Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

जिस पाकिस्तानी की एक आवाज पर जल उठता है कराची

54
शेयर्स

पाकिस्तान की हुकुमत का एक ऐसा दुश्मन, जिससे पड़ोसी मुल्क के हुक्मरान सख्त नफरत करते हैं.  हजारों मील दूर लंदन में रहकर भी जिसकी एक आवाज पर पूरा कराची जल उठता है. अल्ताफ हुसैन.

1984 से एक्टिव मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट (MQM) का चीफ अल्ताफ हुसैन. मकसद उर्दू भाषी मुहाजिरों का नेतृत्व और अधिकार की लड़ाई. मुहाजिर वो रिफ्यूजी हैं, जो आजादी के बाद भारत से पाकिस्तान चले गए थे. कनाडा की फेडरल कोर्ट ने MQM को 2006 में आतंकी संगठन करार दिया. अल्ताफ हुसैन के किसी भी बयान को पाकिस्तानी मीडिया में दिखाने की इजाजत नहीं है. लाहौर हाईकोर्ट ने 7 सितंबर 2015 को अल्ताफ की तस्वीर, वीडियो या बयान मीडिया में दिखाने पर पूरी तरह बैन लगा दिया है.

MQM के विरोध की एक बड़ी वजह यूनिवर्सिटी और सिविल सेवाओं में सिंधियों को तरजीह देना है. मांग साफ सी कि उर्दू भाषी मुहाजिरों को हुकुमत और सरकारी नौकरियों में तरजीह दी जाए. पाकिस्तान की नेशनल असेंबली में इस वक्त MQM के 25 सांसद हैं. कुछ दिन पहले ही पार्टी के 23 सांसदों ने इस्तीफा दे दिया था. सरकार पर आरोप लगाया कि कराची में पार्टी कार्यकर्ताओं, नेताओं पर जबरन कार्रवाई की जा रही है. अभी लोकल जनरल चुनावों में कराची शहर में एमक्यूएम की मस्त जीत हुई है. नवाज शरीफ और इमरान खान की पार्टी से ज्यादा अल्ताफ की पार्टी का परचम रहा.

आजादी से पहले अल्ताफ हुसैन अपने मां-पिता के साथ उत्तर प्रदेश के आगरा में रहते थे.  बंटवारे के बाद अल्ताफ पाक चले गए. अल्ताफ हुसैन लंदन में 1992 से राजनीतिक शरणार्थी बनकर जिंदगी काट रहे हैं और MQM के फैसले ले रहे हैं. वहां रहने की वजह 1992 में पाकिस्तानी सरकार का ऑपरेशन क्लीन अप. यानी मिलिट्री भेजकर MQM का सफाया, जिससे उस दौर में मचे सियासी भूचाल को खत्म करने की कोशिश की गई. लेकिन इस ऑपरेशन के शुरू होने से ठीक एक महीने पहले अपनी लाइफ पर मंडराते खतरे को देख अल्ताफ यूनाइटेड किंगडम (यूके) चले गए.

ऐसा नहीं है कि अल्ताफ हुसैन ब्रिटेन में गुपचुप तरीके से रह रहे हैं. ब्रिटेन के हुक्मरान और पुलिस के हाथों से अल्ताफ दूर नहीं हैं. 2002 में एक क्लेर्किल मिस्टेक की वजह से उन्हें ब्रिटिश नागरिकता मिली. जून 2014 में मेट्रोपॉलिटन पुलिस लंदन में मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में अल्ताफ को गिरफ्तार भी करती है. लेकिन तीन दिन बाद ही रिहाई भी नसीब हो जाती है. अल्ताफ हुसैन पर भ्रष्टाचार समेत करीब 3576 केस दर्ज हैं.

भारत, पाकिस्तान और अल्ताफ हुसैन: अल्ताफ हुसैन खुले तौर पर हमेशा से भारत और पाकिस्तान की कड़वाहट दूर करने की कोशश करते नजर आते हैं. अल्ताफ हुसैन की मदद और फंडिंग करने का आरोप भारत पर भी लगता रहा है. लेकिन MQM और भारत दोनों ही इसे खारिज करते आए हैं.

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Know about Muttahida Qaumi Movement mqm chief Altaf Hussain

क्या चल रहा है?

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी पर ये गलती देख रजनीकांत भड़क जाएंगे!

तमिलनाडु में नए नेता बन रहे रजनीकांत सरकार से जरूर गुस्सा करेंगे.

रोहित शर्मा आउट होकर जा रहे थे, कोहली पीछे से बोले- अबे रुक जाओ, नो बॉल है!

फिर मैच भी जिता दिया.

104 पर ऑलआउट होकर वेस्टइंडीज ने इंडिया के साथ बड़ा गेम कर दिया है

न खेलेंगे और न खेलने देंगे.

जडेजा और धोनी के एक फैसले ने वेस्टइंडीज को घुटनों पर ला दिया

100 से पहले ही 7 विकेट गिर गए हैं वेस्टइंडीज के.

आज से बिना लाइन लगाए ऐसे लें ट्रेन का जनरल टिकट

कहीं से आएं, कही भी जाएं अब एक क्लिक पर मौजूद है टिकट.

बिग बॉस 12: करणवीर और श्रीसंत की लड़ाई बढ़ी, मुकदमा दर्ज हो रहा है

दीपिका को अपनी बहन बताने वाले श्रीसंत ने उनके सामने की है बहुत भद्दी बात.

Me Too में आरोप ऑल इंडिया रेडियो और होटल ताज तक पहुंचे

ऑल इंडिया रेडियो में शिकायत सही पाए जाने पर भी उसे निकाला नहीं गया, 9 महिलाओं की नौकरी चली गई.

क्या है आईसीसी हॉल ऑफ फेम जिसमें राहुल द्रविड़ को शामिल किया गया है?

सचिन और गांगुली जैसे खिलाड़ी अब भी इस लिस्ट में नहीं हैं.

जब हमारी सरकार ने न्योता ही नहीं भेजा तो ट्रंप ने कैसे किया इंकार?

अमेरिकी राष्ट्रपति की तरफ से जवाब आया था कि वो फ्री नहीं हैं.

98% नंबर वाले वाली 96 साल की दादी को एक अफसोस है

अम्मा का ये 'अफसोस' इतना क्यूट है कि वो सामने मिल जाएं, तो उन्हें भरकर गले लगा लूं.