Submit your post

Follow Us

किसानों पर लाठीचार्ज, सत्यपाल मलिक बोले- बिना खट्टर के इशारों पर ये नहीं हुआ होगा

हरियाणा के करनाल में 28 अगस्त को किसानों पर हुए लाठीचार्ज के बाद मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने हरियाणा सरकार पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि वह ये सब देखकर बहुत व्यथित हैं. ये अफसर एक मिनट भी नौकरी पर रहने लायक नहीं है. उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई अब तक हो जानी चाहिए थी. अगर नहीं हुई है तो उसका मैं ये नतीजा निकालता हूं कि ये अपने जो ऊपर के लोग हैं, उनकी शह से या उनके कहने से ऐसा कर रहे थे.

न्यूज़ चैनल NDTV के साथ बात करते हुए उन्होंने कहा,

” खट्टर साहब बुजुर्ग हैं, मैं उनका आदर करता हूं. वो मुख्यमंत्री हैं एक प्रदेश के. लेकिन मैं उनसे ये निवेदन करना चाहता हूं कि वो इस महाभारत को ना छेड़ें. इस वक्त कोई चुनाव नहीं है. कोई पार्टी के प्रचार की जरूरत नहीं है. लेकिन वो जानबूझ कर उन सेंसेटिव एरिया में अपनी मीटिंग रख रहे हैं. करनाल है, रोहतक है. जहां उनको पता है कि ये रिएक्शन होगा. और वो चाहते हैं कि ये चीज बढ़े. एक तरह से वो केंद्रीय नेतृत्व को नुकसान पहुंचाना चाहते हैं.”

Fatehabad
फतेहाबाद में सड़कों पर प्रदर्शन करते किसान. फोटो- आजतक

राज्यपाल मलिक ने कहा,

“मैं केंद्र के नेताओं से जब मिला तो मैंने हाथ जोड़कर यही प्रार्थना की है कि दो ही काम मत करना. एक तो किसानों को खाली हाथ मत भेजना. दूसरे इन पर बल प्रयोग मत करना. जिस दिन आप इन पर बल प्रयोग करना शुरू कर दोगे, तो उसका फिर कोई अंत नहीं है. सिर किसान का ही नहीं फूटता है, सिर एसडीएम का भी फूट जाएगा किसी दिन. उसके और ऊपर के लोगों का भी फूट जाएगा. लिहाजा इमिडिएट एक्शन करना चाहिए चीफ मिनिस्टर को उसके खिलाफ. और किसानों से क्षमा याचना करनी चाहिए.”

उन्होंने चेतावनी भरे लहजे में कहा,

“देखिए मैं ये मानता हूं कि अभी तक पीएम या गृहमंत्री ने कहीं भी बल प्रयोग नहीं किया है. सिर्फ हरियाणा में खट्टर साहब इसको बढ़ाना चाहते हैं. बिना उनके इशारे के ये नहीं हुआ होगा. वो इस अफसर के खिलाफ तुरंत एक्शन लें, ये नौकरी पर रहने लायक नहीं है. ये लोग जो सरकार चला रहे हैं वो यहां का मिजाज नहीं समझते हैं. लड़ाई शुरू हो गई तो पता नहीं है कितनी दूर तक जाएगी.”

बीजेपी नेताओं पर बोलते हुए सत्यपाल मलिक ने कहा,

“एक सिम्पैथी का शब्द नहीं आया है सरकारों की तरफ से. इसका लोगों में कितना गुस्सा है, ये अंदाजा नहीं है. मुझे अंदाज है कि क्योंकि वेस्टर्न यूपी के किसी गांव में बीजेपी का कोई नेता घुस नहीं सकता है. यही हालत हरियाणा की भी है. आधे राजस्थान की भी यही हालत है. और पंजाब में आप हैं ही नहीं. जो इसको बढ़ा रहा है वो इस सरकार का दुश्मन है. चाहे वो एसडीएम हो या चीफ मिनिस्टर हो. मैं हिसाब लगाकर नहीं बोलता, दिल से बोलता हूं. मैं अपने लोगों के साथ हूं और रहूंगा, चाहे जो नतीजे हों.”

क्या हुआ था करनाल में?

शनिवार 28 अगस्त को करनाल से करीब 15 किलोमीटर पहले एक टोल प्लाजा पर पुलिस ने किसानों पर लाठीचार्ज किया था. कई किसान घायल हुए थे. एसडीएम आयुष सिन्हा का एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें वो पुलिसवालों से किसानों का ‘सिर फोड़ देने’ की बात कहते दिखे थे. इस घटना के बाद से किसान गुस्से में हैं. हरियाणा के कई शहरों में किसान  प्रदर्शन कर रहे हैं. संयुक्त किसान मोर्चा ने एसडीएम आयुष सिन्हा को बर्खास्त करने की मांग की है. वहीं पुलिस का दावा है कि इलाके में धारा 144 लागू थी और प्रदर्शनकारियों ने इसका उल्लंघन किया. प्रदर्शनकारियों की ओर से पत्थरबाजी की गई जिसके बाद मजबूरी में पुलिस को कार्रवाई करनी पड़ी.


वीडियो- UP चुनाव: अब तक गन्ने के दाम क्यों नहीं बढ़े, मंत्री सुरेश राणा ने सौरभ द्विवेदी को बता दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

पाकिस्तान पर भारी पड़ेंगे टीम इंडिया के सिर्फ दो नौजवान?

पाकिस्तान पर भारी पड़ेंगे टीम इंडिया के सिर्फ दो नौजवान?

ऐसा हम नहीं पाकिस्तानी कोच कह रहे हैं!

IPL से कैसे जुड़ने वाले हैं मैनचेस्टर यूनाइटेड और क्रिस्टियानो रोनाल्डो?

IPL से कैसे जुड़ने वाले हैं मैनचेस्टर यूनाइटेड और क्रिस्टियानो रोनाल्डो?

IPL टीम खरीदने के चक्कर में हैं ग्लेज़र्स.

पॉर्न नहीं देखी तो मार डाला, पीड़ित 6 साल की बच्ची, हत्या के आरोपी 8-11 साल के बच्चे!

पॉर्न नहीं देखी तो मार डाला, पीड़ित 6 साल की बच्ची, हत्या के आरोपी 8-11 साल के बच्चे!

हत्या के बाद एक नाबालिग आरोपी के पिता ने जो किया, वो जानकर भी दंग रह जाएंगे.

फर्रुखाबाद के बौद्ध तीर्थ क्षेत्र में मंदिर से भगवा झंडा उतारने और उसके बाद के बवाल की पूरी कहानी

फर्रुखाबाद के बौद्ध तीर्थ क्षेत्र में मंदिर से भगवा झंडा उतारने और उसके बाद के बवाल की पूरी कहानी

यहां बौद्ध धर्मी और सनातन धर्मी के बीच की तनातनी की वजह क्या है?

क्या किसानों ने वाकई गाजीपुर बॉर्डर खाली करना शुरू कर दिया है?

क्या किसानों ने वाकई गाजीपुर बॉर्डर खाली करना शुरू कर दिया है?

सड़कें ब्लॉक करने पर सुप्रीम कोर्ट की फटकार का असर?

NCB ने स्टेटमेंट जारी कर कहा- शाहरुख के घर छापा मारने नहीं, इस काम से गए थे

NCB ने स्टेटमेंट जारी कर कहा- शाहरुख के घर छापा मारने नहीं, इस काम से गए थे

इतना बवाल हुआ कि शाहरुख के घर 'मन्नत' से लौटने के बाद NCB को स्टेटमेंट जारी करना पड़ा.

छत्तीसगढ़: युवक ने दीवार पर लिखा ASI और कांग्रेस नेता का नाम, फिर लगा ली फांसी!

छत्तीसगढ़: युवक ने दीवार पर लिखा ASI और कांग्रेस नेता का नाम, फिर लगा ली फांसी!

एसपी ने ASI को सस्पेंड किया, कांग्रेस नेता पर भी केस दर्ज.

TDP प्रवक्ता के बयान से आंध्र प्रदेश की राजनीति में ऐसी आग लगी कि बात दिल्ली तक पहुंच गई

TDP प्रवक्ता के बयान से आंध्र प्रदेश की राजनीति में ऐसी आग लगी कि बात दिल्ली तक पहुंच गई

TDP के दफ्तरों पर एक के बाद एक हमले हुए हैं, सत्तारूढ़ YSRCP पर आरोप लगा है.

बांग्लादेश में जिस शख्स की वजह से हिंसा भड़की, उसका पता चल गया है, CCTV देख पुलिस ने किया दावा

बांग्लादेश में जिस शख्स की वजह से हिंसा भड़की, उसका पता चल गया है, CCTV देख पुलिस ने किया दावा

इकबाल के घरवाले उसके बारे में क्या बता रहे?

शाहरुख खान के घर रेड करने पहुंची NCB, कहा- 'कइयों से करनी पड़ती है पूछताछ'

शाहरुख खान के घर रेड करने पहुंची NCB, कहा- 'कइयों से करनी पड़ती है पूछताछ'

अनन्या पांडे के घर भी NCB का छापा, पूछताछ के लिए बुलाया गया.