Submit your post

Follow Us

एक दिन में सबसे ज़्यादा रन तब मारे गए थे, जब फटाफट क्रिकेट का नामोनिशान भी नहीं था

5
शेयर्स

क्रिकेट बदलता रहा है. पहले सिर्फ टेस्ट क्रिकेट हुआ करता था. फिर 70 के दशक की शुरुआत में एकदिवसीय मैच शुरू हुए. सफ़ेद यूनिफॉर्म की जगह कलर वाले कपड़े अलाऊ हो गए. पहले 60 और फिर 50 ओवर की एक पारी होने लगी. मैच को ड्रा होने के श्राप से मुक्ति मिल गई और रिजल्ट आने लगे. उसके बाद 90 के दशक में पहले श्रीलंकाई खिलाड़ियों ने और फिर दुनियाभर के हिटर्स ने गेंद को निर्ममता से कूटने का चलन शुरू किया. गेंद को मैदान से बाहर भेज सकने में सक्षम खिलाड़ी स्टार बनने लगे. जयसूर्या, अफ्रीदी जैसे खिलाड़ी अपना खौफ़ पैदा करने लगे. और फिर आया ट्वेंटी-ट्वेंटी. क्रिकेट का सबसे छोटा और गेंदबाजों के लिए क्रूरतम फॉर्मेट.

जहां पहली गेंद से ही बल्ले को तलवार बनाना होता है. जेम्स बांड की टैगलाइन ‘लाइसेंस्ड टू किल’ को तमाम विस्फोटक बल्लेबाज़ों ने अपना धेयवाक्य बना लिया. 20 ओवर में 263 रन तक बन चुके हैं, जो कि कभी 50 ओवर के मैच में भी सेफ स्कोर माना जाता था. 40 ओवर में 400 के पार रन बनने का कारनामा तो न जाने कितनी बार हो चुका है पिछले दस सालों में. बैट से क्रूरता की हद पार कर जाने का ये चलन हालिया ही है.

ऐसे में क्या आप यकीन करेंगे कि क्रिकेट में एक दिन में सर्वाधिक रन बन जाने का करिश्मा 69 साल पहले हुआ था? तब, जब क्रिकेट अमूमन कछुए की चाल से चला करता था! ख़रामा-ख़रामा!

1948 में आज ही के दिन ऑस्ट्रेलिया ने एक दिन में 721 रन ठोक दिए थे. 129 ओवर में. जो उस ज़माने के हिसाब से असामान्य तेज़ी थी. ऑस्ट्रेलिया इंग्लैंड के दौरे पर थी. 15 मई को एसेक्स के खिलाफ़ उसका मैच हुआ. और ऑस्ट्रेलिया ने वो रिकॉर्ड बना डाला, जो आज तक नहीं टूट पाया है. और ना ही टूटने की संभावना है. ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ी कर के उसने 721 रन बोर्ड पर टांग दिए.

इस पारी में चार शतक और दो अर्धशतक बने. टॉप स्कोरर थे क्रिकेट की दुनिया के ‘एवरेस्ट’ डॉन ब्रैडमन. सिर्फ दो घंटे बल्लेबाज़ी कर के उन्होंने 187 रन मार दिए. उनके अलावा ओपनर ब्राउन, लॉक्सटन और सेगर्स ने भी शतक ठोक दिए. इस भयंकर स्कोर का दबाव झेलना एसेक्स की टीम के बस का नहीं था. अगले दिन वो दो बार ऑल आउट हुई. पहले 83 पर और दूसरी बार 187 पर. ऑस्ट्रेलिया ने वो मैच पारी और 451 रनों से जीता.

डॉन ब्रैडमन को बॉलिंग करते पीटर स्मिथ. इमेज सोर्स: espncricinfo.com
डॉन ब्रैडमन को बॉलिंग करते पीटर स्मिथ. इमेज सोर्स: espncricinfo.com

इस मैच का एक दिलचस्प किस्सा भी है. ये उस ऑस्ट्रेलियन टीम के ही एक और बल्लेबाज़ से जुड़ा है. बल्लेबाज़ कीथ मिलर इस क़त्लेआम से सहमत नहीं थे. उन्हें सस्ते रन बटोरने में कोई दिलचस्पी नहीं थी. जब दो विकेट गिरने के बाद वो बल्लेबाज़ी करने आए, तो उन्होंने खुद को जानबूझकर आउट हो जाने दिया. उन्होंने अपना बल्ला हवा में उठा लिया और गेंद को स्टंप से टकराने दिया. बाद में उन्होंने कहा था कि उन्हें उस क़त्लेआम से चिढ़ हो गई थी. जब वो पैवेलियन लौट रहे थे तो गेंदबाज़ बेली ने नॉन-स्ट्राइकर एंड पर खड़े डॉन ब्रैडमन से कहा, “उसकी इसमें कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई दे रही.”

इस पर डॉन ने जवाब दिया, “वो सीख लेगा.”

बहरहाल, आज जब गेल, डेविड वॉर्नर जैसे बल्लेबाज़ क्रिकेट के मैदान में कहरबरपा बल्लेबाज़ी कर रहे हैं, तो क्या इस जैसा या इससे मिलता-जुलता कोई कारनामा फिर से देखने मिलेगा क्रिकेटप्रेमियों को?


ये भी पढ़ें:

IPL के वो सात मौके जब बैट्समैन के सर पर कोई भूत सवार था

राहुल द्रविड़ ने जिसे बॉलिंग पर ध्यान देने को कहा, अब वो लड़का अश्विन की जगह खेलेगा

शहीदों को सम्मान देना है तो गौतम गंभीर से सीखिए मनोज तिवारी जी

जब जडेजा ने कोहली की टीम के ताबूत में आखिरी कील ठोंक दी

एक लीटर पानी के लिए कोहली जितना खर्च करते हैं, उतने में 8 लीटर पेट्रोल आ जाए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

यूपी पुलिस कॉन्स्टेबल को पीटने, लूटने, पेशाब पिलाने के आरोप में BJP विधायक पर केस

घटना के समय पुलिस अधिकारी बस देख रहे थे.

मशहूर पाकिस्तानी फिल्म डायरेक्टर ने वहां के सबसे बड़े अखबार 'डॉन' के मालिक पर रेप का आरोप लगाया

ये भी पूछा कि क्या उनका अखबार ये ख़बर छाप पाएगा?

'गुड न्यूज' लोगों को पसंद तो आ रही है लेकिन अक्षय कुमार इस एक वजह से दुखी होंगे

ये अक्षय कुमार की साल की चौथी और आखिरी फिल्म है.

भोपाल हनीट्रैप: सेक्स टेप बनाने के पहले 100 रुपये के स्टैंप पेपर पर साइन करवाते थे

कई नेता और सरकारी अफ़सर फंस चुके हैं.

CAA प्रोटेस्ट: पुलिस ने राष्ट्रपति पुरस्कार पा चुके मौलाना पर 'थर्ड डिग्री' इस्तेमाल की!

मुजफ्फरनगर में 20 दिसंबर को हुआ था विरोध प्रदर्शन.

कोटा में दो दिन में 10 बच्चों की मौत की वजह डॉक्टरों की लापरवाही नहीं, भारी ठंड: जांच रिपोर्ट

कोटा के एक अस्पताल में महीने भर में 77 बच्चों की मौत हो गई है.

6 लाख के ड्राफ्ट पर बुलंदशहर के डीएम ने जो कहा, वो कन्फ्यूज करने वाला है

हिंसा में 1050 अज्ञात लोगों पर FIR दर्ज की गई है.

दिल्ली में ठंड का 119 साल का रेकॉर्ड टूटा

1901 के बाद से दिल्ली ने ऐसा दिन नहीं देखा...

जींस में बदलाव कर ऐसे बच्चे पैदा करवा रहा था जिन्हें कभी एड्स नहीं होता, अब सज़ा हो गई

चीन के डॉक्टर को ये रिसर्च भारी पड़ गई.

CAA-NRC प्रोटेस्ट: अब रेलवे भी नुकसान की भरपाई प्रदर्शनकारियों से करेगा

उत्तर प्रदेश सरकार का नुस्खा भारतीय रेलवे ने अपनाया.