Submit your post

Follow Us

सोनाक्षी को बचाने आए शत्रुघ्न सिन्हा ने मुकेश खन्ना का गेम ओवर कर दिया

लॉकडाउन में एक ‘महाभारत’ टीवी पर आ रहा है और दूसरा उसमें भीष्म पितामह का किरदार निभाने वाले मुकेश खन्ना ने मचा रखा है. मुकेश खन्ना ने पहले सोनाक्षी सिन्हा पर तंज कसा. फिर एकता कपूर का मज़ाक उड़ाया. नीतिश भारद्वाज को सुनाया. लेकिन अब उनके सामने शत्रुघ्न सिन्हा आ गए हैं. जब ‘रामायण’ टीवी पर आया, तब मुकेश खन्ना ने कहा था कि इससे सोनाक्षी सिन्हा जैसे लोगों की मदद होगी, जिन्हें हमारी मायथॉलजी के बारे में कुछ नहीं पता. सोनाक्षी केबीसी में गई थीं. वहां उन्होंने रामायण से जुड़े एक सवाल का जवाब खुद नहीं दिया. लाइफलाइन ले लिया. मुकेश खन्ना उसी संदर्भ में बात कर रहे थे.

‘महाभारत’ में काम कर चुके उनके साथी कलाकारों नीतिश भारद्वाज (श्री कृष्ण) और पुनीत इस्सर (दुर्योधन) मुकेश खन्ना के बात करने के तरीके का ज़िक्र अपने इंटरव्यूज़ में कर चुके हैं. लेकिन अब इस रॉयल रम्बल में सोनाक्षी सिन्हा के पिता शत्रुघ्न सिन्हा की एंट्री हो गई. और उनके आते ही मुकेश खन्ना ने रिंग छोड़कर भागना शुरू कर दिया है. अपने हालिया इंटरव्यू में शत्रुघ्न सिन्हा ने बिना मुकेश खन्ना का नाम लिए, उन्हें धो दिया. सिनेमा वेबसाइट बॉलीवुड हंगामा से बात करते हुए शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा

”मुझे लगता है सोनाक्षी के रामायण वाले सवाल का जवाब नहीं देने से किसी को तकलीफ है. सबसे पहली बात कि ये शख्स रामायण से जुड़ी हर चीज़ के ऊपर बात करने वाला एक्सपर्ट कैसे बन गया? और किसने उन्हें हिंदू धर्म का रक्षक नियुक्त किया है? मुझे अपने तीनों बच्चों पर गर्व है. सोनाक्षी अपने बूते स्टार बनी. मुझे कभी उसे लॉन्च करने की ज़रूरत नहीं पड़ी. वो ऐसी बेटी है, जिसे पाकर हर बाप को नाज होगा. रामायण से जुड़े किसी सवाल का जवाब नहीं देकर वो कम अच्छी हिंदू नहीं हो जाएगी. उसे किसी से सर्टिफिकेट लेने की ज़रूरत नहीं है.”

बिटिया सोनाक्षी के साथ 'शॉटगन' शत्रुघ्न सिन्हा.
बिटिया सोनाक्षी के साथ ‘शॉटगन’ शत्रुघ्न सिन्हा.

इस पूरी बातचीत में शत्रुघ्न सिन्हा ने कहीं मुकेश खन्ना का ज़िक्र नहीं किया है. लेकिन शत्रु जी की ये बात सुनकर मुकेश खन्ना भी समझ चुके हैं कि यहां उनके बारे में ही बात हो रही है. इस पूरे प्रकरण के बाद बैकफुट पर जा चुके मुकेश खन्ना ने एक इंटरव्यू में अपना पक्ष रखा. उन्होंने टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए कहा

”मेरे कमेंट को लोगों ने तोड़-मरोड़कर गलत तरीके से शत्रु जी के सामने पेश किया है. मैं उन्हें लंबे समय से जानता हूं और मेरे मन में उनके लिए बहुत सम्मान है. मैंने सोनाक्षी का नाम सिर्फ उदाहरण के तौर पर लिया था. इसका मतलब ये नहीं है कि मैं उन्हें नीचा दिखाना या उनकी जानकारी पर सवालिया निशान लगाना चाहता था. मेरा मकसद उन्हें टार्गेट करना बिलकुल नहीं था. हालांकि मैं हैरान हूं कि नई पीढ़ी को कई चीज़ों के बारे में जानकारी नहीं है.

अभी हाल ही में मैं एक वीडियो देख रहा था, जिसमें एक आईटी स्टूडेंट को ये नहीं पता था कि कंस किसका मामा था. किसी ने तो इस सवाल के जवाब में दुर्योधन का भी नाम ले लिया था. मैं ये दावा नहीं कर रहा कि मैं रामायण या हिंदू साहित्य का रक्षक हूं. लेकिन भारत का नागरिक होने के नाते मुझे ये लगता है कि ये हमारी ड्यूटी है कि हम आज की पीढ़ी को अपने साहित्य और इतिहास से रूबरू करवाएं. क्योंकि उनकी दिलचस्पी इन चीज़ों से ज़्यादा टिक-टॉक और हैरी पॉटर में है. मैं एक बार फिर से ये साफ कर देना चाहता हूं कि अगर शत्रु जी को ये लगता है कि मेरा सोनाक्षी का नाम लेना गलत था, तो वो गलत होगा. लेकिन वो जानबूझकर नहीं किया गया था.”

 

अपने सबसे चर्चित कैरेक्टर शक्तिमान की मूर्ति के साथ मुकेश खन्ना.
अपने सबसे चर्चित कैरेक्टर शक्तिमान की मूर्ति के साथ मुकेश खन्ना.

अपने इस बयान में सीधे तौर पर न सही लेकिन घुमा-फिराकर मुकेश खन्ना ने अपनी गलती मान ली है. सोशल मीडिया पर लोगों की क्लास लगाती रहने वाली सोनाक्षी ने बड़े ही डिग्नीफाइड तरीके से इस पूरे मसले पर कुछ भी नहीं कहा है. लेकिन उनके पिता शत्रुघ्न सिन्हा ने पूरी क्लैरिटी के साथ इस मामले को खत्म कर दिया है.


वीडियो देखें: मुकेश खन्ना ने नीतिश भारद्वाज को तो चुप करवा दिया, पर पुनीत इस्सर को क्या बोलेंगे?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

20 अप्रैल से कौन-कौन से लोग अपना काम-धंधा शुरू कर सकते हैं?

और खाने-पीने के सामान को लेकर सरकार ने क्या कहा?

लॉकडाउन के बीच ज़रूरी सामान भेजना है? बस एक कॉल पर हो जाएगा काम

रेलवे अधिकारियों ने शुरू की है 'सेतु' सर्विस.

सड़क पर मजदूरों संग खाना खाने वाले अर्थशास्त्री ने सरकार को कमाल का फॉर्मूला सुझाया है

कोरोना और लॉकडाउन ने मजदूर को कहीं का नहीं छोड़ा.

सरकार की नई गाइडलाइंस, जानिए किन इलाकों में, किन लोगों को लॉकडाउन से छूट

कोरोना से निपटने के लिए लॉकडाउन पहले ही बढ़ाया जा चुका है.

टेस्टिंग किट की बात पर राहुल गांधी ने भारत की तुलना किन देशों से की?

कहा, 'हम पूरे खेल में कहीं नहीं हैं.'

चीन से भारत के लिए चली टेस्टिंग किट की खेप अमरीका निकल गयी!

और अभी तक भारत में नहीं शुरू हो पाई मास टेस्टिंग.

कोरोना: मरीजों की खातिर बेड और लैब के लिए कितना तैयार है भारत, PM मोदी ने बताया

लॉकडाउन बढ़ाने के अलावा पीएम ने क्या-क्या कहा?

15 अप्रैल को लॉकडाउन-2 की जो गाइडलाइंस आनी हैं, उनमें क्या-क्या हो सकता है

पूरे देश में 3 मई तक लॉकडाउन बढ़ चुका है.

सुप्रीम कोर्ट ने बता दिया है कि किन लोगों का कोरोना वायरस टेस्ट फ्री में होगा

प्राइवेट लैब भी नहीं ले सकेंगे इनसे पैसा.

PM CARES Fund पर लगातार उठ रहे सवाल, अब हिसाब-किताब की होगी जांच

वकील ने PM Cares फंड को रद्द करने की मांग की है.