ‘हिंदुस्तान टाइम्स’ की रिपोर्ट के अनुसार, अस्पताल ने परिवार को करीब 14 लाख रुपये का बिल थमाया. परिवार के पास इतने पैसे नहीं थे, तो उन्होंने स्टांप पेपर के जरिए पैसे चुकाने का वादा किया. इसके बाद शव को अंतिम संस्कार के लिए भेजा गया. मामला सामने आने के बाद नोएडा प्रशासन ने जांच की बात कही है.

क्या है मामला 

‘हिंदुस्तान टाइम्स’ की खबर के अनुसार, नोएडा निवासी एक व्यक्ति को 7 जून को फॉर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया. 28 जून को उसकी मौत हो गई. वह 15 दिन से वेंटिलेटर पर था. मौत की खबर मिलने पर परिवार अस्पताल पहुंचा. परिवार ने अखबार को बताया कि उनसे इलाज के 14 लाख रुपये चुकाने को कहा गया. लेकिन उनके पास इतने पैसे नहीं थे. ऐसे में अस्पताल ने चार लाख रुपये इंश्योरेंस पॉलिसी के जरिए कम किए. 25 हजार रुपये परिवार ने अस्पताल में जमा कराए. लेकिन फिर भी 10 लाख रुपये बच गए.

स्टांप पेपर पर लिया पैसे चुकाने का वादा

रिपोर्ट के अनुसार, परिवार ने कहा कि अस्पताल ने उनसे स्टांप पेपर पर बकाया पैसे लेने का वादा लिया. मृतक के परिवार ने कहा कि बकाया पैसों को लेकर सेटलमेंट नहीं होने तक शव अस्पताल में ही रहा. पैसों की बात बनने के बाद शव को अंतिम संस्कार के लिए दिया गया.

मृतक के भतीजे ने ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ से कहा कि अस्पताल ने बिल में वेंटिलेटर चार्ज के साथ ही पीपीई किट, दवाओं और बेड चार्ज भी जोड़ रखा था. बिल में दवाओं की कीमत ही छह लाख रुपये के करीब थी.

अस्पताल ने कहा- सरकार की ओर से तय चार्ज ही लिया

अस्पताल का कहना है कि मेडिकल बिल में पैसे इलाज के अनुसार ही जोड़े गए. केंद्र सरकार की ओर से तय चार्ज ही लगाया गया. साथ ही मरीज के बिल में दवाओं और इलाज में डिस्काउंट भी दिया गया. अस्पताल ने कहा कि मरीज के परिवार को हर कदम पर इलाज की जानकारी दी गई. इलाज के लिए जो भी किया गया, उसकी जानकारी सीएमओ को भी दी गई है. अस्पताल का दावा है कि बिल बढ़ा-चढ़ाकर नहीं दिया गया है.

जिला प्रशासन कर रहा जांच

मामले की शिकायत जिला प्रशासन के पास भी पहुंची है. गौतम बुद्ध नगर के डीएम सुहास एलवाई ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है. मीडिया रिपोर्ट्स में ज्यादा पैसे लेने की बात कही गई है, लेकिन इसकी पुष्टि नहीं हुई है. हालांकि स्वास्थ्य विभाग जांच कर रहा है.

भारत में कोरोना वायरस के मामलों का स्टेटस


Video: पटना: शादी में तय सीमा से ज्यादा मेहमानों को बुलाया गया, दूल्हा कोरोना पॉजिटिव निकला

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

'कोरोनिल' पर पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण पूरी तरह यू-टर्न मार गए!

पतंजलि का दावा था कि 'कोरोनिल' दवा कोरोना वायरस ठीक करने में कारगर होगी.

चीन के ऐप तो बैन हो गए, पर उन भारतीयों का क्या जो इनमें काम करते हैं

चीनी ऐप के कर्मचारियों में घबराहट है.

चीनी ऐप पर बैन के बाद चीन ने भारत के बारे में क्या बयान दिया है?

भारत को कैसी जिम्मेदारी याद दिलाई चीन ने?

लगभग 16 मिनट के राष्ट्र के नाम संदेश में नरेंद्र मोदी ने क्या काम की बात की?

संदेश का सार यहां पढ़िए.

भारत सरकार के चाइनीज़ ऐप बंद करने के स्टेप पर TikTok ने चिट्ठी में क्या लिखा?

अपने यूज़र्स के बारे में भी कुछ कहा है.

PM CARES के तहत बने देसी वेंटिलेटर इस हाल में मिले कि लौटाने की नौबत आ गई

और ख़राब वेंटिलेटर बनाने वालों ने क्या सफ़ाई दी?

भारत में चीन के 59 मोबाइल ऐप बैन, टिकटॉक, यूसी, वीचैट भी लपेटे में

कहा कि देश की सुरक्षा की ख़ातिर इन्हें बैन किया जा रहा है.

गैंगस्टर आनंदपाल एनकाउंटर के बाद हुई हिंसा के लिए CBI ने चार्जशीट में किस-किस का नाम जोड़ा है?

एनकाउंटर की सीबीआई जांच की मांग को लेकर हिंसा हुई थी.

क्या अरुणाचल में चीन भारतीय सीमा में 50 किलोमीटर तक घुस गया है?

बीजेपी सांसद ने यह दावा किया है.

पतंजलि का कोरोनिल लॉन्च करने वाले डॉक्टर ने दवा की सबसे बड़ी गड़बड़ी बता दी!

मरीज़ों को केवल कोरोनिल नहीं दी गई थी.