Submit your post

Follow Us

सिस्टर अभया की हत्या में पादरी और नन दोषी करार; फैसले में 28 साल क्यों लगे, जान लीजिए

सीबीआई कोर्ट ने 28 साल पुराने सिस्टर अभया मर्डर केस में फादर थॉमस कुट्टूर और सिस्टर सेफी को दोषी करार दिया. तिरुवनंतपुरम में स्पेशल सीबीआई जज के. सैनिकुमार ने मंगलवार 22 दिसंबर को यह फैसला दिया. सजा पर फैसला 23 दिसंबर को हो सकता है. इसे केरल की सबसे लम्बी मर्डर इन्वेस्टिगेशन कहा जाता है. इस केस के दौरान केरल के चर्चों पर भी कई सवाल उठे थे.

घटना के 28 साल बाद आया फैसला

यह पूरा मामला पिछले तकरीबन 3 दशकों में कई उतार-चढ़ावों से गुजरा है. मामले की परतें खोलने के लिए पुलिस और सीबीआई की कई बार लंबी-लंबी जांच चलीं. अदालत ने एक बार पुलिस की जांच को और दो बार सीबीआई की जांच को खारिज कर दिया था. सीबीआई की तीसरी जांच के बाद दो पादरियों और एक सिस्टर की हत्या के आरोप में गिरफ्तारी हुई.

CBI का आरोप था कि सिस्टर अभया ने दो पादरियों थॉमस कुट्टूर, जोस पुथुरुक्कयिल और एक नन सिस्टर सेफी को ‘आपत्तिजनक स्थिति’ में देख लिया था. सिस्टर अभया ये बात किसी को बता न दें और चर्च की बदनामी न हो, इस डर में तीनों ने मिलकर उनकी हत्या कर दी थी.

रहस्यों भरा था सिस्टर अभया की मौत का मामला

सिस्टर अभया कोट्टायम के पायस टेन कॉन्वेंट में पढ़ती थीं. पेरेंट्स ने उनका नाम बीना थॉमस रखा था. जब नन बनीं, तो अभया नाम मिला. वह सेंट जोसफ कॉन्ग्रीगेशन ऑफ रिलीजियस सिस्टर्स की सदस्य थीं. 27 मार्च, 1992 की सुबह सिस्टर अभया पढ़ने के लिए उठी थीं. अपने एक एग्ज़ाम के लिए. समय था, सुबह के 4 बजे. पानी लेने के लिए वो किचन में गईं. लेकिन कमरे में वापस नहीं आईं. अगले दिन उनकी डेड बॉडी कम्पाउंड के कुएं में तैरती मिली.

1993 में केरल पुलिस ने इसे आत्महत्या बताकर केस बंद कर दिया था. उसके बाद सिस्टर अभया के साथ की 67 ननों ने केरल के तत्कालीन मुख्यमंत्री के. करुणाकरण से अपील की कि इसे हत्या मानकर जांच कराई जाए. उसके बाद केरल हाई कोर्ट ने जांच CBI को सौंपी.

जज ने न्यायप्रणाली पर सवाल उठाए और खुद को गोली मार ली. प्रतीकात्मक फोटो

कोर्ट ने मामले में सख्ती दिखाई और सीबीआई की रिपोर्ट को 2 बार खारिज कर दिया. तीसरी बार की रिपोर्ट में ही मामला साफ हो सका. (प्रतीकात्मक फोटो)

कोर्ट के अड़ने पर आया फैसला

1996 आते-आते सीबीआई ने कोर्ट में रिपोर्ट दाखिल कर दी कि उन्हें पता नहीं चल पा रहा है कि सिस्टर अभया की हत्या हुई थी, या उन्होंने सुसाइड किया था. कोर्ट ने मामले में सख्ती दिखाई, और सीबीआई की रिपोर्ट को खारिज कर दिया. कोर्ट ने सीबीआई को फिर से जांच करने के आदेश दिए.

इसके एक साल बाद यानी 1994 में सीबीआई फिर से कोर्ट पहुंची. बताया कि जांच में यह तो पता चल गया है कि मामला सुसाइड का नहीं बल्कि हत्या का है. लेकिन उनके पास ऐसा कोई सबूत नहीं है कि किसी को दोषी मानकर जांच आगे बढ़ाई जा सके. कोर्ट ने फिर से रिपोर्ट को खारिज कर दिया.

इस तरह, सीबीआई ने तीसरे राउंड की जांच शुरू की. 10 साल तक यह जांच चली. इसके बाद 2008 में फादर थॉमस कोट्टोर, फादर जोस पुथुरुक्कयिल और सिस्टर सेफी को सिस्टर अभया की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया. साल 2009 में इन सभी को केरल हाई कोर्ट से बेल मिल गई. 2018 में फादर जोस पुथुरुक्कयिल को सुबूतों के अभाव में मामले से बरी कर दिया गया.

इस साल हाई कोर्ट की जस्टिस वीजी अरुण की बेंच ने इस मामले में हो रही देरी की ओर ध्यान दिया. उन्होंने निर्देश दिया कि जल्दी मामले का निपटारा किया जाए. इसके बाद ही सीबीआई कोर्ट में केस की रोजाना सुनवाई शुरू हुई. अब जाकर घटना के 28 साल बाद कोर्ट किसी नतीजे पर पहुंचा है.


वीडियो – केरल में कान्वेंट के कुएं में मिली नन की लाश के पीछे डरावनी कहानी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कभी कृषि कानूनों की पक्षधर रहीं पार्टियों ने अब यूटर्न क्यों ले लिया है?

जानिए पहले क्या था इन राजनीतिक दलों का स्टैंड

क्या बढ़िया फ्रिज न होने के कारण इंडिया में कोरोना वैक्सीन लगने में और लेट हो सकती है?

कोल्ड चेन का पूरा तिया पांचा यहां समझिए.

साल 2015 के बाद गुजरात, केरल, बंगाल, महाराष्ट्र और बिहार के बच्चों में बढ़ा कुपोषण

सर्वे का दावा, बच्चों की लम्बाई और वज़न ख़तरनाक तरीक़े से घट रहे

क्या कोरोना की नई वैक्सीन लगवाने के बाद लोगों को लकवा मार जा रहा है?

वैक्सीन लगवाने पर कुछ लोगों में एलर्जी की समस्या भी सामने आई है.

किसान आंदोलन के समर्थन में वैज्ञानिक ने केंद्रीय मंत्री के हाथ से अवॉर्ड लेने से मना कर दिया

पत्र में कहा, 'ये मेरी अंतरात्मा के खिलाफ़ है'

350 करोड़ का स्कैम उजागर करने वाले RTI एक्टिविस्ट की मौत पर पुलिस और फ़ैमिली अलग कहानी क्यों बता रहे?

पुलिस ने कहा कि दुर्घटना में मौत हुई, परिवार हत्या का आरोप लगा रहा

एनकाउंटर पर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज ने कहा, 'ऐसा ही चलता रहा तो कोई भी शिकार बन सकता है'

हैदराबाद के ICFAI लॉ स्कूल में रूल ऑफ लॉ पर लेक्चर दे रहे थे जस्टिस चेलमेश्वर.

कोरोना का ट्रायल वैक्सीन लेने वाले हरियाणा के मंत्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए

कोरोना की वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल के दौरान टीका लगाया गया था.

उइगर मुस्लिम ने बताया, 'चीन में हमें ज़बरदस्ती सूअर का मांस खिलाया जाता था'

नसबंदी न करवाने पर उइगर मुस्लिमों के साथ क्या होता है?

सरकार और किसानों के बीच साढ़े सात घंटे तक चली बैठक में क्या नतीजा निकला, जान लीजिए

कृषि मंत्री ने बताया, सरकार किन-किन बातों पर राजी हो गई है