Submit your post

Follow Us

जिस पाकिस्तानी की एक आवाज पर जल उठता है कराची

54
शेयर्स

पाकिस्तान की हुकुमत का एक ऐसा दुश्मन, जिससे पड़ोसी मुल्क के हुक्मरान सख्त नफरत करते हैं.  हजारों मील दूर लंदन में रहकर भी जिसकी एक आवाज पर पूरा कराची जल उठता है. अल्ताफ हुसैन.

1984 से एक्टिव मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट (MQM) का चीफ अल्ताफ हुसैन. मकसद उर्दू भाषी मुहाजिरों का नेतृत्व और अधिकार की लड़ाई. मुहाजिर वो रिफ्यूजी हैं, जो आजादी के बाद भारत से पाकिस्तान चले गए थे. कनाडा की फेडरल कोर्ट ने MQM को 2006 में आतंकी संगठन करार दिया. अल्ताफ हुसैन के किसी भी बयान को पाकिस्तानी मीडिया में दिखाने की इजाजत नहीं है. लाहौर हाईकोर्ट ने 7 सितंबर 2015 को अल्ताफ की तस्वीर, वीडियो या बयान मीडिया में दिखाने पर पूरी तरह बैन लगा दिया है.

MQM के विरोध की एक बड़ी वजह यूनिवर्सिटी और सिविल सेवाओं में सिंधियों को तरजीह देना है. मांग साफ सी कि उर्दू भाषी मुहाजिरों को हुकुमत और सरकारी नौकरियों में तरजीह दी जाए. पाकिस्तान की नेशनल असेंबली में इस वक्त MQM के 25 सांसद हैं. कुछ दिन पहले ही पार्टी के 23 सांसदों ने इस्तीफा दे दिया था. सरकार पर आरोप लगाया कि कराची में पार्टी कार्यकर्ताओं, नेताओं पर जबरन कार्रवाई की जा रही है. अभी लोकल जनरल चुनावों में कराची शहर में एमक्यूएम की मस्त जीत हुई है. नवाज शरीफ और इमरान खान की पार्टी से ज्यादा अल्ताफ की पार्टी का परचम रहा.

आजादी से पहले अल्ताफ हुसैन अपने मां-पिता के साथ उत्तर प्रदेश के आगरा में रहते थे.  बंटवारे के बाद अल्ताफ पाक चले गए. अल्ताफ हुसैन लंदन में 1992 से राजनीतिक शरणार्थी बनकर जिंदगी काट रहे हैं और MQM के फैसले ले रहे हैं. वहां रहने की वजह 1992 में पाकिस्तानी सरकार का ऑपरेशन क्लीन अप. यानी मिलिट्री भेजकर MQM का सफाया, जिससे उस दौर में मचे सियासी भूचाल को खत्म करने की कोशिश की गई. लेकिन इस ऑपरेशन के शुरू होने से ठीक एक महीने पहले अपनी लाइफ पर मंडराते खतरे को देख अल्ताफ यूनाइटेड किंगडम (यूके) चले गए.

ऐसा नहीं है कि अल्ताफ हुसैन ब्रिटेन में गुपचुप तरीके से रह रहे हैं. ब्रिटेन के हुक्मरान और पुलिस के हाथों से अल्ताफ दूर नहीं हैं. 2002 में एक क्लेर्किल मिस्टेक की वजह से उन्हें ब्रिटिश नागरिकता मिली. जून 2014 में मेट्रोपॉलिटन पुलिस लंदन में मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में अल्ताफ को गिरफ्तार भी करती है. लेकिन तीन दिन बाद ही रिहाई भी नसीब हो जाती है. अल्ताफ हुसैन पर भ्रष्टाचार समेत करीब 3576 केस दर्ज हैं.

भारत, पाकिस्तान और अल्ताफ हुसैन: अल्ताफ हुसैन खुले तौर पर हमेशा से भारत और पाकिस्तान की कड़वाहट दूर करने की कोशश करते नजर आते हैं. अल्ताफ हुसैन की मदद और फंडिंग करने का आरोप भारत पर भी लगता रहा है. लेकिन MQM और भारत दोनों ही इसे खारिज करते आए हैं.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

इधर इंडिया-पाकिस्तान में तनाव है, उधर पाक क्रिकेटर ने इंडियन लड़की से शादी कर ली

अब दोनों मुल्कों के लोग बधाइयां दे रहे हैं.

योगी ने 23 नए मंत्री बनाए, मगर ये 4 मंत्री हुए पैदल और विदाई की वजह जानने लायक है

योगी, मोदी का डंडा चला है.

क्या गिरफ़्तारी के डर से गायब हो गए हैं चिदंबरम?

INX मीडिया मामले में पूर्व वित्त मंत्री को खोज रही हैं CBI और ED.

पिता ने मोबाइल इस्तेमाल करने पर पाबंदी लगाई, बेटी ने प्रेमी के साथ मिलकर मार डाला

लड़की की उम्र सिर्फ 15 साल है.

अब बिना एटीएम कार्ड के भी निकलेंगे एटीएम से पैसे

बस नोटबंदी न हुई हो.

जावेद मियांदाद ने कहा, भारत को न्यूक्लियर बम मारकर साफ कर देंगे

जेंटलमैन्स गेम से जुड़े खिलाड़ी की अभद्र भाषा.

क्या है कोहिनूर मिल केस, जिसकी जांच के दायरे में राज ठाकरे आ गए?

वरिष्ठ शिवसेना नेता मनोहर जोशी के बेटे का भी नाम आया है.

जिस वायरल लड़के को 'उसैन बोल्ट' बता रहे थे, पहली रेस में उसका क्या हुआ?

शिवराज सिंह ने ट्वीट किया था, अब स्पोर्ट्स मिनिस्टर ने बताया- अब क्या होगा.

MP के सीएम कमल नाथ का भांजा गबन के इल्ज़ाम में गिरफ्तार

मामा सीएम हैं. लेकिन रतुल के दिन ठीक नहीं चल रहे.

टीम इंडिया की सबसे बड़ी दिक्कत का इलाज कोच शास्त्री और कोहली ने निकाल लिया है!

ये मसला पहले सुलझा होता तो वर्ल्डकप सेमीफाइनल में वो न होता जो हुआ.