Submit your post

Follow Us

ज्योतिरादित्य सिंधिया के BJP में जाने के बाद राहुल गांधी ने क्या कहा?

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने 10 मार्च को कांग्रेस को ‘बाय-बाय’ कह दिया और 11 मार्च को बीजेपी से जुड़े. ज्योतिरादित्य का बीजेपी जाना कांग्रेस के लिए झटका कहा जा रहा है.

राहुल गांधी ने ज्योतिरादित्य को लेकर एक सवाल के जवाब में कहा-

ज्योतिरादित्य इकलौते नेता थे जो कभी भी मेरे घर आ सकते थे. वह मेरे साथ कॉलेज में थे.

राहुल गांधी ने सिंधिया के BJP में जाने के बाद एक पुराने ट्वीट को फिर से शेयर किया. इस ट्वीटके फोटो में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ राहुल गांधी बीच में खड़े नज़र आते हैं. इस फोटो के साथ एक कैप्शन लिखा है-

संयम और समय, दो सबसे बड़ा योद्धा हैं’. – लियो टॉलस्टॉय

Rahul Gnadhi
13 दिसंबर 2018 का ट्वीट.

सिंधिया परिवार के नज़दीक और शाही परिवार से आने वाले नेता प्रद्योत माणिक्य देबबर्मा ने इससे पहले ज्योतिरादित्य और राहुल गांधी को लेकर 10 मार्च को एक फेसबुक पोस्ट में कहा था-

मैंने देर रात ज्योतिरादित्य से बात की. उन्होंने मुझे बताया कि वह राहुल गांधी से मिलने का इंतजार किए. इंतजार करते रहे लेकिन अप्वाइंटमेंट नहीं मिली. मुझे मालूम है कि ज्योतिरादित्य महीनों से राहुल गांधी से मिलना चाहते थे लेकिन उन्हें मिलने का वक्त नहीं मिला.

प्रद्योत ने त्रिपुरा कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था.

BJP से जुड़ने के बाद ज्योतिरादित्य ने क्या कहा?

आज मन व्यथित है. जो कांग्रेस पार्टी पहले थी वो आज नहीं रही. वास्तविकता से इनकार करना. नई विचारधारा और नेतृत्व को मान्यता नहीं मिलना. 2018 में जब MP में सरकार बनी तो एक सपना था, लेकिन वो बिखर चुका है. मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार ने वादे पूरे नहीं किए हैं. आज मध्य प्रदेश में ट्रांसफर माफिया का उद्योग चल रहा है. राष्ट्रीय स्तर पर प्रधानमंत्री और गृह मंत्री ने मुझे एक नया मंच देने का मौका दिया है. राजनीति जनसेवा का एक माध्यम है. लेकिन कांग्रेस के जरिए वह लक्ष्य पूरा नहीं हो रहा था.

राहुल गांधी के करीबी रहे हैं ज्योतिरादित्य

ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस में रहते हुए गांधी परिवार के करीबी रहे. राहुल गांधी के वे काफी विश्वस्त थे. संसद में अक्सर राहुल उनसे सलाह लेते नजर आते थे. वे मनमोहन सिंह सरकार के दोनों कार्यकाल में मंत्री रहे. 2007 में सिंधिया संचार और सूचना तकनीक मामलों के मंत्री थे. 2009 में उन्हें वाणिज्य व उद्योग मंत्रालय दिया गया. यहां पर वे राज्य मंत्री रहे. 2014 में उन्हें ऊर्जा मंत्री बनाया गया था.

लगातार 4 बार सांसद बने लेकिन 2019 में हार गए

ज्योतिरादित्य सिंधिया मध्य प्रदेश की गुना सीट से चार बार सांसद चुने गए थे. गुना सिंधिया परिवार का पांरपरिक सीट रही है. लेकिन 2019 के लोकसभा चुनावों में ज्योतिरादित्य सिंधिया हार गए. उन्हें बीजेपी के केपी यादव ने हरा दिया. यादव कभी सिंधिया के करीबी थे और सालभर पहले ही बीजेपी में आए थे.

4 महीने बदल लिया था ट्विटर बायो

सिंधिया 2018 में एमपी विधानसभा चुनावों के बाद से ही कांग्रेस आलाकमान से नाराज चल रहे थे. वे पहले एमपी के सीएम बनने की रेस में थे. बाद में वे एमपी कांग्रेस अध्यक्ष की दावेदारी जता रहे थे. लेकिन उन्हें दोनों ही पद नहीं मिले. इसके बाद से उनकी नाराजगी गहरा गई थी. चार महीने पहले उन्होंने ट्विटर पर अपना बायो बदल लिया था. उन्होंने इसमें पूर्व मंत्री और सांसद के बजाय केवल जनसेवक और क्रिकेट प्रेमी लिख लिया.

10 मार्च को आखिर सिंधिया ने कांग्रेस से अलग रास्ता अपना लिया. दिलचस्प बात यह भी रही कि 10 मार्च को उनके पिता माधवराव सिंधिया की जयंती भी होती है.


वीडियो- होली के दिन कांग्रेस में भूचाल लाने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया की पूरी कहानी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

प्रशांत भूषण ने कही ये बात, तो कोर्ट बोला- हजार अच्छे काम से गुनाह करने का लाइसेंस नहीं मिल जाता

बचाव में उतरे केंद्र की अपील, सजा न देने पर विचार करें, सुप्रीम कोर्ट ने दिया दो-तीन दिन का वक्त

सुशांत पर सुप्रीम कोर्ट ने CBI जांच का आदेश दिया, महाराष्ट्र के वकील को आपत्ति

कोर्ट ने कहा, सारे काग़ज़ CBI को दे दीजिए.

बिहार : महीनों से बिना सैलरी के पढ़ा रहे हैं गेस्ट टीचर, मांगकर खाने की आ गई नौबत!

इस पर अधिकारियों ने क्या जवाब दिया?

सलमान खान की रेकी करने वाला शार्प शूटर पकड़ा गया

जनवरी में रची गई थी सलमान खान की हत्या की साजिश!

रोहित शर्मा और इन तीन खिलाड़ियों को मिलेगा इस साल का खेल रत्न!

इसमें यंग टेबल टेनिस सेंसेशन का भी नाम शामिल है.

प्रसिद्ध शास्त्रीय गायक पंडित जसराज नहीं रहे

पिछले कुछ समय से अमेरिका में रह रहे थे.

प. बंगाल: विश्व भारती यूनिवर्सिटी में जबरदस्त हंगामा, उपद्रवियों ने ऐतिहासिक ढांचे भी ढहाए

एक फेमस मेले ग्राउंड के चारों तरफ दीवार खड़ी की जा रही थी.

धोनी के 16 साल के क्रिकेट करियर की 16 अनसुनी बातें

धोनी ने रिटायरमेंट का ऐलान कर दिया है.

धोनी के तुरंत बाद सुरेश रैना ने भी इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहा

इंस्टाग्राम पोस्ट के ज़रिए रिटायरमेंट की बात बताई.

धोनी क्रिकेट से रिटायर, फैंस ने बताया, एक जनरेशन में एक बार आने वाला खिलाड़ी

एक इंस्टाग्राम पोस्ट करके विदा ले ली धोनी ने.